Labdanum: लाबडानम क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date मई 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

परिचय

लाबडानम (Labdanum) क्या है?

लाबडानम एक सदाबहार झाड़ है। जिसकी लंबाई 150 सेंटीमीटर यानी कि लगभग 5 फीट होती है। इसके फूल जून के महीने में निकलते हैं, जो देखने में भिंडी के फूल की तरह होते हैं। पंखुड़ियां सफेद होती हैं और अंदर मेजेंटा रंग के शेड होते हैं। इससे आकर्षक महक आती है। ये मुख्य रूप से देवदार के पेड़ों के आसपास और दानेदार पहाड़ियों पर पाया जाता है।

लाबडानम एक चिपचिपी राल है, जो रॉकरोज (rockrose) प्रजाति के पौधे की पत्तियों और तनों से बनती है। लाबडानम का इस्तेमाल राल, पत्तियों, डंठल और फूलों से एक्स्ट्रैक्ट करके बनाए गए विभिन्न प्रोडक्ट्स के लिए किया जाता है। इसकी पत्तियां, तने और फूलों से दवाएं बनती हैं। इसका इस्तेमाल ब्रॉन्काइटिस, डायरिया, एडिमा, हर्निया, ट्यूमर, लेप्रोसी और स्पलीन में समस्या में किया जाता है। 

इसके अलावा इस जड़ी-बूटी की मदद से सीने में जकड़न को कम किया जाता है। आंत की समस्याओं के इलाज के लिए भी इस जड़ी-बूटी का इस्तेमाल किया जाता है। लाबडानम का प्रयोग कुछ लोग चोट से बह रहे खून पर ड्राइंग एजेंट के रूप में करते हैं। इस जड़ी-बूटी का प्रयोग एसेंशियल ऑयल के रूप में किया जाता है। इसके साथ ही इसके फूलों का प्रयोग इत्र बनाने के लिए भी किया जाता है। इसका प्रयोग कीड़े-मकेड़ों को मारने के लिए भी किया जाता है। 

और पढ़ें: पीलिया (Jaundice) में क्या खाएं क्या नहीं खाएं?

यह कैसे कार्य करता है?

लाबडानम में कुछ ऐसे पदार्थ होते हैं, जो मानव कोशिकाओं में वायरस के फैलने को रोकते हैं। 

उपयोग

लाबडानम (Labdanum) का इस्तेमाल किसलिए होता है?

लाबडानम का इस्तेमाल ब्रोंकाइटिस, फेफड़ों की अन्य समस्या, डायरिया, बॉडी में पानी जमा होना (edema), हर्निया, गाठों, लेप्रोसी और मासिक धर्म की समस्याओं में होता है। इसके अलावा लाबडानम का इस्तेमाल सीने की जकड़न को ढीला करने, वायरल इंफेक्शन को रोकने, बाॅवेल को ठीक करने और टॉनिक के रूप में इम्यून सिस्टम को स्टिमुलेंट करने के लिए होता है।

  • कुछ लोग त्वचा के कटने, घाव, झुर्रियों और त्वचा की जलन में सीधे ही लाबडानम को स्किन पर लगाते हैं।
  • एरोमाथेरेपी (aromatherapy) में लाबडानम ऑयल का इस्तेमाल तनाव को कम करने और जकड़न से राहत पाने के लिए किया जाता है।
  • खाने और बेवरेज में लाबडानम की कई फॉर्म (लाबडानम एब्सोल्यूट, लाबडानम ओलेसरिन और लाबडानम ऑयल) को फ्लेवर के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है।
  • कोस्मेटिक में खुशबू के तौर पर लाबडानम का इस्तेमाल किया जाता है।

हालांकि, उपरोक्त परिस्थितियों में लाबडानम की प्रभाविकता का आंकलन करने के लिए अतिरिक्त अध्ययनों की आवश्यकता है।

और पढ़ें: Garlic : लहसुन क्या है?

लाबडानम (Labdanum) कितना सुरक्षित है?

खाने की मात्रा में मौखिक रूप से लाबडानम का सेवन करना सुरक्षित हो सकता है। हालांकि, इसे त्वचा पर लगाना भी सुरक्षित हो सकता है लेकिन, कुछ लोगों की त्वचा पर यह एलर्जिक रिएक्शन दिखा सकता है। दवा के तौर पर मौखिक रूप से लाबडानम का सेवन करना सेवन करना कितना सुरक्षित है या संभावित रूप से इसके क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं? इस संबंध में पर्याप्त जानकारी उपलब्ध नही है।

और पढ़ें: Ginger : अदरक क्या है?

सावधानियां और चेतावनियां

लाबडानम का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

इसका उपयोग करना पूरी तरह सुरक्षित है। बस इसे गर्भवती महिला और कुछ विशेष दवाओं का सेवन करने वालों को खाने से बचना चाहिए। इसके अलावा, ज्यादा मात्रा में इस का सेवन करने से आपको पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। कुछ लोगों को इससे एलर्जी भी हो सकती है। वहीं, गर्भवती महिलाओं द्वारा सेवन करने से भ्रूण को नुकसान पहुंच सकता है। इसलिए अगर आप इसका सेवन कर रहे हैं तो अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट ले बात जरूर कर लें।

लाबडानम का उपयोग कितना सुरक्षित है?

इसका उपयोग हर उम्र के लोगों के लिए सुरक्षित है, लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि इसको ज्यादा से ज्यादा खाया जाए। निश्चित मात्रा में सेवन करने से पर पूरी तरह से सुरक्षित है। इसलिए सेवन से पहले डॉक्टर या हर्बलिस्ट की राय ले लें।

और पढ़ें: सत्तू खाया है तो इसके फायदे भी जान लें

साइड इफेक्ट्स

लाबडानम (Labdanum) के सेवन से मुझे क्या साइड इफेक्ट हो सकते हैं?

इस जड़ी-बूटी को उपयोग यूं तो पूर तरह सुरक्षित माना गया है, लेकिन इसे फूड के रूप में ज्यादा मात्रा में नहींं खाया जा सकता है। इसे त्वचा पर औषधि के रूप में प्रयोग किया जाता है। जिससे कुछ लोगों को इस जड़ी-बूटी से स्किन एलर्जी हो सकती है। वहीं, इसे अगर ओरल मेडिसिन के रूप में इस्तेमाल किया जाता है तो ये कितना सुरक्षित है, इस पर अभी तक कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। इसलिए हो न हो इसके कुछ साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। इसकी मात्रा और दवा को अपने आप से न प्रयोग करें। इसके लिए आप अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से जरूर परामर्श ले लें।

रिएक्शन

लाबडानम (Labdanum) के साथ मुझ पर क्या प्रभाव पड़ सकता है?

लाबडानम आपकी मौजूदा दवाइयों के साथ रिएक्शन कर सकता है या इसके उपयोग से दवा का कार्य करने का तरीका परिवर्तित हो सकता है। इसका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर या हर्बलिस्ट से संपर्क करें।

और पढ़ें: Jasmine : चमेली क्या है?

डोसेज

लाबडानम (Labdanum) का सामान्य डोज क्या है?

हर मरीज के मामले में औषधियों का डोज अलग हो सकता है। जो डोज आप ले रहे हैं वो आपकी उम्र, हेल्थ और दूसरे अन्य कारकों पर निर्भर करता है। औषधियां हमेशा ही सुरक्षित नहीं होती हैं। लाबडानम के उपयुक्त डोज के लिए अपने डॉक्टर या हर्बालिस्ट से सलाह लें। प्रोडक्ट के पैकेज पर छपे दिशा निर्देशों का सावधानी पूर्वक पालन करें। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से सलाह लें।

और पढ़ें: परिवार की देखभाल के लिए मेडिसिन किट में रखें ये दवाएं

उपलब्ध

लाबडानम किन रूपों में उपलब्ध है?

यह जड़ी-बूटी निम्न रूप में उपलब्ध होती है।

हमें उम्मीद है कि लाबडानम पर आधारित लिखा यह लेख आपको पसंद आया होगा। इसमें हमने इस हर्ब से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी देने की कोशिश की। उम्मीद है हैलो हेल्थ द्वारा दी गईं जानकारियां आपके लिए उपयोगी साबित होंगी। अगर आपको यहां बताई गई किसी प्रकार की स्वास्थ्य से संबंधित समस्या है तो आप इस हर्ब का उपयोग डॉक्टर की सलाह पर कर सकते हैं।

अगर आपको इस जड़ी-बूटी से जुड़े किसी अन्य सवाल का जवाब जानना है, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्सर्ट्स की सहायता से देने की कोशिश करेंगे। अपना ध्यान रखिए और स्वस्थ रहिए। हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Quiz: शरीर पर जगह-जगह दिखने वाले उभार कहीं हर्निया की बीमारी तो नहीं!

जानिए हर्निया की बीमारी in Hindi, हर्निया की बीमारी क्या है, Hernia के कारण, हर्निया के लक्षण, हर्निया के उपचार, महिलाओं में हर्निया की समस्या।

Written by Ankita Mishra
क्विज फ़रवरी 10, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

तो क्या भारत में कोरोना वायरस (coronavirus) पहुंच चुका है ? जानें बचाव के तरीके

भारत में कोरोना वायरस को लेकर खतरा बढ़ाा है। हाल में महाराष्ट्र में दो लोगों में इंफेक्शन दिखा। अभी जांच चल रही है कि क्या ये कोरोना वायरस के लक्षण हैं।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Awasthi
कोरोना वायरस, कोविड 19 की रोकथाम जनवरी 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Japanese Apricot: जापानी खुबानी (जैपनीज एप्रिकॉट) क्या है?

जानिए जापानी खुबानी की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, जापानी खुबानी उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Japanese Apricot डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Mona Narang
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल दिसम्बर 11, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Dragon’s Blood: ड्रैगन ब्लड क्या है?

जानिए ड्रैगन ब्लड की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, ड्रैगन ब्लड उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Dragon’s blood डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Mona Narang
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल नवम्बर 6, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

वातस्फीति

Emphysema: वातस्फीति क्या है?

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Anu Sharma
Published on अप्रैल 16, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
जागुलन

Jiaogulan: जागुलन क्या है?

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Anu Sharma
Published on मार्च 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
पोटेंटिला क्या है?

Potentilla: पोटेंटिला क्या है?

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Sunil Kumar
Published on मार्च 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Wild Indigo-वाइल्ड इंडिगो

Wild indigo: वाइल्ड इंडिगो क्या है?

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Sunil Kumar
Published on मार्च 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें