चिंता और तनाव को करना है दूर तो कुछ अच्छा खाएं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जनवरी 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

अगर आपको पता चले कि आपकी जिंदगी का आधे से ज्यादा हिस्सा चिंता और तनाव में बीत रहा है तो आप और चिंतित हो जाएंगे। चिंता (Anxiety) और तनाव (Stress) सबको हो जाती है। लेकिन, कुछ लोग उससे उबर भी जाते हैं, पर कुछ लोग बहुत खुद को चिंता और तनाव से उभार नहीं पाते हैं। ऐसे में कई बार चिंतित लोगों की सेहत बिगड़ने लगती है। ऐसा इसलिए भी है कि कुछ लोग चिंता में खाना कम कर देते हैं। वहीं, कुछ लोग इसके विपरीत हैं। एंजायटी और स्ट्रेस में खूब खाते हैं, लेकिन क्या आप अच्छा खाते हैं? 

यह भी पढ़ें : क्या गुस्से में आकर कुछ गलत करना एंगर एंजायटी है?

चिंता और तनाव क्या है?

हैलो स्वास्थ्य ने वाराणसी (उत्तर प्रदेश) के सर सुंदरलाल हॉस्पिटल के मनोचिकित्सक डॉ. जयसिंह यादव से बात की। डॉ. जयसिंह ने बताया कि चिंता और तनाव किसी भी घटना के कारण होने वाला मानसिक बदलाव है। ऐसे में मानसिक स्वास्थ्य शारीरिक स्वास्थ्य को हानि पहुंचाने लगता है। ऐसे में व्यक्ति को अपने खानपान पर ध्यान देना चाहिए। कुछ चीजें ऐसी होती हैं, जिन्हें खाने पर चिंता और तनाव कम होते हैं। इसलिए चिंता और तनाव की स्थिति में ऐसे फूड्स का सेवन करना सही है।”

चिंता और तनाव में क्या खाएं?

ज्यादातर लोग चिंता और तनाव में चाय या कॉफी का सहारा लेते हैं। लेकिन, उन्हें नहीं पता होता है कि वो गलती कर रहे हैं। चाय या कॉफी में मौजूद कैफिन शरीर में एड्रेनैलिन लेवल को बढ़ाता है। इसके अलावा ज्यादा भारी भोजन खाने से आप सुस्ती महसूस करते हैं। जो कि आपकी सेहत को प्रभावित करता है। इसलिए अपने चिंता और तनाव में कुछ अच्छा खाएं। 

यह भी पढ़ें : चिंताग्रस्त होने के लक्षण क्या हैं और जानिये उसके उपाय

मेडिटेरनियन डायट से दूर होगा एंजायटी और स्ट्रेस

मेडिटेरनियन डायट में ऐसी कई सारी चीजें शामिल होती हैं जो आपके मानसिक स्थिति को बदल सकती हैं। इस डायट में चावल, आलू, छिलके जैसे स्टार्च से भरपूर होता है। साथ ही इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड, मछलियां, नट्स और बीज भी शामिल होते हैं। इन सभी में अनसैचुरेटेड फैट होते हैं, जो आपके दिमाग के साथ-साथ दिल के लिए भी अच्छा होता है। यूएसए के ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ मेडिसीन के रिसर्च के अनुसार ओमेगा-3 चिंता और तनाव को कम करता है। इसके साथ ही मेडिटेरनियन डायट मूड को बदलने में भी मददगार साबित होता है। 

यह भी पढ़ें : चिंता और निराशा दूर करने का अचूक तरीका है गार्डनिंग

चिंता और तनाव में शुगर का सहारा न लें

कई बार देखा गया है कि चिंता और तनाव में लोग मीठा ज्यादा खाने लगते हैं। लेकिन, ऐसा करना ठीक नहीं है। ज्यादा शुगर के सेवन से पैनिक अटैक महसूस हो सकता है। इसलिए शुगर को न कहें। शुगर लेने की जगह पर आप प्रोटीन युक्त भोजन लें। इसके साथ ही कार्बोहाइड्रेट को भी ज्यादा तवज्जो दें। कोशिश करें कि नाश्ते के समय चीनी से बनी कोई भी ड्रिंक न पीएं। इससे आपके ब्लड में शुगर लेवल की मात्रा ज्यादा हो जाएगी। 

कैफिन की संतुलित मात्रा ही लें

चिंता और तनाव में लोग चाय या कॉफी पीने की मात्रा ज्यादा कर देते हैं। इसलिए उनके शरीर में कैफिन की मात्रा ज्यादा हो जाती है। जो उन्हें सुस्त कर देता है। हालांकि कॉफी या चाय की एक निश्चित मात्रा आपकी एनर्जी को बूस्ट कर सकता है। कुछ समय के लिए आपको चिंता और तनाव से मुक्त कर सकता है। लेकिन इसकी ज्यादा मात्रा आपके सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। कैफिन एडनोसिन हॉर्मोन के उत्पादन को कम कर देता है, जिससे आपको नींद नहीं आ पाती है। नींद नहीं आने से आप और ज्यादा परेशान हो जाते हैं। इसलिए चिंता में कैफिन नहीं बल्कि पानी पीएं। पानी पीने से आपका दिमाग तरोताजा महसूस करेगा और ये धीरे-धीरे चिंता को कम करेगा। आप चाहें तो पानी में स्ट्रॉबेरी, तरबूज या किवि जैसे फल काट कर डाल लें। ये आपके सेहत के लिए बहुत अच्छी ड्रिंक है।

यह भी पढ़ें : चिंता VS डिप्रेशन : इन तरीकों से इसके बीच के अंतर को समझें

एंटीऑक्सीडेंट फूड्स हैं बेहतर विकल्प

एंटीऑक्सीडेंट फूड खाने से चिंता और तनाव कम होता है। बेरी, अखरोट, फल और बीन्स एंटीऑक्सीडेंट का काम करते हैं। इसलिए चिंता और तनाव के दौरान अपने डायट में इन फलों को जरूर शामिल करें। एंटीऑक्सीडेंट मानसिक रूप से चिंता और तनाव को कम करने में मददगार होता है।

चिंता सताए तो प्रोबायोटिक्स खाएं

पेट में मौजूद बैक्टीरिया डिप्रेशन और चिंता बढ़ाने के लिए जिम्मेदार होते हैं। पेट के बैक्टीरिया केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (Central Nervous System) तक चिंता का सिग्नल भेजते है। लेकिन, जब प्रोबायोटिक्स जैसे बैक्टीरिया पेट में जाते हैं तो वे ऐसे मैसेज को नर्वस सिस्टम तक नहीं पहुंचने देते हैं। इसलिए आप दही खाएं। दही में सबसे ज्यादा प्रोबायोटिक्स पाए जाते हैं। जो पेट के बोक्टीरिया द्वारा आपको टेंशन देने से बचाता है। इसके अलावा आप खमीर से बनी चीजें भी खा सकते हैं। जैसे – ब्रेड, इडली, जलेबी आदि।

विटामिन-बी कहेगा बी पॉजिटीव

विटामिन-बी का सेवन करने से आपकी चिंता कम होगी। विटामिन-बी आपके नर्वस सिस्टम के न्यूरोट्रांसमिटर्स को संश्लेषित करता है। विटामिन-बी6 की कमी से चिड़चिड़ापन, अनिद्रा और डिप्रेशन होता है। वहीं, विटामिन-बी5 हाई ब्लड प्रेशर के कारण चिंता और तनाव के लिए जिम्मेदार होता है। विटामिन-बी की कमी को पूरा करने के लिए आप साइट्रस फल, संपूर्ण अनाज और सब्जियों का सेवन करें। इससे आप अपने चिंता और तनाव पर जीत हासिल कर सकेंगे।

डार्क चॉकलेट

चिंता और तनाव की स्थिति में डार्क चॉकलेट आपकी मदद कर सकती है। डार्क चॉकलेट में फिनाइलेथाइलामाइन पाया जाता है, जो तनाव की स्थिति में दिमाग को शांत रखने में मदद करता है। इसके अलावा डार्क चॉकलेट आपकी स्किन और बालों के लिए अच्छा साबित होता है। डार्क चाॉकलेट स्किन का नमी बनाए रखने में मदद करती है। साथ ही चॉकलेच का सेवन करते समय इस बात का भी ख्याल रखें कि इसे एक निर्धारित मात्रा में ही खाना चाहिए क्योंकि 20 ग्राम चॉकलेट में लगभग 150 कैलोरीज हो सकती है।

कुल मिला कर कहा जा सकता है कि चिंता और तनाव में अगर आपके खाने की आदत है तो कुछ अच्छा खाएं। अगर खाने की आदत नहीं है तो भी अच्छा खाने का प्रयास करें। क्योंकि खाने से भी आपके जीवन से चिंता और तनाव खत्म हो सकता है।

और पढ़ें:

तनाव से लेकर कैंसर तक में होते हैं चीकू के फायदे

4-7-8 ब्रीदिंग तकनीक, तनाव और चिंता दूर करेंगी ये एक्सरसाइज

स्किन केयर की चिंता इन्हें भी होती है, पढ़ें पुरुष त्वचा की देखभाल से जुड़े फैक्ट्स

सैनिकों के तनाव पर भी करें सर्जिकल स्ट्राइक!

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Anxiety : चिंता क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    चिंता हमारे शरीर द्वारा दी जाने वाली एक प्रतिक्रिया है, जो कि काफी आम और सामान्य है। कई मायनों में यह अच्छी भी है, पर ज्यादा होना बीमारी का कारण बन जाता है।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Prothiaden: प्रोथीआडेन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    जानिए प्रोथीआडेन (Prothiaden)की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितनी खुराक लें, प्रोथीआडेन डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 9, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    वॉकिंग मेडिटेशन से स्ट्रेस को कैसे कर सकते मैनेज

    वॉकिंग मेडिटेशन से स्ट्रेस को कैसे मैनेज कर सकते हैं? चलना ध्यान करने के पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? Walking Meditation in Hindi.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Mousumi Dutta
    हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन जून 1, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    क्या आप भी कर रहे हैं फूड बोर्न डिजीज और फूड प्वाइजनिंग को एक समझने की गलती, समझें दोनों में अंतर

    अधिकतर लोग फूड बोर्न डिजीज और फूड प्वाइजनिंग को एक ही समझ हैं। लेकिन, यह जानकारी बिल्कुल गलत है। आइए, जानते हैं कि आखिर दोनों में क्या अंतर है।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal

    Recommended for you

    शून्य मुद्रा को करने का तरीका

    सुनने की क्षमता को बढ़ाने में सहायक शुन्य मुद्रा को कैसे करें, क्या हैं इसके लाभ

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Anu Sharma
    प्रकाशित हुआ जुलाई 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    रेक्सिप्रा टैबलेट

    Rexipra Tablet : रेक्सिप्रा टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    प्रकाशित हुआ जुलाई 17, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
    स्वस्थ रहने के नियम

    विशेष स्थिति के लिए आहार भी हो विशेष, ऐसा कहना हैं एक्सपर्ट का

    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    प्रकाशित हुआ जुलाई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    अस्टिमिन फोर्ट

    Astymin Forte: अस्टिमिन फोर्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish Singh
    प्रकाशित हुआ जून 24, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें