Parathyroid Hormone Blood Test: पैराथाइराइड हार्मोन ब्लड टेस्ट क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिभाषा

एक पैराथाइराइड हार्मोन ब्लड टेस्ट (Parathyroid Hormone Blood Test) क्या है?

पैराथायराइड हार्मोन ब्लड टेस्ट (Parathyroid Hormone Blood Test) को अक्सर पैराथायराइड हार्मोन परख  या पैराथाइरिन टेस्ट कहा जाता है।

यदि आपका ब्लड टेस्ट, बहुत हाई या बहुत लो कैल्शियम का लेवल दिखाता था, तो आपका डॉक्टर पैराथाइराइड हार्मोन ब्लड टेस्ट कराने का सुझाव दे सकता है । यह टेस्ट आपके पैराथाइरॉइड हार्मोन ioपीटीएच (PTH) के लेवल को मापेगा।

पीटीएच आपकी गर्दन में मौजूद चार छोटे पैराथायरायड ग्लैंड द्वारा बनाया जाता है।  ये ग्लैंड आपके ब्लड में कैल्शियम के लेवल को कंट्रोल करती हैं। जब कैल्शियम का लेवल बहुत लो होता है, तो ग्लैंड कैल्शियम के लेवल को एक नॉर्मल लेवल पे लाने के लिए पीटीएच रिलीज करती है।  जब आपके कैल्शियम का लेवल बढ़ता है, तो ग्लैंड पीटीएच को रिलीज करना बंद कर देता हैं।

पीटीएच को मापने से कैल्शियम के एब्नॉर्मल लेवल के कारणों का पता लगाने में मदद मिल सकती है ।

और पढ़ें : Iron Test : आयरन टेस्ट क्या है?

पैराथाइराइड हार्मोन ब्लड टेस्ट (Parathyroid Hormone Blood Test) क्यों किया जाता है:

पीटीएच ब्लड टेस्ट आपके डॉक्टर को यह पता लगाने में मदद कर सकता है कि आपके असामान्य कैल्शियम लेवल का कारण पैराथायरायड ग्लैंड तो नहीं।  यदि आपका टेस्ट बताता है कि पीटीएच लेवल आपके कैल्शियम लेवल के लिए सही है, तो हाई या लो कैल्शियम के लेवल के कुछ अन्य कारण हो सकते है ।

यदि आपके अंदर हाइपरलकसेमिया (ब्लड में बहुत हाई कैल्शियम) या हाइपोकैल्सीमिया ( ब्लड में बहुत लो कैल्शियम) के लक्षण दिख रहे हैं तो आपका डॉक्टर इस ब्लड टेस्ट को कराने को बोल सकता है। 

हाइपरलकसीमिया के लक्षणों में शामिल हैं:

हाइपोकैल्सीमिया के लक्षणों में शामिल हैं:

  • अवसाद और झुंझलाहट
  • मासपेशियों में ऐंठन
  • हाथ, पैर या मुंह में झुनझुनी या सुन्नता
  • असामान्य ह्रदय गति 

और पढ़ें : Nonstress Test (NST): नॉन स्ट्रेस टेस्ट क्या है?

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

जोखिम और लाभ

पीटीएच ब्लड टेस्ट कराने में मामूली जोखिम होता हैं।  इंजेक्शन इंजेक्ट करते समय आपको कुछ दर्द महसूस हो सकता है ।

ब्लड टेस्ट के दौरान संक्रमण या चोट लगने की बहुत कम संभावना है।  कुछ लोगों को ब्लड टेस्ट के बाद थोड़ा हल्कापन महसूस होता है।

लाभ

एक पीटीएच ब्लड टेस्ट का सबसे महत्वपूर्ण लाभ यह है कि टेस्ट आपके चिकित्सक को यह बताने में मदद करता है कि आपका शरीर बहुत हाई या बहुत लो पैराथायराइड हार्मोन बना सकता है या नहीं।

अगर ऐसा लगता है कि आपको पैराथाइरॉइड की समस्या है तो इसका निदान करने के लिए दूसरे टेस्ट भी किये जा सकते है । इस बात की भी संभावना है कि ये टेस्ट पैराथाइरॉइड डिजीज को नकार दे ।

असामान्य कैल्शियम लेवल के दूसरे कारणों का भी पता लगाने में ये टेस्ट आपके डॉक्टर की मदद कर सकता है ।

और पढ़ें : Rheumatic fever: रूमेटिक फीवर क्या है ?

प्रक्रिया

पैराथाइराइड हार्मोन ब्लड टेस्ट (Parathyroid Hormone Blood Test) की तैयारी कैसे करे

आपको टेस्ट होने के 10 घंटे पहले से उपवास करना होगा । टेस्ट होने के पहले से टेस्ट होने के बाद तक आपको सभी दवाओं और सप्पलीमेंट का सेवन ना करने के निर्देश दिए जा सकते है ।

टेस्ट होने से पहले अपनी सभी दवाओं के बारे में अपने डॉक्टर को सूचित करें ।

पैराथाइराइड हार्मोन ब्लड टेस्ट (Parathyroid Hormone Blood Test) के दौरान क्या होता है ।

  • एक डॉक्टर, नर्स या लैब टेकनीशियन त्वचा को साफ करंगे जहां से उन्हें ब्लड सैंपल लेने है ।
  • शरीर की नसों में ब्लड प्रवाह रोकने के लिए बांह को एक रबड़ बैंड या किसी दूसरे तरीके से कस दिया जाएगा ।
  • स्वास्थ्य कर्मी आपके हाथों से ब्लड सैंपल लेने के लिए सुई का प्रयोग करेगा और ब्लड सैम्पल को एक शीशी में कलेक्ट करके सुई को निकाल लेगा ।
  • कॉटन कपड़ों या दूसरे सोखने वाले कपड़ो की मदद से उस जगह की त्वचा को साफ किया जाएगा जहा सुई को इंजेक्ट किया गया था । उसके बाद घाव पे बैंडेज लगा दिया जाएगा ।

और पढ़ें : Stress electrocardiography: स्ट्रेस इलेक्ट्रोकार्डियोग्राफी क्या है?

पैराथाइराइड हार्मोन ब्लड टेस्ट (Parathyroid Hormone Blood Test) के बाद क्या होता है

फाइनली ब्लड सैंपल को लैब में जांच के लिए भेज दिया जाएगा । जहां इसे पीटीएच, कैल्शियम, हार्मोन, खनिज, या अन्य पदार्थों के लिए मापा जाएगा।

मेरे परिणाम का क्या मतलब है

इस टेस्ट में पीटीएच के तीनों रूपों को मापा जाता है।  टेस्ट करने वाली प्रयोगशाला के आधार पर नार्मल रेंज में बदलाव संभव  हैं।  

अपने डॉक्टर के साथ परिणामों पर चर्चा करें ताकि आप समझ सकें कि इन संख्याओं का क्या मतलब है। 

पीटीएच के तीन रूप और कुछ सामान्य श्रेणियां हैं:

एन-टर्मिनल: 8 से 24 पीजी / एमएल

सी-टर्मिनल: 50 से 330 पीजी / एमएल

इंटेक्ट मॉलिक्यूल : 10 से 65 पीजी / एमएल

लैब के आधार पर, आपके परीक्षा परिणाम आने में कुछ दिन लग सकते हैं।  अगर आपका डॉक्टर जल्दी टेस्ट रिपोर्ट का आकलन करना चाहता है तो ये जल्दी भी आ सकते है ।

हाई पीटीएच का लेवल ओवर एक्टिव पैराथायरायड ग्रंथियों के कारण हो सकता है।  इसे हाइपरपरैथायराइडिज्म कहा जाता है।

हालांकि, हाई पीटीएच लेवल के अन्य संभावित कारण हैं, जैसे:

लो पीटीएच का लेवल अंडरएक्टिव पैराथाइरॉइड ग्रंथियों (हाइपोपैरैथायरायडिज्म) से संबंधित हो सकता है।  अन्य कारणों में शामिल हो सकते हैं:

यदि आपका पीटीएच का लेवल हाई है, लेकिन आपके कैल्शियम का लेवल अभी भी लो है, तो यह हो सकता है कि आपकी पैराथायराइड ग्लैंड ठीक से काम कर रही हों।  आपका डॉक्टर तब आपके विटामिन डी, फॉस्फोरस और मैग्नीशियम के लेवल का टेस्ट कर सकता है, यह देखने के लिए कि क्या वे आपके कैल्शियम के लेवल को प्रभावित कर रहे हैं।

दूसरी ओर, यदि आपके कैल्शियम का लेवल ऊंचा है और आपका पीटीएच का लेवल भी सामान्य से हाई है, तो आपको हाइपरपैराट्रोइडिज्म हो सकता है।  आपका डॉक्टर आपकी पैराथायरायड ग्रंथियों की जांच के लिए एक्स-रे या अन्य इमेजिंग टेस्ट का आदेश दे सकता है।

और पढ़ेंः Parathyroidectomy surgery: पैराथायरायडक्टमी सर्जरी क्या है?

यदि ग्लैंड बड़े हो जाते है या ट्यूमर होता है, तो उसे निकालने के लिए सर्जरी के साथ हाइपरपैराट्रोइडिज़्म का इलाज भी किया जा सकता है।

यदि आपको थोड़ी बहुत दिक्कत है और कोई लक्षण नहीं हैं, जैसे कि किडनी की समस्या या लोजोर हड्डियां, तो आपका डॉक्टर सुझाव दे सकता है कि आपके कैल्शियम और पीटीएच के लेवल की नियमित जांच की जाए।  कुछ समय के कोई सर्जरी की जरूरत नहीं है ।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Antineutrophil Cytoplasmic Antibodies Test-एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी (एएनसीए) टेस्ट क्या है?

जानिए एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी टेस्ट की मूल बातें, टेस्ट से पहले जानने योग्य बातें, एएनसीए टेस्ट क्या होता है, रिजल्ट को समझें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
मेडिकल टेस्ट A-Z, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Blood clotting disorder : ब्लड क्लॉटिंग डिसऑर्डर क्या होता है?

जानिए ब्लड क्लॉटिंग डिसऑर्डर क्या है in hindi, ब्लड क्लॉटिंग डिसऑर्डर के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Blood clotting disorder को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Anoop Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

लो बीपी होने पर तुरंत अपनाएं ये प्राथमिक उपचार, जल्द मिलेगा फायदा

लो बीपी की जानकारी in hindi. Low BP के कारण अचानक से कमजोरी और चक्कर आ सकता है। लो बीपी की समस्या से बचने के लिए पौष्टिक आहार के साथ ही लाइफस्टाइल में चेंज करना भी जरूरी होता है। Low BP in Hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
फर्स्ट एड/ प्राथमिक चिकित्सा, स्वस्थ जीवन दिसम्बर 30, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Karyotype Test: कैरियोटाइप टेस्ट क्या है?

जानिए कैरियोटाइप टेस्ट (Karyotype Test) की जानकारी मूल बातें, टेस्ट कराने से पहले जानने योग्य बातें, Karyotype Test क्या होता है, कैरियोटाइप टेस्ट के रिजल्ट और परिणामों को समझें | Karyotype Test in Hindi

के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
मेडिकल टेस्ट A-Z, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z दिसम्बर 27, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

एंडोक्राइन डिसऑर्डर

हार्मोनल ग्लैंड के फंक्शन में है प्रॉबल्म, एंडोक्राइन डिसऑर्डर का हो सकता है खतरा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जुलाई 20, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
एंडोक्रिनोलॉजिस्ट

एंडोक्राइनोलॉजिस्ट क्या है, कौन-कौन-से बीमारियों का करते हैं इलाज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जुलाई 6, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी के दौरान अल्फा फिटोप्रोटीन टेस्टAlpha-fetoprotein test

प्रेग्नेंसी के दौरान अल्फा फिटोप्रोटीन टेस्ट(अल्फा भ्रूणप्रोटीन परीक्षण) करने की जरूरत क्यों होती है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ मई 22, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
Blood Donation - रक्त दान

ब्लड डोनर को रक्तदान के बाद इन बातों का ध्यान रखना चाहिए, नहीं तो जान भी जा सकती है

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ मई 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें