इन 8 तरह के दर्द को दूर कर सकते हैं ये नैचुरल पेनकिलर, आप भी करें ट्राई

By Medically reviewed by Dr. Shruthi Shridhar

आपके किचन में बहुत सी ऐसी चीजें है जो तुरंत दर्द से आराम दिला सकती हैं। ऐसी बहुत सारी फल और सब्जियां हैं जो नैचुरल पेनकिलर का काम करती हैं। हम आपको ऐसे ही कुछ नैचुरल पेनकिलर के बारे में बताएंगे।

लहसुन

अलग- अलग रिसर्च से पता चला है कि लहसुन में नैचुरल फ्लेवनॉइड्स के गुड़ है। लहसुन में मौजूद फ्लेवोनोइड क्वेरसेटिन के माध्यम से ऑस्टियोअर्थराइटिस और रहूमटॉइड आर्थराइटिस में दर्द और सूजन से राहत देता है। लहसुन में मिलने वाला ल्यूकोट्रिएन्स, प्रोस्टाग्लैंडिन्स और हिस्टामाइन नामक केमिकल सूजन को कम कर सकता है। लहसुन के पौधे में कुछ ऐसे  केमिकल होते हैं जिनको लैब और जानवरों पर जांच करने के बाद पता चला है कि वह इबुप्रोफेन पेनकिलर की तरह काम करते हैं। लहसुन कान के दर्द के लिए भी बेहतरीन उपाय है। इसके अलावा लहसुन कोलेस्ट्रॉल, ब्लड प्रेशर, ट्राइग्लिसराइड स्तर को बेहतर बनाए रखने में मदद करता है। हृदय संबंधित परेशानियों को दूर करता है। लहसुन साँस की तकलीफ यानि की रेस्पिरेटरी हेल्थ में मदद करता है। भूख और पाचन प्रक्रिया को बेहतर करता है।

ये भी पढ़ेंः क्या आपने लहसुन के इन लाभों के बारे में कभी सुना है?

एप्पल साइडर विनेगर 

एप्पल साइडर विनेगर है नेचुरल पेनकीलर

अगर आप एसिड रिफ्लक्स, जीईआरडी, और हार्ट बर्न से परेशान है तो एप्पल साइड विनेगर का उपयोग कर सकते हैं। एप्पल साइडर विनेगर सदियों से अपने कई स्वास्थ्य फायदों के कारण मेडिकल क्षेत्र के लिए एक प्राकृतिक विकल्प के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है। एक चम्मच विनेगर में 3 कैलोरी (केवल) के साथ, कई स्वस्थ एंटीऑक्सिडेंट और अमीनो एसिड होते हैं। हर दिन लिक्विड या गोली के रूप में एप्पल साइडर विनेगर लेने के कई स्वास्थ्य फायदे हैं, खासकर खाने को पचाने में।

एसिड रिफ्लक्स के लिए एप्पल साइडर विनेगर फायदेमंद है क्योंकि यह पेट के एसिड को बेअसर करके पेट के पीएच स्तर को संतुलित करने में मदद कर सकता है। क्योंकि एसिड रिफलक्स के कारण पेट में कम एसिड का उत्पादन होना हो सकता है। ऐसा माना जाता है कि एप्पल साइडर विनेगर एसिड के अमाउंट को बैलैंस करके एसिड रिफलक्स को ठीक करने में मदद करता है। एसिड रिफ्लक्स के लिए एप्पल साइडर विनेगर लेने से यह बैक्टीरिया के खिलाफ लड़ता है। एप्पल साइडर विनेगर एक एंटी-माइक्रोबियल एजेंट की तरह काम करता है और आंत में खराब बैक्टीरिया को खत्म करने की क्षमता रखता है। एक थ्योरी के अनुसार एप्पल साइडर विनेगर में एंजाइम, पेक्टिन और प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है जो एसिड रिफ्लक्स को कम करने में मदद करता है।

ये भी पढ़ेंः क्या एप्पल साइडर विनेगर से कम होता वजन?

चेरी 

जीनस प्रुनस पेड़ के फल को चेरी कहा जाता है। चेरी की कई वैरायटी है। खाने या पकाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली चेरी ज्यादातर मीठी चेरी (प्रूनस एवियम) या खट्टी चेरी (प्रूनस सेरासस) होती है। चेरी चमकीले लाल / बैंगनी रंग के फल होते हैं जिनमें पैष्टिक तत्व होते हैं और यह खाने में बहुत स्वादिष्ट होता है। चेरी में एंटी-ऑक्सीडेंट, फाइबर, विटामिन ए और सी और कई दूसरे फायदेमंद कंपोनेंट होते हैं। फ्रेश या डिब्बे में बिकने वाली चेरी खाने से आर्थराइटिस के दर्द से बचा जा सकता है। ज्यादातर आर्थराइटिस में जोड़ों के सिनोवियल फ्लूड में दर्द होता है जिसकी वजह से घुटनों में सूजन हो जाती है। सूजन को कम करना आर्थराइटिस के दर्द में सबसे जरूरी इलाज है।

चेरी है नेचुरल पेन रिलीवर

अलग-अलग शोध में देखा गया है कि चेरी में सूजन को कम करने के लिए एंटी-इंफ्लमेट्री तत्व पाए जाते हैं। चेरी से एंथोसायनिन, खासकर साइनाइडिन में एंटी-इंफ्लमेट्री कंपोनेंट कूट-कूट के भरे हैं। आर्थराइटिस के इलाज में दर्द का कम होना सबसे जरुरी है। चेरी का जूस एक पेन किलर की तरह काम करता है। चेरी के जूस में मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी- इंफ्लमेट्री तत्व दर्द को कम करने में मददगार है।

ये भी पढ़ेंः बिना दवा के कुछ इस तरह करें डिप्रेशन का इलाज

पेपरमिंट

एक नेचुरल कुलेंट होने के नाते पेपरमेंट का इस्तेमाल मांसपेशियों के दर्द को ठीक करने में किया जाता है। पेपरमिंट से तेल, चाय के अलावा कई दूसरी चीजें तैयार की जाती हैं। इसका उपयोग तेज दर्द, सांस की बदबू और गैस को ठीक करने के लिए किया जाता है। पेपरमिंट तेल में मेंथोल, मेंथोन और 1,8-सिनेओल, मेन्थिल एसीटेट और आइसोवलरेट, पिनीन, लिमोनेन मौजूद होते हैं। इसमें सबसे ज्यादा सक्रिय हैं मेन्थॉल और मेन्थोन। मेन्थॉल को एनाल्जेसिक कहा जाता है और यह सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द और सूजन जैसे दर्द को कम करने के लिए फायदेमंद है। पेपरमिंट तेल हानिकारक बैक्टीरिया को खत्म करने, मांसपेशियों के दर्द और पेट फूलना, त्वचा को ठीक करना और मालिश में इस्तेमाल होने पर मांसपेशियों के तनाव को दूर करने में मददगार होता है।

पानी के हैं फायदेपानी के हैं फायदेपानी

पानी के बहुत से गुणों में एक सबसे खास और महत्वपूर्ण  गुण है दर्द में आराम दिलाना। पानी हर तरह से शरीर के लिए अच्छा होता है। जहां एक तरफ पानी पीने से डाइजेशन ठीक होता है वहीं पानी को अगर आइस यानि की बर्फ बनाकर इस्तेमाल करते हैं तो यह र्स्पोट्स और एडवेंचर से लगने वाले चोटों को भी ठीक करता है। बर्फ तेज दर्द और सूजन को ठीक करता है। गरम पट्टी या वॉर्म वॉटर बाथ लेने से स्ट्रेचिंग से पहले इंजरर्ड मांसपेशियों को ठीक होने में मदद मिलती है। जबकि स्पोर्ट के बाद आने वाली इंजरी में आइस पैक से आराम मिलता है। खेलने या एक्सरसाइज के दौरान इंजरी होने से आईस जेल पैक से तब तक सिकाई कर सकते हैं, जब तक सूजन कम नहीं हो जाती। तेज बुखार में ठंडे पानी की पट्टी से बुखार का तापमान कम हो जाता है औऱ मरीज जल्दी बेहतर महसूस करने लगता है।

ये भी पढ़ेंः पानी से जुड़े 9 मजेदार फैक्ट्स, जिनके बारे में नहीं होगा पता

लौंग

लौंग के फायदे

बहुत पुराने समय से, लौंग को दवा के रूप में जाना जाता है। इसके कई फायदे हैं और इसका उपयोग लगभग सभी सूजन और दर्द का इलाज करने के लिए किया जाता है। लौंग का तेल और कच्चे लौंग का इस्तेमाल ज्यादातर मुंह की समस्याओं जैसे दांत दर्द और मसूड़ों की सूजन को ठीक करने के लिए किया जाता है।

दांत दर्द के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला लौंग का तेल आपको आसपास के मेडिकल स्टोर पर मिल जाता है। घर में लौंग का तेल बनाने के लिए लौंग को हल्का ग्राइंड करके थोड़ा ऑलिव ऑयल मिलाकर तैयार किया हुआ पेस्ट दांत दर्द पर लगाकर दांत दर्द से राहत पा सकते हैं। हालांकि लौंग का तेल अस्थायी रुप से दांत के दर्द को ठीक करता हैं औऱ ज्यादा मात्रा में लौंग का तेल दांतों के लिए इस्तेमाल करना खतरनाक साबित हो सकता है।

पानी के हैं फायदे

हल्दी

हल्दी जमीन के अंदर होने वाला एक पौधा है।  हल्दी का पौधा भारत और इंडोनेशिया में पाया जाता है और यह अदरक परिवार से संबंधित है । हल्दी में मुख्य रुप से करक्यूमिन पाया जाता है। हल्दी आर्थराइटिस और पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस से संबंधित दर्द,औऱ  सूजन को कम करती है। घुटने और कुहनी में लगने वाली चोटों को भी हल्दी ठीक करती है। यह एक क्लींजिंग एजेंट के रूप में जाना जाती है। हल्दी को ज्यादातर भारत में डाइजेस्टिव समस्याओं के लिए उपयोग किया जाता है। हल्दी को शुरु से चाइना और भारतीय आयुर्वेदिक दवाई में इस्तेमाल किया जाता है। हल्दी करक्यूमिन, एंटीऑक्सिडेंट और एंटी इन्फ्लमेट्री एक्टिविटी के लिए जानी जाती है। अदरक की तरह, हल्दी में भी पेन किलर मौजूद है। हल्दी पोस्ट-ऑपरेटिव सूजन, अल्सरेटिव कोलाइटिस,और और पेट के अल्सर में सुधार करने में मदद करती है।

ये भी पढ़ेंः वजन कम करने में मदद कर सकती है हल्दी (Turmeric), जानें 5 फायदे

पाइनएप्पल या अनानास

अनानास का जूस पाचन में मदद करने के साथ, सूजन और कब्ज को कम करने में मदद करता है। ब्रोमलेन यहां पर प्रोटीन जल्दी तोड़कर, खाने को पचाने में मदद करता है। इस पूरी प्रोसेस में सूजन और कब्ज दोनों कम होते है।  इनके अलावा, ब्रोमेलैन का उपयोग अल्सरेटिव कोलाइटिस, सूजन और अल्सर को कम करने के लिए किया जाता है।

और पढ़ेंः 

सेक्स पर किस ड्रग का क्या होता है असर

पीरियड के दर्द से छुटकारा दिला सकता है मास्टरबेशन, जानें पूरा सच

बच्चों में स्किन की बीमारियां, जो बन जाती हैं पेरेंट्स का सिरदर्द

Toothache : दांत दर्द क्या है?

Share now :

रिव्यू की तारीख सितम्बर 30, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया दिसम्बर 5, 2019

शायद आपको यह भी अच्छा लगे