White soapwort: व्हाइट सोपवोर्ट क्या है?

By Medically reviewed by Dr. Hemakshi J

परिचय

व्हाइट सोपवोर्ट (White soapwort) क्या है?

व्हाइट सोपवोर्ट एक जड़ी-बूटी है। मध्य युग में फ्रांस के लोगों ने इसे गिफ्ट की तरह माना था जो उन्हें साफ रखने में मदद करता था। इसलिए इसका नाम सोपवोर्ट पड़ा। इसकी जड़ का प्रयोग कई दवाओं में किया जाता है। कई शोध के अनुसार, इसमें सैपोनिन नामक कंपाउंड होते हैं जो बैक्टीरिया से लड़ने और सूजन को दूर करने में कारगर हैं।

व्हाइट सोपवोर्ट (White soapwort) का उपयोग किसलिए किया जाता है?

संवेदनशील त्वचा को साफ करने में मददगार (Helpful in cleansing sensitive skin) :

सोपवोर्ट में सैपोनिन नामक कंपाउंड होते हैं इसे पानी के साथ मिलाने पर नैचुरल साबुन तैयार हो जाता है। इसका प्रयोग नाजुक त्वचा को साफ करने के लिए भी फायदेमंद होता है। शोध के अनुसार, इसमें कई ऐसे केमिकल होते हैं जो त्वचा से हानिकारक बैक्टीरिया और पैरासाइट्स को नष्ट करते हैं।

कोलेस्ट्रॉल लेवल को करे नियंत्रित (Controls cholesterol level):

सोपवोर्ट ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस से लड़ने में मदद करता है। साथ ही ये ट्यूमर को बढ़ने से भी रोकता है। दूसरे पौधों की तुलना में इसकी जड़ों में अच्छी मात्रा में सैपिनिन होता है। कोलेस्ट्रॉल लेवल को करे नियंत्रण में रखने के लिए इसे वरदान समान माना जाता है।

स्किन परेशानियों को करे दूर (Eliminate skin problems):

सोपवोर्ट को स्किन संबंधित परेशानियां जैसे ड्रायनेस, रैशेज, एक्ने, सोरायसिस, एक्जिमा और फोड़ों के लिए सीधे स्किन पर लगाया जा सकता है।

श्वसन संक्रमण को करे दूर (Heals Respiratory Infection):

सोपवोर्ट एक हीलिंग हर्ब है। पौराणिक समय से इसे वायुमार्ग में सूजन और श्वसन स्थितियों जैसे ब्रोंकाइटिस, खांसी और फेफड़ों की सूजन के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। सोपवोर्ट कैसे श्वसन स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है इसके लिए अधिक शोध की आवश्यकता है। ऐसा माना जाता है कि इसमें ऐसे रसायन होते हैं जो बलगम और खांसी को दूर करने में मददगार होते हैं।

बालों को साफ करता है (Cleans hair):

सोपवोर्ट की पत्तियां, जड़े और तना को उबालकर शैंपू तैयार किया जाता है जो बालों को साफ करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। आमतौर पर इसे लगाने से किसी को परेशानी नहीं होती लेकिन कुछ लोगों में इसे लगाने के बाद ड्रायनेस और रेडनेस देखी गई है। इसलिए पहले एक बार इसको कम मात्रा में प्रयोग करके इसका परीक्षण करें।

इन परेशानियों में भी है मददगार:

कैसे काम करता है व्हाइट सोपवोर्ट (White soapwort)?

इस बारे में कोई वैज्ञानिक जानकारी नहीं है कि व्हाइट सोपवोट कैसे काम करता है। इसकी अधिक जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से संपर्क करें। हालांकि एक शोध के अनुसार, सोपवोर्ट में कुछ केमिकल्स होते हैं जो बलगम को पतला कर छाती के श्लेष्म को साफ होने में मदद करता है। 

ये भी पढ़ें:  Turmeric : हल्दी क्या है?

उपयोग

कितना सुरक्षित है व्हाइट सोपवोट (White soapwort) का उपयोग ?

  • अगर आप प्रेग्नेंट हैं या फिर शिशु को स्तनपान करवा रही हैं तो इसका सेवन करने से पहले एक बार चिकित्सक से परामर्श करें। ऐसा इसलिए क्योंकि गर्भावस्था में महिला को खास देखभाल की जरूरत होती है। ऐसे में अगर इसका सेवन किया जाए, तो कई बार यह नुकसानदायक साबित हो सकता है। इसलिए एक बार डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।
  • अगर आपको पेट संबंधित कोई परेशानी है तो डॉक्टर से कंसल्ट करे बिना इसका सेवन न करें।
  • आपको कोई अन्य बीमारी, विकार या कोई चिकित्सीय उपचार चल रहा है तो इसका सेवन न करें।
  • अगर आप कोई दूसरी दवा का सेवन कर रहे हैं तो इसका सेवन करने से बचें।
  • अगर आपको किसी पदार्थ या दवाई से नुकसान है तो इसका सेवन बिना डॉक्टर के सुझाव के न करें।

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प न मानें। किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह जरूर लें। हर्बल सप्लिमेंट के उपयोग से जुड़े नियम, दवाओं के नियम जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरूरत है। इस हर्बल सप्लिमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना जरूरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

ये भी पढ़ें: Kidney Beans : राजमा क्या है?

साइड इफेक्ट्स

व्हाइट सोपवोर्ट (White soapwort) से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

व्हाइट सोपवोर्ट का सेवन सीमित मात्रा में सुरक्षित है। अत्यधिक मात्रा में इसका सेवन नुकसानदायक साबित हो सकता है। कुछ लोगों में इसका सेवन करने से निम्नलिखित साइड इफेक्ट्स नजर आ सकते हैं:

  • मतली (Nausea)
  • उल्टी  (Vomit)
  • पेट में जलन (Stomach Irritation)
  • स्किन इरिटेशन (Skin Irritation)
  • डायरिया (Diarrhea)
  • कमजोरी (Weakness)

जरूरी नहीं कि हर कोई इन साइड इफेक्ट्स को महसूस करें। ऊपर बताए गई लिस्ट में हो सकता है कुछ साइड इफेक्ट्स शामिल नहीं भी हो सकते हैं। यदि आपको साइड इफेक्ट्स को लेकर थोड़ी भी चिंता है, तो बेहतर होगा अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से सलाह लें।

ये भी पढ़ें: Bilberry: बिलबेरी क्या है?

डोजेज

व्हाइट सोपवोर्ट (White soapwort) को लेने की सही खुराक क्या है?

इसकी डोसेज को लेकर कोई वैज्ञानिक जानकारी नहीं है। आमतौर पर इसे ब्रोंकाइटिस और खांसी के लिए 1 से 2 ग्राम प्रतिदिन लिया जाता है। पारंपरिक रूप में इसकी जड़ का 1.5 ग्राम उपयोग किया जाता है।  

इस हर्बल सप्लिमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग-अलग हो सकती है। इसकी खुराक उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लिमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसकी अपनी उचित खुराक के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से बात करें।

ये भी पढ़ें: Elderberry: एल्डरबेरी क्या है?

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है व्हाइट सोपवोर्ट (White soapwort)?

व्हाइट सोपवोर्ट निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है

  • रॉ व्हाइट सोपवेट (Raw white soapwort)
  • टिंचर

हमें उम्मीद है कि व्हाइट सोपवोर्ट हर्ब पर लिखा गया यह आर्टिकल आपको पसंद आएगा। यहां हमने इस हर्ब से जुड़ी सभी प्रकार की उपयोगी जानकारी देने की कोशिश की है। आपको अगर यहां बताई गई किसी प्रकार की कोई स्वास्थ्य समस्या है तो आप इस हर्ब का उपयोग कर सकते हैं। हर्ब का उपयोग करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें। इस हर्ब को लेकर अगर आपका कोई सवाल है तो किसी हर्बलिस्ट या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप डॉक्टरी सलाहडायगनोसिस या ट्रिटमेंट नहीं देता है।

और पढ़ें:-

Aceclofenac : एसिक्लोफेनाक क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

Iron Test : आयरन टेस्ट क्या है?

Liver Biopsy: लिवर बायोप्सी क्या है?

Ibugesic Plus : इबूगेसिक प्लस क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

Share now :

रिव्यू की तारीख मार्च 26, 2020 | आखिरी बार संशोधित किया गया मार्च 26, 2020

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे