वजन कम करने के लिए चबाएं च्यूइंगम, होते हैं दूसरे फायदे भी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

हम सभी ने बचपन में च्यूइंगम चबाई होगी या फिर कुछ को आज भी यह आदत होगी। हमें अक्सर यह भी बताया जाता है कि इसे निगलना खतरनाक हो सकता है और इसे खाते समय सावधानी बरतने की हिदायत दी जाती है। आइए आपको बताते हैं कि आप च्यूइंगम के फायदे और च्यूइंगम चबाते हैं, तो क्या होता है …

क्या आप जानते हैं कि आपकी यह च्यूइंगम चबाने की आदत आपका वजन कम करने में भी मददगार साबित हो सकती है? हां, आपको यह जानकर थोड़ा आश्चर्य जरूर हो सकता है। लेकिन, यह सच है।

और पढ़े: क्यों बादाम को भिगोकर खाने की दी जाती है सलाह? जानें भीगे हुए बादाम के फायदे

वजन घटाने के लिए चबाएं च्यूइंगम (Chewing gum for weight loss)

कई अध्ययनों में यह बात सामने आई है कि च्यूइंगम आपकी क्रेविंग्स (Cravings) को कंट्रोल करने में मदद कर सकती है। इससे आप ओवर ईटिंग करने से बच जाएंगे। इस तरह यह ओवर ईटिंग के कारण अतिरिक्त वजन को बढ़ने से रोकने में मदद कर सकती है। क्या आप अब भी सोच रहे हैं कि च्यूइंगम इस चमत्कार से आपकी मदद कैसे कर सकती है? हम आपको बताते हैं:

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

क्या कहती है च्यूइंगम से जुड़ी रिसर्च

कई अध्ययनों से इस बात का पता चला है कि च्यूइंगम चबाने से कैलोरी बर्न करने में भी मदद मिल सकती है। अमेरिका स्थित रोड आइलैंड यूनिवर्सिटी द्वारा किए गए शोध में पाया गया कि जो लोग हर दिन गम चबाते हैं, वे 68 कैलोरी कम ले रहे थे। इतना ही नहीं, ये लोग च्यूइंगम न चबाने वालों की तुलना में पांच प्रतिशत ज्यादा कैलोरी बर्न भी कर रहे थे। लुइजियाना स्टेट यूनिवर्सिटी द्वारा किए गए एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि च्यूइंगम भूख को नियंत्रित करने में मददगार है। इस कारण अध्ययन में शामिल प्रतिभागियों ने दिन में 40 कैलोरी तक का कम सेवन किया।

और पढ़ें: डायट, वर्कआउट के साथ फिटनेस मिशन बनाकर कम किया मोटापा 

कब खाएं च्यूइंगम?

जब आप फ्री हो और आपको स्नैक्स खाने की क्रेविंग हो, ऐसे में आप च्यूइंगम चबा सकते हैं। इसके अलावा खाना खाने के तुरंत बाद मीठा खाने की क्रेविंग होने पर भी आप एक गम चबा सकते हैं। आप हमेशा गम के पैकेट को आपने साथ कैरी कर सकते हैं। इसके अलावा जो लोग कुकिंग करते हैं, वे खाना बनाते समय भी अगर इसे चबाएं, तो खाना बनाते वक्त कुछ भी काटते या छिलते समय होने वाली क्रेविंग से बचा सकता है।

इन बातों का भी रखें ख्याल

क्योंकि हर छोटी कोशिश मायने रखती है। ऐसे ही एक दिन में 50 कैलोरी भी मायने रखती हैं। लेकिन ध्यान रखें, यह तब तक वजन कम करने में आपकी मदद नहीं करेगा, जब तक कि आप हेल्दी न खाएं और नियमित रूप से व्यायाम न करें। लाइफस्टाइल में छाटे बदलाव करना जैसे कि लिफ्ट के बजाए सीढ़ियां चढ़ना, अपने कुत्ते को घुमाना, खुद से खाना बनाना और साफ-सफाई करना लंबे समय में बहुत बड़ी मदद कर सकते हैं।

और पढ़ें: वजन कम करने में सहायक डीटॉक्स ड्रिंक

च्यूइंगम चबाते समय इन टिप्स को फॉलो करें (Follow these tips while chewing gum)

किसी भी चीज की अधिकता आपके लिए नुकसानदायक साबित हो सकती है। ऐसा ही च्यूइंगम चबाने के मामले में भी है। इसके अलावा शुगर-फ्री गम को चुनें क्योंकि सामान्य गम की तुलना इसमें कम कैलोरी होती हैं। लगातार गम चबाने से शरीर में अतिरिक्त हवा जाने की आशंका हो सकती है, जो ब्लोटिंग का कारण बन सकती है। एक दिन में पांच-छह ही गम चबाएं।

च्यूइंगम के फायदे (Benefits of chewing gum)

च्यूइंगम के फायदे: मेमोरी को बेहतर बनाने में च्यूइंगम (Improve memory)

कई रिसर्च में सामने में आया कि च्यूइंगम याददाशत और फोकस को बढ़ाने में सहायक साबित होती है। ऐसा माना जाता है कि च्यूइंगम चबाने से दिमाग में ब्लड सर्कुलेशन तेज होता है। कुछ रिसर्च के अनुसार, च्यूइंगम चबाने से ब्लड सर्कुलेशन 25-40 फीसदी तक बढ़ जाता है। इस कारण दिमाग मे ज्यादा ऑक्सीजन पहुंचती है। यह ऑक्सीजन याददाश्त और बौद्धिक क्षमताओं को बढाने में मदद करती है।

च्यूइंगम के फायदे: च्यूइंगम डायजेशन में सुधार करता है (Chewing gum helps improve digestion)

च्यूइंगम सीधे तौर पर खाने कोक पचाने में मदद नहीं करती है, लेकिन ये पाचन तंत्र के प्रदर्शन में सुधार करती है। यह मुंह में लार के प्रवाह को उत्तेजित करता है। इससे खाने को निगलने में बढ़ावा मिलता है और साथ ही ये पाचन प्रक्रियाओं को सक्रिय रखता है, जिसमें पित्त के प्रवाह और भोजन को पचाने वाले अन्य सहायक एसिड और एंजाइम शामिल हैं। खाना खाने के बाद च्यूइंगम खाने से अपच की दिक्कत नहीं होती है।

च्यूइंगम के फायदे: च्यूइंगम से बढ़ती है अलर्टनेस (Increases Alertness)

एक्सपर्ट मानते हैं कि च्यूइंगम चबाने से चेहरे की मसल्स एक्टिव रहती हैं। कई रिसर्च में सामने आया है कि च्यूइंगम चबाने से ध्यान केंद्रित करने में भी मदद मिलती है। च्यूइंग चबाने से नसों और दिमाग एक्टिव बना रहता है और साथ ही ब्लड सर्कुलेशन भी तेज होता है। उदाहरण के लिए अगर आप लॉन्ग ड्राइव पर जा रहे हैं या कोई ऐसा काम कर रहे हैं, जिससे आप उब गए हैं, तो ऐसे में च्यूइंगम खाने से आपको ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलती है।

च्यूइंगम के फायदे: च्यूइंगम तनाव को कम करने में भी करता है मदद (Helps in reducing stress)

कुछ रिसर्च में सामने आया है कि च्यूइंगम चबाना तनाव हॉर्मोन कोर्टिसोल के लेवल को कम करता है। इस कारण तनाव कम होता है। इसके अलावा च्यूइंग चबाना नाखून चबाने, पैर हिलाने या घबराहट जैसी स्थितियों में भी एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है।

च्यूइंगम के फायदे: दांतों के लिए भी फायदेमंद हैं च्यूइंगम (Beneficial for teeth)

शुगर फ्री च्यूइंगम चबाने से दांतो पर हानिकारक एसिड के असर को कम करने में मदद मिलती है। अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन के अनुसार, खाना खाने के बीस मिनट बाद च्यूइंगम चबाने से प्लाक को कम करने में मदद मिलती है। इसके अलावा कैविटी को कम करने और मसूढ़ों को मजबूत बनाने में भी मदद मिल सकती है।

च्यूइंगम के फायदे: सीने में जलन को कम करता है (Reduce Heartburn)

च्यूइंगम चबाने से आपके इसोफेगस में एसिड लेवल कम करने में मददगार है। इससे एसिड रिफलेक्स और हार्टबर्न की समस्या भी दूर होती है।

और पढ़ें: लो कैलोरी डाइट प्लान (Low Calorie Diet Plan) क्या होता है? 

च्यूइंगम के फायदे: डिप्रेशन को कम करता है (Lessen depression)

2011 में की गई एक स्टडी के अनुसार, दो हफ्ते तक रोजाना दो बार च्यूइंगम चबाने से एंग्जायटी, डिप्रेशन, थकान और अन्य मानसिक बीमारियों में सुधार देखने को मिला।

हम उम्मीद करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में च्यूइंगम के फायदे से जुड़ी जानकारी दी गई है। यदि आप च्यूइंगम चबाने का प्लान कर रहे हैं तो एक बार अपने डॉक्टर से कंसल्ट करें। हम सभी की बॉडी एक जैसी नहीं होती है। इसलिए जरूरी नहीं कि आपको इसको चबाने से ये फायदे हो। इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए एक बार किसी विशेषज्ञ से जरूर संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

जानिए मुंह के कैंसर के प्रकार और उनके होने का कारण

मुंह के कैंसर के प्रकार को जानने के साथ बीमारी के कारण, लक्षण और बचाव, कौन सा कैंसर किस व्यक्ति को हो सकता है, कैसे करें बचाव

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
ओरल हेल्थ, स्वस्थ जीवन अप्रैल 14, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Dental Abscess: डेंटल एब्सेस (दांत का फोड़ा) क्या है?

जानिए डेंटल एब्सेस क्या है in hindi, डेंटल एब्सेस के कारण, जोखिम और लक्षण क्या है, Dental abscess को कैसे ठीक किया जा सकता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

जानें कब और क्यों बदलता है दांतों का रंग, ये लक्षण दिखें तो हो जाएं सतर्क

दांतों का रंग हमारे सेहत के बारे में बताता है। दांतों को स्वस्थ रखने के लिए मुंह की देखभाल जरूरी है ताकि बीमारी से बचा जा सके।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
ओरल हेल्थ, स्वस्थ जीवन अप्रैल 6, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

Teething: टीथिंग क्या है?

जानिए टीथिंग क्या है in hindi, टीथिंग के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, teething को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Sunil Kumar
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

दांत दर्द का आयुर्वेदिक इलाज

दांत दर्द का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानें कौन सी जड़ी-बूटी है असरदार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जून 26, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
Malocclusion- मैलोक्लूजन

Malocclusion: मैलोक्लूजन क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ अप्रैल 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
मुंह की देखभाल

बच्चे हो या बुजुर्ग करें मुंह की देखभाल, नहीं हो सकती हैं कई गंभीर बीमारियां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अप्रैल 21, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
आपके भी दांत नुकीले हैं तो हो जाएं सावधान, हो सकता है कैंसर!

आपके भी दांत नुकीले हैं तो हो जाएं सावधान, हो सकता है कैंसर!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अप्रैल 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें