home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Antidiuretic Hormone: एंटी -डायूरेटिक हॉर्मोन टेस्ट

मूल बातों को जानें|टेस्ट के पहले क्या जानना है जरूरी?|प्रक्रिया |परिणामों की व्याख्या
Antidiuretic Hormone: एंटी -डायूरेटिक हॉर्मोन टेस्ट

मूल बातों को जानें

इस टेस्ट का उपयोग एंटीडायूरेटिक हॉर्मोन की मात्रा को जांचने के लिए किया जाता है। ये हॉर्मोन हाइपोथैलेमस में बनता हैऔर पोस्टीरियर पिट्यूटरी में इक्कठा होता है। इस हॉर्मोन का काम लिवर में पानी सोखने की क्षमता को नियंत्रित करना होता है।बहुत अधिक तनाव, सर्जरी या फिर इंट्रा वैस्क्यूलर ब्लड वॉल्यूम के कम होने पर ADH की मात्रा में बढ़ोत्तरी हो सकती है।इस स्थिति में किडनी में पानी को सोखने की क्षमता बढ़ जाएगी।

डायबिटीज इन्सिपिडस में ADH की मात्रा कम हो जाती है जिसकी वजह से शरीर में पानी की कमी होने लगती है। यूरिनेशन में बहुत अधिक पानी जाएगा जिसकी वजह से खून गाढ़ा हो जाएगा साथ ही प्यास भी बहुत अधिक लगेगी।

कई बार जरूरत सेअधिक ADH निकलने की स्थिति में यूरिन बहुत गाढ़ा होगा और खून में पानी की मात्रा अधिक हो जाएगी।ये स्थिति कई बड़ी बीमारियों का संकेत हो सकती है।जैसे कि ट्यूबरक्युलोसिस, फेफड़ों की बीमारी, ल्यूकीमिया और एडिसन रोग।
ADH पानी के साथ ही आयन की मात्रा को भी नियंत्रित करता है। ADH की कमी होने पर आयन की कमी भी हो सकती है जिसकी वजह से नर्वस सिस्टम और हृदय की बीमारियां हो सकती हैं।

इस जांच की क्या आवश्यकता है?

बढ़े हुए ADH की मात्रा इनरोगों की तरफ संकेत करती है:

  • लिंफोमा (Lymphoma)
  • लंग या ब्रेन कैंसर (Lung or Brain Cancer)
  • मल्टीप्लस्क्लेरोसिस (Multiple Sclerosis)
  • एपिलेप्सी (Epilepsy)
  • सिस्टिकफाइब्रोसिस (Cystic Fibrosis)
  • ट्यूबरक्यूलोसिस (Tuberculosis)

इन सभी स्थितियों की जांच के लिए ADH करवानाआवश्यक है।

यह भी पढ़ें :Colon cancer: कोलन कैंसर क्या है?

टेस्ट के पहले क्या जानना है जरूरी?

इन स्थितियों के होने पर टेस्ट के परिणामो में गड़बड़ी हो सकती है:

  • बहुत अधिक तनाव की स्थिति में होने पर
  • टेस्ट के पहले बहुत अधिक पानी पीने पर
  • एसिटामिनोफेन(Acetaminophen), बारबिट्यूरेट (Barbiturates), बीटाअड्रेनर्जिक
    (beta-adrenergic) और एंटीमॉर्फिन लेने से भी परिणामों में गलती हो सकती है।

डॉक्टर से अपने दवाइयों के बारे में बात कर लें और ये पूंछ लें कि टेस्ट से पहले आप कौन सी दवाएं खा सकते हैं और कौन सी नहीं खा सकते हैं।

यह यह भी पढ़ें :Iron Test : आयरन टेस्ट क्या है?

प्रक्रिया

टेस्ट की तैयारी कैसे करें?

  • टेस्ट से 12 घंटे पहले कुछन खाएं और अधिकसे अधिक पानी पिए।
  • तनाव न लें।
  • डॉक्टर से दवाइयों के बारे में पूंछ लें।

टेस्ट के दौरान क्या होता है?

टेस्ट के दौरान डॉक्टर आप की नस से खून का सैंपल लेंगें और एक प्लास्टिक ट्यूब में इक्कठा करेंगें इसके बाद इस सैंपल को जांच के लिए लैब में भेज दिया जाएगा।

इसके साथ ही ब्लॉकिंग ADH टेस्ट भी किया जाता है जिसमें आपका यूरिन सैंपल लिया जाएगा। इससे सीरम की मात्रा का पता लगाया जाएगा।

इस टेस्ट से जुड़ी और किसी जानकारी के लिए डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।

परिणामों की व्याख्या

असामान्य परिणाम इन स्थितियों की तरफ संकेत करते हैं :

  • सिंड्रोम इनअप्प्रोप्रिएट ADH सेक्रीशन(SIADH)
  • किडनीरोग
  • डायबिटीज इन्सिपिडस
  • तनाव
  • डिहाइड्रेशन
  • सीरम की ओस्मोलैलिटी(Osmolality) का घटना

टेस्ट से जुड़ी और अधिकजानकारी के लिए डॉक्टरकी सलाह जरूर लें।

हेलोहेल्थ ग्रुप किसी भी चिकित्सापरामर्श, जांच या इलाजकी सलाह नहीं देताहै।

यह भी पढ़ें: Hepatobiliary Iminodiacetic Acid Scan: एचआईडीए स्कैन (Hida) क्या है?

[MEDICAL REVIEW DONE]

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर
Suniti Tripathy द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 07/06/2021 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x