एक्सरसाइज के दौरान मास्क का इस्तेमाल कहीं जानलेवा न बन जाए

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट मई 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कोरोना वायरस की वजह से सभी स्वास्थ्य संस्थाओं ने घर से बाहर निकलने पर मास्क का उपयोग करना जरूरी बताया है। पिछले महीने की शुरुआत में ही, सीडीसी ने सार्वजनिक जगहों पर मास्क का उपयोग जरूरी कर दिया था, जिसके बाद लोगों ने मास्क पहनने को लेकर काफी सतर्कता दिखाई। लेकिन, थोड़े दिनों पहले एक बुरी और चिंताजनक खबर सुनने को मिली कि, एक चीनी व्यक्ति को सांस चढ़ने की वजह से काफी समस्या का सामना करना पड़ा और सर्जरी से गुजरना पड़ा। उसकी यह स्थिति, कोरोना वायरस से बचने के लिए जॉगिंग के समय मास्क पहनने से हुई। ऐसे ही एक-दो मामले और सुनने को मिले हैं। इसके बाद यह चिंता और डर बढ़ गया है कि, क्या एक्सरसाइज के दौरान मास्क पहनना सुरक्षित है या नहीं?

एक्सरसाइज के दौरान मास्क का इस्तेमाल कर रहे हैं लोग?

कोविड-19 की वजह से पूरी दुनिया थम गई थी, लोग अपने-अपने घरों में कैद रहने को मजबूर थे। इसके साथ ही सभी जिम, पूल आदि जगह भी बंद थी, जिस वजह से फिटनेस फ्रीक या फिट रहने वाले लोगों को एक्सरसाइज करने में काफी परेशानी हो रही थी। लेकिन, जैसे ही कुछ जगहों पर लॉकडाउन के नियमों में नरमी लाई गई और लोगों को बाहर निकलने की थोड़ी आजादी दी गई, तो लोगों ने आउटडोर रनिंग या जिम में एक्सरसाइज के दौरान मास्क पहनना शुरू कर दिया, ताकि कोविड-19 संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। लेकिन, पिछले कुछ दिनों में वर्कआउट या एक्सरसाइज के दौरान मास्क का उपयोग करने से लोगों की तबीयत बिगड़ने के कई मामले देखने और सुनने को मिले हैं। कुछ मामलों में यह मौत का कारण भी बना है। ऐसे में सवाल यह उठा है कि, क्या मास्क पहनकर वर्कआउट या एक्सरसाइज करना सुरक्षित है या नहीं।

यह भी पढ़ें: कोरोना से बचाव के लिए दस्ताने को लेकर क्या आप सही सोचते हैं?

एक्सरसाइज के दौरान मास्क का उपयोग सुरक्षित है या नहीं?

एक्सपर्ट्स का मानना है कि, हाई इंटेंसिटी वर्कआउट जैसे, रनिंग, जॉगिंग या कार्डियो के दौरान मास्क का उपयोग करना जोखिम भरा हो सकता है। वैसे, आपको बता दें कि, कुछ मास्क का उपयोग वर्कआउट के दौरान ऑक्सीजन रेजिस्टेंस के लिए किया जाता है, जिससे शरीर के स्टेमिना को बढ़ाया जा सके। लेकिन, ध्यान रखें कि, ऐसा किसी जानकार की देखरेख में ही किया जाना चाहिए और इसके लिए उचित मास्क का उपयोग करना चाहिए। लेकिन, लोग बिना किसी जानकारी के सिर्फ कोरोना वायरस से बचाव के लिए एक्सरसाइज के दौरान मास्क का उपयोग कर रहे हैं, जिससे खतरनाक परिणाम देखने को मिल रहे हैं।

यह भी पढ़ें : पेपर टॉवेल (टिश्यू पेपर) या हैंड ड्रायर्स: कोरोना महामारी के समय हाथों को साफ करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?

एक्सपर्ट्स के मुताबिक, एक टाइट फिटिंग मास्क जैसे एन-95, सर्जिकल या कपड़े का मास्क शरीर की सांस लेने की प्रक्रिया को बाधित कर सकता है। जिससे शरीर में ब्लड गैस इक्वेशन बिगड़ जाती है और यह पोजिटिव एंड-एक्सपीरेटरी प्रेशर (Positive End- Expiratory Pressure; PEEP) को बढ़ावा देती है। यह PEEP आपके लिए न्यूमोथोरैक्स (Pneumothorax) का कारण बन सकता है। न्यूमोथोरैक्स को पंक्चर लंग्स भी कहा जाता है, जिसमें एक्सरसाइज के दौरान फेफड़ों पर अत्यधिक दबाव पड़ने पर फेफड़ों और छाती के बीच हवा भर जाती है और फिर फेफड़े पूरी तरह फूल नहीं पाते और सांस लेने में तकलीफ होने लगती है।

इसके अलावा, एक्सरसाइज के दौरा मास्क का उपयोग करने से वह पसीने व मॉइश्चर की वजह से गीला हो सकता है। जिससे वह सांस लेने में और रुकावट पैदा कर सकता है और आपके शरीर को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाती। इसके साथ ही, जिन लोगों को फेफड़ों या दिल संबंधित बीमारियां हैं, उन्हें एक्सरसाइज के दौरान मास्क का उपयोग करने से ज्यादा खतरा हो सकता है, क्योंकि उनके फेफड़ों की क्षमता पहले ही काफी कमजोर होती है।

यह भी पढ़ें : लॉकडाउन में डॉग ट्रेनिंग कैसे करें, जानें आसान टिप्स

कौन-सा मास्क ज्यादा खतरनाक हो सकता है?

देखिए, मास्क अलग-अलग तरह के आते हैं। जैसे, एन-95 मास्क, सर्जिकल मास्क, कपड़े के मास्क। जहां, एन-95 मास्क में सांस को आसानी से इनहेल व एक्सहेल करने के लिए एक वॉल्व लगा होता है, वहीं सर्जिकल या कपड़े के मास्क में ऐसा कुछ नहीं होता। इस वॉल्व में हवा को साफ करने के लिए एक फिल्टर लगा होता है। वहीं, सर्जिकल या कपड़े के मास्क में एक से ज्यादा लेयर भी हो सकती हैं, जिससे एयर रेजिस्टेंस बढ़ जाता है। इस वजह से सर्जिकल या कपड़े का मास्क लगाकर एक्सरसाइज करना काफी खतरनाक हो सकता है। इसके अलावा, अगर आप एन-95 मास्क या एलिवेशन ट्रेनिंग मास्क के साथ एक्सरसाइज करने के दौरान अगर आपको चक्कर आना, सिर में दर्द, सांस लेने में परेशानी आदि महसूस होती है, तो आपको तुरंत ही एक्सरसाइज रोक देनी चाहिए। क्योंकि, जरा-सा भी दबाव आपके शरीर पर काफी खतरनाक प्रभाव डाल सकता है। लेकिन, एन-95 मास्क का इस्तेमाल न करने की ही सलाह सरकार ने दे रखी है, क्योंकि यह हेल्थवर्कर्स के लिए ज्यादा जरूरी है और आम इस्तेमाल से इसकी खपत बढ़ सकती है।

यह भी पढ़ें : रेड लाइट एरिया को बंद करने से इतने प्रतिशत तक कम हो सकते हैं कोरोना के मामले, स्टडी में बात आई सामने

मास्क का इस्तेमाल करते हुए किन बातों का रखें ध्यान

अगर आप आउटडोर एक्सरसाइज करना चाहते हैं तो यह आपका व्यक्तिगत चुनाव हो सकता है, लेकिन आपको आउटडोर एक्सरसाइज के दौरान मास्क का उपयोग करना ही चाहिए। क्योंकि, इस दौरान आपके संक्रमित होने या किसी और को संक्रमित करने की आशंका बढ़ जाती है। लेकिन, उसके दौरान कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। जैसे-

  1. मास्क से नाक और मुंह को अच्छी तरह ढककर रखें।
  2. एक्सरसाइज के दौरान मास्क को आगे से छूने से बचें।
  3. वर्कआउट करने के बाद मास्क को कानों के पास से हटाएं।
  4. मास्क को इस्तेमाल करने के बाद तुरंत एक बंद डस्टबिन में फेंके या फिर वॉश करें।
  5. कॉटन से बना मास्क बेहतर होता है, लेकिन एक से ज्यादा लेयर वाला मास्क वर्कआउट करते हुए दिक्कत कर सकता है।
  6. मास्क पहनकर एक्सरसाइज करते हुए लो-इंटेंसिटी रखें।
  7. अगर मास्क पहनकर वर्कआउट करने पर आपको चक्कर आना, सिर चकराने, सांस लेने में दिक्कत, आंखें धुंधली होना जैसी समस्या हो रही है, तो तुरंत एक्सरसाइज को रोककर सावधानीपूर्वक मास्क हटाएं।

यह भी पढ़ें :लॉकडाउन 4.0 : बंदी के चौथे चरण में दी गई है कुछ छूट,पाबंदियां नहीं हटा सकते हैं राज्य

कोविड-19 की ताजा जानकारी
देश: भारत
आंकड़े

1,435,453

कंफर्म केस

917,568

स्वस्थ हुए

32,771

मौत
मैप

वर्कआउट के दौरान संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है?

अगर आप, मास्क के बिना आउटडोर एक्सरसाइज करने की सोच रहे हैं, तो यह खतरनाक हो सकता है। न सिर्फ आपके लिए, बल्कि सबसे ज्यादा दूसरे लोगों के लिए। क्योंकि, जब आप एक्सरसाइज करते हैं, तो आपका शरीर सामान्य प्रक्रिया से ज्यादा तेजी और फोर्स के साथ इनहेल व एक्सहेल करता है। जिससे अगर आप संक्रमित हैं और असिंप्टोमेटिक हैं, तो काफी दूरी तक आपकी संक्रमित ड्रॉप्लेट्स जा सकती हैं और इसी तरह आप काफी दूरी से भी संक्रमित ड्रॉप्लेट्स के संपर्क में आ सकते हैं। इस तरह से आउटडोर एक्सरसाइज के दौरान कोविड-19 संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें 

इटली के वैज्ञानिकों ने कोविड-19 वैक्सीन बनाने का किया दावाः जानिए इस खबर की पूरी सच्चाई

लॉकडाउन में दोस्ती पर क्या पड़ा है असर? कोई रूठा तो कोई आया पास

कोरोना महामारी में कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग (Contact Tracing) कैसे कर रही है काम, जानिए

रमजान: कोविड-19 के खिलाफ वरदान साबित हो सकते हैं ये 7 ईटिंग हैक्स

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

ब्रिटेन में जल्‍द शुरू होगा कोरोना का वैक्‍सीनेशन (COVID-19 vaccine), सरकार ने दिया ग्रीन सिग्नल

ब्रिटेन में जल्‍द शुरू होगा कोविड-19 वैक्सीन प्रोग्राम। गवर्मेंट ने दी ग्रीन सिग्नल। UK has become the first country in the world to approve the Pfizer/BioNTech coronavirus vaccine

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
कोविड 19 की रोकथाम, कोविड-19 दिसम्बर 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

कोविड-19 और सीजर्स या दौरे पड़ने का क्या है संबंध, जानिए यहां

कोविड-19 और सीजर्स का संबंध: कोविड-19 के पेशेंट में दौरे के लक्षण देखने को मिले हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना वायरस दिमाग पर अटैक कर रहा है, जिस कारण सीजर्स के लक्षण देखने को मिल रहे हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
कोरोना वायरस, कोविड-19 नवम्बर 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

इस दिवाली घर में जलाएं अरोमा कैंडल्स, जगमगाहट के साथ आपको मिलेंगे इसके हेल्थ बेनिफिट्स भी

इस दिवाली में अरोमा कैंडल से घर को करें रोशन करें। ऐसा करने से अच्छी खुशबू के साथ ही आपको रिलेक्स भी महसूस होगा। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए अरोमा कैंडल के फायदे।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन नवम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

हाथों की स्वच्छता क्यों है जरूरी, जानिए एक्सपर्ट की राय

जो लोग नियमित हाथों की सफाई रखते हैं उन्हें कोल्ड और फ्लू की समस्या कम होती है। जानिए हाथों की सफाई क्यों है जरूरी। HAND WASH

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अक्टूबर 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कोरोना वायरस वैक्सीनेशन गाइडलाइन्स

सरकार के दिशा-निर्देश के अनुसार कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए इन लोगों को अभी करना होगा इंतजार!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ जनवरी 18, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कोरोना वायरस वैक्सीनेशन (Coronavirus Vaccination)

क्यों कोरोना वायरस वैक्सीनेशन हर एक व्यक्ति के लिए है जरूरी और कैसे करें रजिस्ट्रेशन?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ जनवरी 11, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कोविड-19 वैक्सीनेशन

अधिकतर भारतीय कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए हैं तैयार, लेकिन कुछ लोग अभी भी करना चाहते हैं इंतजार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ जनवरी 8, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
यूके में मिला कोरोना वायरस-Coronavirus new variant found in United Kingdom

यूके में मिला कोरोना वायरस का नया वेरिएंट, जो है और भी खतरनाक! 

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ दिसम्बर 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें