Wild Radish: वाइल्ड रेडिश क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 7, 2020
Share now

परिचय

वाइल्ड रेडिश (Wild Radish) क्या है?

वाइल्ड रेडिश (Wild Radish) एक जड़ी बूटी है। यह 1.5 मीटर लंबा होता है। इसका पौधा डंठल वाला होता है और इसकी पत्तियां खुरदरी होती है। इसके तने के पत्ते छोटे होते हैं। इसकी पत्तियां आमतौर पर फूल खिलने से पहले सूख जाती हैं। इसके पौधे का उपयोग दवा बनाने के लिए किया जाता है। इसे स्किन और पेट संबंधित परेशानियों के लिए अच्छा माना जाता है। ये रेडिश की तरह ही हरी पत्तियों से भरी होती है और पूरी तरह से खाद्य है। इसकी जड़ सफेद, लंबी और पतली होती है। इसमें विटामिन-बी, विटामिन-सी, पोटैशियम और फोलिक एसिड भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। खासतौर पर इसका प्रयोग यूरोपियन डिश में किया जाता है। इस पौधे की जड़, पत्ते, फली और बीज का सेवन किया जाता है।

वाइल्ड रेडिश के बीज की फली 20 से 90 मिमी लंबी होती है, जो बीहड़ होती है और बीजों के बीच अलग-थलग होती है। आमतौर पर लोग इसे खरपतवार समझते हैं। इसके फूल तीन रंग में होते हैं, जो पीले, सफेद या बकाइन (बैंगनी) रंग के हो सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः बच्चे को घर पर अकेला छोड़ने से पहले उसे सिखाएं सेफ्टी टिप्स

वाइल्ड रेडिश का उपयोग किस लिए किया जाता है?

एंटी-ऑक्सीडेंट:

वाइल्ड रेडिश में एंटी-ऑक्सीडेंट का अच्छा स्त्रोत है। ये शरीर को फ्री रेडिकल्स से बचाने का काम करते हैं। ये कैंसर कोशिकाओं की ग्रोथ को रोकने का काम भी करते हैं। इसके अलावा, ये मेटाबॉलिज्म को बेहतर करने और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करने में भी मददगार है। 

वजन घटाने में मददगारः

यह कैलोरी को बढ़ाए बिना भूख को कंट्रोल कर सकती है। इसमें कार्बोहाइड्रेट की कम मात्रा जबकि पानी की उच्च मात्रा होती है। यह उन लोगों के लिए एक अच्छा विकल्प है जो अपना वजन कम करना चाहते हैं। इसमें ग्लाइसेमिक इंडेक्स की कम मात्रा होती है और फाइबर की भरपूर मात्रा पाई जाती है, जो आंतों के काम को सुरक्षित तरीके से करने में मदद करती है।

विटामिन-सी:

वाइल्ड रेडिश में विटामिन-सी पाया जाता है जो मधुमेह के मरीजों के लिए ये बेहद फायदेमंद साबित हो सकता है। एक रिपोर्ट के अनुसार, विटामिन-सी इंसुलिन में आ रही परेशानियों पर प्रभावी रूप से काम करता है।

फोलिक एसिड:

वाइल्ड रेडिश में मौजूद फोलिक एसिड नई कोशिकाओं के उत्पादन के साथ इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने में मदद करता है। इससे कैंसर की संभावना काफी हद तक कम हो जाती है।

एंटी-फंगल एजेंट:

वाइल्ड रेडिश के रूट एक्सट्रेक्ट में एंटी-फंगल एजेंट होते हैं, जो स्किन संबंधित परेशानियों को दूर करने में मददगार हैं। 

  • इसके अलावा वाइल्ड रेडिश का उपयोग तुर्की में सलाद सब्जी के रूप में उपयोग किया जाता है और इसमें एंटीऑक्सिडेंट और आयरन केलेटिंग के गुण होते हैं।
  • इसका इस्तेमाल हरी खाद के रूप में भी किया जाता है।
  • इसके अर्क का उपयोग करके व्हाइट फ्लाई को नियंत्रित किया जा सकता है।
  • इटली में स्ट्रॉबेरी की खेती में खरपतवार और रोगजनकों को नियंत्रत करने के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता है।
  • इसके अर्क  का इस्तेमाल एंटी-फंगल एजेंट के तौर पर भी किया जाता है।
  • इसका इस्तेमाल स्किन प्रॉब्लम्स और पेट से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए भी किया जा सकता है।

कैसे काम करता है वाइल्ड रेडिश?

यह कैसे काम करता है इस पर पर्याप्त अध्ययन होना अभी बाकी है। अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें। हालांकि, इस पर हुए ताजा शोध में यह बात सामने आई है कि इसमें कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो स्किन और पेट संबंधित परेशानियों को दूर करने में मददगार है। लगभग 116 ग्राम के आकार के वाइल्ड रेडिश में 19 कैलोरी, 0.79 ग्राम प्रोटीन, कुल वसा का 0.12 ग्राम, कार्बोहाइड्रेट का 3.94 ग्राम, आहार फाइबर का 1.9 ग्राम और कुल शुगर का 2.16 ग्राम की मात्रा होती है। इसमें लगभग 19 फिसदी विटामिन सी की भी मात्रा पाई जाती है।

ये भी पढ़ें: कलौंजी क्या है?

उपयोग

कितना सुरक्षित है वाइल्ड रेडिश (Wild Radish) का उपयोग ?

  • अगर आप गर्भवती हैं या फिर शिशु को स्तनपान करवा रही हैं तो वाइल्ड रेडिश का सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह अवश्य लें। ऐसा इसलिए क्योंकि गर्भावस्था में महिला को खानपान का ध्यान रखना जरूरी है। ऐसे में अगर इसका सेवन किया जाए, तो कई बार यह नुकसानदायक साबित हो सकता है। इसलिए एक बार डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।
  • अगर आप कोई दवा का सेवन कर रहे हैं तो इसका सेवन करने से बचें।
  • अगर आपको किसी पदार्थ या दवाई से नुकसान है तो इसका सेवन बिना डॉक्टर के सुझाव के न करें।
  • आपको कोई अन्य बीमारी, विकार या कोई चिकित्सीय उपचार चल रहा है तो इसका सेवन न करें।
  • यदि आपको किसी तरह के खाने, जानवर या सामान से एलर्जी है तो भी इसका सेवन करने से बचना चाहिए।

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प न मानें। किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह जरुर लें। हर्बल सप्लिमेंट के उपयोग से जुड़े नियम, दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरुरत है। इस हर्बल सप्लिमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना जरुरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

ये भी पढ़ें: केल क्या है?

साइड इफेक्ट्स

वाइल्ड रेडिश से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

उचित मात्रा में इसका सेवन सुरक्षित है। ज्यादा मात्रा में इसे लेना नुकसानदायक साबित हो सकता है। इससे मुंह और इंटेस्टाइन में परेशानी हो सकती है।

हालांकि हर किसी को ये साइड इफेक्टस हों ऐसा जरुरी नहीं है। कुछ ऐसे भी साइड इफेक्टस हो सकते हैं जो ऊपर बताए नहीं गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्टस महसूस हो या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

ये भी पढ़ें: मरजोरम क्या है?

डोजेज

वाइल्ड रेडिश को लेने की सही खुराक क्या है? 

वाइल्ड रेडिश की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। अपनी उचित खुराक के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

ये भी पढ़ें: मखाना क्या है?

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है?

  • रॉ वाइल्ड रेडिश

और पढ़ें:-

जावित्री क्या है?

बच्चे की मिट्टी खाने की आदत छुड़ाने के उपाय

Thyroid Nodules : थायरॉइड नोड्यूल क्या है?

क्या है टीबी का स्किन टेस्ट (TB Skin Test)?

संबंधित लेख:

    सूत्र

    Wild Radish/http://www.herbiguide.com.au/Descriptions/hg_Wild_Radish.htm. Accessed on 2 January, 2020.

    Wild radish (Raphanus raphanistrum) interference in wheat. https://www.researchgate.net/publication/250056452_Wild_radish_Raphanus_raphanistrum_interference_in_wheat. Accessed on 2 January, 2020.

    WILD RADISH. https://www.webmd.com/vitamins/ai/ingredientmono-224/wild-radish. Accessed on 2 January, 2020.

    Researchers Determine Genetic Origin Of California Wild Radish. https://www.sciencedaily.com/releases/2006/07/060713233418.htm. Accessed on 2 January, 2020.

    Raphanus raphanistrum (wild radish). https://www.cabi.org/isc/datasheet/46795. Accessed on 2 January, 2020.

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    मेडिकल न्यूट्रिशन थेरिपी क्या होती है? जानिए इसके बारे में

    मेडिकल न्यूट्रिशन थेरिपी हेल्थ कंडीशन के हिसाब से अपनाई जाती है, किस बीमारी के लिए कौन-सी मेडिकल न्यूट्रिशन थेरेपी अपनाई जाएगी, ये डायटीशियन तय करता है।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Bhawana Awasthi

    Type 2 Diabetes : टाइप 2 डायबिटीज क्या है?

    जानिए टाइप 2 डायबिटीज क्या है in hindi, टाइप 2 डायबिटीज के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Type 2 Diabetes को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anoop Singh

    Metformin+Teneligliptin: मेटफॉरमिन+टेनेलिग्लिप्टिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

    जानिए मेटफॉरमिन+टेनेलिग्लिप्टिन की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, मेटफॉरमिन+टेनेलिग्लिप्टिन उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Metformin+Teneligliptin डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Sunil Kumar

    Gemer 1: जेमर 1 क्या है? जानिए इसके उपयोग, डोज और सावधानियां

    जानिए जेमर 1 की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, जेमर 1 उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, gemer 1 डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Sunil Kumar