home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Kamala: कमल क्या है?

परिचय|उपयोग|सावधानियां और चेतावनियां|साइड इफेक्ट्स|डोसेज
Kamala: कमल क्या है?

परिचय

कमल (Kamala) क्या होता है?

कमल एक पौधा है जिसके फलों के भागों को दवाई बनाने में प्रयोग किया जाता है। कमल को कई नामों से जाना जाता है जैसे कमेला, लोटस सैक्रे, मल्लोटस, मल्लोटस फिलिपेन्सिस, रॉटिएरा टिनक्टेरिया, स्पूनवुड आदि। लोग कमल का प्रयोग आंत के टैपवार्म से छुटकारा पाने के लिए भी करते हैं।

यह कैसे काम करता है?

कमल में ऐसा तत्व होता है जिससे परजीवी (parasitic) कीड़ों से छुटकारा पाया जा सकता है और आंत्र आसानी से खाली हो जाती है।

यह भी पढ़ें:

कई गुणों से भरपूर है रोजमेरी हर्ब, जानें इसके 5 अद्भुत फायदे

उपयोग

कमल (Kamala) का किस लिए इस्तेमाल किया जाता है?

कमल का इस्तेमाल निम्नलिखित समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है:

  • कमल के फल के ऊपर लगे बालों को तिल के तेल के साथ मिलाया जाता है और एक्जिमा व घाव होने पर प्रभावित स्थान पर लगाया जाता है। इससे यह समस्या दूर होती है।
  • कमल के फल का उपयोग आंतों के कीड़े के उपचार के लिए किया जाता है, इसके लिए फल को गर्म पानी में मिलाकर इसका सेवन किया जाता है।
  • गर्भावस्था की स्थिति में भ्रूण के सही विकास के लिए कमल ले फल पर लगे बालों का काढ़ा पीने से लाभ होता है। इसके लिए काढ़े को 30-40 मिलीलीटर की डोज में लेना चाहिए।
  • कमल की ठंडी आसव (infusion) को पथरी के इलाज और यूरिन रिटेंशन की समस्या में राहत पाने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसके लिए इसकी 40- 50 ml मात्रा लेनी चाहिए।
  • छाल के ठंडा आसव की 40- 50 मिलीलीटर खुराक गुर्दे की पथरी के इलाज के लिए और मूत्र प्रतिधारण में दिया जाता है।
  • इस जड़ी-बूटी की छाल से बना काढ़ा खून को साफ़ करने में भी प्रभावी है। इसके लिए इस काढ़े की 30 ml मात्रा लेने की सलाह दी जाती है।

मुझे कमल (Kamala) कैसे लेना चाहिए?

आप डॉक्टर के द्वारा दी सलाह के अनुसार कमल ले सकते हैं। इसकी डोज की मात्रा और इस्तेमाल का खास ध्यान रखें आदि। यह खाने या बिना खाने के साथ लिया जा सकता है। इसका सेवन कैसे किया जाए, इस बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।

यह भी पढ़ें :

इन हर्ब्स की मदद से कम करें हाइपरटेंशन

सावधानियां और चेतावनियां

कमल (Kamala) का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

कमल का सेवन करने पहले इस के फायदे और नुकसान के बारे में अच्छे से जान लें। अगर आपको कोई भी समस्या होती है तो तुरंत डॉक्टर को बताएं:

निम्नलिखित स्थितियों में इस हर्ब को लेने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें, अगर :

  • आप गर्भवती हैं या ब्रेस्टफीडिंग करा रही हैं।
  • आप कोई अन्य दवाई ले रहे हैं। यह दवाई चाहे कोई भी हो डॉक्टर को बताना न भूले।
  • आपको कमल या इसमें मौजूद अन्य किसी भी तत्व से एलर्जी हो।
  • आपको कोई अन्य बीमारी, विकार आदि हो।
  • आपको किसी तरह की एलर्जी हो जैसे भोजन, डाई, प्रेज़रवेटिव या जानवर से।

हर्ब्स को लेने के नियम दवाईयों से कम सख्त होते हैं। आप जिन हर्ब्स या दवाईयों का सेवन कर रहे हैं, आपको उन के फायदे या नुकसानों के बारे में पता होना चाहिए। इसलिए डॉक्टर की सलाह लेना न भूलें।

क्या गर्भावस्था या स्तनपान के दौरान कमल (Kamala) लेना सुरक्षित है?

अभी इस बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है कि गर्भावस्था या स्तनपान के दौरान इस हर्ब का सेवन करना सुरक्षित है या नहीं। लेकिन, इस दौरान डॉक्टर की सलाह के बिना किसी भी दवाई या जड़ी-बूटी का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

यह भी पढ़ें:

Mobizox Tablet : मोबिजॉक्स टैबलेट क्या है? जानिए उपयोग, साइड इफेक्ट, सावधानी और खुराक के बारे में।

साइड इफेक्ट्स

कमल (Kamala) के साइड इफेक्ट क्या हैं?

  • कमल के साइड इफेक्ट्स के बारे में सही जानकारी उपलब्ध नहीं है। लेकिन, इस जड़ी-बूटी का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।
  • गर्भावस्था या स्तनपान की स्थिति में इस हर्ब का सेवन करने से बचे। ऐसा करने से आपको या आपके शिशु को हानि हो सकती है।
  • कमल के रेचक (laxative) की तरह काम करता है इसलिए अगर आपको एपेंडिसाइटिस की समस्या है और आप इस हर्ब का सेवन करते हैं तो आपकी एपेंडिसाइटिस की यह परेशानी बदतर हो सकती है।

इंटरैक्शन

कौन-सी दवाएं कमल के साथ इंटरैक्ट कर सकती हैं?

कमल अन्य दवाओं या हर्ब्स के साथ इंटरेक्ट कर सकती हैं, जो आप वर्तमान में ले रहे हैं। ये आपकी दवा के काम करने के तरीके में विपरीत असर डाल सकती है या गंभीर साइड इफेक्ट की स्थिति पैदा कर सकती हैं। आपको उन सभी दवाईयों की सूची बना लेनी चाहिए जो आप ले रहे हैं और इस सूची को अपने डॉक्टर के साथ अवश्य शेयर करना चाहिए। हालांकि, इस बारे में सही जानकारी उपलब्ध नहीं है कि यह जड़ी-बूटी अन्य दवाईयों या हर्ब्स के साथ क्या इंटरेक्शन कर सकती है। इसलिए डॉक्टर की सलाह के बिना न तो इस जड़ी-बूटी का सेवन करना शुरू करें और न ही बंद करें।

  • डिगोक्सिन (लैनॉक्सिन) इंटरैक्शन रेटिंग: इन दवाईयों के साथ कमल को सावधानी से लें। इस कॉम्बिनेशन को लेने से बचे। अगर आप इन दवाईयों को ले रहे हैं तो अपने डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।
  • कमल एक प्रकार का रेचक (laxative) है जिसे स्टीमुलेंट लैक्सटिव कहा जाता है। स्टीमुलेंट लैक्सटिव शरीर में पोटेशियम के स्तर को कम कर सकते हैं। पोटेशियम का कम स्तर डिगॉक्सिन (लैनॉक्सिन) के साइड इफ़ेक्ट का खतरा बढ़ा सकता है।

यह भी पढ़ें :

Omnacortil tablet: ओमनाकॉरटिल टैबलेट के उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां क्या है?

डोसेज

कमल को लेने की सही खुराक क्या है?

कमल को लेने की सही खुराक इस प्रकार है?

कमल के फल के बालों को 1 -2 ग्राम की मात्रा में ले सकते हैं।

कमल की डोज उम्र और बीमारी पर निर्भर करती है। हर मरीज के लिए इस की खुराक अलग होती है। याद रखें, हर्बल प्रोडक्ट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं और इनकी डोज के बारे में सही जानकारी होना बेहद आवश्यक है। इसलिए डॉक्टर से खुराक की जानकारी जरूर लें। इस हर्ब का उपयोग शुरू करने से पहले इसके लेबल पर दी सलाहों को अच्छे से पढ़ें और अपने फार्मासिस्ट और डॉक्टर की राय लें।

आपातकालीन स्थिति या ओवरडोज के केस में मुझे क्या करना चाहिए?

आपातकालीन स्थिति या ओवरडोज की स्थिति में आपातकालीन सेवाओं को सूचित करें या किसी हॉस्पिटल या ट्रामा सेंटर में एडमिट हो जाएं।

अगर एक खुराक लेना भूल जाऊं, तो क्या करूं?

कमल की एक खुराक लेना आप भूल गए है, तो इसे समय रहते ले लीजिए। वहीं, अगर दूसरी खुराक का समय हो गया हो, तो पहली खुराक को स्किप कर दूसरी खुराक ले लीजिए। लेकिन, ओवरडोज से बचे।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें:

Ivermectin: आइवरमेक्टिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

Bacitracin: बैसिट्रेसिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

Ammonium Chloride: अमोनियम क्लोराइड क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

Epoetin alfa: इपोएटिन अल्फा क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

https://www.webmd.com/vitamins/ai/ingredientmono-534/kamala

https://www.rxlist.com/kamala/supplements.htm

Kampillaka: Mallotus philippensis Uses, Research, Remedies

https://www.medicinenet.com/kamala/supplements-vitamins.htm

लेखक की तस्वीर badge
Anu sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 08/06/2021 को
डॉ. पूजा दाफळ के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x