Chia Seeds: चिया बीज क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 7, 2020
Share now

चिया बीज (Chia Seeds) का परिचय

चिया बीज (Chia Seeds) का इस्तेमाल किस लिए किया जाता है?

प्राचीन समय से ही चिया बीज का इस्तेमाल औषधि के रूप में होता रहा है। यह सैल्वीया हिस्पानिका नाम के पेड़ से प्राप्त किया जाता है। इसकी उत्पत्ति मैक्सिको में हुई और इसकी खेती एजटेक सभ्यता के लोगों द्वारा की जाती थी। आज चिया बीज को मध्य अमेरिका और दक्षिण अमेरिका में उगाया जाता है। इसके बीज बहुत फायदेमंद होते हैं इसलिए इसे मुख्य रूप से बीज के लिए उगाया जाता है। इसमें ओमेगा 3 फैटी एसिड की अधिक मात्रा के साथ-साथ फाइबर, प्रोटीन, एंटीऑक्सीडेंट और कैल्शियम की भी मात्रा पाई जाती है। आपको बता दें कि चिया बीज का इस्तेमाल डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर और हार्ट से जुडी बीमारियों में किया जाता है। चिया सीड या चिया बीज मिंट प्रजाति के होते है जो आकर मे बहुत छोटे होते हैं। इसका रंग सफेद, भूरा और काला हो सकता है। इसके फूल सफेद और बैंगनी रंग के होते हैं। चिया बीज के पौधों को 23 डिग्री उत्तर और 23 डिग्री दक्षिण अक्षांश के बीच उगाए जाने की जरूरत होती है।

यह भी पढ़ेंः कौन-से ब्यूटी प्रोडक्ट्स त्वचा को एलर्जी दे सकते हैं? जानें यहां

चिया बीज (Chia Seeds) कैसे काम करता है?

चिया बीज कैसे काम करता है इस बारे में ज्यादा जानकारी मौजूद नहीं है। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या डॉक्टर से सम्पर्क करें। हालांकि ऐसा माना जाता है कि इसमें अधिक मात्रा में ओमेगा 3 फैटी एसिड और डाइटरी फाइबर पाया जाता है। शोधकर्ता ऐसा मानते हैं कि इसमें मौजूद ओमेगा 3 फैटी एसिड हार्ट से जुडी बीमारियों को ठीक करने में इस्तेमाल किया जाता है।

यहां पर चिया बीज के फायदे हम आपको बता रहे हैंः

वजन कम करेः

चिया सीड में फाइबर मौजूद होता है। जिसके सेवन से भूख को काफी हद तक कंट्रोल किया जा सकता है। अध्ययन से पता चला है कि सुबह नाश्ते के बाद स्नैक्स के रूप में चिया बीज का सेवन करने से भूख को कंट्रोल करके बार-बार खाने की आदत को बदला जा सकता है, जो वजन कम करने में लाभकारी हो सकता है।

दिल को रखे फिटः

चिया सीड में मौजूद फाइबर दिल की बीमारियों के खतरे को कम करता है। साथ ही इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण दिल के दौरे और अन्य ह्रदय संबंधी जोखिमों से बचाव करते हैं। इसमें मौजूद ओमेगा 3 फैटी एसिड ह्रदय को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है और अगर दिल की बीमारी है, तो यह उसमें सुधार करता है।

हड्डियों को बानए मजबूतः

अध्ययन से पता चला है कि कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन से हड्डियों की उम्र बढ़ाई जा सकती है। चिया बीज में उचित मात्रा में कैल्शियम की मात्रा पाई जाती है जो हड्डियों के स्वास्थ्य को बरकरार रखने में मदद करता है।

यह भी पढ़ें: Black Pepper : काली मिर्च क्या है?

चिया बीज (Chia Seeds) से जुडी सावधानियां और चेतावनी

चिया सीड के सेवन से पहले मुझे इसके बारे में क्या-क्या जानकारी होनी चाहिए?

  • चिया बीज का इस्तेमाल करने से पहले आपको डॉक्टर या फार्मासिस्ट या फिर हर्बल विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए
  • अगर आप गर्भवती हैं या स्तनपान कराती हैं। ऐसे में पहले डॉक्टर से सलाह ले लें क्योंकि जब आप बच्चे को फीडिंग कराती हैं, तो अपने डॉक्टर के मुताबिक ही आपको दवाओं का सेवन करना चाहिए।
  • आप कोई दूसरी दवा लेते हैं, जोकि बिना डॉक्टर के पर्ची के आसानी से मिल जाते हैं।
  • अगर आपको चिया सीड में मौजूद पदार्थों से या फिर किसी और दूसरे हर्ब्स (Herbs) से एलर्जी हो।
  • आप पहले से किसी तरह की बीमारी से ग्रसित हैं।
  • आपको पहले से ही खाने पीने वाली चीजों, डाइ या किसी जानवर से एलर्जी हो।

हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम एलोपैथिक दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरुरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना भी जरूरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें: Capsicum : शिमला मिर्च क्या है?

चिया सीड कैसे सुरक्षित है?

अगर आप इसे 12 हफ्तों तक मुंह के द्वारा सीधे लेते हैं और आठ हफ़्तों तक इसे त्वचा पर इस्तेमाल करते हैं, तो यह बिल्कुल सुरक्षित है। इसके लम्बे समय तक इस्तेमाल करने से होने वाली सुरक्षा के लिए पर्याप्त जानकारी मौजूद नहीं है।

चिया बीज (Chia Seeds) से कब करें परहेज

प्रेग्नेंसी और स्तनपान के दौरान: प्रेग्नेंसी और स्तनपान के समय चिया सीड के इस्तेमाल को लेकर अभी ज्यादा जानकारी नहीं है। इसलिए इस दौरान आप इससे परहेज करें।

हाई ट्राईग्लिसेराइड: आपके ब्लड में कई तरह के फैट, कोलेस्ट्रॉल और ट्राईग्लिसेराइड होते हैं। आपको बता दें कि कुछ लोगों में ट्राईग्लिसेराइड लेवल बहुत ज्यादा होता है इसलिए अगर वो चिया का सेवन करते हैं, तो उनका ट्राईग्लिसेराइड लेवल बढ़ सकता है। अगर आपका ट्राईग्लिसेराइड अधिक है, तो आपको एक खास किस्म का चिया इस्तेमाल करना चाहिए जिसे सालबा (Salba) कहते हैं। इससे ट्राईग्लिसेराइड लेवल नहीं बढ़ता है।

प्रोस्टेट कैंसर: आपको बता दें कि चिया में अधिक मात्रा में अल्फा-लिनोलेनिक एसिड (Alpha-linolenic acid) होता है और कुछ शोध में पता चला है कि अगर आपकी डाइट में अल्फा लिनोलेनिक एसिड (Alpha-linolenic acid) की मात्रा ज्यादा है, तो इससे प्रोस्टेट कैंसर होने की संभावना बढ़ सकती है। इसलिए अगर आपको प्रोस्टेट कैंसर की समस्या है, तो आप चिया का सेवन करने से परहेज करें।

यह भी पढ़ें: Chrysanthemum : गुलदाउदी क्या है?

चिया बीज (Chia Seeds) के साइड इफेक्ट

चिया के सेवन से मुझे क्या साइड इफेक्ट हो सकते हैं?

अगर आप इस बारे में ज्यादा जानना चाहते हैं, तो किसी हर्बल विशेषज्ञ या किसी डॉक्टर से सम्पर्क करें।

चिया बीज (Chia Seeds) से पड़ने वाले प्रभाव

चिया के सेवन से अन्य किन-किन चीजों पर प्रभाव पड़ सकता है?

चिया के सेवन से आपकी बीमारी या आप जो वतर्मान में दवाइयां खा रहे हैं उनके असर पर प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए सेवन से पहले डॉक्टर से इस विषय पर बात करें।

चिया बीज (Chia Seeds) की खुराक

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प न मानें। किसी भी दवा या सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

आमतौर पर कितनी मात्रा में चिया सीड खाने चाहिए?

इस हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई चीजों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए सही खुराक की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

चिया सीड किन रूपों में उपलब्ध है ?

  • कच्चे चिया बीज के रूप में
  • आयल सॉफ्टजेल के रूप में

हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की मेडिकल सलाह, निदान या सारवार नहीं देता है न ही इसके लिए जिम्मेदार है।

और पढ़ें:-

 Clove : लौंग क्या है?

जानें मेडिटेशन से जुड़े रोचक तथ्य : एक ऐसा मेडिटेशन जो बेहतर बना सकता है सेक्स लाइफ

कभी आपने अपने बच्चे की जीभ के नीचे देखा? कहीं वो ऐसी तो नहीं?

दांत टेढ़ें हैं, पीले हैं या फिर है उनमें सड़न हर समस्या का इलाज है यहां

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Protein powder: प्रोटीन पाउडर क्या है?

    जानिए प्रोटीन पाउडर (Protein powder) की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, प्रोटीन पाउडर उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Protein powder डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Suniti Tripathy

    फिश प्रोटीन का होती हैं सबसे बेस्ट सोर्स, जानिए कौन सी फिश से मिलता है कितना प्रोटीन

    फिश प्रोटीन की जानकारी in hindi. प्रोटीन शरीर के लिए जरूरी होती है। फिश प्रोटीन का अच्छा सोर्स माना जाता है। अगर शरीर में प्रोटीन की कमी है तो फिश अच्छा ऑप्शन हो सकता है। fish protein

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Bhawana Awasthi

    Rooibos tea: रूइबोस चाय क्या है?

    जानिए रूइबोस चाय (Rooibos tea) की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, रूइबोस चाय उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Rooibos tea डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Sunil Kumar

    Quebracho: क्वेब्राचो क्या है?

    जानिए क्वेब्राचो की जानकारी, फायदे, क्वेब्राचो उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Sunil Kumar