कार में फर्स्ट ऐड बॉक्स रखते समय इन चीजों को रखना न भूलें

This is a sponsored article, for more information on our Advertising and Sponsorship policy please read more here.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

घायलों को प्राथमिक उपचार देने के लिए फर्स्ट ऐड बॉक्स का इस्तेमाल किया जाता है। किसी भी आपातकालीन परिस्थिति से निपटने में इस किट का महत्वपूर्ण योगदान माना जाता है। चोट लगने पर या सेहत से जुड़ी कोई अन्य समस्या होने पर फर्स्ट ऐड बॉक्स खासतौर से काम आ सकता है। अगर आपके पास ये किट हो तो इसका उपयोग कहीं भी किया जा सकता है। आज इस आर्टिकल में हम आपको विशेष रूप से कार में फर्स्ट ऐड बॉक्स रखने के फायदे और उसके महत्व के बारे में बताने जा रहे हैं। आइए जान लेते हैं आपके लिए कार में फर्स्ट ऐड बॉक्स रखना क्यों जरूरी है?

और पढ़ें : फर्स्ट डिग्री से थर्ड डिग्री तक जानिए जलने के प्रकार और उनके उपचार

फर्स्ट ऐड बॉक्स का महत्व

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, फर्स्ट ऐड बॉक्स असल में प्राथमिक उपचार के काम में लाया जाता है। जब आपके आस पास कोई मेडिकल शॉप ना हो, ना कोई हॉस्पिटल पास में हो, ऐसी स्थिति में अगर कोई मेडिकल इमरजेंसी आती है उस दौरान आप अपनी सूझ बूझ से घायल व्यक्ति को प्राथमिक उपचार मुहैया करवा सकते हैं। आपातकालीन स्थितियों में फर्स्ट ऐड बॉक्स का साथ में रहना काफी आवश्यक है। इसकी जरूरत आपको कहीं भी पड़ सकती है क्योंकि समस्याएं पूछकर नहीं आती।

प्राथमिक चिकित्सा यानि फर्स्ट ऐड की जरूरत मरीज को कभी भी पड़ सकती है। यदि आप किसी बीमारी से ग्रस्त हैं तो ऐसी स्थिति में अपने पास दवाईयों का किट हमेशा रखना काफी अहम है। बिना दवाईओं के अगर आप घर से बाहर निकलते हैं और ना चाहते हुए भी कोई इमरजेंसी आन पड़ती है तो, इससे आपको नुकसान हो सकता है। आप चाहे तो खुद से भी अपनी जरूरत के अनुसार घर पर ही फर्स्ट ऐड बॉक्स बना सकते हैं या फिर रेड क्रॉस के ऑफिस से इसे खरीद सकते हैं। हालांकि अपने हिसाब से फर्स्ट ऐड बॉक्स बनाना ज्यादा फायदेमंद हो सकता है। आप खुद एक ट्रांसपेरेंट प्लास्टिक का बॉक्स खरीद कर उसमें जरूरत में आने वाली सभी सामनों को रख सकते हैं।

और पढ़ें : तेजाब से जलने पर फर्स्ट एड कैसे करें?

कार में फर्स्ट ऐड बॉक्स रखना क्यों जरूरी है?

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, कार में फर्स्ट ऐड किट रखने से आप आपातकाल की स्थिति में खुद की और अपने साथ के लोगों की सुरक्षा कर सकते हैं। सफर के दौरान यदि कोई एक्सीडेंट हो जाता है या फिर आपको अचानक ही सिरदर्द की शिकायत होती है या अन्य कोई स्वास्थ्य समस्या सामने आती है उस समय आप विशेष रूप से कार में रखे फर्स्ट ऐड बॉक्स की मदद से आपातकाल की स्थिति से निकलने में कामयाब हो सकते हैं।

हर व्यक्ति घर से यही सोच कर निकलता है कि, उसका दिन अच्छा बीतेगा और रास्ते में उसे किसी तरह की कोई समस्या नहीं आएगी, लेकिन हमेशा ऐसा नहीं होता। इसलिए अपनी सेफ्टी के लिए हर हमेशा आपको चौकन्ना रहना चाहिए। कार में फर्स्ट ऐड किट रखने का मुख्य उद्देश्य हैं, रास्ते में यदि आपका कोई एक्सीडेंट हो जाता है और आसपास कोई मेडिकल सुविधा नहीं मिलती है तो उस स्थिति में आप फर्स्ट ऐड बॉक्स में रखी चीजों की मदद से खुद का बचाव कर सकते हैं। सफर के दौरान कार में कई बार लोगों को वायरल रेस्पेरिटोरी इंफेक्शन होने का खतरा रहता है। इसलिए फर्स्ट ऐड बॉक्स में इससे संबंधित चीजों को रखना बेहद आवश्यक है। कार में रखे जाने वाले फर्स्ट ऐड बॉक्स में आपको अपनी जरूरत के अलावा साथ में ज्यादातर सफर करने वाले की जरुरत की चीजों को भी जरूर रखना चाहिए।

और पढ़ें : कीड़े का काटना या डंक मारना कब हो जाता है खतरनाक? क्या है बचाव का तरीका

कार में रखे जाने वाले फर्स्ट ऐड बॉक्स में किन चीजों को जरूर रखें

कार में रखे जाने वाले फर्स्ट ऐड बॉक्स में घर के फर्स्ट ऐड बॉक्स से काफी अलग चीजें होती हैं। चूंकि इसका इस्तेमाल आपको राह चलते सफर के दौरान करना होता है, इसलिए कार में रखें फर्स्ट ऐड बॉक्स में ऐसी चीजें रखना विशेष रूप से महत्वपूर्ण माना जाता है जिसका इस्तेमाल आपको रास्ते में किसी इमरजेंसी की स्थिति में कर सकें। कार में रखे जाने वाले फर्स्ट ऐड बॉक्स में मुख्य रूप से ये सभी जरूरी चीजें रखना महत्वपूर्ण माना जाता है।

  • डेटोल, इसका इस्तेमाल एक्सीडेंट होने पर किया जा सकता है
  • सर्दी जुखाम, बुखार और सिरदर्द से बचने की दवा।
  • स्किन एलर्जी, मच्छर और कीड़े को काटने से बचाने वाला स्प्रे।
  • बैंडऐड, ताकि छोटी मोटी चोट पर इसका इस्तेमाल किया जा सके।
  • पट्टी, कैंची और पेपर टेप, इन चीजों का इस्तेमाल आप एक्सीडेंट होने पर खून को रोकने में कर सकते हैं।
  • एंटीसेप्टिक वाइप्स को भी कार में रखे जाने वाले मेडिकल किट का हिस्सा जरूर बनाएं। इसकी मदद से आप खुद को कार में लंबे सफर के दौरान किसी प्रकार के स्किन एलर्जी होने से बचा सकते हैं।

और पढ़ें : एयर एंबुलेंस के बारे में कितना जानते हैं आप? जानें इसका किराया और बुक करने का तरीका

कार में रखें फर्स्ट ऐड बॉक्स का उपयोग:

कार में रखे जाने वाले फर्स्ट ऐड बॉक्स का उपयोग आप आपातकाल की स्थिति में निम्न तरीकों से कर सकते हैं।

  • फर्स्ट ऐड बॉक्स में रखीं सभी दवाईयों का उपयोग आपको भली भांति आना चाहिए। किस स्थिति से निपटने में कौन सी दवा आपके काम आ सकती है इस बात की जानकारी आपको जरूर होनी चाहिए।
  • कार में रखे जाने वाले फर्स्ट ऐड बॉक्स का उपयोग कैसे करना है इसकी जानकारी आपके परिवार के अन्य सदस्यों को भी होनी चाहिए।
  • यदि आप कार में किसी के साथ हैं और अचानक ही कोई एक्सीडेंट हो जाता है तो सामने वाले को अपने हाथों में लेटेक्स दस्ताने पहनकर ही जख्म पर मरहम पट्टी करनी चाहिए।
  • चोट लगने पर बहने वाले खून को रोकने के लिए बैंडेड लगाना और डेटोल से घाव को साफ करना आपको जरूर आना चाहिए।
  • फर्स्ट ऐड बॉक्स में रखीं सभी चीजों की जांच समय-समय पर जरूर करते रहें, भूलकर भी कोई एक्सपाइरी डेट की दवा या मलहम का उपयोग ना करें।
  • कार में रखे जाने वाले फर्स्ट ऐड बॉक्स में अपने डॉक्टर और हॉस्पिटल के इमरजेंसी डिपार्टमेंट का नंबर रखने के साथ ही, एम्बुलेंस का नंबर भी जरूर रखें।
  • कार में रखें जाने वाले फर्स्ट ऐड बॉक्स में घाव पर इस्तेमाल किए जाने वाले मलहम और टिंचर आदि जरूर होना होना चाहिए।

यहां बताए गए टिप्स को फॉलाे कर आप कभी काेई दुर्घटना होने पर अपनी और अपने परिवारजनों की जान बचा सकते हैं। कभी भी कोई एक्सीडेंट होने पर प्राथमिक उपचार हमेशा उपयोगी होता है। इसलिए इस आर्टिकल में बताए गए निर्देशों को आपको फॉलो करना चाहिए। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी प्रकार की चिकित्सा सलाह, उपचार और निदान प्रदान नहीं करता।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

एयर एंबुलेंस के बारे में कितना जानते हैं आप? जानें इसका किराया और बुक करने का तरीका

एयर एंबुलेंस क्या है, air ambulance in hindi, एयर एंबुलेंस का किराया कितना है, india mein air ambulance book kaise karein, india mein air ambulance ka kiraya, प्लेन से मरीज को कैसे ले जाएं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal

Flunarizine: फ्लूनैरीजीन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

फ्लूनैरीजीन का उपयोग in hindi. Flunarizine का इस्तेमाल, साइड-इफेक्ट्स, उपयोग कितना करें। जानिए खुराक, लाभ-हानि। फ्लूनैरीजीन का यूज माइग्रेन का अटैक रोकने में किया जाता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anoop Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल फ़रवरी 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

बेहोशी छाने पर क्या प्राथमिक उपचार करना चाहिए?

बेहोशी के प्राथमिक उपचार की जानकारी in hindi. बेहोशी के दौरान इंसान को कुछ सुनाई या दिखाई नहीं देता है। व्यक्ति कुछ सेकेंड के लिए चक्कर खाकर गिर जाता है। Behoshi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi

Soldier’s Wound: सैनिकों के जख्म का इलाज कैसे किया जाता है?

सैनिकों के जख्म बेहद खतरनाक होते हैं। भारतीय सेना दिवस (15 जनवरी) के मौके पर जानें कि सैनिकों के जख्मों का कैसे इलाज किया जाता है और वो कैसे विपरीत परिस्थितियों में गहरे जख्म झेलकर हमारी और देश की रक्षा करते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
लोकल खबरें, स्वास्थ्य बुलेटिन जनवरी 14, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

Cashless Air Ambulance- कैशलेस एयर एंबुलेंस सेवा

कैशलेस एयर एंबुलेंस सेवा भारत में हुई लॉन्च, कोई भी कर सकता है यूज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ मई 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
फर्स्ट ऐड बॉक्स-First aid box

घर पर फर्स्ट ऐड बॉक्स कैसे बनाएं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया indirabharti
प्रकाशित हुआ अप्रैल 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
बच्चों के लिए फर्स्ट एड-bacchon ke liye first aid

चोट लगने पर बच्चों के लिए फर्स्ट एड और घरेलू उपचार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
प्रकाशित हुआ अप्रैल 16, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
सिरदर्द और माइग्रेन के लिए योग-yoga for headache and migraine

सिरदर्द और माइग्रेन के लिए योग: उसके प्रकार और करने का तरीका

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया indirabharti
प्रकाशित हुआ फ़रवरी 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें