Acai: असाई क्या है?

By Medically reviewed by Dr. Shruthi Shridhar

परिचय

असाई क्या है?

असाई (Acai) ताड़ के पेड़ की एक प्रजाति है जो, अमेजन में ही पाए जाते हैं|। वानस्पतिक रूप से इसे Euterpe oleracea Mart कहा जाता है। असाई पाम, कैबेज पाम, पालमा मानाका इसके अन्य सामान्य नाम हैं। इसमें प्रोटीन, एंटीऑक्सीडेंट और खनिज की प्रचुर मात्रा होती है। अमेजन में रहने वाले लोग अच्छी मात्रा में इसका सेवन करते हैं। कई अध्ययन में पता चला है कि असाई  में उच्च मात्रा में फाइटोकेमिकल्स होते हैं, जो हमारे स्वास्थय को बढ़ावा देने में मदद करता है। इसके अलावा इसमें ओमेगा वसा, एमिनो एसिड, इलेक्ट्रोलाइट्स, एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं। इस पेड़ की पहचान उसके पत्तों और फलों से होती है। इसका फल छोटा, गोलाकार और डार्क पर्पल कलर का होता है। देखने में ये बिल्कुल अंगूर जैसा दिखता है, लेकिन उससे छोटा होता है। इसमें पल्प भी कम होता है। पोषक तत्वों से भरपूर असाई शरीर में ऊर्जा मात्रा को बढ़ाने के साथ-साथ रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करता है।

असाई का उपयोग किस लिए किया जाता है?

ह्दयरोग से बचाए

असाई बेरी में अच्छी मात्रा में एंथोसाइनिन नामक एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो हमारे शरीर में कोशिकाओं को हानि पहुंचाने वाले त्तवों को नष्ट करने का काम करते हैं। रक्त में मौजूद हानिकारक LDL कोलेस्ट्रॉल को दूर कर दिल की बीमारियों का खतरा कम करता है।

वजन कम करने में मददगार

कई शोध के नतीजे बताते हैं कि असाई बेरी का सेवन करने से तेजी से वजन कम होता है। इसमें फाइबर अच्छी मात्रा में होता है, जिसके सेवन से भूख कम लगती है। यह हमारे शरीर में वसा को कम करता है। इसके साथ ही वसायुक्त आहार के सेवन से होने वाले दुष्प्रभाव से भी कवच प्रदान करता है। 

कैंसर से बचाए

असाई बैरी विटामिन ए, सी, और ई का बेहतरीन स्त्रोत है। इसमें मिनरल्स जैसे आयरन, जिंक, कॉपर और एंटी ऑक्सीडेंट्स भी उच्च मात्रा में मौजूद होते हैं जो कई प्रकार से स्वास्थ्य को लाभ प्रदान करते हैं। एंटी इन्फ्लामेटरी और एंटी ऑक्सीडेंट्स गुणो से भरपूर होने की वजह से इसे सुपरफूड कहा जाता है। असाई बेरी हमारे शरीर में कैंसर ग्रसित कोशिकाओं को नष्ट करती है। इसमें पॉलीफेनोल्स भी होता है जो कैंसर को बढ़ने से रोकता है। एक रिसर्च में पाया गया कि जिन लोगों ने असाई बेरी का रोजाना सेवन किया उनमें कैंसर की कोशिकाएं 80% प्रतिशत तक कम देखने को मिली।

पाचन तंत्र को मजबूत बनाएं

असाई बेरी में फाइबर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है और फाइबर हमारी पाचन क्रिया को दुरुस्त करता है। असाई बेरी हमारे शरीर में विषैले पदार्थों को जमा होने से बचाकर पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है।

ऊर्जा बढ़ाए

असाई बेरी के सेवन से आलस और थकान दूर होने के साथ शरीर तरोताजा होता है। ये शरीर को तुरंत ऊर्जा प्रदान करता है।

इन बीमारियों में भी मददगार

  • ऑस्टियोआर्थराइटिस
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल
  • इरेक्टाइल डिसफंक्शन
  • वजन घटना
  • मोटापा
  • स्वास्थ्य में सामान्य सुधार के लिए

असाई कैसे काम करता है ?

असाई बेरी कैसे काम करता है इस बारे में कोई पर्याप्त अध्ययन नहीं किए गए हैं। इसकी अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से परामर्श करें। हालांकि कुछ अध्ययनों में मालूम हुआ है कि इसमें कुछ केमिकल होते हैं, जो एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। एंटीऑक्सीडेंट हमारे शरीर की कोशिकाओं को ऑक्सीजन (ऑक्सीकरण) के साथ होने वाली रासायनिक प्रतिक्रियाओं के हानिकारक प्रभावों से बचाने में मदद करता है। कुछ शोध के अनुसार असाई में क्रेनबेरी, रास्पबेरी, ब्लैकबेरी, स्ट्रॉबेरी और ब्लूबेरी की तुलना में अधिक एंटीऑक्सिडेंट होते हैं। इसमें कुछ ऐसे केमिकल्स होते हैं जो सूजन को कम करने के साथ ब्लड शुगर को लो करता है और इम्यून सिस्टम को दुरुस्त रखता है।

यह भी पढ़ें : अश्वगंधा क्या है?

उपयोग

कितना सुरक्षित है असाई का उपयोग ?

  • प्रेग्नेंट और ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाएं इसका सेवन न करें, क्योंकि अगर आपने बच्चा कंसीव किया हुआ है या आप बच्चे को दूध पिलाती हैं तो आपको सिर्फ डॉक्टर द्वारा दी गई दवाइयों का सेवन करना चाहिए।
  • अगर आप किसी दवाइयों का सेवन कर रहे हैं तो ऐसे में भी आपको इसके सेवन से बचना चाहिए।
  • अगर आपको किसी जड़ी-बूटी से एलर्जी है तो भी इसका सेवन न करें।
  • आपको कोई अन्य बीमारी या किसी चीज का इलाज चल रहा है तो भी इसे एवॉइड करें।

दवाइयों की तुलना में हर्बल सप्लीमेंट को लेकर कोई सख्त नियम नहीं होते हैं, लेकिन इसकी सुरक्षा को निर्धारण करने के लिए अधिक अध्ययन करने की जरूरत है। 

यह भी पढ़ें : Shilajit : शिलाजीत क्या है?

साइड इफेक्ट्स

असाई से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

असाई बेरी के साइड इफेक्ट इस बात पर निर्भर करते हैं कि आपने उसे किस तरीके से खाया है। अगर आप इसे बहुत ज्यादा मात्रा में नहीं खाते और या फिर इससे आपको एलर्जी नहीं है तो दूसरे फलों की तरह ये भी हानिकारक नहीं है। इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से ब्लीडिंग प्रोब्लम या हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकता है। इसके अलावा आपको लिवर संबंधित परेशानी भी हो सकती है। लिवर संबंधित कोई परेशानी है तो इसके सेवन से बचें। 

  • शुगर पेशेंट्स को इसके सेवन से परहेज करना चाहिए।
  • इससे बनी कई दवाईयां, जूस और सप्लीमेंट्स में कुछ ऐसी चीजें शामिल होती हैं, जो हमारी सेहत पर बुरा असर डाल सकती हैं। इसके सेवन से डायरिया, सिर दर्द, पेट में दर्द या एलर्जी हो सकती है।
  • अगर आप कैफीन के प्रति संवेदनशील हैं तो आपको इन सप्लीमेंट्स को लेने से बचना चाहिए।

यह भी पढ़ें : Green Coffee : ग्रीन कॉफी क्या है?

डोजेज

असाई को लेने की सही खुराक क्या है?

असाई को कब और कितना लें ये डॉक्टर द्वारा निर्धारित की गई खुराक पर निर्भर करता है। ब्राजील के लोग आमतौर पर रोजाना इसका एक लीटर जूस पीते हैं। इसे औषधीय रूप से लेने के लिए इसकी जड़ों से बनाए गए काढ़े को दिन में एक से दो बार लेना चाहिए। पाउडर्ड असाई की खुराक को दिन में एक से दो बार लें। इसके कैप्सूल आप रोजाना दिन में एक से दो ले सकते हैं।

यह भी पढ़ें : पत्ता गोभी क्या है?

उपलब्ध

किस रूप में उपलब्ध है?

  • हेल्थ सप्लीमेंट के तौर पर बाजार में इसके 700 और 1000 मिलीग्राम के कैप्सूल उपलब्ध हैं।
  • ऑयल
  • जूस

और पढ़ें : टी-ट्री ऑइल क्या है?

रिव्यू की तारीख सितम्बर 16, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया अक्टूबर 21, 2019