home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

Legg Calve Perthes: लेग काल्व पेर्थेस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

परिचय|कारण|लक्षण|इलाज
Legg Calve Perthes: लेग काल्व पेर्थेस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

परिचय

लेग काल्व पेर्थेस (Legg Calve Perthes) क्या है?

लेग काल्व पेर्थेस (Legg Calve Perthes) एक ऐसी बीमारी है, जो बचपन से ही होती है। इसमें कूल्हे के बॉल के हिस्से में खून पहुंचने में रुकावट आती है। जिससे हड्डियां काम करना बंद कर देती हैं। हड्डियों की बीमारी के कारण कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

कमजोर हड्डी धीरे-धीरे टूटने लगती हैं और अपना गोल आकार खो देती हैं। शरीर धीरे—धीरे बॉल वाले हिस्से मे रक्त पहुंचाना शुरू करता है और बॉल फिर से ठीक हो जाती हैं। लेकिन अगर बॉल वाला हिस्सा ठीक होने के बाद हड्डियां अपने गोल आकार में नहीं आती हैं तो तो यह दर्द का कारण बन सकता है। हड्डी कमजोर होने के साथ उनमें फ्रैक्चर हो जाता है और नई हड्डी बनने की प्रक्रिया पूरी होने में कई साल लग सकते हैं।

और पढ़ें : Dislocated finger : उंगली की हड्डी खिसकना क्या है?

बॉल के हिस्से को गोल रखने के लिए, डॉक्टर कई तरह से इलाज करते हैं। यह समस्या 4 से 10 साल के बच्चों में होती है। यह लड़कियों की अपेक्षा लड़कों में पांच गुना ज्यादा आम है। लड़कियों को अगर ये समस्या हो जाती है तो उनको ज्यादा परेशान कर सकती है। 10% से 15% मामलों में, दोनों कूल्हे प्रभावित हो सकते हैं।

इस बीमारी के कई चरण होते हैं। पहले चरण में हड्डियां काम करना बंद कर देती हैं और कूल्हों में दर्द के साथ सूजन आ जाती है। ऐसे में बच्चा दर्द की वजह से लंगड़ाकर चल सकता है। जब इस बीमारी को 1 से 2 साल की हो जाते हैं तो शरीर आर्टिक्युलर कार्टिलेज के नीचे की बेजान हड्डी को हटा देता है और उसकी जगह नई नरम हड्डी आ जाती है। इस समय हड्डियां कमजोर होती हैं।

नई, मजबूत हड्डी विकसित होने पर उसमें आकार आने लगता है। हड्डी का दोबारा बनना इस बीमारी का सबसे लंबा चरण होता है। जो कई सालों तक चल सकता है। हड्डियां धीरे-धीरे बढ़कर मजबूत होती जाती हैं और अपने पुराने आकार में आ जाती हैं। हड्डी अपने गोल आकार में आने में कितना समय लेगी, यह बच्चे की उम्र पर निर्भर करेगा।

और पढ़ें : Facial fracture: चेहरे की हड्डी का फ्रैक्चर क्या है? जानें इसके लक्षण व बचाव

कारण

लेग काल्व पेर्थेस (Legg Calve Perthes) का कारण क्या है?

  • लेग काल्व पेर्थेस (Legg Calve Perthes) के सही कारण का अभी भी पता नहीं चल पाया है। यह कई कारणों से हो सकता है। जैसे: स्लिप्ड कैपिटल फेमोरियल एपीफिसिस, ट्रॉमा, स्टेरॉयड, सिकल सेल की कमी, टॉक्सिक सिनोव्हाइटिस या जन्म से ही हिप डिसप्लेसिया होना।
  • आमतौर पर इसका कारण आनुवंशिक है। कुछ मामलों में, COL2A1 जीन की​ वजह से लेग काल्व पेर्थेस हुआ।
  • लेग काल्व पेर्थेस के इलाज में डॉक्टर जांघ की हड्डी को हिप सॉकेट के अंदर रखने की कोशिश करते हैं। इसके अलावा डॉक्टर दर्द से आराम के लिए कुछ दवा दे सकते हैं। साथ ही कुछ फिजिकल थेरेपी या सर्जरी हो सकती हैं।
  • फेमोरल हेड में रक्त न पहुंचने की बात को कुछ अध्ययन में गलत बताया गया है। क्योंकि इसका कारण अभी साफ नहीं है।
  • यह चोट के कारण हो सकता है जो रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाती है। इसके अलावा रक्त को थक्के भी नसों में रक्त के प्रवाह को रोक ​सकते हैं।
  • लेग काल्व पेर्थेस बीमारी (Legg Calve Perthes) कुल आबादी में करीब 1 प्रतिशत से कम लोगों में देखी जाती है। इसलिए इसे दुर्लभ बीमारी कहा जाता है।
  • अध्ययनों से यह भी पता चला है कि जिन बच्चों के माता-पिता को यह बीमारी होती है उनमें इसके होने की संभावना अधिक होती है।

और पढ़ें : क्यों होता है रीढ़ की हड्डी में दर्द, सोते समय किन बातों का रखें ख्याल

लक्षण

लेग काल्व पेर्थेस के लक्षण ( Symptoms of Legg Calve Perthes) क्या हैं?

लेग काल्व पेर्थेस के कई लक्षण हो सकते हैं:

  • हड्डियों की बीमारी यानी लेग काल्व पेर्थेस (Legg Calve Perthes) होने पर बच्चे के चलने और दौड़ने के तरीके में फर्क आ जाता है।
  • बच्चा अगर खेल रहा है तो आप इसे साफ तरीके से देख सकते हैं। दर्द बढ़ेगा बच्चा खेलना—कूदना बंद कर देगा।
  • कूल्हे के जोड़ में परेशानी होने के कारण वो अजीब तरह से दौड़ेगा।
  • कूल्हे या कमर में दर्द रहेगा। इसके अलावा पैर के अन्य हिस्सों में, जैसे जांघ या घुटने में भी दर्द हो सकता है।
  • ज्यादा चलने-फिरने या दौड़ने पर दर्द बढ़ता जाएगा। गतिविधि कम हो गई तो दर्द में आराम मिल सकता है।
  • मांसपेशियों की ऐंठन के कूल्हे में जलन भी महसूस हो सकती है।
  • लक्षण दिखने में थोड़ा समय लग सकता है। हो सकता है कि आप जब तक डॉक्टर को दिखाएं तब तक कई हफ्ते या महीने बीत चुके हों और परेशानी बढ़ गई हो।
  • लेग काल्व पेर्थेस (Legg Calve Perthes) बीमारी वाले बच्चों के कूल्हों के पास का अंग थोड़ा अजीब हो सकता है। जहां वे दर्द की शिकायत कर सकते हैं।
  • ऐसा जरूरी नहीं है कि लेग काल्व पेर्थेस वाले सभी बच्चों में एक जैसे लक्षण हों। यह जानकारी ह्यूमन फेनोटाइप ओन्टोलॉजी (एचपीओ) के डेटाबेस से मिली है।

और पढ़ें : प्रेगनेंसी में क्लस्टर सिरदर्द क्यों होता है?

इलाज

लेग काल्व पेर्थेस का इलाज (Treatment of Leg Calv Perthes) क्या है?

लेग काल्व पेर्थेस का इलाज करने के लिए कई विकल्प मौजूद हैं। हालांकि, आपके लिए सबसे सुरक्षित विकल्प क्या हो सकता है, यह आपके स्वास्थ्य स्थिति के अनुसार ही आपके डॉक्टर और सर्जन सुनिश्चित कर सकते हैं।

  • लेग काल्व पेर्थेस का इलाज करने से पहले डॉक्टर इसका परीक्षण करते हैं। इसके लिए वे एक्स-रे, एमआरआई और बोन स्कैन के माध्यम से कूल्हे की हड्डी का चित्र प्राप्त करते हैं। जिससे वे ये समझ स​कें कि समस्या कितनी गंभीर है। साथ ही चित्र में ये भी साफ हो जाता है कि किस तरह के इलाज से बच्चा पूरी ​तरह से ठीक हो सकता है।
  • लक्षण दिखने के साथ ही डॉक्ट इलाज शुरू कर देते हैं। इससे पहले माता-पिता को भी बच्चे की बीमारी का पता नहीं चल पाता है।
  • इलाज से पहले डॉक्टर यह भी देखते हैं कि बीमारी किस चरण में पहुंच गई है। साथ ही कूल्हे को कितना नुकसान हुआ है। लेग काल्व पेर्थेस अगर बढ़ गया तो कूल्हे के पास बॉल का हिस्सा कमजोर होकर टूटने लगता है।
  • उपचार के दौरान, हड्डी को हिप सॉकेट के अंदर बहुत ही आराम से बैठाया जाता है। ऐसा करने के लिए कभी-कभी खास तरह के लेग कास्ट के साथ उपयोग किया जाता है। जो पैरों को चार से छह सप्ताह तक फैलाए रखता है।
  • कुछ बच्चों में सॉकेट के अंदर हड्डी को बैठाने के लिए सर्जरी की जरूरत होती है। इस प्रक्रिया में जांघ या पेल्विस में हड्डी को गोल आकार में काटा जाता है, जिससे फिर से हड्डी गोल आकार में आ जाए।
  • आमतौर पर 6 साल से कम उम्र के बच्चों को सर्जरी की जरूरत नहीं होती है। इस उम्र में हिप सॉकेट स्वाभाविक रूप से ठीक होना शुरू हो जाते हैं। इसलिए बॉल और सॉकेट बिना सर्जरी के एक साथ फिट हो जाते हैं।

लेग काल्व पेर्थेस के लिए घरेलू उपचार (Home remedies for Leg Calv Perthes)

सर्जरी के अलावा लेग काल्व पेर्थेस (Legg Calve Perthes) के लिए घरेलू उपचार के तौर पर आपके डॉक्टर शारीरिक थेरिपी (Physical therapy) की प्रक्रिया अपना सकते हैं। यह सर्जरी के विकल्प से अधिक सुिरक्षत मानी जा सकती है। हालांकि, शारीरिक थेरिपी की की प्रक्रिया इसके शुरूआती चरणों के लिए ही अपनाई जा सकती है। शारीरिक थेरिपी के लिए आपके डॉक्टर कूल्हों की मालिश से लेकर कुछ खास तरह के एक्सरसाइज करने के लिए निर्देश दे सकते हैं।

डॉक्टर से परामर्श के बाद ही किसी तरह का ट्रीटमेंट कराएं। हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार उपलब्ध नहीं कराता। इस आर्टिकल में हमने आपको लेग काल्व पेर्थेस (Legg Calve Perthes) के संबंध में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्सर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंग।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 29/06/2021 को
डॉ. पूजा दाफळ के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड