Vitamin O: विटामिन-ओ क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जनवरी 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

विटामिन-ओ (Vitamin O) क्या है?

विटामिन-ओ को हम एक एक सच्चा विटामिन नहीं कह सकते हैं, बल्कि यह एक अच्छा स्वास्थ्य पूरक होता है जो बड़े पैमाने पर खारे पानी से बना होता है और खाद्य पदार्थों में पाया जाता है। विटामिन ओ के निर्माण और उपयोग को लेकर अभी भी कई मत हैं। यूएस फेडरल ट्रेड कमिशन (FTC) ने विटामिन ओ के निर्माता पर इसे कैंसर के उपचार और दिल की बीमारी का इलाज करने के लिए धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया था। बता दें कि, इसका निर्माण करने वाले व्यक्ति ने कई विज्ञापनों में इसका दावा किया था कि यह विटामिन ऑक्सीजन के साथ रक्तप्रवाह को समृद्ध करता है और कैंसर, हृदय रोग और फेफड़ों की बीमारी जैसी गंभीर बीमारियों का इलाज और रोकथाम कर सकता है।

जिसे लेकर बाद में इस विटामिन के निर्मात को 3,75,000 डॉलर का भुगतान करना पड़ा था। 2 मई, 2000 को इस विटामिन के निर्माता द्वारा किए गए सभी दावों को झूठा करार दिया गया। जिसके बाद उन्हें इस राशि का भुगतान अदा करना पड़ा था। हालांकि, विटामिन के स्वास्थ्य लाभ से अभी भी इंकार नहीं किया जा सकता है। लेकिन, इस दिशा में अभी भी उचित अध्ययन करने की आवश्यकता है।

यह भी पढ़ेंः प्रेग्नेंसी के दौरान गैस से छुटकारा दिलाने वाले 9 घरेलू नुस्खे

विटामिन-ओ (Vitamin O) का इस्तेमाल किस लिए किया जाता है?

विटामिन-ओ (Vitamin O) का नाम भले ही विटामिन की लिस्ट में शामिल किया जाता है लेकिन, यह पूरी तरह से विटामिन नहीं है। विटामिन-ओ (Vitamin O) एक अच्छा स्वास्थ्य पूरक है जो बड़े पैमाने पर खारे पानी से बना है, हालांकि, इसमें जर्मेनियम जैसे तत्व भी शामिल होते हैं जो स्वास्थ्य के लिए खतरनाक होते हैं। विटामिन-ओ को बनाने वाले निर्माता इसके रासायनिक सूत्र के बारे में स्पष्ट नहीं हैं। इसके निर्माताओं के दावे भी अलग-अलग हैं। उदाहरण के लिए, एक निर्माता ने इसे विआयनीकृत पानी (De-ionised Water) और सोडियम क्लोराइड के हल्के प्रतिरोधक के रूप में 7.2 के पीएच के साथ उल्लखित किया है। तो वहीं, एक अन्य निर्माता ने इसे सक्रिय संघटक के रूप में मैग्नीशियम पेरोक्साइड के तौर पर सूचीबद्ध किया है।

कभी-कभी विटामिन-ओ को “लिक्विड ऑक्सीजन” (Liquid Oxygen) भी कहा जाता है लेकिन, ध्यान रखें कि ऑक्सीजन केवल -183 डिग्री सेल्सियस से नीचे के तापमान पर ही तरल रूप में मौजूद है।

यह भी जानना जरूरी है कि यूएस फेडरल ट्रेड कमिशन (FTC) ने विटामिन-ओ के निर्माता पर इसे कैंसर और दिल की बीमारी का उपचार करने के लिए धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया था। एफटीसी के मुताबिक, राष्ट्रीय समाचार पत्रों में निर्मातों ने दावा किया था कि “विटामिन-ओ” ऑक्सीजन के साथ ब्लड फ्लो को बढ़ाने में मदद करता है, जो कैंसर, हृदय रोग और फेफड़ों की बीमारी जैसी गंभीर बीमारियों का इलाज कर सकता है। जिसके तहत 2 मई, 2000 को विटामिन-ओ के निर्माताओं ने अपने इस झूठ को स्वीकार करते हुए आरोपों का निपटारा किया। जिसके लिए उन्हें $ 375,000 डॉलर का भुगतान भी करना पड़ा था।

यह भी पढ़ेंः Acai: असाई क्या है?

निम्न स्थितियों में लोग विटामिन-ओ का इस्तेमाल करते हैं

इन स्थितियों में मोटापे में विटामिन-ओ (Vitamin O) का इस्तेमाल किया जा सकता हैः कब्ज, गैस, सूजन, भूख में कमी, पेट में खराबी, पेट में एसिड, प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (PMS), मेनोपॉज, यौन की समस्याएं, सिरदर्द, समय से पहले बुढ़ापे के लक्षण, त्वचा संबंधी समस्याएं, कान, नाक या गुदा में खुजली और ट्यूमर।

विटामिन-ओ (Vitamin O) का इस्तेमाल कभी-कभी त्वचा पर रोगाणु-नाशक (एंटीसेप्टिक) के रूप में भी किया जाता है।

विटामिन-ओ (Vitamin O) कैसे काम करता है?

विटामिन-ओ कैसे काम करता है, इस बारे में पर्याप्त और उचित अध्ययन नहीं किए गए हैं। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से बात करें।

यह भी पढ़ेंः Aloe Vera : एलोवेरा क्या है?

सावधानियां और चेतावनियां

विटामिन-ओ (Vitamin O) का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

अपने डॉक्टर से बात करें अगर:

  • अगर आप प्रेग्नेंट हैं या ब्रेस्टफीडिंग करातीं हैं। क्योंकि, प्रेग्नेंसी के दौरान या शिशु को मां का दूध पिलाने के दौरान सिर्फ उन्हीं दवाओं का सेवन करना चाहिए जिनका निर्देश डॉक्टर द्वारा दिया गया हो।
  • अगर आप अन्य दवाओं का इस्तेमाल करते हैं। जिसमें बिना डॉक्टर के सलाह द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली दवाएं भी शामिल हो सकती हैं। जैसेः सीधा काउंटर से मिलने वाली दवाएं।
  • अगर आपको विटामिन-ओ में शामिल किसी भी तत्व या अन्य दवाओं या दूसरे हर्बल्स से एलर्जी है तो।
  • अगर आपको कोई स्वास्थ्य स्थिति या बीमारी है तो।
  • अगर आपको किसी अन्य पदार्थ भोजन, डाई या पशुओं से एलर्जी है तो।

इसके इस्तेमाल करने के लिए नियम अन्य दवाओं से कम सख्त हैं। हालांकि, इसकी सुरक्षा के दावे करने के लिए उचित अध्ययनों की आवश्यकता है। इसका इस्तेमाल करने से पहले इससे होने वाले लाभ और जोखिमों के बारे में जानकारी रखनी जरूरी है। अधिक जानकारी के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

साइड इफेक्ट्स

विटामिन-ओ (Vitamin O) का इस्तेमाल कितना सुरक्षित है?

इसका इस्तेमाल करना कितना सुरक्षित है या इसके क्या दुष्प्रभाव हो सकते हैं, इसके बारे में अभी कोई उचित जानकारी नहीं है।

खास सावधानियां और चेतावनियां:

प्रेग्नेंसी और ब्रेस्टफीडिंग के दौरान विटामिन-ओ का इस्तेमाल करना कितना सुरक्षित हो सकता है, इसके बारे में उचित जानकारी नहीं है। ऐसी स्थितियों में किसी भी जोखिम से बचे रहने के लिए इसका इस्तेमाल न करें।

यह भी पढ़ेंः Asafoetida : हींग क्या है?

खुराक

विटामिन-ओ (Vitamin O) के लिए सामान्य खुराक क्या है?

विटामिन-ओ की खुराक को लेकर कोई सही जानकारी नहीं है। इसकी खुराक मरीज की उम्र, स्वास्थ्य स्थिति और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर कर सकती है। फिलहाल इसकी निर्धारित खुराक को लेकर कोई वैज्ञानिक जानकारी नहीं है। इसे लेकर अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से संपर्क करें।

विटामिन-ओ (Vitamin O) की खुराक किन रूपों में उपलब्ध है?

विटामिन-ओ निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध हो सकता है:

  • लिक्विड ऑक्सीजन (Liquid Oxygen)

और पढ़ेंः-

Ashwagandha : अश्वगंधा क्या है?

चमकदार त्वचा चाहते हैं तो जरूर करें ये योग

शिशु की त्वचा से बालों को निकालना कितना सही, जानें क्या कहते हैं डॉक्टर?

कौन-से ब्यूटी प्रोडक्ट्स त्वचा को एलर्जी दे सकते हैं? जानें यहां

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Folvite 5 mg Tablet : फोल्विट 5 एमजी टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    फोल्विट 5 एमजी टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, फोल्विट 5 एमजी टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Folvite 5 mg डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

    प्रसिद्ध योग विशेषज्ञों से जानिये योग का शरीर से संबंध क्या है? हेल्दी रहने का सीक्रेट!

    हेल्दी रहने का सिक्रेट जानना चाहते हैं तो हमारे एक्सपर्ट्स के वीडियो देखिये। उनके वक्तव्य से जानेंगे कि कैसे योग का शरीर से संबंध होता है।

    के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta

    Astymin Forte: अस्टिमिन फोर्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    अस्टिमिन फोर्ट दवा की जानकारी in hindi दवा के डोज, उपयोग, साइड इफेक्ट्स के साथ सावधानियां और चेतावनी के साथ रिएक्शन व स्टोरेज को जानने के लिए पढ़ें।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish singh

    Becosules z: बीकासूल जेड क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    जानिए बीकासूल जेड की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Becosules z डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया shalu

    Recommended for you

    हृदय रोग का आयुर्वेदिक उपचार- Ayurvedic treatment for Heart disease

    सीने में दर्द, पैरों में सूजन और थकावट कहीं आपको दिल से बीमार न बना दे!

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
    प्रकाशित हुआ दिसम्बर 3, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें
    सायलेंट हार्ट अटैक और आयुर्वेद

    दिल के दर्द में दवा नहीं, दुआ की तरह काम करेगा आयुर्वेद!

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
    प्रकाशित हुआ नवम्बर 27, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें
    फेफड़ों की सफाई

    वर्ल्ड लंग्स डे: इस तरह कर सकते हैं फेफड़ों की सफाई, बेहद आसान हैं तरीके

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
    प्रकाशित हुआ सितम्बर 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    हृदय रोग डायट प्लान-Diet plan for heart disease

    हृदय रोग के लिए डायट प्लान क्या है, जानें किन नियमों का करना चाहिए पालन?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish singh
    प्रकाशित हुआ जुलाई 14, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें