शुगर लेवल को ऐसे कंट्रोल करता है नाशपाती

By

एक रिसर्च के अनुसार डायबिटीज (मधुमेह) के मरीज नाशपाती का सेवन करके ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित रख सकते हैं। नाशपाती को इंग्लिश में पेर (Pear) और बब्बूगोशा भी कहते हैं। ऊपर से हरा और अंदर से सफेद यह फल सेहत के लिए कई तरह से लाभदायक होता है।

डायबिटीज में नाशपाती खा सकते हैं?

नाशपाती में मौजूद विटामिन-सी, विटामिन-के, फाइबर, मैग्नीशियम, पोटैशियम और मिनरल प्रचुर मात्रा में होते हैं। इसके सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है साथ ही यह डायबिटीज के मरीजों के लिए भी अत्यधिक लाभकारी होता है। डायबिटीज पीड़ित के लिए सामान्य जीवन जीना मुश्किल हो जाता है। डायबिटीज के कारण ब्लड शुगर लेवल शरीर के विभिन्न अंगों को नुकसान पहुंचा सकता है। जिस कारण हार्ट अटैक, कम दिखाई देना या घाव का जल्दी न ठीक होना जैसी और भी शारीरिक समस्या शुरू हो सकती हैa।

डायबिटीज के मरीजों के लिए नाशपाती एक स्वस्थ स्नैक का विकल्प हो सकता है, जो स्वाद में मीठा होते हुए भी आपको नुकसान नहीं पहुंचाएगा। एक्सपर्ट्स के अनुसार आप एक दिन में एक से दो नाशपाती खा सकते हैं। नाशपाती शुगर के मरीजों के लिए कम्प्लीट नाश्ते की तरह है। शुगर लेवल को कंट्रोल रखने के साथ-साथ शरीर में होने वाले सूजन से भी आपको बचा सकता है।

यह भी पढ़ें: स्किन से लेकर डायबिटीज तक के उपचार में लाभकारी है हींग

नाशपाती से कैसे नियंत्रित रहता है शुगर लेवल?

नाशपाती में मौजूद निम्नलिखित खनिज तत्व सेहत के लिए खास कर डायबिटीज के मरीज के लिए फायदेमंद होते हैं

विटामिन- इसमें मौजूद विटामिन-सी में मौजूद एंटी-ऑक्सिडेंट रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। इससे दिल की बीमारी खतरा कम हो जाता है। बैड कोलेस्ट्रॉल को भी बढ़ने से रोकता है। वहीं विटामिन-के की मदद से शरीर में इंसुलिन को ठीक रखने में मदद मिलती है।

फाइबर- फाइबर युक्त भोजन शरीर के लिए बेहद जरूरी है। इससे कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित रहता है। यह ब्लड शुगर लेवल को भी कंट्रोल रखता है। इसलिए इसे डायबिटीज के मरीजों के लिए सुपर फूड भी कहा जाता है। इससे डायजेशन (पाचन) भी बेहतर रहता है और कब्ज की शिकायत भी नहीं होती है। यही नहीं वजन कम करने में भी यह सहायक होता है, क्योंकि इसके सेवन से पेट भरा हुआ महसूस होता है और आपको बार-बार खाने की इच्छा नहीं होती है।

मैग्नीशियम- शरीर में मैग्नीशियम की कमी की वजह से कमजोरी, थकावट और तनाव महसूस होता है और इसके कमी से ब्लड शुगर लेवल भी बिगड़ सकता है। इसलिए नाशपाती में मौजूद प्रचुर मात्रा में मैग्नीशियम डायबिटीज जैसी गंभीर बीमारी से भी बचा कर रख सकता है आपको।

पोटैशियम- शरीर में पोटैशियम की कमी की वजह से कई परेशानी हो सकती है, जैसे थका हुआ महसूस होना या तनाव में रहना, ब्लड प्रेशर नियंत्रित न रहना आदि। ये सभी लक्षण डायबिटीज के होते हैं। इसलिए नाशपाती इन लक्षणों को भी दूर रखने में आपकी मदद करता है।

डायबिटीज के मरीज अपना ख्याल तो रखते हैं लेकिन, जब फल खाने की इच्छा होती है तो ऐसे में मन में दुविधा भी शुरू हो जाती है। इसलिए नाशपाती स्वाद में मीठेपन का एहसास करवाने के साथ-साथ लाभकारी भी होगा। अपने आहार और शुगर लेवल का ध्यान रखकर आप इस बीमारी से भी लड़ सकते हैं और स्वस्थ रह सकते हैं।

आपको अपने डॉक्टर द्वारा दी गई सलाह और बताई गई सावधानियों का पालन अवश्य करना चाहिए। आंख बंद कर किसी भी उपाय का पालन न करें। अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं तो आपको डॉक्टर से सलाह लेकर खाद्य पदार्थों का चयन करना चाहिए।

और पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान बढ़ सकता है शुगर लेवल, ऐसे करें कंट्रोल

Share now :

रिव्यू की तारीख सितम्बर 14, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया दिसम्बर 6, 2019

शायद आपको यह भी अच्छा लगे