कहीं आप तो नहीं सेल्फ डिस्ट्रक्शन के शिकार? जानें इसके लक्षण

Medically reviewed by | By

Update Date मई 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

सेल्फ डिस्ट्रक्शन (Self-Destruction) क्या है ?

किसी भी व्यक्ति में नकारात्मक भावनाओं का स्तर बढ़ जाना सेल्फ डिस्ट्रक्शन (Self-Destruction) कहलाता है। यह धीरे-धीरे व्यक्ति के नकारात्मक सोच को इतना बढ़ा देता है कि व्यक्ति डिप्रेशन (अवसाद) का भी शिकार हो सकता है। यह  नशीली दवाओं का दुरुपयोग, विस्फोटक क्रोध, खाने का विकार या अन्य आत्म-विनाशकारी व्यवहार हो सकता है। सेल्फ डिस्ट्रक्शन (Self-Destruction) आपके व्यवहार को पूरी तरह से बदल देता है। इसमें आप किसी प्रकार के नुकसान या फायदे को पहचानने की क्षमता खो देते हैं इसलिए सेल्फ डिस्ट्रक्शन का इलाज बेहद आवश्यक होता है।

यह भी पढ़ें: क्या आपको भी बहुत गुस्सा आता है? तो जानिए एंगर मैनेजमेंट के तरीके

निम्नलिखित तरीके से समझें सेल्फ डिस्ट्रक्शन को-

1. आत्म-पराजित मानसिकता रखना (self-defeating mindset)

ऐसे व्यक्ति जो डिप्रेशन या चिंता से पीड़ित होते हैं। ऐसे व्यक्तियों का मानना होता है कि वे जो कुछ भी करने की कोशिश करते हैं, उससे कुछ भी अच्छा नहीं होता है। उनमें ऐसी धारणा होती है कि यदि वे नौकरी के लिए इंटरव्यू देते हैं, तो उनका सिलेक्शन होगा या नहीं।

2. निर्णय नहीं ले पाना

सेल्फ डिस्ट्रक्शन (Self-Destruction) से पीड़ित व्यक्ति खुद से निर्णय लेने में असमर्थ होते हैं। जैसे उन्हें यह काम (कोई भी काम) करना चाहिए या नहीं।

3. जरूरत के वक्त भी मदद नहीं मांगना

ऐसी परिस्थिति जब किसी से मदद की सख्त जरूरत हो जैसे बीमार होने पर भी किसी से मदद नहीं लेना।

4. बदले की भावना

ऐसे व्यक्ति जो सेल्फ डिस्ट्रक्शन  (Self-Destruction) से पीड़ित होते हैं उनमें बदले की भावना अत्यधिक होती है। जैसे अगर किसी ने आपके साथ बुरा किया तो वे उसके साथ भी वैसा ही करेंगे।

5. सामने वाले व्यक्ति आपके बारे में क्या सोचते हैं

ऐसा विचार मन में बार-बार आना की आपके दोस्त या आपके परिवार के सदस्य आपके बारे में क्या सोचते हैं (ज्यादातर गलत भावनाएं)। जबकि ऐसा नहीं होता है।

6. एल्कोहॉल और सिगरेट का सेवन ज्यादा करना

एल्कोहॉल का सेवन कम करना ठीक है, लेकिन जरूरत से ज्यादा एल्कोहॉल का सेवन किसी की भी सोच को बदल सकता है।

7. सेल्फ पीयर प्रेशर

खुद से दबाव महसूस करना जैसे अगर आपके दोस्त को नौकरी मिल गई और इस वजह से आप खुद दबाव में आ जाते हैं कि आपको भी नौकरी तुरंत मिलना चाहिए।

8. एक्शन नहीं लेना

सेल्फ डिस्ट्रक्शन से पीड़ित लोग खुद को बेहतर बनाने के लिए शायद ही कभी एक्शन लेते हों। वे कभी पीछे पलटकर नहीं देखते हैं कि उन्होंने क्या अच्छा किया है या क्या बुरा। वे इसे यूं ही छोड़ देते हैं और कहते हैं “यह मेरे काम का नहीं है।”

सेल्फ डिस्ट्रक्शन के कारण

सेल्फ डिस्ट्रक्शन का कोई एक कारण साफतौर पर तय नहीं है, इसके कई कारण हो सकते हैं। जो इस प्रकार हैं।

जैविक अंतर (Biological differences) सेल्फ डिस्ट्रक्शन से पीड़ित लोगों के दिमाग के कारण उनमें शारीरिक परिवर्तन होते हैं। इन परिवर्तनों का कारण अभी भी अनिश्चित है, लेकिन यह पिनप्वाइंट कारणों में मदद कर सकता है।

मस्तिष्क रसायन शास्त्र (Brain chemistry) न्यूरोट्रांसमीटर स्वाभाविक रूप से मस्तिष्क रसायन होते हैं जो संभवतः सेल्फ डिस्ट्रक्शन में भूमिका निभाते हैं।

हाॅर्मोन (Hormones) हाॅर्मोन के संतुलन में शरीर के परिवर्तन सेल्फ डिस्ट्रक्शन पैदा करने या ट्रिगर करने में शामिल हो सकते हैं। हार्मोन परिवर्तन का परिणाम गर्भावस्था के दौरान और प्रसव के बाद के हफ्तों या महीनों के दौरान हो सकता है ।

विरासत के लक्षण (Inherited traits) जिन लोगों के रक्त संबंधियों में भी सेल्फ डिस्ट्रक्शन स्थिति होती है उनमें ये स्थिति अधिक पाई जाती है। शोधकर्ता उन जीनों को खोजने की कोशिश कर रहे हैं जो सेल्फ डिस्ट्रक्शन (Self-Destruction) पैदा करने में शामिल हो सकते हैं।

ऊपर बताई गई परिस्थितयों से कैसे खुद को बचाएं?

आपकी बदलती लाइफस्टाइल की वजह से सेल्फ डिस्ट्रक्शन की संभावना हो सकती है। ऐसे में निम्नलिखित बिंदुओं पर ध्यान देकर सेल्फ डिस्ट्रक्शन से बचा जा सकता है।

  • बातचीत करें

यह सबसे जरूरी है कि आप अच्छा बनाने और उन्नति करने के लिए ऐसे लोगों से संपर्क करें जो चुनौतियों के बाद भी सफलता पा चुके हैं। इसके साथ ही उन तरीकों के बारे में जानने की कोशिश करें जिनसे किसी भी परेशानी को कम किया जा सकता है।

  • अपनी कमजोरी को समझें

कोई भी व्यक्ति 100% परफेक्ट नहीं होता है। कुछ न कुछ कमी हर किसी में होती है। इसलिए अपनी कमजोरी को समझें और उसे दूर करें।

  • सकारात्मक सोच रखें

अपनी सोच को सकारात्मक बनाएं रखें। कोई भी काम शुरू करने के साथ नकारात्मक सोच न रखें। आत्मविश्वास के साथ काम की शुरुआत करें। अपने ऊपर भरोसा रखें और शुरू किए गए काम को पूरा करें।

  • लक्ष्य का निर्धारण करें

अपने जीवन का एक लक्ष्य बनाएं और उसे पूरा करने के लिए पूरी कोशिश करें। यदि आप अपने लक्ष्य को पूरा नहीं कर पा रहे हैं तो परेशान न हो। हो सकता है आप जो करना चाह रहे हों उसे करने में वक्त लगे।

  • करीबी से बात करें

सेल्फ डिस्ट्रक्शन की परेशानी होने पर अपने करीबी से बात करें। आप किन परिस्थितियों में कैसा महसूस कर रहें हैं ये भी साझा करें। अगर बच्चे में ऐसी भावना दिखे तो घर के बड़े सदस्य और माता-पिता बच्चे को प्यार से समझाएं। अगर फिर भी परेशानी दूर न हो तो हेल्थ एक्सपर्ट से मिलें। क्योंकि इस विकार की वजह से लोग तनाव और डिप्रेशन में आकर सुसाइड तक कर सकते हैं।

सेल्फ डिस्ट्रक्शन के जोखिम

लगभग 20 से 30 आयु के लोगों में  सेल्फ डिस्ट्रक्शन की शुरुआत सबसे अधिक होती है, लेकिन यह किसी भी उम्र में हो सकता है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक सेल्फ डिस्ट्रक्शन का निदान किया जाता है। यह आंशिक रूप से हो सकता है क्योंकि महिलाओं में उपचार लेने की संभावना अधिक होती है। सेल्फ डिस्ट्रक्शन के विकास या ट्रिगर होने के जोखिम को बढ़ाने कारण इस प्रकार से हैं।

  • आत्म-सम्मान की कमी और किसी पर निर्भर रहना, आत्म-आलोचनात्मक या निराशावादी होना।
  • दर्दनाक या तनावपूर्ण घटनाओं, जैसे कि शारीरिक या यौन शोषण, किसी प्रियजन की मृत्यु या हानि या वित्तीय समस्याएं।
  • कुछ दवाएं, जैसे कि कुछ उच्च रक्तचाप वाली दवाएं या नींद की गोलियां (किसी भी दवा को रोकने से पहले अपने चिकित्सक से बात करें)।

सेल्फ डिस्ट्रक्शन (Self-Destruction) एक गंभीर विकार है जो आपके और आपके परिवार पर एक भयानक प्रभाव डाल सकता है। यदि इसका इलाज नहीं किया जाता है, तो सेल्फ डिस्ट्रक्शन बदतर हो सकता है। जिसके परिणामस्वरूप भावनात्मक, व्यवहारिक और स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं जो आपके जीवन के हर क्षेत्र को प्रभावित करती हैं। सेल्फ डिस्ट्रक्शन से जुड़ी जटिलताओं के उदाहरणों में शामिल हैं।

  • अधिक वजन या मोटापा, जिससे हृदय रोग और मधुमेह हो सकता है।
  • चिंता, आतंक विकार या सामाजिक भय
  • पारिवारिक संघर्ष, रिश्ते की कठिनाइयां और काम या स्कूल की समस्याएं
  • सामाजिक एकांत
  • दर्द या शारीरिक बीमारी
  • आत्महत्या की भावना, आत्महत्या का प्रयास
  • चिकित्सा स्थितियों से समय से पहले मौत

अब तो आप समझ ही गए होंगे कि सेल्फ डिस्ट्रक्शन जैसा मनोविकार कितना खतरनाक है। ऊपर बताए गए उपाय अपनाएं और इससे बचने की कोशिश करें। अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी प्रकार की चिकित्सा, उपचार और निदान प्रदान नहीं करता।

और पढ़ें: 

डिप्रेशन से बचने के उपाय, आसानी से लड़ सकेंगे इस परेशानी से

स्ट्रेस का बॉडी पर असर होने पर दिखाई देने लगते हैं ये लक्षण

सोशल मीडिया से डिप्रेशन शिकार हो रहे हैं बच्चे, ऐसे करें उनकी मदद

एडीएचडी का प्राकृतिक इलाज: इस तरह पेरेंट्स दूर कर सकते हैं बच्चों की यह बीमारी

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

रोज करेंगे योग तो दूर होंगे ये रोग, जानिए किस बीमारी के लिए कौन-सा योगासन है बेस्ट

योग से रोग निवारण, योग से रोग भगाएं, डायबिटीज के योगासन, रोग अनुसार योगासन, माइग्रेन के योगा पोज, पीसीओएस योगासन, डिप्रेशन के लिए योग, थायरॉइड के योगासन, योग व्यायाम या ब्रीदिंग टेक्निक से कहीं ज्यादा एक इंडियन आर्ट फॉर्म है।...yoga poses for diseases

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Shikha Patel
योगा, स्वस्थ जीवन जून 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Prothiaden: प्रोथीआडेन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जानिए प्रोथीआडेन (Prothiaden)की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितनी खुराक लें, प्रोथीआडेन डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Awasthi
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 9, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

बरगद के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Banyan Tree (Bargad ka Ped)

जानिए बरगद के पेड़े के फायदे और नुकसान, बगरद के पेड़ के औषधीय गुण, वट के पेड़ से घरेलू उपचार, Bargad ka Ped के साइड इफेक्ट्स, Banyan Tree क्या है। Bargad ke ped ki kaise pehchan karen

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Ankita Mishra
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

वॉकिंग मेडिटेशन से स्ट्रेस को कैसे कर सकते मैनेज

वॉकिंग मेडिटेशन से स्ट्रेस को कैसे मैनेज कर सकते हैं? चलना ध्यान करने के पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? Walking Meditation in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Mousumi Dutta
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन जून 1, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

ऑस्टियो सार्कोमा कैंसर-Osteosarcoma cancer

क्यों और किसे है ऑस्टियो सार्कोमा कैंसर का खतरा ज्यादा?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Nidhi Sinha
Published on जुलाई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Amixide-H: एमिक्साइड एच

Amixide-H: एमिक्साइड एच क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by shalu
Published on जून 30, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अस्टिमिन फोर्ट

Astymin Forte: अस्टिमिन फोर्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 24, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
Librium 10 : लिब्रियम 10

Librium 10: लिब्रियम 10 क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
Published on जून 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें