प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स के अलावा इन बातों का भी रखें ध्यान

    प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स के अलावा इन बातों का भी रखें ध्यान

    सेक्स के बाद मन में दो तरह के ख्याल आते हैं। पहला ख्याल कि कहीं प्रेग्नेंट न हो जाएं और दूसरा कि शायद इस बार खुशखबरी मिल जाएगी। प्रेग्नेंट होने के लिए कपल्स कई तरीके अपनाते हैं। पीरियड्स टाइम के कैलक्युलेशन से लेकर डॉक्टर के परामर्श को भी अपनाया जाता है। अगर आप प्रेग्नेंट होना चाहती हैं तो कुछ बातों का ध्यान रखकर आसानी से कंसीव किया जा सकता है। यहां हम गर्भधारण के टिप्स बता रहे हैं। जिनको कपल्स फॉलाे कर सकते हैं।

    सेक्स के बाद प्रेग्नेंट हो ही जाएं, ये जरूरी नहीं है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स के बाद क्या करना चाहिए?

    और पढे़ें : फर्स्ट ट्राइमेस्टर वाली गर्भवती महिलाओं के लिए 4 पोष्टिक रेसिपीज

    गर्भधारण के लिए खास टिप्स

    इंटरकोर्स कर चुके हैं? ध्यान रखें ये बात

    आपने सुना होगा कि इंटरकोर्स के बाद तुरंत बाथरूम जाने से प्रेग्नेंसी की संभावना कम हो जाती है। इंटरकोर्स के बाद कुछ देर यानी 10 से 15 मिनट तक बेड पर लेटे रहे। इस बात का कोई प्रमाण नहीं है, लेकिन आप इसे अपना सकते हैं। अगर आप सेक्स के बाद 10 से 15 मिनट तक इंतजार करती हैं तो स्पर्म के सर्विक्स तक पहुंचने की संभावना बढ़ सकती है।

    हेल्दी डायट है जरूरी

    सेक्स के बाद प्रेग्नेंट हो जाएंगी, ये हर बार जरूरी नहीं होता है। कुछ फैक्टर हैं, जिनके कारण सेक्स के बाद प्रेग्नेंसी की संभावना बढ़ जाती है। हेल्दी और बैलेंस फूड डायट में शामिल करना आपके लिए जरूरी है। फ्रूट्स, वेजीटेबल्स, प्रोटीन, बींस, नट्स, वोल ग्रेन, लीन मीट और डेयरी प्रोडक्ट्स को अपने खाने में शामिल करें। आपको रोजाना 1000 एमजी कैल्शियम लेना चाहिए। साथ ही जिंक, विटामिन बी6, विटामिन सी और विटामिन ई फर्टिलिटी बढ़ाने का काम करते हैं।

    और पढे़ें : प्रेंग्नेंसी की दूसरी तिमाही में होने वाले हॉर्मोनल और शारीरिक बदलाव क्या हैं?

    ऑव्युलेशन के समय रोजाना सेक्स नहीं है जरूरी

    महिला और पुरुषों को लगता है कि ऑव्युलेशन के समय में रोजाना सेक्स करना प्रेग्नेंसी के अवसर बढ़ा देता है। ऐसा बिलकुल नहीं है क्योंकि सेक्स के बाद स्पर्म करीब 5 दिनों तक फर्टिलाइजेशन के लिए एक्टिव रहते हैं। कपल्स को ऑव्युलेशन के 4-5 दिन पहले और दूसरे दिन सेक्स करने की सलाह दी जाती है। इस बात को भी मन से निकाल दें कि ज्यादा सेक्स करने से स्पर्म की गुणवत्ता में कमी आती है। अगर आपको इससे संबंधित कुछ भी सवाल पूछने हो तो बेहतर होगा कि एक बार डॉक्टर से संपर्क करें।

    अपने पार्टनर को भी दें राय

    अगर आप कंसीव करना चाहती हैं तो आपको पार्टनर से भी खानपान को लेकर डिस्कस करना होगा। पार्टनर को कहें कि वो खाने में जिंक, विटामिन सी, विटामिन ई और ओमेगा 3s को शामिल करें। ये स्पर्म का प्रोडक्शन को बढ़ाने का काम करता है।

    और पढे़ें : गर्भावस्था के आठवें महीने में की जा सकती हैं ये एक्सरसाइज

    हर महीने रहते हैं प्रेग्नेंसी के 25% चांस

    पौष्टिक आहार, रोजाना व्यायाम, हेल्दी बीएमआई और सही समय पर सेक्स आपके हर महीने गर्भवती होने के चांसेस बढ़ा देता है। किसी भी महिला के हर महीने प्रेग्नेंट होने के 25 प्रतिशत चांजेस होते हैं। अगर आपको 12 महीने के बाद भी प्रेग्नेंट होने में दिक्कत हो रही है तो आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। किसी समस्या की वजह से भी महिलाएं कंसीव नहीं कर पाती हैं। समस्या पुरुष या महिला किसी में भी हो सकती है।

    इन बातों का भी रखें ध्यान

    स्मोकिंग और शराब का सेवन सभी के लिए भी हानिकारक होता है। अगर आप कंसीव करने का सोच रहे हैं तो आपको इन सब से दूरी बना लेनी चाहिए। स्मोकिंग शरीर में ईस्ट्रोजन लेवल और ऑव्युलेशन को बिगाड़ देती है। खानपान में अनहेल्दी चीजें आपके स्वास्थ्य के साथ ही फर्टिलिटी को भी नुकसान पहुंचाने का काम करती है।

    करीब 85 प्रतिशत कपल्स बिना किसी समस्या के एक साल के भीतर कंसीव कर लेते हैं। अगर आप एक साल में कंसीव नहीं कर पाई हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें। डॉक्टर जांच के बाद आपको उचित राय देंगे।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Bhawana Awasthi द्वारा लिखित · अपडेटेड 29/10/2020

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement