बेबी प्रोडक्ट्स में केमिकल्स आपके लाडले को करते हैं बीमार, कैसे पहचानें यहां जानें?

Medically reviewed by | By

Update Date नवम्बर 26, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

बेबी प्रोडक्ट्स की मार्केटिंग इस तरह से की जाती है कि आपको उनकी जरूरत लगे, लेकिन सच यह है कि इनमें कई जहरीले तत्व मौजूद होते हैं, जो बच्चे को नुकसान पहुंचा सकते हैं। बेबी प्रोडक्ट्स में केमिकल्स होते हैं, जो आपके बच्चे की त्वचा को काफी हद तक नुकसान पहुंचा सकते हैं। बेबी प्रोडक्ट्स कई  मिलियन डॉलर का उद्योग है, जो आपके बच्चे के पैदा होने पर उनकी त्वचा को सही रखने का वादा करते है। सबसे खास बात ये है कि इसमें से कई प्रोडक्ट्स आपके बच्चे के लिए जरूरी नहीं है। आपके बच्चे की त्वचा इन टॉक्सिक प्रोडक्ट्स के इस्तेमाल के बिना ही बेहतर है। जितना कम साबुन, शैंपू और लोशन आप अपने बच्चे की त्वचा पर लगाते हैं उतने ज्यादा वह स्वस्थ रहते हैं।

ये भी पढ़ेंः ‘बेबी वियरिंग’ से गहरा होता है मां और बच्चे का रिश्ता

आपको यह जानकर शायद बुरा लगे कि कुछ सबसे मशहूर ब्रांड अपने उत्पादों में कुछ केमिकल्स का उपयोग करते हैं, जिनसे कैंसर का खतरा बढ़ता है और ये प्रोडक्ट्स कई देशों में प्रतिबंधित भी किए गए हैं। शिशु की त्वचा नाजुक होती है, जिसके कारण ये टॉक्सिक प्रोडक्ट उनकी स्कीन के नीचे तक आसानी से अपना रास्ता बना सकते हैं। ऐसे कई मामले हैं जब शिशुओं ने गलती से बेबी ऑयल मुंह में डाल लिया या उनके मुंह में चला गया जिसमें केमिकल था जिसकी वजह से उन्हें दिमाग की बीमारियों से जूझना पड़ा।

हम आपको बेबी प्रोडक्ट्स के कुछ केमिकल्स के बारे में बताएंगे, जिन्हें आपको अवॉयड करने की जरूरत है:

1,4 डाइऑक्सेन

बेबी प्रोडक्ट्स में केमिकल्स के होने का पता लगाना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। एथोक्सिलेशन (Ethoxylation) का उपयोग हार्श इंग्रीडियेंट को माइल्ड बनाने के लिए किया जाता है और इसके लिए कैंसर पैदा करने वाले पेट्रोकेमिकल एथिलीन ऑक्साइड के उपयोग की जरूरत होती है, जो 1,4 डाइऑक्सेन पैदा करता है। यह एक किडनी टॉक्सिकेंट, न्यूरोटॉक्सिकेंट और रेस्पिरेटरी टॉक्सिकेंट है। कई बार आपको प्रोडक्ट के इंग्रीडिएंट लेबल पर 1,4 डाइऑक्सेन दिखाई नहीं देगा क्योंकि यह एक कंटामिनेंट माना जाता है और यह कार्सीनोजन होता है।

ऑर्गेनिक कंज्यूमर्स एसोसिएशन (OCA) के अध्ययन से पता चलता है कि टॉक्सिन सिंथेटिक एथॉक्साइलेटेड वाले उत्पादों में मौजूद होता है। इनमें मायरेथ (myreth,), ओलेथ (oleth), लॉरेथ (laureth), सेटरेथ (ceteareth), किसी भी अन्य “एथ” या पीईजी, पॉलीथीन, पॉलीइथीन ग्लाइकॉल, पॉली ओक्सिइथाइलीन या ऑक्सिनॉल शामिल हैं। इस इंग्रीडियेंट के साथ बेबी प्रोडक्ट में फार्मलाडेहाइड (formaldehyde), नाइट्रोसैमाइन (nitrosamines), थालैट्स (phthalates)  और दूसरे टॉक्सिक मिनरल भी हो सकते हैं।

ये भी पढ़ेंः क्यों है बेबी ऑयल बच्चों के लिए जरूरी?

बेबी प्रोडक्ट्स में पैराबिन

बेबी प्रोडक्ट्स में कैमिकल्स में पैराबिन्स साबुन, बेबी शैंपू और लोशन में पाया जा सकता है। पैराबेंस (Parabens) स्तन कैंसर ट्यूमर, रिप्रोडक्टिव टॉक्सिसीटी, हॉर्मोन इंबैलेंस और त्वचा में जलन पैदा कर सकता है। जिस भी इंग्रीडिएंट में पैराबिन होता है, ऐसी सामग्री से दूर रहें। आपके बच्चे के वाइप्स में भी पैराबिन हो सकता है।

बेबी प्रोडक्ट्स में पीईजी (PEG)

पॉलीथीन ग्लाइकोल (Polyethylene glycol)  की फैमिली के अलग-अलग केमिकल लोशन, क्रीम और शैंपू में पाए जाते हैं। यह कार्सिनोजेनिक पेट्रोलियम इंग्रीडियेंट त्वचा की प्राकृतिक नमी को कम करता है, एजिंग की प्रोसेस को बढ़ाता है और बच्चों को बैक्टीरिया के लिए सेंसिटिव बनाता है। बेबी उत्पाद लेबल पर PEG देखें और इसे लेना बंद करें।

सोडियम लॉरेथ सल्फेट (SLES)

पर्सनल केयर प्रोडक्ट में सबसे हानिकारक इंग्रीडिएंट में से एक के रूप में पहचाने जाने वाले इस हानिकारक इंग्रीडियेंट का उपयोग साबुन, शैंपू और टूथपेस्ट में झाग बढ़ाने के लिए किया जाता है। यह बहुत खतरनाक है। यह बच्चे की नाजुक त्वचा पर बेहद कठोर हो सकता है और उनकी आंखों को विकसित होने में परेशानी खड़ा कर सकता है। यह इम्यूम सिस्टम को नुकसान पहुंचा सकता है। यह त्वचा की परतों को अलग करने और त्वचा की सूजन का कारण भी बन सकता है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि यह कार वॉश सोप और डिटर्जेंट में भी पाया जाता है।

मिनरल ऑयल

मिनरल ऑयल पेट्रोलियम प्रोसेसिंग का एक सस्ता बाइ-प्रोडक्ट है और इसका मतलब है त्वचा पर प्लास्टिक की चादर। कभी-कभी बेबी ऑयल खुशबू के साथ मिनरल ऑयल को मिक्स करते हैं, जो बच्चे के लिए खतरनाक हो सकता है।

बेबी प्रोडक्ट्स में केमिकल्स में खुशबू

अलग-अलग खुशबूओं का मिश्रण। कई बेबी प्रोडक्ट जैसे बॉडी पाउडर, बेबी वॉश, शैम्पू, लोशन, डायपर में खुशबू होती है। खुशबू के संपर्क में आने से अस्थमा होता है, इससे न्यूरोलॉजिकल, स्कीन, सांस और आंखों को भी नुकसान पहुंचता है। बच्चों के लिए किसी भी ऐसे उत्पाद से बचें जो सुगंध, इत्र लेबल में बताते हो।

ये भी पढ़ेंः नॉर्मल डिलिवरी से बेबी चाहती हैं तो ऐसे करें बर्थ प्लान, 10 टिप्स

बेबी प्रोडक्ट्स केमिकल्स में टैल्क

टैल्कम पाउडर टैल्क से बनाया जाता है। टैल्क एस्बेस्टस फाइबर से दूषित हो सकता है, जिससे रेस्पिरेटरी टॉक्सिसीटी और कैंसर हो सकता है। यूएसजीसी के अध्ययन ने यह साबित कर दिया है कि एस्बेस्टोस मुक्त टैल्क भी टॉक्सिक और कार्सिनोजेनिक होते है। यह पाउडर मिनरल अक्सर बेबी पाउडर में मिलाया जाता है, जिससे लंग में परेशानी हो सकती है।

बेबी प्रोडक्ट्स में प्रिर्जवेटिव

बेंजोइक एसिड जैसे कुछ प्रेर्जवेटिव (Preservative) बेंजीन पैदा कर सकते हैं। बेंजीन एक कार्सिनोजेन है, जो ल्यूकेमिया और दूसरे ब्लड कैंसर से जुड़ा है। यह प्रेजर्वेटिव बेबी शैम्पू और बेबी लोशन में मिलाया जाता है।

इस तरह के और भी बहुत सारे टॉक्सिन्स हैं। इसलिए अगर आप ऐसा कुछ पढ़ते हैं, जिसे आप समझ नहीं पाते हैं या उसे बोल नहीं पाते हैं तो बेहतर होगा कि उस प्रोडक्ट को वापस रख दें और इसके बारे में और पढ़कर ही उसे खरीदें।

यह सोचने और समझने में बुरा लगता है कि हम टॉक्सिक और हानिकारक केमिकल से भरी एक खतरनाक दुनिया में जी रहे हैं। वे हमारे जीवन में वॉशरूम से लेकर बेडरूम तक, हमारे कपड़ों से लेकर परफ्यूम तक, जो हम इस्तेमाल करते हैं और हमारे ब्रेकफास्ट प्लेट से लेकर चॉकलेट तक में मिलाए जाते हैं। केवल एक चीज जो हमें बचा सकती है वह है अवेयरनेस।

अपने नन्हे-मुन्ने की स्कीन का ध्यान रखने के लिए बेबी प्रोडक्ट्स में केमिकल्स की जांच करें। बेबी प्रोडक्ट्स में केमिकल्स बच्चे को बीमार कर सकता है, जिसकी भरपाई करना मुश्किल होता है।

और पढ़ेंः-

बेबी केयर के लिए 10 टिप्स जो हर पेरेंट को जानना है जरूरी

बेबी ऑयल का चुनाव करें मौसम के अनुसार

न्यू बॉर्न बेबी के कपड़े खरीदते समय रखें इन बातों का ध्यान

बेबी फूड्स में पाए गए टॉक्सिक मैटल, बच्चों का आईक्यू हो सकता है कम

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के साथ जानुशीर्षासन के और अनजाने फायदें और करने का सही तरीका जानिए

    जानुशीर्षासन के बारे में जानकारी, जानुशीर्षासन को करने का तरीका, इसके लाभ, किन स्थितियों में इस आसन को नहीं करना चाहिए, Janu Sirsasana in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by shalu
    फिटनेस, योगा, स्वस्थ जीवन अगस्त 5, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    Glucored Tablet : ग्लूकोर्ड टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    ग्लूकोर्ड टैबलेट की जानकारी in hindi, दवा के साइड इफेक्ट क्या है, मेटफॉर्मिन (Metformin) और ग्लिबेंक्लामाइड (Glibenclamide) दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Glucored Tablet

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल अगस्त 5, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    साउथ ब्यूटी काजल अग्रवाल के वर्कआउट और डाइट में छुपे उनके फिटनेस सीक्रेट को जानिए

    काजल अग्रवाल डाइट, साउथ ब्यूटी काजल अग्रवाल की फिटनेस के राज, काजल अग्रवाल की फिटनेस की पूरी जानकारी, Kajal Aggarwal diet, Kajal aggarwal

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma
    स्वास्थ्य बुलेटिन, लोकल खबरें अगस्त 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    शिशु की बादाम के तेल से मालिश करना किस तरह से फायदेमंद है? जानें, कैसे करनी चाहिए मालिश

    शिशु को बादाम के तेल की मालिश करने के फायदे, बादाम के तेल की मालिश कैसे करें, मालिश करते हुए बरते सावधानियां, Almond oil baby massage benefits, Almond oil

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma

    Recommended for you

    साइटिका के घरेलू उपाय

    साइटिका के घरेलू उपाय को आजमाएं, जानें क्या करें और क्या नहीं

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh
    Published on अगस्त 5, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    बच्चों को क्या खिलाएं/Winter Food For Kids

    सर्दी के मौसम में गर्म रखने के लिए बच्चों को क्या खिलाना अच्छा होता है?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by shalu
    Published on अगस्त 5, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
    शिशु में गैस की परेशानी

    शिशुओं में गैस की परेशानी का घरेलू उपचार

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh
    Published on अगस्त 5, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
    पिगमेंटेशन (झाइयां) के घरेलू उपाय

    अगर चाहिए पिगमेंटेशन (झाइयां) से मुक्त त्वचा, तो अपनाएं ये घरेलू उपाय

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma
    Published on अगस्त 5, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें