स्किन लाइटनिंग क्रीम क्या कोमा के लिए जिम्मेदार हो सकती है ?

By Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar

वो अपने 12 साल के दोस्त के साथ क्रीम खरीदने गई थी लेकिन उसे क्या पता था कि ये स्किन लाइटनिंग क्रीम उस पर भारी पड़ जाएगी। मैक्सिको में ऐसा वाकया सामने आया है। मैक्सिकन स्टेट जलिस्को में स्किन लाइटनिंग क्रीम में टॉक्सिक कंपाउड पाया गया जिससे 47 वर्षीय महिला बुरी तरह से प्रभावित हुई। सार्वजनिक स्वास्थय अधिकारियों ने कहा कि वो अभी आपातकालीन कक्ष में है। चलने में असमर्थता के साथ ही उसे हाथ और पैर हिलाने में दिक्कत महसूस हो रही है। अधकारियों ने महिला का नाम नहीं बताया है लेकिन यू.एस. में कॉस्मेटिक में मेथिलमरकरी के कारण ऐसा पहला मामला सामने आया है। मेथिलमरकरी एक धातु है जिसका उपयोग थर्मामीटर, बैटरी या मिरर जैसी चीजों में किया जाता है। शरीर के साथ लंबे समय तक संपर्क से किडनी डैमेज, पेरीफेरल विजन का लॉस और कॉर्डिनेशन में कमी हो सकती है।

यह भी पढ़ें :    सच छुपाना जॉनसन एंड जॉनसन को पड़ा भारी, 8 बिलियन का जुर्माना

ये रसायन कम गुणकारी होने के साथ ही जहरीला होता है। इसे केलोमेल के नाम से भी जाना जाता है। स्किन लाइनिंग क्रीम में इसे यूज किया जाता है। ऐसा कहा जा रहा है कि महिला ने जिस क्रीम का यूज किया था, उसके साथ छेड़छाड़ की गई थी। लॉस एंजिल्स में ऑक्सिडेंटल कॉलेज में एसोसिएट प्रोफेसर, भावना शमसुंदर ने कहा कि पारा स्किन की रंजकता (pigmentation) को दूर करता है और और जहरीला प्रभाव छोड़ता है।

यह भी पढ़ें : क्या टमाटर के भर्ते से बढ़ सकती है पुरुष की फर्टिलिटी?

पिछले 9 सालों से कैलीफोर्निया में 60 अधिक ब्रांड बिना किसी लेबल के बेचे जा रहा हैं। हालांकि अमेरिका में 1 पार्ट पर मिलियन (ppm) पारा का यूज सौंदर्य प्रसाधनों में किया जा रहा है। लोग इन्हें आसानी से खरीद रहे हैं। एफडीए ने इस बारे में बात करने से इंकार कर दिया है। एफडीए सौंदर्य प्रसाधनों की निगरानी खराब तरह से कर रहा है। इसका असर ये है कि उपभोक्ता बीमार पड़ रहा है। मार्केट रिसर्च ग्लोबल इंडस्ट्री एनालिस्ट्स के मुताबिक, ‘2024 तक स्किन-लाइटिंग प्रोडक्ट्स दुनिया भर में लोकप्रिय हो जाएंगे और मार्केट के 20.2 बिलियन डॉलर तक बढ़ने का अनुमान है।स्किन-लाइटनिंग प्रोडेक्ट को ब्लीमेज और स्किन टोन को निखारने के लिए विज्ञापित किया जाता है।

यह भी पढ़ें : जानिए मुंह में छाले (Mouth Ulcer) होने पर क्या खाएं और क्या न खाएं

गार्सिया का कहना है कि वो खुद इस प्रोडेक्ट को यूज करती है। वो इस खबर को सुनकर खेद महसूस कर रही है। उसका कहना है कि उपभोक्ता को सील बंद सामान का यूज करना चाहिए। जब हम कोई भी सामान खरीदते हैं तो हमे नहीं पता होता है कि आखिर अंदर क्या है ?

यह भी पढ़ें : बिल गेट्स ने कहा, 20 सालों में कुपोषण को हराना होगा

अभी शेयर करें

रिव्यू की तारीख अक्टूबर 10, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया अक्टूबर 10, 2019