बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए बचपन से ही दें उनकी डायट पर ध्यान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट मई 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

बच्चों की मजबूत हड्डियां भी उनके स्वस्थ्य और खुशहाल जीवन के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। आज की इस भागदौड़ भरी जिंदगी में  कई बार लोगों को खाने का  समय भी नहीं मिलता, तो कई बार लोगों को भागते-दौड़ते खाना खाना पड़ जाता है। साथ ही लोग पैक्ड फूड्स पर निर्भर हो गए हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपके बच्चों की कमजोर हड्डियां आगे चलकर उनके लिए परेशानी का कारण बन सकती है। बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए आपको बचपन में ही उनकी डायट पर ध्यान देना होगा। कमजोर हड्डियों की बीमारी ऑस्टियोपोरोसिस आज के मिलेनियल्स को काफी प्रभावित करती है। लेकिन 18 साल की उम्र में (लड़कियों के लिए) और 20 साल  (लड़कों के लिए) के लिए हड्डी में परेशानी होना खतरे की घंटी है।

ये भी पढ़ेंः प्रेग्नेंसी के दौरान डांस करने से होते हैं ये 11 फायदे

हड्डियों के स्वास्थ्य को आप अपने बचत खाते की तरह समझें, जो आगे चलकर आपके काम आएगा। बचपन और टीनएज के दौरान हड्डियों को इस तरह से मजबूत किया जा सकता है कि इसका उपयोग जीवन भर किया जा सके।

बच्चों की मजबूत हड्डियों का निर्माण

बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए अलग-अलग पोषक तत्व एक साथ काम करते हैं। जिसमें कैल्शियम सबसे जरूरी है, लेकिन विटामिन डी, मैग्नीशियम, विटामिन के और नियमित शारीरिक एक्टिविटी भी जरूरी हैं। बच्चों की डायट में अलग-अलग तरह का खाना जैसे लो कैलोरी डायट, आमेगा-3 फैटी एसिड, कोलैजन सप्लीमेंट, हाई कैल्शियम फूड, प्रोटीन और सही वजन पर ध्यान देना जरूरी है।

बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए कैल्शियम है कितना जरूरी

हर मील में सही मात्रा में कैल्शियम का स्रोत होना जरूरी है। दूध, पनीर और दही कैल्शियम के सबसे अच्छे सोर्स  हैं। उदाहरण के लिए दूध में सबसे ज्यादा कैल्शियम होता है, इसी कारण बच्चों को नाश्ते और रात के भोजन में दूध देने की बात कही जाती है। जिन बच्चों को डेयरी प्रोडक्ट्स के अलावा अन्य सोर्सेज से कैल्शियम लेना है, वे लोग बादाम, ब्रोकली, केला, शलजम साग, अंजीर और टोफू भी खा सकते हैं। अलग-अलग खाने और पीने की चीजों में कैल्शियम ज्यादा मात्रा में होता है। बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए कैल्शियम इनटेक जरूरी है लेकिन इसके लिए आपको बहुत ज्यादा पैसे खर्च करने की जरूरत नहीं है। घर में मौजूद दाल, दूध और दूसरे फूड प्रोडक्ट बच्चों में कैल्शियम को बढ़ा सकते हैं।

ये भी पढ़ेंः क्यों होता है रीढ़ की हड्डी में दर्द, सोते समय किन बातों का रखें ख्याल

विटामिन डी भी करता है हड्डियों को मजबूत

सबसे ज्यादा विटामिन डी (Vitamin D) सूरज की रोशनी से मिलता है। लेकिन, यह विटामिन जगह और समय पर भी निर्भर करता है। ज्यादा देर तक सूरज की रोशनी में रहने से अलग-अलग परेशानियां भी हो सकती हैं। धूप में ज्यादा देर रहने से स्कीन कैंसर हो सकता है। वहीं, खाने के कुछ आइट्म आपको पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी दे सकते हैं। अंडे का पीला भाग और फैट फ्री मछली जैसे साल्मन और ट्यूना में विटामिन डी प्रचुर मात्रा में होता है। आप संतरे के रस, दूध और कुछ नॉन डेयरी प्रोडक्ट में भी विटामिन डी पा सकते हैं। बच्चों में विटामिन डी की खुराक पूरी करने को लेकर अपने बाल रोग विशेषज्ञ से बात करें और हर रोज बच्चे की डायट में विटामिन डी शामिल करें। विटामिन डी सप्लीमेंट के साथ-साथ विटामिन डी रिच फूड भी आपके लिए मददगार साबित हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें: Legg-Calve-Perthes: लेग काल्व पेर्थेस क्या है?

बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए मैग्नीशियम

बादाम, पालक, काले बींस, ओट्स, पीनट बटर, एवोकैडो और आलू जैसे फूड आइटम में विटामिन डी की मात्रा प्रचुर मात्रा में होती हैं। अक्सर ये चीजें ज्यादातर बच्चों को पसंद भी होती हैं। मैग्नीशियम का इनटेक भी बच्चो के लिए जरूरी है।

यह भी पढ़ेंः Vitamin O: विटामिन-ओ क्या है?

विटामिन K को खानें में करें शामिल

पत्तेदार हरी सब्जियां, केला, शलजम का साग, गोभी, पालक और ब्रोकोली, विटामिन के से भरपूर होते हैं। कोलोन में बैक्टीरिया से विटामिन के की थोड़ी मात्रा बनती है लेकिन, यह पता नहीं है कि हमारा शरीर में इसका कितना उत्पादन और उपयोग करने में सक्षम हैं। इस कारण बाहर से अलग-अलग खाने के जरिए विटामिन के लेना जरूरी है।

यह भी पढ़ें: Skier’s Thumb: स्कीयर थंब क्या है?

ओमेगा -3 बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए जरूरी

ओमेगा -3 फैटी एसिड अपने एंटी-इन्फ्लेमेट्री इफेक्ट के लिए अच्छी तरह से जाना जाता है। ओमेगा-3 उम्र बढ़ने की प्रक्रिया के दौरान हड्डियों के नुकसान से बचाने में मदद करने के लिए भी फायदेमंद है। बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए आप अपने बच्चों के आहार में ओमेगा -3 फैट को शामिल करने के अलावा, यह सुनिश्चित करना भी जरूरी है कि ओमेगा -6 से ओमेगा -3 वसा का आपका संतुलन बहुत अधिक नहीं है। 45-90 आयु वर्ग के 1,500 से अधिक वयस्कों के एक बड़े अध्ययन में, जिन लोगों ने ओमेगा -6 से लेकर ओमेगा -3 फैटी एसिड के उच्च अनुपात का सेवन किया, उनमें दो वसा के कम अनुपात वाले लोगों की तुलना में बोन डेंसिटी कम होता है।

इसके अलावा हालांकि अधिकांश अध्ययनों में फैटी फिश में पाए जाने वाले लंबी श्रृंखला वाले ओमेगा -3 फैट के लाभों पर ध्यान दिया गया है, एक नियंत्रित अध्ययन में पाया गया है कि ओमेगा -3 के फूड सोर्स से बोन ब्रेकडाउन कम होता है और हड्डी के गठन को बढ़ाने में मदद करता है।  इसके अलावा बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए ओमेगा -3 फैट के पौधों के स्रोतों में चिया बीज, फ्लैक्ससीड्स और अखरोट शामिल हैं।

बच्चों की डायट पर बचपन से ही ध्यान देकर उनकी हड्डियों को मजबूह बनाया जा सकता है जो आगे चलकर उनका साथ दे सकते हैं। बचपन से ही बच्चों में कैल्शियम और विटामिन डी की मात्रा ठीक से दें जिससे उसे हड्डी से जुड़ी कोई परेशानी ना हों। डॉक्टर भी बचपन से ही बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए पेरेंट्स को सलाह देते हैं। बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए ज्यादातर माता-पिता ध्यान देते हैं। लेकिन अगर किसी कारण से माता-पिता बच्चों के कैल्शियम इनटेक पर ध्यान नहीं देते तो ऐसे बच्चों को आगे चलकर काफी परेशानी होती है।

और पढ़ेंः

अगर आप भी कम हाइट से हैं परेशान तो अपर बॉडी को टोन करके बढ़ सकती है लंबाई

हड्डियों को मजबूत करने के साथ ही आंखों को हेल्दी रख सकती है पालक, जानें दूसरे फायदे

क्या है हड्डियों की बीमारी ऑस्टियोपोरोसिस? जानें इसके लक्षण

पेट से लेकर हड्डियों तक के लिए बेहद फायदेमंद है हॉग प्लम (Hog Plum)

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या बच्चों को अर्थराइटिस हो सकता है? जानिए इस बीमारी और इससे जुड़ी तमाम जानकारी

बच्चों में अर्थराइटिस की बीमारी होने पर वो सामान्य बच्चों की तरह खेलना-कूदना, स्कूल जाना जैसे कार्य सही तरह से कर नहीं पाते। Arthritis in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग मई 15, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Lumbar (low back) herniated disk : लंबर हर्नियेटेड डिस्क क्या है?

जानिए लंबर हर्नियेटेड डिस्क क्या है in hindi, लंबर हर्नियेटेड डिस्क के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Lumbar herniated disk को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Bhawana Sharma
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मार्च 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Stress Fracture: स्ट्रेस फ्रैक्चर क्या है?

जानिए स्ट्रेस फ्रैक्चर क्या है in hindi, स्ट्रेस फ्रैक्चर के कारण और लक्षण क्या है, stress fracture को ठीक करने के लिए क्या उपचार है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 28, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Avascular Necrosis: एवास्क्यूलर नेक्रोसिस क्या है?

जानिए एवास्क्यूलर नेक्रोसिस क्या है in hindi, एवास्क्यूलर नेक्रोसिस के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, tongue burn को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Sunil Kumar
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 28, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

Bio D3 Plu, बायो डी3 प्लस

Bio D3 Plus: बायो डी3 प्लस क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ जून 26, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
एटोशाइन

Etoshine: एटोशाइन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जून 11, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
स्लिप डिस्क -Slip Disk

Slip Disk : स्लिप डिस्क क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
प्रकाशित हुआ जून 5, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
सोरियाटिक अर्थराइटिस - Psoriatic arthritis

जानिए सोरियाटिक अर्थराइटिस और उसके लक्षण

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Shilpa Khopade
प्रकाशित हुआ मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें