डिलिवरी डेट कैलक्युलेटर

अगर आपने गर्भधारण कर लिया है तब यह कैलकुलेटर शिशु के आने के तारीख का अनुमान करने में मदद करेगा।
Find Out

Choose calculation method

आम तौर पर गर्भावस्था 40 हफ्ते (या गर्भाधारण के 38 हफ्ते तक) का होता है। इसलिए डिलिवरी डेट को निकालने का सबसे अच्छा तरीका है आपके आखिरी पीरियड के पहले दिन से 40 हफ्ते या 280 दिन को कैलकुलेट करना। दूसरा तरीका है आखिरी पीरियड के पहले दिन से तीन महीने को घटायें और उसमें सात दिन जोड़े। उदाहरण के तौर पर अगर आपका पीरियड ‍11 अप्रैल को शुरू हुआ है, तो आपको तीन महीने पीछे काउन्ट करके 11 जनवरी तक गिनती करना होगा। फिर उसमें सात दिन जोड़ने पर निकलेगा 18 जनवरी डिलिवरी डेट। इसी तरह से ही आपके डॉक्टर भी डिलिवरी डेट को निकालते हैं। लेकिन एक बात का ध्यान रखना होगा कि एक या दो हफ्ते बाद में या पहले डिलिवरी होना नॉर्मल होता है, इसके लिए घबराने की जरूरत नहीं।

जिनका मेंस्ट्रुअल साइकिल रेगुलर होता है, उनके डिलिवरी डेट का कैल्कुलेशन आखिरी पीरियड के पहले दिन के आधार पर होता है। पर आपका साइकिल अनियमित है तो उस हालात में LMP मेथड (Last Menstrual Cycle) काम नहीं करेगा। लेकिन EDD (एस्टिमेटेड डेट ऑफ डिलीवरी) निकालने के लिए आपके डॉक्टर कंसेप्शन डेट को यूज करते हैं। यानि डॉक्टर 266 दिनों को जोड़कर कर एस्टिमेटेड ड्यू डेट निकालते हैं।

अगर आप आईवीएफ मॉम हैं तो आपको आईवीएफ ट्रांसफर डेट को यूज करके डिलिवरी डेट को कैलकुलेट करना होगा।

क्या मैं अपने डिलिवरी डेट का प्लान बना सकती हूँ?

यदि आप गर्मी के मौसम के बीच में ही कंसीव नहीं करना चाहती हैं, या आप टीचर हैं और अपना ज्यादा से ज्यादा समय अपने दिल के टुकड़े को देना चाहती हैं, और इसीलिए डिलिवरी डेट के हिसाब से कंसीव करने का प्लान बनाना चाहती हैं। हो सकता है, सौभाग्यवश आप प्रेग्नेंट हो भी जाती हैं तो एक बात का ध्यान रखना होगा कि आप शिशु के जन्म का दिन, हफ्ता या महीने को लेकर बिल्कुल निश्चिंत नहीं हो सकती हैं, यह बदल भी सकता है।