बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य की प्लानिंग कर रहे हैं जो इन जगहों का बनाए प्लान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 13, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

बच्चे से लेकर बड़े सभी छुटि्टयां चाहते हैं। बड़े जहां वर्कलोड की थकान को मिटाने के लिए वैकेशन प्लान करते हैं तो वहीं बच्चे भी स्कूली बोरियत की थकान मिटाने को लेकर नए डेस्टिनेशन पर जाने की इच्छा रखते हैं। हो भी क्यों न छुटि्टयों पर किए वैकेशन प्लान की यादें जीवन भर याद रहती है। इसलिए पैरेंट्स भी अपने व बच्चों के दिलों की जरूरत को समझते हुए छुटि्टयों पर वैकेशन ट्रिप प्लान करते हैं। सालभर की थकान मिटाने के लिए बच्चों के संग एक ट्रिप जरूरी होती है। तो आइए इस आर्टिकल में हम बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य को लेकर ऐसे टूरिस्ट हैंगआउट प्लेस के बारे में बता रहे हैं जहां बड़ों को सुकून व बच्चे जी भरकर मस्ती कर सकेंगे। जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य के लिए इन बातों का रखें ध्यान 

जब भी आप बच्चों के साथ बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य की प्लानिंग करें तो कुछ खास बातों का ध्यान रखना चाहिए, जैसे वैसी जगह प्लानिंग करनी चाहिए जहां बच्चे खेल पाएं। वहीं जमकर मस्ती कर सकें। इसके अलावा ऐसी जगहों पर जाने से बचना चाहिए जहां सुकून तो हो लेकिन बच्चों के लिए खास एडवेंचरस न हो। यही वजह है कि वैकेशन प्लान करते वक्त बच्चों के लिए मस्ती, फ्रेशनेस, इजी, रिलेक्सेशन आदि तमाम बातों को ध्यान देते हुए ट्रिप प्लान करना चाहिए। बच्चों के लिए ट्रिप प्लान करना जहां यूनिक होता है वहीं यह काफी चैलेंजिंग भी है। लेकिन भारत में ऐसी कई जगह हैं जहां आपके साथ-साथ आपके बच्चे भी ट्रिप इंज्वाय कर सकते हैं। क्योंकि भारत में सी बीच से लेकर बर्फीले पहाड़, कहीं रेत के टीले तो कई पर सुकून देने वाली हरियाली है। इसके अलावा कई ऐसे भी जगह हैं जहां बच्चे एडवेंचर को इंज्वाय कर सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

महाबलेश्वर का कर सकते हैं रुख

बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य के लिए पैरेंट्स चाहें तो महाबलेश्वर का रूख कर सकते हैं। महाबलेश्वर के मैप्रो गार्डेन में जहां बच्चों के खेलने की पर्याप्त जगह है वहीं वो अपने पैरों के नीचे नर्म घास को महसूस कर तरोताजा महसूस कर सकते हैं। यहां घुड़सवारी का आनंद उठाने के साथ बच्चे बोटिंग का आनंद उठा सकते हैं। ऐसा कर वो खूब इंज्वाय कर पाएंगे वहीं बड़ी यहां की हसीन वादियों में दिन गुजार खुद को रिफ्रेश महसूस कर सकते हैं।

गोवा है ऑलटाइम फेवरेट डेस्टिनेशन में से एक

ज्यादातर भारतीय सैलानी गोवा आना पसंद करते हैं, यहां बच्चों के साथ आया जाए तो खूब इंज्वाय कर सकते हैं। यहां का वाइब्रेंट कल्चर आपको बार बार अपनी ओर खींचने पर मजबूर करता है। वहीं यहां के साथ यहां के सी बीच लोगों को लुभाते हैं। बच्चों के लिए यहां एडवेंचर स्पोर्ट्स के लिए काफी कुछ है, बच्चे स्कूबा डाइविंग के साथ बोटिंग, वाटर स्पोर्ट्स, पैरा ग्लाइडिंग की एक्टिविटी को इंज्वाय कर सकते हैं। यहां की शाम सबसे अच्छी शाम में से एक है। यहां बच्चों के इंज्वाय करने के लिए काफी कुछ है।

जीवन में फिटनेस भी काफी जरूरी है, इसलिए वीडियो देख योगा एक्सपर्ट की राय जानकर जीवन में करें योग की शुरुआत

अंडमान और निकोबार आइलैंड, यहां एडवेंचर और नेचर का उठाएं लुत्फ

बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य के लिए आप इस जगह का चयन भी कर सकते हैं। यहां नेचर, सीनियरी के साथ एडवेंचर के लिए काफी कुछ है। बंगाल की खाड़ी में करीब 300 आईलैंड हैं, जहां आप व आपके बच्चे इंज्वाय कर सकते हैं। वहीं बच्चे आदिम जनजाति के आदिवासियों को देख उनके बारे में नई जानकारी भी हासिल कर सकते हैं। बच्चे यहां पर अंग्रेजों के समय में बनाई जेल का भ्रमण भी कर सकेंगे व इतिहास से जुड़ी जानकारी हासिल कर पाएंगे। यहां मस्ती करने के लिए काफी कुछ है, जैसे स्कूबा डाइविंग के साथ सी वाकिंग, स्कूबा डाइविंग के साथ वाटर स्पोर्ट्स एडवेंचर का लुत्फ उठा सकेंगे।

ऐतिहासिक धरोहर को जानना हो तो जैसलमेर की करें सैर

बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य की सोच रहे हो तो गोल्डन सिटी ऑफ राजस्थान का रूख कर सकते हैं। यहां रेत के टिले और रेगिस्तानी त्योहार आपको अपनी ओर अट्रैक्ट कर सकते हैं। कला और संस्कृति को पसंद करने वाले लोगों को यहां की कलात्मक और ऐतिहासिक इमारतों में की गई नक्काशी आंखों को खूब भाती है। वहीं यहां के पारंपरिक खानपान का भी आप लुत्फ उठा सकते हैं। बच्चों के लिए यह जगह इसलिए खास है क्योंकि यहां वो आपके साथ यहां पर ऊंटों की सवारी कर सकते हैं, डेजर्ट कैंप करने के साथ रेत पर राइडिंग को इंज्वाय कर सकते हैं।

नीलगिरी की वादियों में बसा उटी

नीलगिरी की वादियों में बसा उटी सबसे अच्छा हैंगाउट प्लेस हो सकता है। यहां की प्राकृतिक छटा आपको यहां बार-बार आने को मजबूर करेगी। बच्चों को यह जगह इसलिए भी पसंद आएगा क्योंकि यहां होम मेड स्वादिष्ट चाकलेट मिलते हैं। इस कारण बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य हो सकता है। यहां हनी बी म्यूजियम के साथ बॉटनिकल गार्डन, टॉय ट्रेन, बोट राइड का लुत्फ उठा बच्चे छुटि्टयों को यादगार बना सकते हैं। वहीं नीलगिरी की वादियों में पहाड़ों और झरनों के बीच से होते हुए ट्रेन की सवारी भी लोगों के साथ बच्चों को लुभाती है। वहीं उटी लेक, स्टोन हाउस, गवर्मेंट रोज गार्डेन और चॉकलेट फैक्ट्री दार्शनिक जगहों में से एक हैं।

थकान मिटानी हो तो मुन्नर की कर आए सैर

कहा जाता है कि यदि आपको थकान मिटानी हो और ताजी हवा में कुछ दिन बिताने हो तो मुन्नर की सैर कर के आना चाहिए। केरल में पहाड़ों से घिरे इस खूबसूरत वादियों में टी गार्डेन काफी खूबसूरत छटा बिखेरता है। वहीं यहां का मौसम साल भर एक समान ही रहता है, ध्यान देने वाली बात यह है कि बरसात के दिनों में यहां बच्चों के साथ जाने से बचना चाहिए। आप चाहें तो राजामलाई नेशनल पार्क का रूख कर सकते हैं, यहां थार की सवारी कर प्रकृति का आनंद उठा सकते हैं। यह ट्रिप के सबसे खास लम्हों में से एक होगा। यहां काफी संख्या में ऐसी जगहें हैं जहां पर आप जाकर दिनभर इंज्वाय कर सकते हैं।

नई डेस्टिनेशन के लिए मजौली है बेस्ट ऑप्शन

कुछ लोगों के लिए यह नाम नया लग सकता है, या फिर यूं कहे कुछ लोगों ने यह नाम शायद पहली बार सुना हो। असम में ब्रह्मापुत्र नदी के पास यह खुबसूरत जगह स्थित है। बहुत ही कम लोगों को यह पता होगा कि मजौली दुनिया की सबसे लंबी रिवर आइलैंड है। यही वजह है कि इसे बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य स्थान में शामिल किया जा सकता है। यह जगह प्रवासी पक्षियों का गढ़ होने के साथ जो लोग प्रकृति से प्रेम करते हैं उनके लिए काफी अच्छी जगह मानी जाती  है। मजौली में दो पर्व बड़े धूम धाम से मनाए जाते हैं। इनमें रास महोत्सव और मजौली महोत्सव में काफी संख्या में पर्यटक जुटते हैं। यहां बैंबो कॉटेज, सर्किट हाउस, औनैती सत्रा म्यूजियम और इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय घूमने की जगह है, जिसे बच्चे खूब पसंद करेंगे।

बेस्ट टूरिस्ट डेस्टिनेशन है कसौली

बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य के बारे में सोच रहे हैं तो कसौली कई मायनों में बेस्ट ऑप्शन है। हिमाचल प्रदेश की पहाड़ी वादियां लोगों को लुभाती है। अंग्रेजों की हुकूमत के समय यहां उनका केंटोनमेंट था। वहीं उन्होंने अपने लिए यहां पर कई क्लब के साथ ऐसी बिल्डिगें बनाई जिसमें आज भी आर्किटेक्ट का बेजोड़ नमूना देखने को मिलता है। वैसे तो इस जगह में कुछ खास इंज्वाय करने के लिए नहीं है लेकिन आप यहां प्रकृति का आनंद लेने के साथ खूब इंज्वाय कर सकते हैं।

और पढ़ें : बच्चों के लिए अंडरवियर नियम, ताकि बाल यौन शोषण से रहें सावधान

भारत की धरोहर व इतिहास की जानकारी देने के लिए घूमें हंपी

बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य में इस स्थान को शामिल किया जा सकता है। बच्चों को यह जगह घुमाना इसलिए भी जरूरी है क्योंकि उन्हें भारत की धरोहर को दिखा ऐतिहासिक संस्कृ़ति के बारे में बताया जा सकता है। यह सिटी विश्व की धरोहर में से एक है। यहां पर वो सनसेट प्वाइंट को इंज्वाय करने के साथ मोनोलिथिक बुल, मथंगा हिल और पंपा सरोवर की खूबसूरती निहार सकते हैं।

उदयपुर के लेक और मौसम के क्या कहने

बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य के लिए आप चाहें तो उदयपुर का रुख कर सकते हैं। यहां का लेक और वेदर आपको काफी सुकून प्रदान करता है। वहीं गर्मी के दिनों में भी यह सिटी आपको ठंडक का एहसास दिलाती है। यहां घूमने के लिए किलों के साथ म्यूजियम है, जहां जाकर आप भारत के इतिहास से जुड़ी कई जानकारी हासिल कर सकते हैं। वहीं जग मंदिर जाएं तो बोटिंग का आनंद जरूर उठाएं, इसके अलावा पिछोला लेक का रुख भी कर सकते हैं। यदि खानपान के शौकीन हैं तो आप ताज लेक पैलेस जा सकते हैं। बच्चों के संग दिसंबर की छुट्टियां बिताने क लिए यह बेस्ट जगहों में से एक है।

और पढ़ें : बच्चे के मुंह में छाले से न हों परेशान, इसे दूर करने के हैं 11 घरेलू उपाय

एशिया की सातवीं बेस्ट स्काई डेस्टीनेशन गुलमर्ग

बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य में गुलमर्ग को शामिल कर सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह एशिया की सातवीं बेस्ट स्काई डेस्टिनेशन में से एक है। इसे हार्टलैंड ऑफ विंटर स्पोर्ट्स इन इंडिया के नाम से भी जाना जाता है। इस जगह की खूबसूरती को यहां के जंगली फूल और बढ़ाते हैं। यहां पर गोंडोला के साथ हाईलेंड पार्क होटल स्नोमैन कंपीटिशन, नागिन वैली, स्ट्रॉबेरी वेली और गुलमर्ग बायोस्फेयर रिजर्व जैसी जगह को बच्चे खूब पसंद करेंगे।

धर्म व सभ्यता की सीख देने के लिए जाएं अमृतसर

स्वर्णमंदिर के नाम से प्रख्यात यह मंदिर पंजाब के अमृतसर में स्थित है। वहीं भारत पाक बॉर्डर पर स्थित है। यहां पर जलियांवाला बाग घूम अंग्रेजी हुकूमत के इतिहास को जानने के साथ वाघा बॉर्डर पर जाकर बच्चों में देशभक्ति की भावना जगेगी। इसके अलावा महाराजा रंजीत सिंह म्यूजिम भी बेस्ट टूरिस्ट डेस्टिनेशन में से एक है। बच्चों में धर्म और सभ्यता की सीख देने के लिए अमृतसर जरूर आना चाहिए, ताकि वो इससे रूबरू हो सकें।

और पढ़ें : बच्चे का टूथब्रश खरीदते समय किन जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए?

पांडिचेरी, तमिलनाडु है कईयों का फेवरेट डेस्टिनेशन

पांडिचेरी अपनी ऐतिहासिक धरोहर के साथ सुंदर सी बीच के कारण फैमिली और बच्चों के साथ छुट्टियां बिताने का परफेक्ट प्लेस है। बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य स्थानों में आप इसे शामिल कर सकते हैं। वहीं यहां आएं तो आप खूब इंज्वाय भी करेंगे। यहां का सी बीच इस सिटी की धड़कन माना जाता है, जहां आप परिवार के साथ शाम गुजारें तो काफी अच्छा महसूस करेंगे। वीकेंड के दिनों में यह जगह थोड़ी व्यस्त जरूर रह सकती है, ऐसे में आप सप्ताह के दिनों में आएं तो परिवार संग खूब मस्ती कर सकेंगे।

सात किलोमीटर दूर चुनंबर और पैराडाइज बीच काफी खूबसूरत है। यहां की खूबसूरती देखते ही बनती है। यहां का पानी भी अच्छा है, इसलिए लोग इस बीच पर स्वीमिंग करते हुए भी देखने को मिलते हैं। यदि आप बच्चों के साथ क्वालिटी टाइम बिताने की सोच रहे हैं तो यह बेस्ट डेस्टिनेशन में से एक हो सकती है।

मुंबई के वाटर किंगडम की करें सैर

बच्चों के लिए ही यदि आप ट्रिप प्लान कर रहे हैं तो आप मुंबई के वाटर किंगडम का भी रूख कर सकते हैं। क्योंकि यहां बच्चों के मस्ती करने के लिए दिनभर का समय भी कम पड़ेगा। यह वाटर किंगडम एशिया के सबसे बड़े वाटर किंगडम में से एक है। यहां घूमने के लिए काफी कुछ है, यहां के बड़े-बड़े झूले बच्चों को काफी रिझाते हैं।

और पढ़ें : क्या बच्चे क्या बूढ़े, सबके लिए जीवनरक्षक है यह, जानें घर पर कैसे बनाएं ओआरएस का घोल

जगह वही चुनें जिसे आपका बच्चा भी पसंद करें

बच्चों के लिए ट्रिप प्लान करना कोई आसान बात नहीं है। बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य स्थान को प्लान करने के दौरान आपको इस बात पर ध्यान देना होता है कि ऐसी जगहों पर जाया जाए जहां बच्चे खूब इंज्वाय कर सकें। वहीं आपको अपने बच्चे के इंट्रेस्ट लेवल को भी समझना होगा। यदि वो प्रकृति प्रेमी हैं तो उन्हें वैसी जगहों पर जाना सही होता है जहां प्रकृति को देख वो इंज्वाय कर सकें।  या फिर उन्हें यदि इतिहास से लगाव है तो उस हिसाब से ट्रिप प्लान करना चाहिए जहां पर ऐतिहासिक धरोहर हो, जहां जाकर वो नई जानकारी हासिल कर सकें। इतना ही नहीं यदि आपका बच्चा एडवेंचरस है तो उसे वैसी जगहों पर ले जाएं जहां हैंगआउट करने के साथ मस्ती करने के लिए लिए काफी कुछ हो, खासतौर पर गेमिंग जोन। ताकि आपका बच्चा बोर होने की बजाय खूब इंजाय कर सके।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट का कैसे करे चुनाव

टूथपेस्ट क्या होता है, बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट कौन सा होता है और बच्चों को किस उम्र में ब्रश करना शुरू कर देना चाहिए। Baccho ke liye sahi toothpaste.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग अप्रैल 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

अगर आप सोच रहीं हैं शिशु का पहला आहार कुछ मीठा हो जाए…तो जरा ठहरिये

जानिए शिशु का पहला आहार शुरू कर रहें हैं, तो क्यों पानी, नमक, चीनी और घी देने से पहले किन बातों को जानें? कब शिशु का पहला आहार शुरू करना चाहिए, शिशु को चीनी का सेवन नहीं करवाना चाहिए? डेलीवरी के तुरंत बाद शिशु को दिए जाने वाला पहला आहार का नाम ?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
बच्चों का पोषण, पेरेंटिंग अप्रैल 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

बच्चों में पिनवॉर्म की समस्या और इसके घरेलू उपाय

जानिए बच्चों में पिनवॉर्म in Hindi, बच्चों में पिनवॉर्म क्या है, बच्चों के पेट में कीड़े के कारण, बच्चों के पेट में कीड़े के लक्षण, bachcho me Pinworm के घरेलू उपाय।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग अप्रैल 13, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

रटी-रटाई बातें भूल जाता है बच्चा? ऐसे सुधारें बच्चों में भूलने की बीमारी वाली आदत

जानिए बच्चों में भूलने की बीमारी in Hindi, बच्चों में भूलने की बीमारी कैसे ठीक करें, बच्चे की याददाश्त कैसे बढ़ाएं, baccho me bhulne ki bimari,

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग अप्रैल 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

मानसिक मंदता

क्या मानसिक मंदता आनुवंशिक होती है? जानें इस बारे में सबकुछ

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अगस्त 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
बच्चों के नैतिक मूल्यों के विकास

बच्चों के नैतिक मूल्यों के विकास के लिए बचपन से ही दें अच्छी सीख

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जुलाई 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
बच्चों को जानवरों के लिए दयालु कैसे बनाएं/teach children kind to animals

अपने बच्चों को जानवरों के लिए दयालु कैसे बनाएं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ जुलाई 21, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
बॉडी शेमिंग -body shaming

बच्चों को बॉडी शेमिंग से कैसे बचाएं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया sudhir Ginnore
प्रकाशित हुआ मई 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें