मोटापा छुपाने के लिए पहनते थे ढीले कपड़े, अब दिखते हैं ऐसे

By

जिम या पार्क में घंटों तक पसीना बहाने के बावजूद जब मोटापा कम नहीं होता तो कहीं न कहीं आत्मविश्वास कम होने लगता है। ऐसी स्थिति में आपके पास दो रास्ते होते हैं या तो एक्सरसाइज करना छोड़ दें या फिर आत्मबल को और मजबूत करके हार न मानें। कुछ ऐसी ही कहानी दिल्ली के द्वारका निवासी 31 वर्षीय गगन जोसन की है। उन्होंने अप्रैल 2019 से जिम ज्वॉइन किया। तब उनका वजन 89.4 किलोग्राम था। पांच महीने की कड़ी मेहनत करके उन्होंने लगभग 10 किलो तक वजन घटा लिया है।

मोटे होने की वजह से लोगों के बीच असहज महसूस करना और अच्छी बॉडी की चाह उन्हें जिम तक खींच लाई। बॉडी को शेप में लाना उनके लिए बड़ी उपलब्धि है। साथ ही उनका ये ट्रांसफॉर्मेशन उन लोगों के लिए भी एक मिसाल है, जो मोटे होने के बावजूद जिम जाने से कतराते हैं। गगन ने हैलो स्वास्थ्य के साथ खास बातचीत में अपने अनुभव को शेयर किया।

यह भी पढ़ें: एक एडवाइज ने बदलकर रख दी मेरी जिंदगी

मोटापा छुपाने के लिए की कई कोशिशें

गगन बताते हैं कि, ‘ शादी से पहले तक मेरा वजन कंट्रोल में था। बाद में शरीर में फैट इक्कट्ठा होना शुरू हो गया और पेट निकल गया। कई बार मैं इसे छुपाने के लिए हफ्ते में सिर्फ 3-4 जोड़ी कपड़ों का इस्तेमाल करता था। यह कपड़े इतने ढीले-ढाले थे जिससे मेरा पेट आसानी से छुप जाता था और मैं मोटा नहीं दिखता था।’

लेकिन, धीरे-धीरे पेट का आकार बढ़ता चला गया और मेरे लिए इसे छुपाना मुश्किल हो गया। इसके बाद पत्नी और दोस्तों ने निकलते पेट को लेकर टोकना शुरू कर दिया। कई बार दोस्तों के बीच ऐसी स्थिति बनी कि मैंने अपने आपको असहज महसूस किया।

हताशा के बावजूद हार नहीं मानी

गगन ने कहा, ‘लगातार दो महीनों तक मैं एक्सरसाइज करता रहा लेकिन, मुझे रिजल्ट्स नहीं मिले। एक पल को लगा कि अब जिम छोड़ दूं लेकिन, फिर इस स्थिति में मैंने आत्मविश्वास को कमजोर नहीं होने दिया। मुझे लगता है कि लोगों को नतीजे न मिलने पर हताश नहीं होना चाहिए बल्कि दोगुनी ताकत से दोबारा प्रयास करना चाहिए।’

पांच महीनों में हासिल किया मुकाम

गगन का कहना है कि उन्होंने अप्रैल 2019 से पहले कभी जिम ज्वॉइन नहीं किया था। जिम के तौर- तरीकों से वे अनजान थे। पहले वे घर पर ही एक्सरसाइज करते थे। जिम ज्वॉइन करते वक्त गगन का वजन 89.4 किलोग्राम था, जो आज (अगस्त 2019) घटकर 79.6 किलोग्राम पर आ गया है।

यह भी पढ़ें: वजन घटाने के लिए फॉलो कर सकते हैं डिटॉक्स डाइट प्लान

पर्सनल ट्रेनिंग सबसे ज्यादा जरूरी

गगन के मुताबिक, फिटनेस के किसी भी गोल को हासिल करने में पर्सनल ट्रेनर की भूमिका अहम होती है। भले ही आपको बॉडी बनानी हो या फिर मोटापा कम करना हो। उनका कहना है कि हममें से ज्यादातर लोगों को एक्सरसाइज के सही तरीके के बारे में नहीं पता होता है। ऐसी स्थिति में कुछ लोग लंबे समय तक गलत ढंग से एक्सरसाइज करते हैं।

उनके चोटिल होने की संभावना भी ज्यादा रहती है। जिम में चोट लगने के बाद लोगों में जिम के प्रति डर पैदा हो जाता है। गगन ने कहा, ‘मेरी पर्सनल ट्रेनर सुमन शेखावत ने मुझे गाइड किया।आत्मविश्वास कम होने की स्थिति में भी मेरी ट्रेनर मुझे हार नहीं मानने देती थीं।’ गगन का अनुभव यह बताता है कि लोगों को जिम में जाकर अपनी मनमर्जी नहीं करनी चाहिए। उन्हें एक्सरसाइज करते वक्त ट्रेनर की बातों का सख्ती से पालन करना चाहिए।

हो सकती थी बढ़ते कोलेस्ट्रॉल की दिक्कत

जिम शुरू करने से पहले गगन जब मेडिकल टेस्ट के लिए गए तो उन्हें बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल की जानकारी मिली। गगन बताते हैं कि यदि मैं एक्सरसाइज करना शुरू नहीं करता तो शायद आज मुझे बढ़ते कोलेस्ट्रॉल की समस्या से भी जूझना पड़ता।

उनका कहना है कि हममें से ज्यादातर लोग जिम को बॉडी बनाने से जोड़कर देखते हैं। जो कि एक गलतफहमी है। हेल्दी रहने के लिए एक्सरसाइज करना बेहद जरूरी है। इससे बीमारियों हमसे दूर रहती हैं।

अच्छी बॉडी बढ़ाती है आत्मविश्वास

गगन का कहना है कि प्रोफेशनल लाइफ में आप कैसे दिखते हैं? बॉडी का शेप कैसा है? यह बातें काफी हद तक मायने रखती हैं। मेरा व्यक्तिगत अनुभव है कि प्रोफेशनल लाइफ में आपका दिमाग तो तेज होना ही चाहिए बल्कि बॉडी भी उतनी ही फिट होनी चाहिए। इससे आपका आत्मविश्वास बढ़ता है।

यह भी पढ़ें: वजन कम करने (Weight Loss) के लिए सोना है जरूरी

गगन जोसन की कहानी पढ़कर आप समझ गए होंगे कि वजन घटाना इतना मुश्किल नहीं है। अगर दृड़निश्चय के साथ मेहनत की जाए तो इस टार्गेट को अचीव किया जा सकता है। एक बात का जरूर ध्यान रखें कि जिम ज्वॉइन करने के साथ ही सही डाइट फॉलो करना भी जरूरी है। तभी आपको सही रिजल्ट मिलेंगे।

अभी शेयर करें

रिव्यू की तारीख सितम्बर 13, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया सितम्बर 13, 2019

शायद आपको यह भी अच्छा लगे