home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

लेमन यूकेलिप्टस के फायदे एंव नुकसान – Health Benefits of Lemon eucalyptus

उपयोग|सावधानियां और चेतावनी|साइड इफेक्ट्स |इंटरेक्शन|डोसेज
लेमन यूकेलिप्टस के फायदे एंव नुकसान – Health Benefits of Lemon eucalyptus

उपयोग

लेमन यूकेलिप्टस (Lemon eucalyptus) का इस्तेमाल किसलिए होता है?

लेमन यूकेलिप्टस एक पेड़ है। इसकी पत्तियों से निकाले जाने वाले तेल को त्वचा पर कीट निवारक के तौर पर लगाया जाता है। आसान भाषा में यह त्वचा पर कीट के काटने से बचाव करता है।

इसका इस्तेमाल निम्नलिखित परिस्थितियों में होता है:

  • कीट और मच्छरों के काटने से बचाव के लिए।
  • मांसपेशियों में ऐंठन, पैर के अंगूठ में फंगस, ऑस्टियोअर्थराइटिस (osteoarthritis) और अन्य जोड़ों के दर्द में।
  • छाती की जकड़न से राहत पाने के लिए।

यह कैसे कार्य करता है?

यह कैसे कार्य करता है, इस संबंध में पर्याप्त अध्ययन उपलब्ध नही हैं। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या हर्बालिस्ट से सालह लें। हालांकि, ऐसा माना जाता है कि इसमें ऐसे रसायन होते हैं जो मच्छरों को दूर रखते हैं और फंगस को मारते हैं।

और पढ़ें: पेट के कीड़ों से छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे

सावधानियां और चेतावनी

लेमन यूकेलिप्टस (Lemon eucalyptus) का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

निम्नलिखित स्थितियों में इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें:

  • यदि आप प्रेग्नेंट या ब्रेस्टफीडिंग करा रही हैं। दोनों ही स्थितियों में सिर्फ डॉक्टर की सलाह पर ही दवा खानी चाहिए।
  • यदि आप अन्य दवाइयां ले रही हैं। इसमें डॉक्टर की लिखी हुई और गैर लिखी हुई दवाइयां शामिल हैं, जो मार्केट में बिना डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के खरीद के लिए उपलब्ध हैं।
  • यदि आपको लेमन यूकेलिप्टस के किसी पदार्थ से एलर्जी है या अन्य दवा या औषधि से एलर्जी है।
  • यदि आपको कोई बीमारी, डिसऑर्डर या कोई अन्य मेडिकल कंडिशन है।
  • यदि आपको फूड, डाई, प्रिजर्वेटिव्स या जानवरों से अन्य प्रकार की एलर्जी है।

अन्य दवाइयों के मुकाबले आयुर्वेदिक औषधियों के संबंध में रेग्युलेटरी नियम अधिक सख्त नही हैं। इनकी सुरक्षा का आंकलन करने के लिए अतिरिक्त अध्ययनों की आवश्यकता है। इसका इस्तेमाल करने से पहले इसके खतरों की तुलना इसके फायदों से जरूर की जानी चाहिए। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने हर्बालिस्ट या डॉक्टर से सलाह लें।

और पढ़ेः Polymyalgia rheumatica: पोलिमेल्जिया रुमेटिका क्या है?

लेमन यूकेलिप्टस (Lemon eucalyptus) कितना सुरक्षित है?

मच्छरों को दूर रखने के लिए ज्यादातर मामलों में त्वचा पर इसे लगाना सुरक्षित माना जाता है। हालांकि, कुछ लोगों की त्वचा पर इससे रिएक्शन हो सकते हैं। लेमन यूकेलिप्टस का मौखिक रूप से सेवन करने पर यह असुरक्षित है। सीने में जकड़न पर चेस्ट पर मले जाने वाले कुछ रब्स (विक्स वेपोरब्स) में लेमन यूकेलिप्टस होता है। यदि इसको खाया जाए तो इससे गंभीर साइड इफेक्ट्स या मृत्यु तक हो सकती है।

विशेष सावधानियां और चेतावनी

प्रेग्नेंसी और ब्रेस्टफीडिंग: प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान लेमन यूकेलिप्टस के इस्तेमाल के बारे में पर्याप्त जानकारी उपलब्ध नही है। एहतियात के तौर पर इस दौरान इसका इस्तेमाल ना करें।

और पढ़ें: डेंगू से जुड़ी रोचक बातें जो आपको जानना जरूरी है

साइड इफेक्ट्स

लेमन यूकेलिप्टस (Lemon eucalyptus) से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

लेमन यूकेलिप्टस का तेल अधिकतर वयस्कों के लिए सुरक्षित होता है। इसका प्रयोग मच्छर मारने वाली दवाई की तरह किया जा सकता है। हालांकि, कुछ लोगों की त्वचा को इस तेल से परेशानी या त्वचा में जलन जैसी समस्या हो सकती है। अगर मुंह के माध्यम से इसका प्रयोग किया जाए तो यह खतरनाक हो सकता है और इससे मृत्यु तक हो सकती है।

अन्य हर्ब्स की तरह इसके भी कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं। हालांकि ऐसा आवश्यक नहीं कि इस जड़ी-बूटी को लेने से सभी लोगों को साइड इफेक्ट्स हों, लेकिन कुछ लोगों में कुछ दुष्प्रभाव देखे जा सकते हैं। अगर आपको इस हर्ब को खाने से कोई भी समस्या होती है या साइड इफेक्ट नजर आते हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर को बताएं ताकि सही समय पर वो आपको सही सलाह दे सकें। सही मार्गदर्शन और सलाह के बाद ही इसे लें। अधिक लाभ पाने के लिए नियमित रूप से इस हर्ब का सेवन करें।

यदि आप इसके साइड इफेक्ट्स को लेकर चिंतित हैं तो अपने डॉक्टर या हर्बालिस्ट से सलाह लें।

और पढ़ें: कोरोना वायरस : हैंड सैनिटाइजर 65% हुए सस्ते, सरकार के आदेश पर एफएमसीजी कंपनियों ने लिया फैसला

इंटरेक्शन

लेमन यूकेलिप्टस से मुझे क्या रिएक्शन हो सकते हैं?

लेमन यूकेलिप्टस आपकी मौजूदा दवाइयों के साथ रिएक्शन कर सकता है या दवा का कार्य करने का तरीका परिवर्तित हो सकता है। अगर आप किसी अन्य दवाई का सेवन कर रहे हैं तो सबसे पहले अपने डॉक्टर को अवश्य बताएं। यही नहीं, अगर आपको अन्य कोई बीमारी है या कोई समस्या है तो उस स्थिति में भी अगर आप इस दवाई को लेते हैं तो आपके लिए यह हानिकारक हो सकता है। इसका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर या हर्बालिस्ट से संपर्क करें।

डोसेज

उपरोक्त जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं हो सकती। इसका इस्तेमाल करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर या हर्बालिस्ट से सलाह लें।

लेमन यूकेलिप्टस (Lemon eucalyptus) का सामान्य डोज क्या है?

वैज्ञानिक अध्ययनों में निम्नलिखित डोसेज पर शोध किया गया है:

त्वचा पर लगाएं

मच्छरों के काटने से बचाने के लिए: 30%, 40% या 75% लेमन यूकेलिप्टस का ऑयल सॉल्युशन इस्तेमाल करें। हालांकि, कम मात्रा के मुकाबले अधिक मात्रा का इस्तेमाल अधिक फायदेमंद प्रतीत नहीं होता है। वहीं, अमेरिका में बाजार में लेमन यूकेलिप्टस वाले प्रोडक्ट्स में 10-30 प्रतिशत लेमन यूकेलिप्टस ऑयल होता है। इन प्रोडक्ट्स पर छपे दिशा निर्देशों के मुताबिक, दिन में दो बार से ज्यादा इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। लेमन यूकेलिप्टस के ऑयल को लगाने के बाद अपने हाथों को अच्छे से धो लें। इसे होठ या मुंह के संपर्क में आने से बचाएं।

टिक्स (ticks), एक प्रकार का कीड़े को चिपकने और काटने से रोकने के लिए: 30% लेमन यूकेलिप्टस एक्स्ट्रैक्ट (Citriodiol) को दिन में तीन बार लगाएं, जब आप टिक (एक प्रकार का परीजीवी कीड़ा) संक्रमित क्षेत्र के संपर्क में आए हों। मोसिगार्ड और रेपेल ऑयल जैसे कमर्शियल प्रोडक्ट्स में लेमन यूकेलिप्टस का विशेष एक्स्ट्रैक्ट इस्तेमाल किया जाता है। त्वचा पर इसे लगाने के बाद हमेशा अपने हाथों को धो लें। इसे होठ या मुंह के संपर्क में आने से बचाएं।

हर मरीज के मामले में आयुर्वेदिक औषधियों का डोज अलग हो सकता है। जो डोज आप ले रहे हैं वो आपकी उम्र, हेल्थ और दूसरे अन्य कारकों पर निर्भर करता है। औषधियां हमेशा ही सुरक्षित नहीं होती हैं। लेमन यूकेलिप्टस के उपयुक्त डोज के लिए अपने डॉक्टर या हर्बालिस्ट से सलाह लें।

लेमन यूकेलिप्टस (Lemon eucalyptus) किस रूप में आता है?

लेमन यूकेलिप्टस निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है:

  • कच्चा लेमन यूकेलिप्टस हर्ब
  • एसेंशल ऑयल (Essential oil)

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Plant-based insect repellents: a review of their efficacy, development and testing. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3059459/.Accessed on 3 September, 2020.

Repellency of oils of lemon eucalyptus, geranium, and lavender and the mosquito repellent MyggA natural to Ixodes ricinus (Acari: Ixodidae) in the laboratory and field. https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/16892632/.Accessed on 3 September, 2020.

Eucalyptus. https://medlineplus.gov/druginfo/natural/700.html. Accessed on 3 September, 2020.

Essential oils – Health warning. https://healthywa.wa.gov.au/Articles/A_E/Essential-oils. Accessed on 3 September, 2020.

लेखक की तस्वीर badge
Sunil Kumar द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/09/2020 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x