हम जो भोजन खा रहे हैं, क्या उससे कोरोना वायरस का खतरा हो सकता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 21, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कोरोना वायरस का संक्रमण तब फैलता है जब कोई व्यक्ति इंफेक्टेड व्यक्ति के कॉन्टैक्ट में आ जाता है। जब कोई संक्रमित व्यक्ति खांसता है या छींकता है तो उसकी छींक-खांसी के साथ ही कई वायरस हवा में फैल जाते हैं। अगर अन्य व्यक्ति संक्रमित व्यक्ति से उचित दूरी पर मौजूद नहीं है तो वायरस का संक्रमण आसानी से स्वस्थ्य व्यक्ति को संक्रमित कर देता है। कोरोना वायरस का खतरा संक्रमित सतह के संपर्क में आने पर भी होता है। ये वो बातें हैं जो आप पिछले कुछ दिनों से सुनते और पढ़ते हुए आ रहे हैं।

दिल्ली में पिज्जा डिलिवरी बॉय के संक्रमित पाए जाने के बाद से लोगों के मन में एक प्रश्न और खड़ा हो गया है। प्रश्न ये है कि क्या फूड से कोरोना वायरस हो सकता है ? यानी अगर कोई संक्रमित व्यक्ति खाना बना रहा हो, या फिर संक्रमित व्यक्ति के साथ अन्य व्यक्ति खाना खा रहा हो तो क्या फूड से कोरोना वायरस फैल सकता है ? महामारी के दौरान लोग बाहर का खाना खाने से अब डर रहे हैं। आखिर खाना कोरोना वायरस से अभी तक अछूता है या फिर फूड भी कोरोना वायरस फैला सकता है, इन बातों को जानने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर पढ़ें।

और पढ़ें: कोरोना के खिलाफ भारत के एक्शन पर WHO ने की वाहवाही

फूड से कोरोना वायरस : क्या खाने से कोरोना वायरस फैल सकता है?

अगर आपके सामने गरमागरम खाना रखा है और आप सोच रहे हैं कि क्या फूड से कोरोना वायरस फैल सकता है तो इसका जवाब है शायद हां या नहीं। इस बात को ऐसे समझे कि अगर खाना बनाने वाले व्यक्ति को कोरोना वायरस है और उसने खाने से कुछ ही दूरी पर छींका या खांसा है तो हवा से ड्रॉपलेट खाने में भी आ सकते हैं। अगर आप वो खाना खा रहे हैं तो आपको कोरोना का संक्रमण हो जाने की पूरी संभावना है। आपको खाने के पहले और खाने के बाद हाइजीन का पूरा ध्यान रखना पड़ेगा। फिलहाल तो लोग घर पर ही खाना बना रहे हैं। आपको घर के सभी सदस्यों के स्वास्थ्य के बारे में ठीक से जानकारी होनी चाहिए। साथ ही घर में अगर किसी को भी कोरोना वायरस के लक्षण दिखाई दें तो उसे तुरंत आइसोलेशन में रखा जाए। अधिक टेम्परेचर में जब खाना पकाया जाता है तो वायरस का खतरा न के बराबर रहता है।

कोविड-19 की ताजा जानकारी
देश: भारत
आंकड़े

1,435,453

कंफर्म केस

917,568

स्वस्थ हुए

32,771

मौत
मैप

और पढ़ें: कोरोना वायरस के इलाज में प्रभावी हो सकती है रेमडेसिवीर दवा, जानें इसके बारे में

फूड से कोरोना वायरस का खतरा ऐसे होगा कम

फूड से संक्रमण का खतरा न के बराबर होता है क्योंकि खाना बनाते समय अधिक टेम्परेचर का यूज किया जाता है। अगर आप कोरोना संक्रमित व्यक्ति के साथ खाना खाते हैं या फिर उसके ड्रॉपलेट खाने में आ जाते हैं तो फूड से कोरोना वायरस का खतरा हो सकता है। अगर आप खाना बना रही हैं तो साफ सफाई का पूरा ध्यान रखें। बेहतर होगा कि खाना बनाने से पहले अच्छी तरह से हाथों को साफ कर लें। अगर आप कोरोना महामारी के दौरान बाहर से खाना न मंगाएं तो बेहतर होगा। हालांकि, अभी तक इस तरह का कोई मामला सामने नहीं आया है जिसमें ये पता चला हो कि कोरोना वायरस का संक्रमण खाने के माध्यम से भी फैलता है। और ना ही ये जानकारी मिली है कि खाना पकाने से वायरस मर जाता है।बेहतर होगा कि आप खुद ही सावधानी रखें और परिवार को भी स्वच्छ खाना खिलाएं।

फूड से कोरोना वायरस : पैकिंग के दौरान एक हाथ से दूसरे हाथ में जाता है खाना

यूके फूड स्टैंडर्ड्स एजेंसी वेबसाइट के मुताबिक, अभी तक फिलहाल खाने से कोरोना वायरस फैलने की बात सामने नहीं आई है लेकिन बेहतर होगा कि घर पर पका खाना खाया जाए। अभी भी ऐसे लोगों की तादात अधिक है जो बाहर के खाने पर पूरी तरह से निर्भर हैं। जबकि लंदन स्कूल ऑफ हाइजीन एंड ट्रॉपिकल मेडिसीन की प्रोफेसर ब्लूमफील्ड का फूड से कोरोना वायरस फैलने की चिंता के बारे में कहना है कि  ‘इस मामले में ‘जीरो रिस्क’ जैसी कोई चीज ही नहीं है। जब खाना पैक किया जाता है तो वो एक हाथ से दूसरे हाथ में जाता है और ऐसे में वायरस का संक्रमण आसानी से फैल सकता है। वैसे इस तरह के मामले अभी तक नहीं आए हैं तो हम सिर्फ एक अनुमान ही लगा सकते हैं कि फूड से कोरोना वायरस का संक्रमण फैल सकता है।

और पढ़ें: कोविड-19: दिन रात इलाज में लगे एक तिहाई मेडिकल स्टाफ को हुई इंसोम्निया की बीमारी

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

फूड से संक्रमण न हो इसलिए ध्यान रखें ये बातें

फूड से संक्रमण न हो, इसके लिए आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा। मीडिया रिपोर्ट में दी गई जानकारी के अनुसार ‘ प्रोफेसर ब्लूमफील्ड कहती हैं, अगर आप पैकिंग वाला फूड खाने की इच्छा रखते हैं तो उसे इस्तेमाल करने से 72 घंटे पहले या तो स्टोर कर लें। इसके अलावा जिस प्लास्टिक या ग्लास के कंटेनर में खाना पैक करके आया है उसे अच्छे से सैनिटाइज्ड जरूर कर लेंसाथ ही जब भी घर के बाहर कोई भी वेजीटेबल्स या फिर पैक फूड ला रही हो तो उसे अच्छे से साफ जरूर करे लें

जिन फलों सब्जियों का सेवन छिलका निकालकर किया जाता है, उन्हें भी पानी में छिलके सहित अच्छे से धोकर ही छीलना या काटना चाहिए।आलू, शलगम, गाजर आदि सब्जियों को गुनगुने पानी से धोंए। इन्हें आप 5 से 10 सेकेंड के लिए नरम ब्रश से साफ करके किसी साफ कपड़े से पोंछ सकते हैं। छिलका सहित खाए जाने वाले फलों को कम से कम एक घंटे तक पानी में भिगोकर रखें।

फूड से कोरोना वायरस के खतरे पर सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन की रिपोर्ट

  • फूड से कोरोना वायरस के खतरे पर सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन की रिपोर्ट के मुताबिक, आमतौर पर हानिकारक कीटाणुओं को मारने के लिए कच्चे मांस को अन्य खाद्य पदार्थों से अलग रखना चाहिए। जितना हो सके कच्चे मांस, कच्ची सब्जियां, सलाड खाने से बचें। इस तरह के खाद्य पदार्थों को हमेशा सही तापमान पर पकाने के बाद ही खाएं।
  • इसकी रिपोर्ट के मुताबिक, COVID-19 को भोजन, उपचारित पेयजल या खाद्य पैकेजिंग से होने का जोखिम बहुत कम है। भोजन से COVID-19 फैलने का जोखिम तभी हो सकता है अगर इसमें संक्रमित व्यक्ति द्वारा खांसने या छींकने के दौरान इसके कण गए हों। हालांकि, वर्तमान में, इस बात का कोई सबूत नहीं है कि भोजन वायरस को फैलाने के लिए कितना जिम्मेदार हो सकता है।
  • मौजूदा मामलों में अभी तक एक भी ऐसी रिपोर्ट नहीं आई है, जो इस बात का दावा करें कि उन्हें किसी भोजन को खाने, पैक्ड फूड या फू्ड बैग से कोराना वायरस का संक्रमण हुआ हो।
  • अभी तक प्राप्त मामालों में सिर्फ इस बात की पुष्टि हुई है कि, ऐसे लोग जिन्होंने संक्रमित स्थानों पर भोजन किया है, शॉपिंग किया है या किसी संक्रमित वस्तु को छुआ है या उसके संपर्क में गए हैं, सिर्फ उनमें ही कोरोना वायरस के संक्रमणों की पहचान हुई है।

और पढ़ें: चेहरे के जरिए हो सकता है इंफेक्शन, कोरोना से बचने के लिए चेहरा न छूना

कितना सुरक्षित है पैक्ड फूड?

ऑनलाइन मंगाया गया खाना पूरी तरह से सुरक्षित माना जा सकता है इस पर संदेह बना हुआ है। हालांकि, खाना बनने के बाद पैक्ड होने से लेकर डिलीवरी तक की प्रक्रिया के दौरान यह कई लोगों के संपर्क में आ चुका होता है। इसलिए, जब भी आप बाहर से कोई खाद्य पदार्थ मंगवाते हैं, तो यह सुनिश्चित करें कि, उसकी पैकेजिंग कहीं से भी खुली हुई न हो। ऑर्डर को अपने हाथों में पकड़ने से पहले उसे सैनिटाइज करें। फिर उसे साफ पानी से धोएं इसके बाद ही उसकी पैकेजिंग को खोलें। संभव हो, तो आप एक बार फिर से खाने को उचित तापमान पर गर्म भी कर सकते हैं।

खाना खाने से पहले अपने हाथों और जिस बी बर्तन में खाने वाले हैं, उसे भी अच्छे से साफ करें। साथ ही, पीने का पानी का भी विषेश ध्यान रखें। फ्रिज के पानी का इस्तेमाल करने से बचें।

इन बातों का भी रखें ध्यान

  • किसी भी खाद्य पदार्थ, जैसे सब्जी, दाल या फलों को साबुन, लिक्विड या किसी कैमिकल से साफ न करें। अगर इनके ऊपर प्लास्टिक या पॉलिथीन का कवर है, तो ऐसी स्थिति में आप उसे सैनिटाइज कर सकते हैं। लेकिन, सब्जियों फलों या अन्य खाद्य पदार्थों को सिर्फ साफ हल्के गुनगने पानी से ही धोएं।
  • आलू, खीरे या खरबूज जैसे मोटी परत वालों फलों व सब्जियों को साफ करने के लिए आप किसी ब्रश का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • सीडीसी पर प्रकाशित लेख के मुताबिक, नमक युक्त पानी, काली मिर्च, सिरका या नींबू का रस फलों और सब्जियों के कीटाणुओं को हटाने के लिए प्रभावी नहीं पाए गए हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

वर्ल्ड टूरिज्म डे: कोविड-19 के बाद कितना बदल जाएगा यात्रा करना?

कोविड-19 के बाद ट्रैवल करना पहले जितना मजेदार नहीं रहेगा क्योंकि एक तो आपको संक्रमण से बचाव की चिंता लगी रहेगी दूसरी तरफ कई नियमों का पालन भी करना होगा।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
कोविड-19, कोरोना वायरस सितम्बर 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

फिर से खुल रहे हैं स्कूल! जानें COVID-19 के दौरान स्कूल जाने के सेफ्टी टिप्स

COVID-19 के दौरान स्कूल लौटने के लिए सेफ्टी टिप्स in Hindi, school reopen guidelines covid-19 safety tips in Hindi, सेफ्टी टिप्स की गाइडलाइन।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
कोविड 19 व्यवस्थापन, कोरोना वायरस सितम्बर 8, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें

कैसे स्वस्थ भोजन की आदत कोरोना से लड़ने में मददगार हो सकती है? जानें एक्सपर्ट्स से

स्वस्थ भोजन की आदत कैसे डेवलप करें? बेहतर स्वास्थ्य के लिए स्वस्थ भोजन की आदत को अपनाना जरूरी है। स्वस्थ भोजन खाने के क्या फायदे या प्रभाव हैं?

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अगस्त 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

लॉकडाउन में ईटिंग हैबिट्स किसी की सुधरी तो किसी की हुई बेकार

लॉकडाउन में ईटिंग हैबिट्स बदल गई हैं। लॉकडाउन के दौरान घर पर हेल्दी फूड्स खाना आपकी इम्युनिटी को स्ट्रॉन्ग रखने के लिए जरूरी है। वर्क फ्रॉम होम करते हुए हम लोगों को अपनी सेहत और फिटनेस पर भी ध्यान देने का मौका मिला। Lockdown eating habits in hindi

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अगस्त 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

हार्ट पर कोविड-19 का प्रभाव, heart issues after recovery from coronavirus

कोविड-19 रिकवरी और हार्ट डिजीज का क्या है संबंध, जानिए एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ सितम्बर 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
कोविड के बाद फेफड़ों का स्वास्थ्य -corona and lung world lungs day

क्या कोरोना होने के बाद आपके फेफड़ों की सेहत पहले जितनी बेहतर हो सकती है?

के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
प्रकाशित हुआ सितम्बर 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
कोरोना से ठीक होने के बाद के उपाय

कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद ऐसे बढ़ाएं इम्यूनिटी, स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताए कुछ आसान उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
PPI medicines - पीपीआई से कोरोना

क्या पेंटोप्रोजोल, ओमेप्रोजोल, रैबेप्रोजोल आदि एंटासिड्स से बढ़ सकता है कोविड-19 होने का रिस्क?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें