लॉकडाउन के दूसरे फेज के आखिरी दिन बढ़ गई कोरोना पेशेंट की संख्या, ठीक हुए मरीजों का भी आंकड़ा बढ़ा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट मई 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कल यानी रविवार को लॉकडाउन के दूसरे फेज का अंत हो गया। देश में तीसरे लॉकडान की शुरूआत आज 4 मई से हो गई है। भारत में कोरोना मरीजों की संख्या 40,000 के पार पहुंच गई है। लॉकडाउन 2.0 में कोरोना पेशेंट की संख्या आखिरी दिन अचानक से बढ़ गई है। रविवार यानी 3 मई को 2667 लोग कोरोना से संक्रमित पाए गएं। ये संख्या एक दिन में संक्रमित मरीजों की सबसे अधिक संख्या है। मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ से जारी की गई रिपोर्ट के मुताबिक सोमवार सुबह तक मामलों की कुल संख्या 42,533 हो चुकी है। साथ ही कोरोना वायरस के कारण अब तक 1,373 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। लॉकडाउन 2.0 में कोरोना पेशेंट की संख्या आखिरी के तीन दिनों में अचानक से बढ़ गई। वहीं 24 घंटे में एक हजार से ज्यादा लोगों के ठीक होने की खबर भी आ रही है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि लॉकडाउन में संक्रमित मरीजों की संख्या में कितना इजाफा हुआ और कितने लोग ठीक हो गए हैं।

यह भी पढ़ें:Lockdown 3.0 : दो हफ्ते के लिए बढ़ा दिया गया लॉकडाउन, जानिए किन शर्तों के साथ शुरू होगा तीसरा लॉकडाउन

लॉकडाउन 2.0 में कोरोना पेशेंट: तो क्या अचानक से बढ़ेगी संख्या ?

लॉकडाउन में संक्रमित मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है। कोलकाता बेस्ड इंडियन एसोसिशन फॉर द कल्टिवेशन ऑफ साइंस की ओर से की गई स्टडी में ये बात सामने आई है कि जून के महीने में कोरोना पेशेंट की संख्या अपने पीक पर होगी। समय के साथ ही लोगों की टेस्टिंग भी अधिक होगी, इससे अधिक केस पॉजिटिव आने की संभावना है। स्टडी के मुताबिक भारत में संक्रमण के शुरुआती दिनों में ही लॉकडाउन लगा दिया गया था, जिस कारण से संक्रमित लोगों की संख्या में कमी आई है। महाराष्ट्र में लॉकडाउन के फेज 2.0 के अंतिम दिन संक्रमित मरीजों की संख्या में कमी दर्ज की गई है। रविवार को 678 पॉजिटिव केस सामने आए, जबकि शुक्रवार को 1008 केस सामने आए थे। फिलहाल लॉकडाउन 3.0 शुरू हो चुका है और साथ ही लोगों को कुछ राहत भी दी गई है। लॉकडाउन के तीसरे फेज के पहले दिन 24 घंटे में एक हजार से ज्यादा लोगों के ठीक होने की खबर भी आ रही है।

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस डाइट प्लान : लॉकडाउन और क्वारंटाइन के दौरान क्या खाएं और क्या न खाएं?

लॉकडाउन में संक्रमित मरीजों की संख्या:  संक्रमण के कारण 3.3 प्रतिशत मृत्युदर

लॉकडाउन के फेज 2.0 के आखिरी दिनों में हेल्थ मिनिस्ट्री की ओर से जारी किए बयान में कहा गया कि पिछले 14 दिनों में कोविड-19 के पेशेंट में 13 % से 25 % तक इम्प्रूवमेंट दर्ज किया गया है। हेल्थ मिनिस्ट्री के ज्वांइट सेकेट्री लव अग्रवाल ने कहा कि कोविड-19 के दोगुने मामले दिल्ली, यूपी, जम्मू और कश्मीर, ओडीसा, राजस्थान, तमिलनाडू और पंजाब में 11 से 20 दिनों में पाए गए हैं। वहीं कर्नाटक, लद्दाक, हरियाणा, उत्तराखंड और केरल में 20 से 40 दिनों में कोरोना पेशेंट की संख्या दो गुनी हो रही है। फिलहाल भारत में कोरोना के कारण मृत्युदर 3.3 % है जिसमे 65 प्रतिशत पुरुष हैं और 35 प्रतिशत महिलाएं हैं। फिलहाल कुछ छूट के साथ लॉकडाउन को बढ़ा दिया गया है और लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखने की अपील भी की जा रही है।

यह भी पढ़ें:क्या आप सही तरीके से फॉलो कर रहे हैं सोशल डिस्टेंसिंग, यहां पता करें

लॉकडाउन 2.0 में कोरोना पेशेंट: वेस्ट बंगाल में डेथ रेट में ग्रोथ

इंटर मिनिस्ट्रियल यानी केंद्रीय दल ने मीडिया रिपोर्ट के माध्यम से जानकारी दी है कि पश्विम बंगाल में कोरोना के कारण सबसे अधिक मृत्युदर 12.8 प्रतिशत है। आपको बताते चले कि हेल्थ मिनिस्ट्री के अनुसार जारी आकड़ों में पश्चिम बंगाल में 963 लोग अब तक कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं जबकि कोरोना वायरस के कारण अब तब पश्चिम बंगाल में 35 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं गुजरात में कोरोना के पॉजिटिव मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोत्तरी दर्ज की जा रही है।

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन में एंट्रेंस एक्जाम (प्रतियोगी परीक्षा) की तैयारी? न मानें हार और इन 10 तरीकों से पाएं सफलता

राहत मिली है, कोरोना नहीं हुआ है खत्म

देशभर में लॉकडाउन का तीसरा फेज चालू हो चुका है। देश के विभिन्न राज्यों में कुछ राहत के साथ लोगों को लॉकडाउन में छूट दी गई है। देश के कई राज्यों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने की खबर आ रही है। इस बीच कई दुकानों को खोला गया है और ऐसे कम ही लोग हैं जो सामाजिक दूरी का पूरी तरह से ख्याल रख रहे हो। कोरोना महामारी से बचने के लिए लोगों से उचित दूरी बनाए रखना बहुत जरूरी है। कुछ लोगों को ये महसूस हो रहा है कि अब धीरे-धीरे कोरोना खत्म हो जाएगा। जबकि ऐसा नहीं है क्योंकि कोरोना का संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में आसानी से फैल जाता है। बेहतर होगा कि लॉकडाउन के नियमों का पालन करें और दूसरों को भी इस बारे में जानकारी दें।

इन बातों का रखें ध्यान

लॉकडाउन में संक्रमित मरीजों की संख्या की संख्या में बढ़त दर्ज की जा रही है और साथ ही कोरोना पेशेंट भी तेजी से ठीक हो रहे हैं। कोरोना से बचने के लिए बेहतर है कि सावधानी अपनाई जाए। अभी खतरा खत्म नहीं हुआ है इसलिए सभी लोगों को जरूरत पड़ने पर सावधानी से घर के बाहर निकलना चाहिए। नीचे कुछ सावधानियां दी गई हैं, इन्हें ध्यान से पढ़ें।

  • घर से बाहर जाने पर मास्क का प्रयोग जरूर करें।
  • अगर आपके पास ग्लव्स हैं तो उसे जरूर पहनें।
  • घर में आने के बाद किसी भी वस्तु को हाथ न लगाएं और सबसे पहले हाथ धुलें।
  • घर में जो भी सामान लाएं हैं, उसे सैनिटाइज करें।
  • बच्चों को भी दिन में कई बार हाथ साफ करवाएं।
  • अगर डिलिवरी मैन कुछ दे जाता है तो पहले पार्सल को सैनिटाइज करें।
  • घर में बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखें और समय पर उन्हें जरूरी दवाएं खिलाएं।
  • अगर आपको या फिर घर के अन्य सदस्य को कोरोना वायरस के लक्षण नजर आएं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें
  • बिना डॉक्टर की सलाह के दवा न खाएं।
  • संक्रमण के दौरान जिन लोगों से मिले हो, उनके बारे में जानकारी दें।
  • बिना घबराएं हॉस्पिटल में इलाज कराएं और डॉक्टर के निर्देशों का पालन करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें 

मर्दों के लिए लॉकडाउन में हेयर केयर टिप्स, जिनसे मिलेंगे सैलून जैसे बाल

इम्यूनिटी पासपोर्ट को लेकर WHO ने पूरी दुनिया को चेताया, तेज होगी कोरोना की रफ्तार

कोरोना वायरस का ड्रग : क्या सिर की जूं (लीख) की दवाई आइवरमेक्टिन कोविड-19 को खत्म कर सकती है?

कोरोना वायरस का L-Strain क्या है जो भारत के कई क्षेत्रों को धीरे-धीरे बना रहा वुहान

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कोविड-19 और सीजर्स या दौरे पड़ने का क्या है संबंध, जानिए यहां

कोविड-19 और सीजर्स का संबंध: कोविड-19 के पेशेंट में दौरे के लक्षण देखने को मिले हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना वायरस दिमाग पर अटैक कर रहा है, जिस कारण सीजर्स के लक्षण देखने को मिल रहे हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
कोविड-19, कोरोना वायरस नवम्बर 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

इस दिवाली घर में जलाएं अरोमा कैंडल्स, जगमगाहट के साथ आपको मिलेंगे इसके हेल्थ बेनिफिट्स भी

इस दिवाली में अरोमा कैंडल से घर को करें रोशन करें। ऐसा करने से अच्छी खुशबू के साथ ही आपको रिलेक्स भी महसूस होगा। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए अरोमा कैंडल के फायदे।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन नवम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

हाथों की स्वच्छता क्यों है जरूरी, जानिए एक्सपर्ट की राय

जो लोग नियमित हाथों की सफाई रखते हैं उन्हें कोल्ड और फ्लू की समस्या कम होती है। जानिए हाथों की सफाई क्यों है जरूरी। HAND WASH

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अक्टूबर 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

कोविड-19 रिकवरी और हार्ट डिजीज का क्या है संबंध, जानिए एक्सपर्ट की राय

हार्ट पर कोविड-19 का प्रभाव भी होता है। कोरोना संक्रमण से रिकवर हो चुके कुछ पेशेंट में हार्ट डिजीज के लक्षण देखने को मिले। आप भी जानिए कोरोना और हार्ट डिजीज के संबंध के बारे में। Heart issues after recovery from coronavirus

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
कोविड-19, कोरोना वायरस सितम्बर 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कोरोना वायरस वैक्सीनेशन (Coronavirus Vaccination)

क्यों कोरोना वायरस वैक्सीनेशन हर एक व्यक्ति के लिए है जरूरी और कैसे करें रजिस्ट्रेशन?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ जनवरी 11, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कोविड-19 वैक्सीनेशन

अधिकतर भारतीय कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए हैं तैयार, लेकिन कुछ लोग अभी भी करना चाहते हैं इंतजार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ जनवरी 8, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
यूके में मिला कोरोना वायरस-Coronavirus new variant found in United Kingdom

यूके में मिला कोरोना वायरस का नया वेरिएंट, जो है और भी खतरनाक! 

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ दिसम्बर 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
कोविड-19 वैक्सीन-COVID-19 vaccine

ब्रिटेन में जल्‍द शुरू होगा कोरोना का वैक्‍सीनेशन (COVID-19 vaccine), सरकार ने दिया ग्रीन सिग्नल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ दिसम्बर 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें