आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Endometriosis: एंडोमेट्रियोसिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जानें सामान्य बातें|जानें इसके लक्षण|जानें इसके कारण|किन कारणों से एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) का खतरा बढ़ जाता है?|निदान और उपचार को समझें|एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) से निपटने के लिए जीवनशैली में क्या बदलाव और घरेलू उपचार जरूरी हैं?
Endometriosis: एंडोमेट्रियोसिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जानें सामान्य बातें

एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) क्या है?

एंडोमेट्रियोसिस गर्भाशय में होने वाली समस्‍या है, जिसमें एंडोमेट्रियम टिश्यू गर्भाशय के बाहर बढ़ने लगता है। हालांकि, बढ़े हुए टिश्यू अभी भी आपके सामान्य गर्भाशय के टिश्यू की तरह ही काम करते हैं, मतलब जो पीरियड्स के दौरान ही टूटते हैं। गर्भाशय से बाहर निकले हुए टिश्यू शरीर से बाहर नहीं निकल पाते हैं। नतीजन, इंटरनल ब्लीडिंग (internal bleeding) और सूजन के साथ कई और अन्य लक्षण भी जन्म ले लेते हैं।

वास्‍तव में, एंडोमेट्रियोसिस गर्भाशय, अंडाशय और फैलोपियन ट्यूब और गर्भ के पीछे कहीं भी हो सकता है। इन बढ़े हुए टिश्यू को बाहर निकलने का कोई रास्ता न मिलने के कारण ये काफी उलझ जाते हैं और शरीर के लिए दर्दनाक साबित होते हैं। कभी-कभी यह महिला में गर्भधारण करने में भी समस्या पैदा कर देते हैं।

एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) कैसी बीमारी है?

एंडोमेट्रियोसिस विशेष रूप से 30 से 40 साल की उम्र में महिलाओं को होने वाली एक आम समस्या है लेकिन, यह किसी भी उम्र में रोगियों को प्रभावित कर सकता है। इसके कारणों को कम करके इस बीमारी से निपटा जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से चर्चा करें।

जानें इसके लक्षण

एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) के क्या लक्षण हैं?

एंडोमेट्रियोसिस के सामान्य लक्षण इस प्रकार हैं :

हो सकता है ऊपर दिए गए लक्षणों में कुछ लक्षण शामिल न हों। अगर आपको किसी भी लक्षण के बारे में कोई चिंता है, तो कृपया डॉक्टर से परामर्श करें।

मुझे अपने डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

अगर आपको नीचे बताए कोई भी लक्षण दिखाई दें, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें :

  • आपको अपने पीरियड्स के दौरान दर्द महसूस हो। हालांकि, ऐसा दर्द पहले नहीं होता था
  • दर्द की वजह से आपकी दैनिक गतिविधियां प्रभावित होती हो
  • अचानक से आपको सेक्स के दौरान दर्द होने लगे
  • 12 महीने की कोशिश के बाद भी आप गर्भवती न हो पा रही हों

और पढ़ें : पहली बार पीरियड्स होने पर ऐसे रखें अपनी बच्ची का ख्याल

जानें इसके कारण

एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) का कारण क्या है?

एंडोमेट्रियोसिस के कारणों का अभी भी पता नहीं चल पाया है। हालांकि, वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि कुछ ऐसे कारण हैं, जो एंडोमेट्रियोसिस को जन्म दे सकते हैं।

  • रेट्रोग्रेड पीरियड्स : पीरियड्स के दौरान निकलने वाले ब्लड, जिसमें एंडोमेट्रियल सेल्स भी शामिल होती हैं। आमतौर पर, यह शरीर से बाहर निकलने के बजाय फैलोपियन ट्यूबों के माध्यम से पेल्विक में वापस आ जाता है। इसकी वजह से एंडोमेट्रियल सेल्स पेल्विक की दीवार और पेल्विक अंगो की सतह से चिपक जाती हैं और रक्तस्राव गाढ़ा होने लगता है।
  • भ्रूण की कोशिका वृद्धि : भ्रूण कोशिकाएं पेट के निचले हिस्से और पेल्विक गुहाओं के बीच एक कोशिकाओं की लाइनिंग बनाती हैं। जब लाइनिंग का छोटा भाग एंडोमेट्रियल टिश्यू में बदल जाते हैं, तो आपको एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) हो सकता है।
  • अगर आपने हिस्टेरेक्टॉमी या सी-सेक्शन जैसी सर्जरी का अनुभव किया है, तो एंडोमेट्रियल कोशिकाएं सर्जिकल निशान से चिपक सकती हैं, जिससे एंडोमेट्रियोसिस हो सकता है।
  • यदि एंडोमेट्रियल कोशिकाएं रक्त वाहिकाओं या टिश्यू द्रव द्वारा शरीर के अन्य भागों में पहुंचाई जाती हैं, तो भी एंडोमेट्रियोसिस होने की संभावना रहती है।
  • एक अन्य कारण इम्यून सिस्टम विकार है। यदि आपके इम्यून सिस्टम में कुछ समस्याएं हैं, जिसकी वजह से शरीर गर्भाशय के बाहर बढ़ने वाले एंडोमेट्रियल टिश्यू को पहचानने और खत्म करने में असमर्थ हो जाता है, तो भी एंडोमेट्रियोसिस हो सकता है।

इसके अलावा, पेट और पेल्विक में मौजूद सेल्स एंडोमेट्रियल कोशिकाओं में बदल सकती हैं।

और पढ़ें : शीघ्र गर्भधारण के लिए अपनाएं ये 5 टिप्स

[mc4wp_form id=”183492″]

किन कारणों से एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) का खतरा बढ़ जाता है?

  • कभी भी गर्भधारण न कर पाना
  • रिश्तेदार (मां, चाची या बहन) को एंडोमेट्रियोसिस होना
  • पीरियड्स फ्लो को चिकित्सीय तरीके (unnatural) से रोका जाना
  • गर्भाशय की असामान्यताएं
  • 12 वर्ष की आयु से पहले पीरियड्स शुरू होना
  • गर्भाशय, सर्विक्स (गर्भाशय का सबसे निचला छोर) या वजाइना के असामान्य आकार की वजह से पीरियड्स के प्रवाह का धीमा या बाधित करना।

निदान और उपचार को समझें

दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) का निदान कैसे किया जाता है?

निदान के लिए डॉक्टर आपसे लक्षण, दर्द वाली जगह, दर्द कब होता है आदि सवालों को पूछ सकता है। कुछ मामलों में, एंडोमेट्रियोसिस की जांच के लिए गर्भाशय का आंतरिक परीक्षण भी किया जाता है। इसके लिए लैप्रोस्‍कोपी, अल्ट्रासाउंड या पेल्विक टेस्ट का सहारा लिया जाता है।

एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) का इलाज कैसे किया जाता है?

यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि एंडोमेट्रियोसिस का कोई इलाज नहीं है। हालांकि, आप उपचार से अपने दर्द और बांझपन से निपट सकते हैं। अपने लक्षणों और गर्भधारण के लिए आप उचित उपचार चुन सकते हैं। हार्मोन थेरिपी के द्वारा आपके शरीर के एस्ट्रोजन के स्तर को कम करके दर्द को कम किया जा सकता है। वहीं, गर्भवती होने के लिए सर्जरी और इनफर्टिलिटी ट्रीटमेंट अच्छे उपाय साबित होंगे। अगर मरीज की उम्र ज्यादा है और कई सर्जरी हो चुकी हैं, तो गर्भाशय और ओवरीज निकालकर हिस्टेरेक्टॉमी ही इसका सबसे बेहतर इलाज है।

अगर आपको हल्का दर्द और ब्लीडिंग होती है लेकिन, जल्द ही गर्भधारण करने की कोई योजना नहीं है, तो दवाएं आपके लिए एक उपयुक्त उपचार हैं। जब आपको लगे कि आपके लक्षण गंभीर हैं, हार्मोन थेरिपी और NSAIDs (nonsteroidal anti-inflammatory drug) काम नहीं करते हैं, तो डॉक्टर आपको एक और हार्मोन थेरिपी लेने की सलाह दे सकते हैं।

यहां तक ​​कि अगर हार्मोन थेरेपी मदद नहीं कर पा रही है या और अंग प्रभावित हो रहे हैं, तो सर्जरी ही एकमात्र उपाय बचता है। सर्जरी के दौरान, एंडोमेट्रियल ग्रोथ को हटा दिया जाएगा। यह आमतौर पर लेप्रोस्कोपी के माध्यम से किया जा सकता है।

और पढ़ें : गर्भवती महिला में इन कारणों से बढ़ सकता है प्रीक्लेम्पसिया (preeclampsia) का खतरा

एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) से निपटने के लिए जीवनशैली में क्या बदलाव और घरेलू उपचार जरूरी हैं?

एंडोमेट्रियोसिस से निपटने के लिए जीवनशैली में क्या बदलाव और घरेलू उपचार जरूरी हैं?

नीचे बताई गई जीवनशैली और घरेलू उपचार आपको एंडोमेट्रियोसिस से निपटने में मदद कर सकते हैं :

  • पैल्विक मांसपेशियों को आराम देने, ऐंठन और दर्द को कम करने के लिए गर्म पानी से नहाना और हीटिंग पैड मददगार साबित होते हैं
  • नियमित व्यायाम करने से लक्षणों में सुधार करने में मदद मिल सकती है
  • दर्द के दौरान लेटकर अपने घुटनों के नीचे एक तकिया रखने से आराम मिलता है
  • आप रिलैक्सेशन और बायोफीडबैक तकनीक का उपयोग कर सकते हैं

अगर आपको अपनी समस्या को लेकर कोई सवाल हैं, तो कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श लेना न भूलें।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Shikha Patel द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ घंटे पहले को
Dr. Pooja Bhardwaj के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड