Lemon : नींबू क्या है?

By Medically reviewed by Dr. Pooja Bhardwaj

नींबू का परिचय

नींबू का इस्तेमाल किसलिए किया जाता है?

शरीर में विटामिन सी की कमी से होने वाले रोग स्कर्वी के इलाज में नींबू का इस्तेमाल प्रमुखता से किया जाता है। इसके अलवा विटामिन सी से भरपूर नींबू का उपयोग सामान्य सर्दी और फ्लू, एच1एन1 (स्वाइन) फ्लू, टिनिटस (कान में घंटी की आवाज सुनाई देना), मेनियर रोग और गुर्दे की पथरी के इलाज के लिए किया जाता है।

इसका उपयोग पाचन में सहायता करने, दर्द और सूजन को कम करने, रक्त वाहिकाओं के कार्य में सुधार करने और शरीर में तरल पदार्थों की कमी होने के कारण पेशाब को बढ़ाने के लिए किया जाता है। खाने का स्वाद बढ़ाने वाला नींबू एक ऐसा फल है जिसका खट्टा स्वाद किसी भी शख्स के दिल और दिमाग को सूकुन दिलाता है।

यह भी पढ़ें : Red sandalwood: लाल चंदन क्या है?

सावधानियां और चेतावनी

नींबू के इस्तेमाल से जुड़ी सावधानियां और चेतावनी?

अक्सर ऐसा देखा जाता है कि जब महिलाएं गर्भवती यानि की प्रेग्नेंट होती हैं तो उन्हें खट्टा खाने की इच्छा होती है, ऐसे में लोग उन्हें यह खाने की सलाह देते हैं। क्योंकि गर्भावास्था के दौरान जी मचलाना और उल्टी होना एक आम समस्या हो जाती है, ऐसे में यह काफी सहायक होता है। अगर आप भी गर्भवती हैं या फिर घर में रहने वाले किसी छोटे बच्चे को स्तनपान करवा रही हैं तो इसका सेवन रोजाना करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह ले लीजिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को डॉक्टर्स द्वारा कई सारी दवाएं दी जाती हैं, इसलिए एक बार चिकित्सक से सलाह लेने के बाद भी इसका इस्तेमाल करिए।

अगर आप किसी तरह की दवाई या कोई इलाज करवा रहे हैं तो भी आपको इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह लेने की जरूरत है।

नए शोध में यह बात सामने आई है कि कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जिनको खट्टे पदार्थों से एलर्जी होती है, अगर आपके शरीर में इसी तरह की कोई एलर्जी है तो एक बार इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह ले लीजिए।

हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम, दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की ज़रुरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना ज़रुरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें : Oak: बलूत क्या है?

नींबू कितना सुरक्षित है?

रोजाना इसकी कितनी मात्रा का इस्तेमाल करना चाहिए, शोध में इस बात का तो पता नहीं चल पाया है, लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि अधिक मात्रा में इसका इस्तेमाल करने से यह शरीर को नुकसान पहुंचा सकती है। फिटनेस किंग के जमाने में जब लोग बॉडी बनाने और लड़कियां खुद को स्लिम रखने के लिए इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। वैसे तो नींबू सेहत के लिए फायदेमंद होता है, लेकिन इसे ज्यादा मात्रा में इसके रस से बॉडी को नुकसान होता है।

नए शोध में यह बात सामने आई है कि इसका इस्तेमाल गर्मियों के मौसम में चेहरे पर किया जाए तो इससे सनबर्न की समस्या बढ़ सकती है। खासकर उन लोगों को गर्मियों के मौसम में नींबू का सेवन करने से बचना चाहिए जिनकी स्किन सेंसिटिव है।

गर्भावस्था और स्तनपान: शोध में यह बात सामने आई है कि यह गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित है। शोधकर्ताओं का कहना है कि नींबू का इस्तेमाल जब तक एक सीमित मात्रा में किया जाए तभी तक यह गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित है। ज्यादा मात्रा में इसका इस्तेमाल शरीर को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

नींबू के साइड इफेक्ट

नींबू से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

इसमें एसिड होता है, जिन लोगों को गैस यानि एसिडिटी की समस्या होती हैं उन्हें इसका सेवन करने से बचना चाहिए।

अगर आप किसी बीमारी से जूझ रहे हैं या फिर दवाई का सेवन कर रहे हैं तो इसका इस्तेमाल रोजाना करने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह से बातचीत जरूर करें।

नीबूं की खुराक

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प ना मानें। किसी भी दवा या सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह ज़रुर लें।

नीबूं की खुराक

नींबू की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है।

शोधकर्ताओं का कहना है कि जड़ी बूटी हर उम्र , स्वास्थ्य के लिए सुरक्षित नहीं होती है, इसलिए नींबू का इस्तेमाल करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह लेना जरूरी है।

नींबू किन-किन रूपों में उपलब्ध है?

  • कच्चा नींबू
  • अर्क कैप्सूल
  • तेल
  • नींबू का रस
  • नींबू का जूस

और पढ़ें : Oregano: ओरिगैनो क्या है?

रिव्यू की तारीख जुलाई 9, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया अक्टूबर 22, 2019