वर्ल्ड अल्जाइमर डे: अल्जाइमर और डिमेंशिया को लेकर कहीं आप भी तो नहीं है कंफ्यूज?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

अल्जाइमर और डिमेंशिया ये दोनों ही याददाशत से जुड़ी बीमारियां हैं और यही वजह है कि लोग अक्सर इन्हें एक ही समझ बैठते हैं। लेकिन अल्जाइमर और डिमेंशिया में अंतर हैं। यह अंतर भले ही बहुत बारीक है, लेकिन इसे एक नहीं कहा जा सकता। अल्जाइमर और डिमेंशिया में अंतर को समझने के लिए पहले आपको दोनों बीमारियों को समझना होगा।

डिमेंशिया क्या है?

सबसे पहली बात तो यह कि डिमेंशिया कोई बीमारी नहीं है, बल्कि यह एक सिंड्रोम हैं। यानी एक ऐसी मानसिक अवस्था, जिसमें व्यक्ति की सोचने, समझने, तर्क करने और निर्णय लेने की क्षमता बुरी तरह प्रभावित होने लगती है। उसे रोजमर्रा के ऐसे काम करने में भी दिक्कत होने लगती है जो वह बरसों से करता आया है, क्योंकि वह चीजें भूलने लगता है। डिमेंशिया कई वजहों से हो सकता है और इसमें से एक वजह अल्जाइमर भी है। यानी डिमेंशिया का दायरा बड़ा है और अल्जाइमर बीमारी इसके अंतर्गत आती है। अल्जाइमर के अलावा डिमेंशिया के अन्य और भी कई कारण हो सकते हैं:

  • वास्कुलर कॉग्निटिव इंपेयरमेंट
  • डिमेंशिया विद लेवी बॉडीज
  • फ्रन्टोटेम्पोरल डिमेंशिया
  • पार्किंसन डिजीज
  • हन्टिगन्स डिजीज
  • एचआईवी
  • ब्रेन इंजरी
  • स्ट्रोक
  • डिप्रेशन

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

अल्जाइमर क्या है?

यह भूलने की एक बीमारी है। जिसमें व्यक्ति धीरे-धीरे न सिर्फ चीजों को भूलने लगता है, बल्कि वह सही निर्णय भी नहीं ले पाता। उसे बोलने में समस्या होने लगती है। यानी बोलते-बोलते वह शब्द भूल जाता है और एडवांस स्टेज में पहुंचने पर पीड़ित अपने परिवारवालों को भी नहीं पहचान पाता। एक आंकड़े के मुताबिक, देश में करीब 16 लाख लोग अल्जाइमर से पीड़ित है। मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी इस बीमारी को लोग आमतौर पर शुरुआत में बहुत गंभीरता से नहीं लेते हैं, इसलिए बीमारी गंभीर रूप ले लेती है। अल्जाइमर का कोई स्थाई इलाज नहीं है, यानी किसी भी तरह के उपचार से इस बीमारी से मरीज पूरी तरह ठीक नहीं हो पाता है। डिमेंशिया के लक्षण किस वजह से दिख रहे हैं इसकी जांच के लिए डॉक्टर कई टेस्ट के द्वारा कर सकता है, जिसमें शामिल हैं:

  • ब्लड टेस्ट
  • मानसिक स्वास्थ्य का मूल्यांकन
  • ब्रेन स्कैन (सिर्फ कुछ मामलों में)

और पढ़ें: बढ़ती उम्र में अल्जाइमर कितना आम है, जानें इसके बारे में

अल्जाइमर और डिमेंशिया में मुख्य अंतर

दरअसल, यह दोनों ही मस्तिष्क व याददाशत से जुड़ी अवस्था है इसलिए अक्सर लोग दोनों को एक ही समझ लेते हैं यानी भूलने की बीमारी। मगर वास्तव में ऐसा नहीं हैं। अल्जाइमर डिमेंशिया का एक प्रकार है। डिमेंशिया में कई बीमारियां शामिल हैं, जिसमें से अल्जाइमर भी एक है। किसी भी अन्य बीमारी की तरह ही अल्जाइमर भी तीन चरणों में होता है।

  • पहली स्टेज में पीड़ित रोजर्मरा के काम और चीजे भूलता है, लेकिन दोस्तों व रिश्तेदारों को पहचान सकता है।
  • बीमारी के दूसरे चरण में पीड़ित की याददाशत जाने लगती है और दूसरे लक्षण दिखने लगते हैं।
  • तीसरे चरण में व्यक्ति की हालत बहुत बिगड़ जाती है वह अपनों को भी पहचान नहीं पाता और कई बार तो वह अपना दर्द भी बयां नहीं कर पाता है। उसका खुद पर कंट्रोल ही नहीं रहता।

और पढ़ें: कहीं आपके बच्चे को भी तो नहीं है चाइल्ड अल्जाइमर!

अल्जाइमर और डिमेंशिया के लक्षण

अल्जाइमर और डिमेंशिया के लक्षण एक जैसे हो सकते हैं, लेकिन उनमें थोड़ी भिन्नता भी हो सकती है। दोनों ही स्थितियों में यह समस्याएं होती हैः

  • सोचने की क्षमता कम होना
  • याददाशत कम होना
  • बात करने में दिक्कत

अल्जाइमर के लक्षणों में शामिल हैं:

  • हाल ही में किसी से बातचीत या घटना को भूल जाना
  • उदासीन होना
  • डिप्रेशन
  • सही निर्णय नहीं ले पाना
  • व्यवहार में बदलाव
  • भ्रम की स्थिति
  • भटकाव
  • एडवांस स्टेज में बोलने, निगलने और चलने में दिकक्त होना

डिमेंशिया के कुछ प्रकारों में इन लक्षणों में से कुछ दिखाई दे सकते हैं। लेवी बॉडी डिमेंशिया और पार्किंसन डिसीज के कारण होने वाले डिमेंशिया के लक्षणों में थोड़ी भिन्नता हो सकती है।

अल्जाइमर का मस्तिष्क पर असर

अल्जाइमर के लक्षण दिखने के पहले ही यह मस्तिष्क को क्षति पहुंचाना शुरू कर देता है। अल्जाइमर पीड़ित व्यक्ति के मस्तिष्क में प्लैक्स और टैंगल्स से निकलने वाले असामान्य प्रोटीन जमा होते जाते हैं। मस्तिष्क की कोशिकाओं के बीच का संबंध टूट जाता है और वे डैमेज होने लगती हैं। एडवांस स्टेज में मस्तिष्क असामान्य रूप से सिकुड़ने लगता है। किसी व्यक्ति को अल्जाइमर है या नहीं इसका 100 फीसदी सटीक निदान संभव नहीं है। सटीक निदान के लिए ऑटोप्सी की जाती है और विशेषज्ञ डॉक्टर इस तरीके से 90 प्रतिशत तक सटीक निदान करते हैं।

अल्जाइमर और डिमेंशिया का उपचार

अल्जाइमर का कोई सटीक इलाज नहीं है, लेकिन इसके लक्षणों का उपचार करके मरीज को राहत दी जा सकती है। जैसे:

  • पीड़ित के व्यवहार में होने वाले बदलावों का उपचार करना।
  • याददाशत कमजोर होने से रोकने के लिए दवाइयां देना।
  • वैकल्पिक उपचार जिससे मस्तिष्क की कार्यप्रणाली ठीक तरह से चले, जैसे नारियल तेल या फिश ऑयल का इस्तेमाल।
  • नींद की समस्या के लिए दवा
  • डिप्रेशन का इलाज।

और पढ़ें: वर्ल्ड अल्जाइमर डे : भूलने की बीमारी जो हंसा देती है कभी-कभी 

डिमेंशिया का उपचार

कुछ मामलों में डिमेंशिया के लिए जिम्मेदार कारणों का उपचार करके स्थिति में सुधार हो जाता है। डिमेंशिया के लिए जिम्मेदार कारण जिनका आमतौर पर उपचार किया जा सकता है, में शामिल हैः

सही उपचार से डिमेंशिया की समस्या खत्म हो सकती है। आमतौर पर डिमेंशिया का उपचार इस बात पर निर्भर करता है कि डिमेंशिया किस वजह से हुआ है, जैसे- यदि इसका कारण पार्किंसन रोग है, तो डॉक्टर उपचार के लिए कोलेनिस्टरेज इनहिबिटर का उपयोग करते हैं जिसका इस्तेमाल अल्जाइमर के इलाज में भी होता है। जबकि वास्कुलर डिमेंशिया के उपचार में इस बात पर फोकस किया जाता है कि मस्तिष्क की रक्त वाहिकाओं को अधिक नुकसान न पहुंचे और स्ट्रोक के खतरे को कम किया जा सके।

डिमेंशिया पीड़ित व्यक्ति को घर पर सही देखभाल की ज़रूरत होती है ऐसे में एक व्यक्ति हमेशा उनकी मदद के लिए होना चाहिए।

और पढ़ें: न्यूरोलॉजिकल डिसीज क्या होती हैं? जानिए क्या हैं इसके लक्षण

अल्जाइमर और डिमेंशिया के जोखिम को कम करने के उपाय

यह दोनों ही मस्तिष्क से जुड़ी अवस्था है, इसलिए इससे पूरी तरह तो बचा नहीं जा सकता, लेकिन हां कुछ उपाय करके आप इसके जोखिम को जरूर कम कर सकते हैं।

दिमाग को एक्टिव रखें– हमेशा नई-नई चीजें सीखते रहिए। चाहे वह कोई काम हो, स्किल या नई भाषा। दिमाग को हमेशा व्यस्त रखना और सकारात्मक तरीके से सोचना जरूरी है। इससे आपका मानसिक स्वास्थ्य अच्छा रहता है।

हेल्दी डायट- साबूत अनाज, ताजे फल, सब्जियां और ड्राई फ्रूट्स को डायट में शामिल करें। एक रिसर्च के मुताबिक, हल्दी और नारियल तेल का सेवन मस्तिष्क में नई कोशिकाओं को बनने में मदद करता है।

वजन संतुलित रखें- यदि आपका वजन बढ़ रहा है तो डायट और एक्सरसाइज से उसे बैलेंस रखने की कोशिश करें।

एक्सरसाइज है जरूरी- शरीर और मस्तिष्क दोनों को स्वस्थ रखने के लिए डेली एक्सरसाइज जरूरी है। मन को शांत रखने के लिए मेडिटेशन का सहारा ले सकते हैं।

स्मोकिंग से परहेज- स्मोकिंग और किसी भी अन्य रूप में तंबाकू के सेवन से परहेज करें।

उम्मीद है कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और अल्जाइमर और डिमेंशिया में अंतर के बारे में जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल है, तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

जानिए दौड़ने के फायदे और इसके दौरान बरती जाने वाली सावधानियां 

दौड़ने के फायदे in hindi, दौड़ स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक होता है। दौड़ने से हमारे शरीर के सारे अंग एक्टिव और स्वस्थ रहते हैं। इसके अलावा हमें ये दिल समेत कई गंभीर बीमारियों से बचा सकता है। जानें रनिंग in hindi, daud se jude facts

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया indirabharti
फिटनेस, रनिंग, स्वस्थ जीवन फ़रवरी 18, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें

Lewy Body Dementia: लेवी बॉडी डेमेंशिया क्या है?

जानिए लेवी बॉडी डेमेंशिया क्या है in hindi, लेवी बॉडी डेमेंशिया के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, lewy body dementia को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Sunil Kumar
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

न्यूरोलॉजिकल डिसीज क्या होती हैं? जानिए क्या हैं इसके लक्षण

न्यूरोलॉजिकल डिसीज ब्रेन, स्पाइनल कॉर्ड और नर्व सेल्स के प्रभावित होने के कारण होती है। न्यूरोलॉजिकल डिसीज होने पर व्यक्ति खुद का ध्यान केंद्रित कर पाने असमर्थ महसूस करता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
हेल्थ सेंटर्स, न्यूरोलॉजिकल समस्याएं फ़रवरी 10, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

एंटी-स्लीपिंग पिल्स : सर्दी-जुकाम की दवा ने आपकी नींद तो नहीं उड़ा दी?

एंटी-स्लीपिंग पिल्स के बारे में जानें, अभी तक आपने सुना होगा कि सर्दी-खांसी की दवाई से नींद आने लगती है पर यह खबर आपको हैरान कर देगी कि कैसे कुछ दवाईयां आपकी नींद उड़ा भी सकती हैं। एंटी-स्लीपिंग पिल्स, anti sleeping pills in hindi....

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
स्लीप, स्वस्थ जीवन नवम्बर 19, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

पेंडेमिक में अल्जाइमर पेशेंट की देखभाल-Tips for Alzheimer patients during COVID-19

पेंडेमिक में अल्जाइमर पेशेंट की देखभाल कैसे करें?

के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ सितम्बर 21, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
dementia symptoms- डिमेंशिया के लक्षण

जानिए डिमेंशिया के लक्षण पाए जाने पर क्या करना चाहिए

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ जून 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
एसिडिटी का इलाज-acidity treatment

खुद ही एसिडिटी का इलाज करना किडनी पर पड़ सकता है भारी!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ मई 19, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Transient global amnesia- ट्रांसिएंट ग्लोबल एमेंशिया

Transient Global Amnesiai : ट्रांसिएंट ग्लोबल एमेंशिया क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ मार्च 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें