हिंदी दिवस : क्या आपको भी हिंदी में ‘भड़ास’ निकालने से ही सुकून मिलता है?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 20, 2020
Share now

‘अबे चल, तेरी हिम्मत कैसे हुई ये सब बोलने की’, ‘एक कंटाप देंगे ना..सारी हेकड़ी निकल जाएगी’, ‘दिमाग मत खा’ इन वाक्यों से मन की जो भड़ास निकलती है न, वो अंग्रेजी में ‘हाऊ डेर यू टू से लाइक दिस’, ‘आई विल स्लैप यू’ आदि जैसे सेंटेंस में निकलनी थोड़ी ही नहीं, काफी मुश्किल है। इसमें कोई दो राय नहीं कि हिंदी भाषा एक ऐसी भाषा है (हिंदी भाषियों के लिए), जिसमें बात करने के बाद ही मानसिक सुकून मिलता है, दिल को चैन मिलता है और यूं कहें कि मन की पूरी ‘भड़ास’ निकल जाती है। ये ऐसी भाषा है, जिसमें बात करके मानसिक राहत मिलती है और हल्का महसूस होता है। इतना हल्का, जितना अन्य किसी भाषा में महसूस नहीं होता है।

यह भी पढ़ें : 5 माइंड डाइट (Mind Diet) फूड जो बढ़ाएं दिमाग की पावर

अगर किसी से अपने जज्बात व्यक्त करने हों, तो इस बारे में सबसे पहले हमारे दिमाग में हिंदी में ही चिंतन होगा। अगर किसी को गरियाना हो, तो हिंदी में गरियाने का जो मजा है, वो किसी और भाषा में नहीं है। वहीं, अगर मानसिक स्वास्थ्य की बात करें, तो हिंदी में बोलने के बाद दिमाग को सुकून मिलता है, वो अन्य भाषा में मिलना थोड़ा मुश्किल हो जाता है।

‘‘तुमसे मिलकर बहुत अच्छा लगा’’! इस एक वाक्य में अपनापन, रिश्तों की नजदीकियों का अहसास हो रहा है। लेकिन, वहीं अगर हम अंग्रेजी में कहेंगे ‘नाइस टू मीट यू’…तो शायद ये वाक्य आपको उन सभी लोगों के मुंह से सुना हुआ वाक्य लगे, जो ज्यादा लंबे समय तक आपके दिल को न छुए।

यह भी पढ़ें : ल्युसिड ड्रीमिंग: जानें सपनों की अनोखी दुनिया में जाने का रास्ता

आखिर क्यों मिलता है हिंदी में सुकून?

भले ही हम बाहर लोगों के साथ अंग्रेजी में गिटिर पिटिर कर लें, लेकिन, हमें जो बात करनी है, उसके बारे में हम पहले हिंदी में ही सोचते हैं, हिंदी में ही कल्पना करते हैं। किसी को प्यार से बुलाना हो, तो हिंदी में बुलाने में अलग की मजा आता है। जिस तरीके से एक पत्नी अपने पति को ‘सुनिए ना’ कहकर पुकारती है, उसमें जज्बात होते हैं, प्यार होता है और भावनाएं होती हैं। इस तरह से बुलाने का अपना ही मजा होता है।

gif

निकिता भल्ला एक एमएनसी की एडिटर इन चीफ हैं। हैलो स्वास्थ्य ने हिंदी भाषा को लेकर उनकी राय जाननी चाही। निकिता कहती हैं कि यूं तो प्रोफेशनल लाइफ में वो अंग्रेजी भाषा बोलना पसंद करती हैं लेकिन, जब बात आए पर्सनल लेवल की, तो उन्हें अपनी ही भाषा बोलना पसंद है। वो कहती हैं कि वो प्रोफेशनल लाइफ में भले ही पूरी तरह अंग्रेजी में बात करना पसंद आता है, लेकिन अपने घर में माता-पिता, भाई बहन से हिंदी में बात करने में मजा आता है।

हिंदी में बातचीत आसान लगती है – सुनिती त्रिपाठी

सुनीति एक हिंदी राइटर है और उनकी अंग्रेजी भी काफी अच्छी है। सुनीति ने भी यही कहा कि अगर उन्हें अपनी भावनाएं व्यक्त करने को कहा जाए और अपने पूरे दिल से बोलने के लिए कहा जाए, तो वो भी हिंदी में बोलना और व्यक्त करना चाहेंगी। सुनीति का कहना है कि वो जितना भी अंग्रेजी गाने सुन लें, जब तक वो हिंदी गाने न सुनें, दिल को सुकून नहीं मिलता। सुनीति कहती हैं हिंदी में बातचीत करना उन्हें ज्यादा आसान लगता है।

gif

हिंदी में ज्यादा सोचना नहीं पड़ता – मोना नारंग

वहीं, मोना भी एक कंटेट राइटर हैं। उनका कहना है कि वो भले ही अंग्रेजी में एक घंटे का लैक्चर दे दें लेकिन, हिंदी में 10 मिनट बोलना भी उनके दिल को सुकून देता है। इससे उनकी भड़ास निकलती है। मोना कहती हैं कि हर भावनाओं को व्यक्त करने के लिए वो सबसे ज्यादा कंफर्टेबल हिंदी में ही होती हैं। मोना कहती हैं कि हिंदी बोलने से पहले ज्यादा सोचना नहीं पड़ता, जो कहना होता है, कह दिया जाता है। मोना के अनुसार वो हर वो बात हिंदी में करती हैं, जो उनके सीधा दिल से निकली हो। वो हर वो बात हिंदी में करती हैं जिसे बोलने से पहले उन्हें ज्यादा सोचना नहीं पड़ता।

हिंदी में बात करने में मजा आता है – चीनू वर्मा

हिंद भाषा को लेकर दिल्ली विश्वविद्यालय से वकालत की पढ़ाई करने वालीं चीनू वर्मा ने भी अपने जज्बात व्यक्त किए। चीनू कहती हैं कि वो हिंदी के साथ-साथ पंजाबी, तेलुगू, कन्नड़ जैसी भाषा का भी ज्ञान रखती हैं। हिंदी दिवस के ऊपर उन्होंने अपना एक किस्सा सुनाया। उन्होंने बताया कि एक बार उन्होंने कुछ समय के लिए जॉब जॉइन की थी। एक बार वो अपने सहकर्मियों (जो दोस्त बन गए थे) के साथ बातें कर रही थीं और अपने बचपन का एक मजेदार किस्सा इंग्लिश में सुना रही थीं। भले ही सारी बात उन्होंने दोस्तों को इंग्लिश में सुनाई, लेकिन जब वही बात चीनू ने अपने दूसरे दोस्तों को हिंदी में सुनाई तो जितना मजा चीनू को आया उतना ही मजा उनके दोस्तों को भी उनका किस्सा सुनकर आया। चीनू कहती हैं कि उन्हें बाकी की भाषाओं में बात करने में उतना मजा नहीं आता, जितना उन्हें हिंदी भाषा में आता है, क्योंकि हिंदी उनकी मातृभाषा है।

भले ही अब हिंदी में आधुनिकीकरण हो गया है और अब हिंदी ने भी खुद में कई भाषाओं को समावेष कर लिया है। इसलिए, हिंदी अब यूथ की भाषा बन गई है, जिसे बोलने में, कुछ व्यक्त करने में, लोग काफी एक्सपेरिमेंट भी कर रहे हैं और इसका काफी मजा भी ले पा रहे हैं।

हालांकि, ये बात सिर्फ हिंदी पर ही लागू नहीं है कि इसमें हम अपनी भावनाएं ज्यादा अच्छी तरह व्यक्त कर पाते हैं। ये बात मातृभाषा पर लागू होती है। जिसकी जो भी मातृभाषा है, वो अपने कंफर्ट के हिसाब से इसमें सब कुछ व्यक्त करना बेहतर समझता है। यही कारण है कि लोग सबसे ज्यादा कंफर्टेबल अपनी भाषा में होते हैं, न कि किसी और की भाषा में।

तो आपको हिंदी भाषा और हिंदी दिवस के ऊपर लिखे हमारे इस लेख के बारे में क्या कहना है। क्या आपको भी हिंदी भाषा में बात करने में, अपने विचार व्यक्त करने में मानसिक चैन और दिल को सुकून मिलता है? आप अपनी राय हमें फेसबुक पर जरूर दें। साथ ही इस आर्टिकल को उन लोगों के साथ जरूर शेयर करें, जो हिंदी प्रेमी हैं और जिन्हें हिंदी में बात करने में गर्व महसूस होता है।

और पढ़ें :-

क्या गुस्से में आकर कुछ गलत करना एंगर एंजायटी है?

Polycystic Ovary Syndrome: पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम क्या है? जाने इसके कारण, लक्षण और उपाय

Triple Marker Test : ट्रिपल मार्कर टेस्ट क्या है?

Domperidone : डोमपेरिडन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    जीवन में आगे बढ़ने के लिए स्ट्रेस मैनेजमेंट है जरूरी, जानें इसके उपाय

    तनाव दूर करने का उपाय क्या है? स्ट्रेस को दूर भगाने के लिए टाइम मैनेजमेंट सीखना भी जरूरी है साथ ही टू डू लिस्ट, एक्सरसाइज, विजन में स्पष्टता, दिन की अच्छी शुरुआत करें....how to reduce stress in hindi

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Smrit Singh

    मानसिक मंदता (Mental Retardation) के कारण, लक्षण और निदान

    मानसिक मंदता के कारण क्या हैं? बच्चों में मानसिक विकलांगता का एकमात्र उपचार काउंसलिंग है। बौद्धिक मंदता (mental disability) का इलाज रोगी की क्षमता को पूरी तरह विकसित करना है। Mental Retardation causes in hindi,

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Smrit Singh

    युवाओं में आत्महत्या के बढ़ते स्तर का कारण क्या है?

    15 से 29 साल के युवाओं में आत्महत्या के कारण मौत को गले लगा लेते हैं। युवाओं में सुसाइड के कारण और निदान क्या है? खुदकुशी से निपटने के टिप्स के लिए पढें।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Smrit Singh

    कैसे बचें वर्कप्लेस स्ट्रेस से?

    वर्कप्लेस स्ट्रेस से आपकी मेंटल हेल्थ पर बुरा असर पड़ता है। ऑफिस स्ट्रेस के कारण, ऑफिस स्ट्रेस दूर करने के लिए म्यूजिकल ब्रेक लें। कार्यस्थल पर तनाव के कारण, stress at work causes in hindi, how to manage workplace stress in hindi

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Smrit Singh