पीरियड्स पेन को कहना है बाय तो खाएं ये फूड

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

मासिक धर्म के दिनों में लड़कियों को पीरियड्स पेन का सामना करना पड़ता है। पीरियड्स पेन हल्का भी हो सकता है और बहुत तेज भी हो सकता है। लड़कियां अक्सर पीरियड्स पेन से निपटने के लिए दर्द निवारक दवाओं का इस्तेमाल करती हैं। इससे निजात भी मिल जाता है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि अपनी डायट में कुछ बदलाव कर हम इस दर्द से छुटकारा पा सकते है। जी हां, हाल ही में  डायटीशियन रुजुता दिवेकर ने एक सोशल मीडिया में एक वीडियो जारी किया है जिसमे वो पीरियड्स पेन से छुटकारे की बात कर रही हैं। उन्होंने कुछ फूड के नाम बताए जिन्हें खाकर आप दर्द से काफी हद तक राहत पा सकती हैं।

और पढ़ें : पीरियड्स से जुड़ी गलत धारणाएं और उनकी सच्चाई

पीरियड्स पेन कम करने के लिए क्या खाएं?

डायटीशियन रुजुता दिवेकर के मुकाबिक पीरियड्स पेन से राहत पाने के लिए लड़कियों को पीरियड्स आने के कुछ दिनों पहले ही अपने खाने-पीने का विशेष ध्यान रखना चाहिए, जिसके लिए उन्हें निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिएः

1.हफ्ते भर पहले ही शरीर को दे हाई पोषक तत्व

2.अंकुरित आहार खाएं

  • हर दूसरे दिन भोजन में अंकुरित आहार खाना चाहिए। अंकुरित आहार में मूंग, मटकी, चना, राजमा, लोबिया, मूंगफली, सोयाबीन, गेंहूं आदि को शामिल किया जा सकता है। साथ ही, रुजुता ने कहा कि हमारे देश कई तरह की दालें पाई जाती हैं। ये सभी स्वास्थ्य के लिए लाभकारी है। इन्हें भी अपने आहार में शामिल करके पीरियड्स पेन से छुटाकार पा सकते हैं।

3.हफ्ते में दो बार कंद खाएं

  • सप्ताह में दो बार कंद सब्जियां जैसे सूरन (Suran), शकरकंद (Sweet Potato),  हरी प्याज, अरबी, आलू जैसी सब्जियां खानी चाहिए। अगर आप रोज एक ही फूड नहीं खाना चाहते हैं तो दो दिन के अंतराल में इन्हें खा सकते है। ये पीरियड्स पेन से राहत दिलाने का कारगर तरीका होता है।

और पढ़ें : Adenomyosis : एडिनोमायोसिस क्या है ?

4.व्यायाम करें

  • व्यायाम को अपनी दिनचर्या में जरूर शामिल करें। सप्ताह में कम से कम 150 मिनट तक जरूर व्यायाम करें। व्यायाम करने से शरीर के कई अंगों को फायदा मिलता है और वे मजबूत भी बनते हैं। साथ ही, पीरियड्स पेन को दर करने में भी मददगार होते हैं।

5.कैल्शियम सप्लीमेंट भी लें

  • रात में सोने से पहले कैल्शियम सप्लीमेंट (Calcium Supplements) जरूर लें। ये दर्द के दौरान राहत देते हैं। आपको ये किसी भी केमिस्ट के पास आसानी से मिल जाएगा। हालांकि, इनके सेवन से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

इन सब बातो के अलावा, नार्मल पीरियड्स पेन से राहत पाने के लिए आप दर्द निवारक दवाओं का भी इस्तेमाल कर सकती हैं।

और पढ़ें : पेट दर्द (Stomach pain) के ये लक्षण जो सामान्य नहीं हैं

डॉक्टर से कब संपर्क करना जरुरी है

  • पीरियड्स में सामान्य से ज्यादा दर्द होना।
  • सात दिनों से ज्यादा ब्लीडिंग होना।
  • सामान्य रक्त प्रवाह से ज्यादा रक्त प्रवाह (Bleeding) होना।
  • 35 दिनों के अंतराल पर पीरियड आना।
  • एक से दो महीने पीरियड का न आना।

पीरियड्स में किसी भी तरह की समस्या होने पर बेहतर होगा की आप डॉक्टर से संपर्क करें और अपनी परेशानी बताये। चिकित्सक द्वारा जो भी सलाह और जांच बताई जाती है उसे फॉलो करें।

इसके अलावा पीरियड्स पेन को कम करने के लिए आपको पीरियड्स के दिनों में क्या नहीं खाना चाहिए, इसका भी ध्यान रखना चाहिए। क्योंकि पीरियड्स के दिनों में हम जो भी खाते हैं उसका सीधा प्रभाव पीरियड्स पर हो सकता है।

और पढ़ें : अनियमित पीरियड्स को नियमित करने के 7 घरेलू नुस्खे

पीरियड्स के दिनों में क्या नहीं खाना चाहिए?

फैटी फूड्स 

पीरियड्स में महिलाओं को हाई फैटी फूड्स खाद्य पदार्थों के सेवन का परहेज करना चाहिए। साथ ही, वसायुक्त मांस का सेवन भी न करें। इनमें सैचूरेटेड फैट्स बहुत ही अधिक मात्रा में पाए जाते हैं। जो पीरियड्स की समस्याओं को बढ़ा सकते हैं।

शुगर प्रोडक्ट्स

जिन चीजों में शुगर अधिक मात्रा में हो उन्हें भी लेने से बचें। शुगर युक्त चीजों को लेने से पीरियड्स पेन पहले से ज्यादा हो सकता है। इसकी बजाय आप मीठे फलों का सेवन कर सकते हैं।

मसालेदार खाना

अगर आपको पीरियड्स पेन और मासिक धर्म के दौरान क्रैंम्प और हैवी ब्लीडिंग होती है, तो ज्यादा मसालेदार खाना खाने से बचना चाहिए। क्योंकि इससे पेट की समस्या जैसे गैस की परेशानी बढ़ सकती है। जिसके कारण पीरियड्स पेन भी बढ़ सकता है।

कैफीन

पीरियड्स के दिनों में बहुत सी महिलाएं और लड़कियों को चाय या कॉफी पीने की क्रेविंग होती है। साथ ही, इससे उनको पीरियड्स पेन में भी राहत मिलती है। लेकिन, ध्यान रखें कि मासिक धर्म के दिनों में कैफीन पीने अवॉयड करना चाहिए। पीरियड्स पेन को कम करने के लिए आप गर्म पानी पी सकती हैं।

एल्कोहॉल

पीरियड्स के दिनों में महिलाओं का ब्लड प्रेशर कम हो जाता है। अगर उस दौरान महिलाएं एल्कोहॉल का सेवन करती हैं एल्कोहॉल से जुड़ी समस्याएं बढ़ सकती हैं।

बेक्ड प्रोडक्ट

बेक किए हुए खाद्य पदार्थ जैसे केक और पेस्ट्री का भी सेवन नहीं करना चाहिए। बेक प्रोडक्ट में ट्रांसफैट बहुत ही अधिक मात्रा में पाया जाता है। ये खाद्य पदार्थ महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजेन के लेवल को बढ़ा सकते हैं। इससे पीरियड्स के दिनों में गर्भाशय में होने वाला दर्द पहले से भी ज्यादा बढ़ सकता है।

प्रोसेस्ड फूड

इस दौरान प्रोसेस्ड फूड खाने से भी परहेज करना चाहिए। चिप्स और डिब्बों में बंद खाद्य पदार्थ के सेवन से पीरियड्स पेन होने की संभावना बढ़ सकती है।

फास्ट फूड और पैक फूड

महिलाओं को अपने मासिक स्राव के दौरान पैक फूड का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इनमें कई तरह के कैमिकल होते हैं जो पीरियड्स पेन की परेशानी और भी ज्यादा बढ़ा सकते हैं।

डेयरी प्रोडक्ट बढ़ा सकते हैं पीरियड्स पेन

पीरियड्स के दिनों में डेयरी प्रोडक्ट्स जैसे दूध, चीज, क्रीम, पेट में गैस को बढ़ा देते हैं, जिससे आपको कई तरह की परेशानी हो सकती है। हालांकि, पीरियड्स पेन को कम करने के लिए अपनी डायट में बटर मिल्क यानि छांछ का इस्तेमाल करना फायदेमंद हो सकता है।

और पढ़ें : पेट के निचले हिस्से और अंडकोष में दर्द को भूलकर न करें नजरअंदाज

पीरियड्स के दिनों में किस तरह की सावधानी बरतें?

  • दिन में 4 से 6 घंटे के बाद अपना पैड बदलें। लंबे समय तक एक ही पैड का इस्तेमाल करने से इंफेक्शन होने का जोखिम बढ़ जाता है।
  • पैड बदलने के दौरान योनि को साफ पानी या हल्के गुनगुने साफ पानी का इस्तेमाल करें। याद रखें कि योनि प्राकृतिक तौक पर खुद को साफ करती है, इसके लिए किसी भी तरह के शॉप या अन्य प्रॉड्क्ट का इस्तेमाल न करें।
  • इस्तेमाल किया हुआ पैड हमेशा कूड़ेदान में डालें। पैड को टॉयलेट में फ्लश न करें, न ही किसी खुले स्थान में इधर-उधर फेंके।
  • हमेशा कॉटन के बने अंडरगॉरमेंट्स पहनें।

ऊपर दी गई पीरियड्स पेन की सलाह किसी भी चिकित्सा को प्रदान नहीं करती हैं। पीरियड्स पेन को कम करने या पीरियड्स पेन से राहत पाने के लिए अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

वीडियो सौजन्य : यूट्यूटब

सौजन्य: यूट्यूब

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

पीरियड्स के दौरान स्ट्रेस को दूर भगाने के लिए अपनाएं ये एक्सपर्ट टिप्स

पीरियड्स के दौरान स्ट्रेस कई महिलाओं में मुसीबत का कारण बनता है। स्ट्रेस का असर ओव्यूलेशन की प्रक्रिया पर पड़ता है। इसके परिणामस्वरूप ओव्यूलेशन में देरी हो सकती है और पीरियड्स का साइकल...

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन जुलाई 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Meprate Tablet : मेप्रेट टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

मेप्रेट टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, मेप्रेट टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Meprate Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Femilon Tablet : फेमिलोन टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

फेमिलोन टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, फेमिलोन टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Femilon Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

पीरियड सेक्स- क्या सेक्स के लिए सुरक्षित अवधि है?

फैमिली प्लानिंग नहीं कर ही हैं तो आपको ओव्यूलेशन पीरियड की जानकारी होनी चाहिए ताकि आप जान सके प्रेग्नेंसी से बचने के लिए सेक्स के लिए सुरक्षित अवधि क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh

Recommended for you

एजेक्ट एमआर टैबलेट

Drotin-M Tablet : ड्रोटिन-एम टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अगस्त 31, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
ड्रोटिन प्लस टैबलेट Drotin Plus Tablet

Drotin Plus Tablet : ड्रोटिन प्लस टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अगस्त 28, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
पीरियड्स का होना

‘पीरियड्स का होना’ नहीं है कोई अछूत, मिथक तोड़ने के लिए जरूरी है जागरूकता

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ अगस्त 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
मेनोपॉज के बाद सेक्स - sex after menopause

ओल्ड एज सेक्स लाइफ को एंजॉय करने के लिए जानें मेनोपॉज के बाद शारिरिक और मानसिक बदलाव

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जुलाई 29, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें