44 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए मुझे किन जानकारियों की आवश्यकता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट November 30, 2019 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

विकास और स्वभाव

शिशु का विकास ​कैसा होना चाहिए ?

दसवें महीने के आखिरी सप्ताह में हमारा बच्चा क्या-क्या करने में सक्षम है

  • रोने के बदले दूसरे तरीकों से अपनी इच्छाओं को बताना.
  • बॉल से खेलना.
  • अपने हाथों से कप पकड़ कर स्वतंत्रता पूर्वक पीना .
  • छोटी वस्तुओं को अपनी उंगली और अंगूठे की मदद से उठाना( सभी खतरनाक वस्तुओं को अपने बच्चे की पहुंच से दूर रखना चाहिए)
  • आराम से अकेले बिना सहारे के खड़े होना.
  • अपरिचित शब्दों को बोलना.
  • मामा दादा आदि शब्दों के अलावा कुछ और शब्द कहने की कोशिश करना.
  • छोटी-छोटी आज्ञा ओ को मानना( जैसे बच्चे के सामने यदि हाथ फैलाकर कहे मुझे दे दो तो दे देना)
  • अच्छी तरह से चलना.

 शिशु के विकास के लिए  मुझे  क्या करना चाहिए?

अब आपका बच्चा आपकी छोटे-छोटे निर्देशों को समझ लेता है ,लेकिन मैं अभी भी अगर आप 9 कहें तो उसे इग्नोर कर सकता है, बच्चा आप के निर्देशों को माने इसलिए आपको अपने शब्दों को थोड़ा और गंभीरता से कहना चाहिए जबकि आपने बच्चे से कल क्या कहा था वैसे याद नहीं रख सकता फिर भी बच्चे को उसकी सीमाओं के बारे में हमें धीरे धीरे जरूरी निर्देश देने चाहिए जैसे उसके लिए क्या सही और क्या गलत है क्या सुरक्षित है और क्या सुरक्षित नहीं है आदि.

बच्चे को सही गलत सुरक्षित और असुरक्षित चीजों की शिक्षा देने के लिए हमें खुद से अपने नियम बनाने होंगे. जैसे अगर वह किसी बिल्ली की पूछ को खींचते हैं .तो हमें पूछ से उनका हाथ हटाकर उनकी आंखों में देखते हुए कहना चाहिए नो ऐसा नहीं करो. इससे बिल्ली को दर्द होता है, और इस तरह से आप अपने बच्चे को पालतू जानवरों के साथ प्यार से पेश आने की शिक्षा भी दे सकते हैं.

यह भी पढ़ें : Kidney Function Test : किडनी फंक्शन टेस्ट क्या है?

स्वास्थ और सुरक्षा

मुझे  डॉक्टर से क्या बात करनी चाहिए?

43 में महीने में डॉक्टर बच्चे के लिए कोई रेगुलर चेकअप निर्धारित नहीं करते, इसलिए जब भी हमें ऐसा महसूस हो कि बच्चे को डॉक्टर को दिखाना चाहिए हमें तुरंत डॉक्टर से संपर्क कर लेना चाहिए।

मुझे किन बातों की जानकारी होनी चाहिए?

इस समय हमारा पूरा ध्यान अपने शिशु की सांस रोकने की आदत की तरफ होना चाहिए, इसके साथ ही आपको यहां पर अपने बच्चों के लिए कैसे जूते चुनने चाहिए और उनके बालों की देखभाल कैसे करनी चाहिए इसके बारे में सुझाव मिलेंगे

सांस को रोकना:

अगर आपका बच्चा बेहोश होने तक अपनी सांस को रोक लेता है तो चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है और ना ही इसके लिए किसी प्रकार का उपचार है, अगर मुनासिब हो तो बच्चों के गुस्से और क्रोध को और उन कारणों को कम करने की कोशिश करें जिनके कारण वह इस प्रकार की हरकत करते हैं जैसे

  • पूरी तरह से बच्चे को आराम देने की कोशिश करें क्योंकि जो बच्चे ज्यादा थके हुए होते हैं वह इस प्रकार की प्रक्रिया ज्यादा करते हैं.
  • अपनी लड़ाई उसे बच्चे को बचाया क्योंकि आप की लड़ाइयां बच्चे को फ्रस्ट्रेशन में डाल देती हैं जिसके कारण वह यह प्रक्रिया कर सकता है.
  • बच्चे को इस स्थिति से बचाने के लिए संगीत खिलौने और दूसरी चीजों की सहायता ली जा सकती है किंतु खाने की सहायता ना ले क्योंकि यह बच्चे में एक दूसरी बुरी आदत को डालने क्या कारण हो सकता है
  • बच्चे और दूसरे लोगों की तनाव को कम करने की कोशिश करें.
  • अगर आपके बच्चे को यह समझ में आ जाता है कि सांस को रोकने से वे जो चाहते हैं आप उन्हें वह दे देते हैं तो वह इस आदत को जब भी कुछ चाहिए उस समय बार-बार दोहराएंगे और बहुत ही मैनिपुलेटिंग बन जाएंगे इसलिए इसकी बहुत ज्यादा चिंता ना करें
  • कुछ रिसर्च के द्वारा पता चला है कि अगर बच्चे को आईरन सप्लीमेंट दिया जाए तो वह इस प्रकार की आदत को धीरे-धीरे छोड़ देता है इसलिए अपने डॉक्टर से मिले और उनका परामर्श नहीं की क्या आपके बच्चे के लिए यह ठीक रहेगा।

अगर आपके बच्चे की सांस रोकने की है आदत बहुत ज्यादा हो गई है और 1 मिनट से ज्यादा रहती है और 1 मिनट तक में बिना रोए अपनी सास को रोक लेते हैं तो यह दर्द और फ्रस्ट्रेशन से संबंधित नहीं है और हमें इसके लिए चिंता करनी चाहिए और तुरंत अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए।

 बच्चों के जूते:

एक आरामदायक जूतों का जोड़ा एवल बच्चों को आराम से चलने में मदद नहीं करता बल्कि बच्चे की पैर की सुरक्षा भी करता है इसलिए नीचे दिए हुए गुणों वाले जूते बच्चों के लिए खरीदें

  • फ्लैक्सिबल सोल्स
  • लो कट
  • फ्लैट बिना हील के
  • आरामदायक
  • पैर की नाप के अनुसार
  • स्टैंडर्ड आकार के अनुसार

बालों की देखभाल:

बालों की देखभाल आपके बच्चे को साफ सुथरा रखती है और सिर की त्वचा में होने वाली बीमारियों से भी दूर रखती है आप नीचे दिए गए टिप्स से बिना किसी ज्यादा कठिनाई के बढ़िया रिजल्ट पा सकते हैं:-

  • बच्चों को शैंपू करने से पहले उनके बालों को सुलझा ले.
  • शैंपू और कंडीशनर के कॉमिनेशन का इस्तेमाल करें.
  • बड़े दांत वाले कंधे का इस्तेमाल करें जिसके दांत प्लास्टिक के बने हो और अंत में प्लास्टिक के टिप्स हो.
  • बालों को नीचे से सुलझाएं और बालों की जड़ों पर अपना हाथ रखें ताकि बच्चों को दर्द कम हो.
  • बच्चों के बालों पर ड्रायर का इस्तेमाल ना करें.
  • बच्चों के बालों को जोर से ना पकडे ना ही उसकी पोनीटेल बताएं इसकी वजह से बाल पतले हो सकते हैं या फिर बच्चे में गंजापन आ सकता है.
  • बच्चे को सुलाने से पहले उसके सर में लगे हुए हेयर बैंड और हेयर बैंड्स और हेयर क्लिप्स आदि निकाल दें.
  • बच्चों के सलून में बच्चों के बालों को ट्रेन कराएं।
  • बच्चों की हेयर केयर से पहले ध्यान रखें कि बच्चा भूखा ना हो थका हुआ ना हो उसका मूड खराब ना हो.
  • बच्चों को शीशे के सामने बैठा है ताकि वह देखे कि उसके बालों के साथ क्या किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें : Clonidine : क्लोनिडीन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

महत्वपूर्ण बातें

मुझे किन बातों पर ध्यान देना चाहिए?

दसवें महीने के आखिरी सप्ताह में हमें इन बातों की चिंता करनी चाहिए

 गुस्सा:

अब शिशु अपने आसपास के वातावरण की तरफ अपना टेंपरामेंट और रिएक्शन दिखाना सीख गए हैं,

जैसे सोना खाने का तरीका लोगों से मिलना अपनी सहमति जताना आदि और वह अपनी पसंद के अनुसार अपना टेंपरामेंट दिखाते हैं कुछ बच्चे सीधे-साधे होते हैं लेकिन कुछ बहुत ही संवेदनशील होते हैं और नई प्रकार की परिस्थितियों मैं वह अपने आप संतुलन नहीं बना पाते और अपना टेंपरामेंट दिखाते हैं, विशेषज्ञों का मानना है कि टेंपरामेंट जन्म के साथ ही होता है यह बाहरी चीजों से नहीं आता.

अगर आप अपने बच्चे की टेंपरामेंट की एक पिक्चर बनाएंगे जैसे कि वह जब 3 महीने का या 4 महीने का था तब वह किस प्रकार का टेंपरामेंट दिखाता था या अब 10 महीने में उसके व्यक्तित्व में क्या बदलाव आया है तो हम आसानी से समझ जाएंगे कि किस प्रकार की परिस्थितियों में वह किस प्रकार का टेंपरामेंट दिखाता है।

अगर ऐसी कोई भी चीज है जिसके कारण आप अपने बच्चे के टेंपरामेंट से परेशान है जैसे उनका शर्माना आदि तो यह जरूरी है कि आप अपने बच्चे की सहायता करें ना कि उस पर शर्मिला गुस्सैल आदि का लेबल लगा दे और ना ही उनकी किसी बात की बुराई करें आपको अपने बच्चे को उत्साहित करना चाहिए और उसे बताना चाहिए कि क्या करने से वह ज्यादा अच्छा और स्वस्थ बन सकता है, यहां पर आपको यह ध्यान देना चाहिए कि आप अपने बच्चे की प्राकृतिक टेंडेंसीज को बदल नहीं सकते लेकिन आप उनको उनका व्यवहार बदलने में उनकी मदद कर सकते हैं जो उनको उनके टेंपरामेंट को कंट्रोल करने में मदद करेगा।

Hello health group कोई डॉक्टरी सलाह मैदान या उपचार नहीं करता।

और पढ़ें:-

Meningitis : मेनिंजाइटिस क्या है?जाने इसके कारण लक्षण और उपाय

LFT: जानें क्या है लिवर फंक्शन टेस्ट?

22 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए मुझे किन जानकारियों की आवश्यकता है ?

अपने 10 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए आपको किन जानकारियों की आवश्यकता है?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

संबंधित लेख:

    Recommended for you

    baby week 33, 33 हफ्ते के शिशु की देखभाल

    33 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए मुझे किन जानकारियों की आवश्यकता है?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Bhardwaj
    के द्वारा लिखा गया Sushmita Rajpurohit
    प्रकाशित हुआ July 9, 2019 . 5 मिनट में पढ़ें