Lemon: नींबू क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 17, 2020
Share now

परिचय

नींबू (Lemon) क्या है?

नींबू का स्वाद खट्टा होता है, जो कि फ्लेवर के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है। नींबू का सेवन या उपयोग करना त्वचा, बालों और शरीर के लिए फायदेमंद साबित होता है। इसका बोटेनिकल नाम साइट्रस × लिमोन (Citrus × limon) है, जो कि रुटेसी (Rutaceae) फैमिली से आता है। यह एक छोटे सदाबहार पेड़ की प्रजाति होता है। मूल रूप से यह दक्षिण एशिया और उत्तर पूर्वी भारत में पाया जाता है।

इसका रंग कच्चा रहने पर हरा होता है और पकने के बाद इसका रंग पीला हो जाता है। इसका इस्तेमाल कई तरह के पकवानों में खुशबू और स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है। साथ ही, इसके कई औषधीय गुण भी हैं, जिसकी वजह से इसका इस्तेमाल कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं के उपचार में भी किया जाता है। खाद्य पदार्थों के अलावा इसका इस्तेमाल साफ-सफाई के लिए भी किया जाता है। नींबू के रस और छिलके समते इसके गूदे का भी पूरा इस्तेमाल किया जाता है। नींबू के रस में लगभग 5 फीसदी से 6 फीसदी तक साइट्रिक एसिड होता है, जिसमें लगभग 2.2 का पीएच होता है। इस वजह से इसका स्वाद भी खट्टा होता है।

यह भी पढ़ेंः Lime : हरा नींबू क्या है?

उपयोग

नींबू का इस्तेमाल किसलिए किया जाता है?

शरीर में विटामिन सी की कमी से होने वाले रोग स्कर्वी के इलाज में नींबू का इस्तेमाल प्रमुखता से किया जाता है। इसके अलावा विटामिन सी से भरपूर नींबू का उपयोग सामान्य सर्दी और फ्लू, एच1एन1 (स्वाइन) फ्लू, टिनिटस (कान में घंटी की आवाज सुनाई देना), मेनियर रोग और गुर्दे की पथरी के इलाज के लिए किया जाता है।

नींबू विटामिन सी का एक समृद्ध स्रोत होता है। नींबू में कई फाइटोकेमिकल्स होते हैं, जिनमें पॉलीफेनोल, टेरपेन, और टैनिन शामिल हैं। इसके अलावा नींबू के रस में चूने के रस की तुलना में थोड़ा अधिक साइट्रिक एसिड होता है, जो लगभग 47 ग्राम/लीटर होता है और अंगूर के रस के लगभग दोगुना बार साइट्रिक एसिड और संतरे के रस से लगभग पांच गुना ज्यादा साइट्रिक एसिड की मात्रा होती है।

इसका उपयोग पाचन में सहायता करने, दर्द और सूजन को कम करने, रक्त वाहिकाओं के कार्य में सुधार करने और शरीर में तरल पदार्थों की कमी होने के कारण पेशाब को बढ़ाने के लिए किया जाता है। खाने का स्वाद बढ़ाने वाला नींबू एक ऐसा फल है जिसका खट्टा स्वाद किसी भी शख्स के दिल और दिमाग को सूकुन दिलाता है।

यह भी पढ़ें : Red sandalwood: लाल चंदन क्या है?

सावधानियां और चेतावनी

नींबू के इस्तेमाल से जुड़ी सावधानियां और चेतावनी?

अक्सर ऐसा देखा जाता है कि जब महिलाएं गर्भवती यानि कि प्रेग्नेंट होती हैं तो उन्हें खट्टा खाने की इच्छा होती है, ऐसे में लोग उन्हें यह खाने की सलाह देते हैं। क्योंकि गर्भावस्था के दौरान जी मचलाना और उल्टी होना एक आम समस्या हो जाती है, ऐसे में यह काफी सहायक होता है। अगर आप भी गर्भवती हैं या फिर घर में रहने वाले किसी छोटे बच्चे को स्तनपान करवा रही हैं तो इसका सेवन रोजाना करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह ले लीजिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को डॉक्टर्स द्वारा कई सारी दवाएं दी जाती हैं, इसलिए एक बार चिकित्सक से सलाह लेने के बाद भी इसका इस्तेमाल करिए।

अगर आप किसी तरह की दवाई या कोई इलाज करवा रहे हैं तो भी आपको इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह लेने की जरूरत है।

नए शोध में यह बात सामने आई है कि कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जिनको खट्टे पदार्थों से एलर्जी होती है, अगर आपके शरीर में इसी तरह की कोई एलर्जी है तो एक बार इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह ले लीजिए।

हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम, दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरुरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना जरुरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें : Oak: बलूत क्या है?

नींबू का इस्तेमाल करना कितना सुरक्षित है?

रोजाना इसकी कितनी मात्रा का इस्तेमाल करना चाहिए, शोध में इस बात का तो पता नहीं चल पाया है। लेकिन, विशेषज्ञों का मानना है कि अधिक मात्रा में इसका इस्तेमाल करने से यह शरीर को नुकसान पहुंचा सकती है। वैसे तो नींबू सेहत के लिए फायदेमंद होता है, लेकिन ज्यादा मात्रा में इसके रस से बॉडी को नुकसान होता है।

नए शोध में यह बात सामने आई है कि इसका इस्तेमाल गर्मियों के मौसम में चेहरे पर किया जाए तो इससे सनबर्न की समस्या बढ़ सकती है। खासकर उन लोगों को गर्मियों के मौसम में नींबू का सेवन करने से बचना चाहिए जिनकी स्किन सेंसिटिव है।

गर्भावस्था और स्तनपान: शोध में यह बात सामने आई है कि यह गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित है। शोधकर्ताओं का कहना है कि नींबू का इस्तेमाल जब तक एक सीमित मात्रा में किया जाए तभी तक यह गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित है। ज्यादा मात्रा में इसका इस्तेमाल शरीर को नुकसान पहुंचा सकता हैं।

यह भी पढ़ें- Quinoa : किनोवा क्या है?

नींबू के साइड इफेक्ट

नींबू से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

इसमें एसिड होता है, जिन लोगों को गैस यानि एसिडिटी की समस्या होती हैं उन्हें इसका सेवन करने से बचना चाहिए।

अगर आप किसी बीमारी से जूझ रहे हैं या फिर दवाई का सेवन कर रहे हैं तो इसका इस्तेमाल रोजाना करने से पहले एक बार डॉक्टर से बातचीत जरूर करें।

यह भी पढ़ें- Hazelnut: हेजलनट क्या है?

नीबूं की खुराक

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प ना मानें। किसी भी दवा या सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह जरुर लें।

नीबूं को लेने की सही खुराक क्या है?

नींबू की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है।

शोधकर्ताओं का कहना है कि जड़ी बूटी हर उम्र , स्वास्थ्य के लिए सुरक्षित नहीं होती है, इसलिए नींबू का इस्तेमाल करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह लेना जरूरी है।

नींबू किन-किन रूपों में उपलब्ध है?

  • कच्चा नींबू
  • अर्क कैप्सूल
  • तेल
  • नींबू का रस
  • नींबू का जूस

हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की मेडिकल सलाह, निदान या सारवार नहीं देता है न ही इसके लिए जिम्मेदार है।

और पढ़ें:-

 Oregano: ओरिगैनो क्या है?

Fig: अंजीर क्या है?

Guava: अमरूद क्या है?

 Chikungunya : चिकनगुनिया क्या है? जाने इसके कारण लक्षण और उपाय

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Evodia: इवोडिया क्या है?

    इवोडिया क्या है? इसका इस्तेमाल किस लिए किया जाता है? किन लोगों को इसको प्रयोग करने से परहेज करना चाहिए? जानिए इसके साइड इफेक्ट्स...

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Mona Narang

    Canella: कैनेला क्या है?

    जानिए कैनेला की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, कैनेला उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Canella डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Mona Narang

    Trigeminal neuralgia : ट्राइजेमिनल न्यूरैल्जिया क्या है?

    जानिए ट्राइजेमिनल न्यूरैल्जिया की जानकारी in hindi,निदान और उपचार, ट्राइजेमिनल न्यूरैल्जिया के क्या कारण हैं, लक्षण क्या हैं, घरेलू उपचार, जोखिम फैक्टर, Trigeminal neuralgia का खतरा, जानिए जरूरी बातें

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Suniti Tripathy

    Caralluma: कैरालूमा क्या है?

    जानिए कैरालूमा की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, कैरालूमा के उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, Caralluma डोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Mona Narang