अच्छी नींद के लिए कौन सी लाइट का उपयोग करें?

By Medically reviewed by Dr. Pooja Bhardwaj

दिनभर की भाग-दौड़ के बाद जब सोने का वक्त आता है तो सभी एक सुकून भरी नींद चाहते हैं या वो अच्छी नींद के लिए उपाय करना चाहते हैं। लेकिन, फिर भी अच्छी नींद न आए तो उलझन होने लगती है। अच्छी नींद के लिए लोग कई तरह के उपाए भी करते हैं। आज उन्हीं उपायों में से हम बात कर रहे हैं कि कौन से रंग की लाइट बेडरूम में लगाई जाए जिससे सात से आठ घंटे की अच्छी नींद आ सके। अच्छी नींद के लिए उपाय लिए कौन-सी रोशनी (Light) है जरूरी? इसके बारे में समझने की कोशिश करेंगे। 

सबसे पहले तो यह जानना जरूरी है कि नींद न आने के कारण क्या हो सकते हैं ?

  • दर्द- शरीर के किसी भी हिस्से में दर्द या तकलीफ की वजह से नींद नहीं आ सकती है। 
  • असुविधा- आरामदायक या रिलैक्स फील न करने पर भी नींद आने में परेशानी हो सकती है। 
  • टेंशन- तनाव की वजह से भी नींद नहीं आ सकती है। 
  • चाय या कॉफी- चाय या कॉफी ज्यादा पीने से नींद न आने की समस्या हो सकती है क्योंकि इसमें कैफीन की मात्रा ज्यादा होती है। 
  • सिगरेट/अल्कोहल- नशीले पदार्थों का ज्यादा सेवन भी नींद न आने की समस्या का कारण हो सकता है। 
  • इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स- फोन, लैपटॉप और टैब जैसे इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स का इस्तेमाल खासतौर पर सोने के वक्त करने से भी नींद की समस्या हो सकती है। 

ब्लू लाइट नींद के लिए नहीं है सही 

प्रकाश के सभी रंगों का प्रभाव अलग-अलग होता है। ब्लू वेवलेंथ जो दिन के समय सेहत के लिए फायदेमंद होती हैं, ध्यान-शक्ति और मूड को अच्छा बनाती है, वही यह रात में सेहत के लिए हानिकारक होती है क्योंकि ब्लू लाइट मेलाटॉनिन (अच्छी नींद के लिए सहायक हार्मोन) को बाधित करता है। इसलिए बेहतर नींद के लिए कम से कम रोशनी वाली रेड लाइट अच्छी मानी जाती है। लाल रंग मेलाटॉनिन (Melatonin) को सबसे कम प्रभावित करता है। स्लीप फाउंडेशन के अनुसार हलके रेड रंग के साथ-साथ पिंक लाइट का भी प्रयोग किया जा सकता है। 

स्मार्ट बल्ब है सही 

यही नहीं इन दिनों बाजार में कुछ ऐसे भी बल्ब (Light Bulb) डिजाइन किए जा रहे हैं जिन्हें प्रोग्राम किया जा सकता है। ये बल्ब अपने आप रात को रेड लाइट और दिन में ब्लू लाइट देते हैं। दिन और रात के हिसाब से स्वतः रोशनी बदलने वाले ये बल्ब ‘स्मार्ट बल्ब’ के नाम से जाने जाते हैं। स्मार्ट बल्ब के साथ-साथ स्मार्ट लैंप का भी चयन आप कर सकते हैं। 

जरुरी सलाह 

  • नाइट लाइट के लिए डिम रेड लाइट का इस्तेमाल करें। 
  • कोशिश करें सोने से दो-तीन घंटे पहले ही ब्राइट स्क्रीन को देखना बंद कर दें। 
  • अगर आप रात की शिफ्ट में काम करते हैं या रात में बहुत सारे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का उपयोग करते हैं, तो ऐसे चश्मे पहनें जो नीले रंग का अवरोध करते हों। आप ऐसे ऐप्स को भी इंस्टॉल कर सकते हैं जो रात में हरे/नीले रंग की वेवलेंथ को फिल्टर करते हैं। 

ब्राइट लाइट का उपयोग दिन के समय में ज्यादा से ज्यादा करें। यह आपको ऊर्जावान महसूस कराती है लेकिन, जब बात रिलैक्स करने की या सोने की हो तो रिसर्च के अनुसार हल्की लाल रोशनी का इस्तेमाल करना बेहतर होगा। 

अभी शेयर करें

रिव्यू की तारीख जुलाई 5, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया जुलाई 5, 2019