दूर्वा (दूब) घास के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Durva Grass (Bermuda grass)

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

दूर्वा (दूब) घास क्या है?

दूर्वा (दूब) घास को भारत में कई सदियों से धार्मिक कार्यों के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है। माना जाता है कि, श्रीगणेश भगवान को दूर्वा घास बहुत पसंद है। इसे भारत के कुछ हिस्सों में दूब भी कहा जाता है। लेकिन, धार्मिक मान्यताओं के अलावा इसे आयुर्वेद में भी औषधीय गुणों की वजह से महत्वपूर्ण माना गया है। आयुर्वेद कहता है कि, दूब घास पर नंगे पांव चलने से आपकी आंखों की रोशनी बढ़ती है व शरीर से अनेक रोग छूमंतर हो जाते हैं। दूर्वा (दूब) घास बारहमासी होती है और आप यकीन नहीं करेंगे कि यह पूरे विश्व में आराम से पाई जा सकती है। दूब घास तीन प्रकार की होती है- सफेद, नील व गंड दूब। इसे अंग्रेजी में बरमूडा ग्रास (Bermuda grass) भी कहा जाता है और इसका वैज्ञानिक नाम साइनोडॉन डैक्टाइलान (Cynodon Dactylon) है, जो कि पोएसी (Poaceae) परिवार से संबंध रखता है। इसमें प्रचुर मात्रा में एंटीकैंसर, एंटी-डायबिटिक, एंटी-डायरियल, एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीवायरल और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं।

और पढ़ें- कचनार के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Kachnar (Mountain Ebony)

उपयोग

दूर्वा (दूब) घास का उपयोग किसलिए किया जाता है?

दूब घास का उपयोग निम्नलिखित स्थितियों में किया जाता है। जैसे-

डैंड्रफ से राहत दिलाए

दूर्वा (दूब) घास में एंटी-माइक्रोबियल औऱ एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जो फंगस या अन्य कारणों से होने वाले डैंड्रफ को रोकने में मदद करते हैं। इसके अलावा, इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण सिर की त्वचा को स्वस्थ बनाने में मदद करते हैं और उसकी कोशिकाएं नष्ट होने कम हो जाती है। जिससे डैंड्रफ की समस्या में राहत मिलती है।

डायबिटीज से राहत

जब आपके शरीर में ब्लड ग्लूकोज बढ़ने लग जाता है, तो आपको मधुमेह यानी डायबिटीज की समस्या होने लगती है। वहीं, इसका सबसे आम प्रकार टाइप-2 डायबिटीज है। दूर्वा घास में एंटी-डायबिटिक गुण होते हैं, तो आपके शरीर में ब्लड ग्लूकोज का स्तर नियंत्रित रखने में मदद करते हैं।

घाव को साफ करने में

किसी चोट या घाव के कारण आपको वहां सूजन की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। इसके अलावा, घाव में सेप्टिक होने से इंफेक्शन का खतरा भी हो जाता है। लेकिन, दूब घास में एंटी-माइक्रोबियल और एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं, जो घाव की सूजन को कम करने में और वहां किसी भी माइक्रोब की वजह से इंफेक्शन बनने के खतरे को कम करते हैं। इसके अलावा, इसमें मौजूद एंटी-सेप्टिक गुण भी सेप्टिक इंफेक्शन का खतरा कम करते हैं। इसलिए, घाव या चोट को दूब घास के मिश्रण से साफ किया जा सकता है।

और पढ़ें- तोरई के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Turai (Zucchini)

नाक से खून निकलने

ज्यादा गर्मी के कारण हमारी नाक के अंदर मौजूद मेंब्रेन शुष्क हो जाते हैं और फिर फटने के बाद उनमें से खून निकलने लगता है। जिसे नकसीर भी कहा जाता है। इसके अलावा, साइनस की समस्या के कारण भी नकसीर छूट सकती है। लेकिन, दूर्वा (दूब) घास में कूलिंग गुण होते हैं, जो शरीर को ठंडा रखने में मदद करते हैं और इसके एंटी-माइक्रोबियल गुण कूलिंग इफेक्ट के साथ मिलकर नकसीर आदि की समस्या में राहत देते हैं। इसके अलावा, इसके एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण साइनस की समस्या के कारण हुई नाक से ब्लीडिंग रोकने में भी मदद करते हैं।

बच्चों में घमौरी

गर्मी और पसीने की वजह से बच्चों को घमौरियों का सामना करना पड़ता है जिसकी वजह से शरीर पर जलन, खुजली आदि की परेशानी होती है। लेकिन, दूब घास में कूलिंग इफेक्ट और एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं जो कि बच्चों के शरीर की त्वचा को ठंडा रखने और घमौरी के बैक्टीरिया आदि को नष्ट करने में मदद करते हैं। इसकी मदद से आप घमौरियों से छुटकारा पा सकते हैं।

इन समस्याओं में भी काम आती है दूब घास

  • साइको सोमेटिक डिसऑर्डर
  • खूनी बवासीर
  • डायरिया
  • त्वचा संबंधी रोग
  • पेशाब में जलन
  • एलर्जी रैशेज
  • सिरदर्द की समस्या
  • उल्टी की समस्या
  • दाद-खाज की समस्या, आदि

और पढ़ें- रीठा के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Reetha (Indian Soapberry)

दूर्वा (दूब) घास में मौजूद पोषक तत्व क्या हैं?

  • कैल्शियम
  • फाइबर
  • फॉस्फोरस
  • पोटेशियम
  • प्रोटीन
  • कार्बोहाइड्रेट्स
  • मैग्नीशियम, आदि

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

दूर्वा (दूब) घास का उपयोग कितना सुरक्षित है?

अभी तक प्राप्त जानकारी के मुताबिक, दूर्वा (दूब) घास का इस्तेमाल काफी हद तक सुरक्षित है। लेकिन, अगर आप गर्भवती महिला हैं या फिर किसी बच्चे को स्तनपान करवा रही हैं, तो हमारी यही सलाह है कि इसका सेवन या इस्तेमाल करने से बचें या फिर किसी डॉक्टर व हर्बलिस्ट की मदद लें। इसके अलावा, अगर आप किसी एलोपैथिक दवा का सेवन कर रहे हैं, तो पहले उसका सेवन करें और फिर उसके 30 मिनट बाद ही किसी हर्बल सप्लीमेंट का सेवन करें।

और पढ़ें- शिकाकाई के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Shikakai (Acacia Concinna)

साइड इफेक्टस

दूर्वा (दूब) के इस्तेमाल से किन-किन साइड इफेक्ट्स का सामना करना पड़ सकता है?

दूर्वा (दूब) का सेवन या इस्तेमाल करने से आपको इसके हर्बल टेस्ट की वजह से उल्टी की समस्या हो सकती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं, इसलिए इसका सेवन या इस्तेमाल करने से पहले किसी डॉक्टर या हर्बलिस्ट की मदद जरूर लें। अगर आप दिल की बीमारी, अस्थमा रोग जैसी किसी क्रॉनिक डिजीज का सामना कर रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से चर्चा किए बिना किसी चीज का सेवन न करें। अगर आप हाल ही में किसी सर्जरी से गुजर चुके हैं, तो इसका सेवन या इस्तेमाल न करें। इसके अलावा, ध्यान रखें कि, अगर आपको किसी जड़ी-बूटी से एलर्जी है, तो इसका सेवन बिना डॉक्टरी सलाह के न करें।

और पढ़ें- अपराजिता के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Aparajita (Butterfly Pea)

डोसेज

दूर्वा (दूब) लेने की सही खुराक क्या है?

दवा के रूप में दूब घास लेने की खुराक हर मरीज के लिए अलग-अगल हो सकती है, जो कि उसके लिंग, उम्र, स्वास्थ्य व अन्य कारकों पर निर्भर करती है। अगर आपको अपने लिए सही खुराक का पता लगाना है, तो इसके लिए किसी डॉक्टर या हर्बलिस्ट से संपर्क करें। वह आपकी मेडिकल हिस्ट्री व स्वास्थ्य का अध्ययन करके आपको सही खुराक के बारे में जानकारी देंगे। ध्यान रखें कि, किसी भी वस्तु का अत्यधिक मात्रा में इस्तेमाल या सेवन करने से आपको गंभीर नतीजों का सामना करना पड़ सकता है।

और पढ़ें- गुलमोहर के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Gulmohar (Peacock Flower)

उपलब्धता

दूर्वा (दूब) किन-किन रूपों में उपलब्ध होती है?

दूर्वा (दूब) घास आपके आसपास या मार्केट में निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध हो सकती है। जैसे-

  • कच्चे रूप में, जैसे- पत्तियां, जड़
  • एक्सट्रैक्ट
  • पाउडर, आदि

हम उम्मीद करते हैं कि, दूर्वा (दूब) घास से संबंधित आपके सभी सवालों और शंकाओं का समाधान हो गया होगा। लेकिन, यदि आपको अभी भी कोई सवाल या शंका है, तो किसी डॉक्टर या हर्बलिस्ट से संपर्क करें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। 

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

रीठा के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Reetha (Indian Soapberry)

Reetha in hindi, फायदे, रीठा का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, reetha के साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

फालसा के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Phalsa (Grewia Asiatica)

फालसा in hindi, फायदे, फालसा का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, Phalsa के साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

तोरई के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Turai (Zucchini)

तोरई in hindi, के फायदे, लाभ, तोरई का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, Turai के साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

शिकाकाई के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Shikakai (Acacia Concinna)

जानिए शिकाकाई की जानकारी in hindi, फायदे, शिकाकाई का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कितना लें, Shikakai के साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

दस्त का आयुर्वेदिक इलाज - Ayurvedic treatment for diarrhea

दस्त का आयुर्वेदिक इलाज क्या है और किन बातों का रखें ख्याल?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ जून 30, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
कचनार - Kachnar (Mountain Ebony)

कचनार के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Kachnar (Mountain Ebony)

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ जून 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
लोहबान - Loban (Gum Benzoin)

लोहबान के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Loban (Gum Benzoin)

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ जून 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अपराजिता - Aparajita (Butterfly Pea)

अपराजिता के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Aparajita (Butterfly Pea)

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ जून 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें