नेत्रदान (eye donation) कर दूसरों की जिंदगी को करें रोशन

By Medically reviewed by Dr. Pranali Patil

मनुष्य के जीवन में आंखों का विशेष महत्व है। यह शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है। इसी से हम दुनिया के हर रंग, अपने आसपास होने वाली चीजें, हर रोशनी, एक-दूसरे की पहचान आदि करते हैं। अगर आंखें न हों तो जिंदगी काफी मुश्किल हो जाती है। बिना आंख वालों को काफी हद तक दूसरों पर भी निर्भर रहना पड़ता है। भारत में करीब 4.6 मिलियन लोग कॉर्नियल ब्लाइंड्नेस (corneal blindness) से पीड़ित हैं। ऐसे लोगों की जिंदगी का अंधेरा नेत्रदान से ही खत्म हो सकता है लेकिन, भारत में नेत्रदान को लेकर लोगों में जागरूकता का अभाव है, जिसकी वजह से बहुत कम लोग ही नेत्रदान (eye donation) के लिए आगे आ रहे हैं। इस आर्टिकल में हम नेत्रदान  को लेकर हर पहलु पर बात करेंगे। हम बताएंगे कि क्या है नेत्रदान (eye donation) की प्रक्रिया, कैसे आप नेत्रदान के लिए संकल्प ले सकते हैं?

नेत्रदान (eye donation) से जुड़ी जरूरी बातें

नेत्रदान (eye donation) क्या है और क्यों महत्वपूर्ण है?

रोटरी आई बैंक के को—चेयरमैन मयंक देसाई ने बताया कि नेत्रदान किसी व्यक्ति की मृत्यु के बाद उसकी आंखें दान करने को कहते हैं। दान के बाद ये आंखें किसी दूसरे जरूरतमंद व्यक्ति को लगाई जातीं हैं। सिर्फ कॉर्नियल ब्लाइंड्नेस से प्रभावित व्यक्ति को ही इस प्रक्रिया का लाभ मिलता है। नेत्रदान (eye donation) पूरी तरह से स्वैच्छिक है और मृत्यु के बाद ही होता है। यह इसलिए ज्यादा महत्वपूर्ण है क्योंकि आपकी मौत के बाद आपकी आंखें किसी की जिंदगी का अंधेरा खत्म कर सकती हैं। वह आपकी आंखों से पूरी दुनिया को देख सकता है।

यह भी पढ़ें : आंखों में खुजली/जलन (Eye Irritation) कम करने के घरेलू उपाय

क्या है नेत्रदान की प्रक्रिया?

कुछ लोग इसलिए भी नेत्रदान नहीं कर पाते क्योंकि उन्हें इसकी प्रक्रिया का पता ही नहीं होता। उन्हें लगता है कि ये काफी जटिल है, लेकिन ऐसा नहीं है। नेत्रदान की प्रक्रिया इस प्रकार है।

  •  नेत्रदान (eye donation) के लिए उम्र की कोई सीमा नहीं है। अगर आप आंखें दान करना चाहते हैं तो, आपको सबसे पहले आईबैंक जाना होगा। आईबैंक अलग-अलग जगहों पर खुले होते हैं। आईबैंक में जाने के बाद आपको कुछ फॉर्म भरकर देने होंगे। इसके बाद आपका रजिस्ट्रेशन हो जाता है और आपको एक कार्ड दिया जाता है। आपकी मृत्यु के बाद आपकी आंखें किसी और को दे दी जाती हैं।
  •  अगर आपने जीवित रहते हुए नेत्रदान के लिए रजिस्ट्रेशन नहीं कराया है और आपकी मौत के बाद आपके परिवार वाले आपकी आंखों को दान करना चाहते हैं, तो ये भी संभव होता है। इसके लिए परिवार वालों को निकटतम आईबैंक में जानकारी देनी होगी। इसके बाद आईबैंक वाले खुद आकर सारी प्रक्रिया पूरी करते हैं। यह पूरी प्रक्रिया लीगल है।
  •  जिसने नेत्रदान किया है, अगर उसकी मौत होती है तो, आईबैंक को फौरन सूचना देनी चाहिए। आंखे निकालने के लिए मृतक को आईबैंक लेकर जाने की जरूरत नहीं होती है। सूचना के बाद आईबैंक की टीम घर या अस्पताल पहुंचकर कॉर्निया निकाल लेती है।
  •  मौत के बाद आंखे निकालने में सिर्फ 10-15 मिनट लगते हैं और इससे चेहरे पर कोई निशान या विकृति नहीं आती है। इसलिए इस भ्रांति को भूल जाएं कि इससे अंतिम संस्कार में देरी होती है।
  •  नेत्रदान की प्रक्रिया में आंखें दान करने वाले और जिसको आंखें दी जा रहीं हैं, उसकी पहचान गुप्त रखी जाती है।
  •  नेत्रदान करने पर न तो कोई चार्ज लगता है और न ही कोई पैसा मिलता है। यह परोपकार का काम है।
  •  आप नेत्रदान के लिए कॉलसेंटर नंबर पर कॉल करके भी जानकारी ले सकते हैं।

कौन-कौन कर सकता है नेत्रदान का संकल्प

नेत्रदान के लिए किसी भी प्रकार की बंदिश नहीं है। कोई भी शख्स अपनी आंखों का दान कर सकता है। इस नेक काम में न तो आयु की अड़चन है और न ही लिंग की बाधा। चश्मा लगाने वाले व पूर्व में मोतियाबिंद सर्जरी करा चुके लोग भी अपनी आंखें दान कर सकते हैं। आप भी इस नेक काम में शामिल हो सकते हैं, बस आपको इरादा मजबूत करके एक संकल्प लेने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें : डब्लूएचओ : एक बिलियन लोग हैं आंखों की समस्या से पीड़ित

ये लोग नहीं कर सकते नेत्रदान

ऐसे लोग जो सिफलिस (Syphillis), एड्स, हेपेटाइटिस बी, हेपेटाइटिस सी, रेबीज, एन्सेफलाइटिस (Encephalitis), हैजा, मेनिनजाइटिस (Meningitis) जैसे संचारी रोग से ग्रसित हैं, अपने आंखें किसी को दान नहीं कर सकते।

यह भी पढ़ें : स्मार्टफोन ऐप से पता चलेंगे बच्चों की आंख में कैंसर के लक्षण

मयंक देसाई का मानना है कि आंखें दान करने को लेकर काफी भ्रांतियां हैं, जिसे दूर करने की जरूरत है। लोगों को यह समझने की जरूरत है कि यह परोपकार का काम है। लोगों को जागरूक करने के संदर्भ में उन्होंने बताया कि एक तो बहुत कम लोग आई डोनेशन के लिए आते हैं। वहीं इनमें भी यदि युवा हैं तो, जरूरतमंदों को कई वर्षों बाद जाकर फायदा पहुंचता है। मयंक कहते हैं कि यदि आपके आसपास किसी की मृत्यु हो जाए तो, कोशिश करें कि तुरंत उस व्यक्ति की आंखें दान कर दी जाएं। इससे कई लोगों की जिंदगी रोशन हो सकती है।

अभी शेयर करें

रिव्यू की तारीख अक्टूबर 9, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया अक्टूबर 9, 2019