पीरियड्स और कॉन्स्टिपेशन: जैसे अलीबाबा के चालीस चोरों की बारात हो! 

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट January 20, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

वर्क फ्रॉम होम में हमारा रूटीन कितना बदल गया है! सुबह उठो, तैयार हो जाओ और अपना लैपटॉप लेकर काम करने बैठ जाओ। सुनने में ये जितना आसान लगता है, उतना ही करने में मुश्किल साबित होता है। खास तौर पर महीने के वो 5 दिन, जब पीरियड्स हाजिर हो जाते हैं। तब तो इस आसान से रूटीन को निभाते-निभाते हालत खराब हो जाती है। लगातार बैठ कर काम करने में भले ही आम दिनों में परेशानी ना हो, लेकिन पीरियड्स के दौरान होने वाले पेट और पीठ दर्द के कारण हमारे लिए ये परेशानी का सबब बन जाता है। ऐसे में जब पीरियड्स के हैवी फ्लो के साथ कॉन्स्टिपेशन और ब्लोटिंग (Bloating) की तकलीफ होती है, तो ये किसी सजा से कम नहीं लगता। लेकिन ऐसा क्यों होता है, कभी सोचा है आपने? क्यों कुछ महिलाओं में पीरियड्स के पहले दिन से उनका पेट उनका साथ छोड़ देता है और कॉन्स्टिपेशन के साथ हो लेता है? अगर इसका जवाब आप नहीं जानते, तो ये खबर आपके काम आ सकती है। क्योंकि आज हम आपको ये बताने जा रहे हैं कि पीरियड्स और कॉन्स्टिपेशन (constipation and periods) के बीच इतना गहरा प्यार क्यों है! तो चलिए, देर किस बात की?

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

पीरियड्स और कॉन्स्टिपेशन (constipation and periods): जब चले आए हाथों में हाथ डाले! 

पीरियड्स और कॉन्स्टिपेशन क्या है दोनों के बीच कनेक्शन? पीरियड्स और कब्ज कैसे जुड़े हैं एक दूसरे से?

अब आप सोच रहे होंगे कि पीरियड्स और कब्ज, ये दोनों तो अलग-अलग तकलीफें हैं, फिर इनका नाम साथ में क्यों लिया जा रहा है? ऐसा इसलिए है, क्योंकि कई बार पीरियड्स के कारण कब्ज (constipation) भी आपका सुकून छीनने को उतारू हो जाता है और आपको तब जरूरत पड़ती है ऐसे इलाज की, जो फूलप्रूफ हो। लेकिन पीरियड्स और कॉन्स्टिपेशन में ये तालमेल बनता कैसे है, पहले ये जान लेते हैं। दरअसल, कई महिलाओं को पीरियड्स और कब्ज की तकलीफ एक साथ सहनी पड़ती है। पीरियड्स में होनेवाले हॉर्मोनल बदलाव इसका कारण बनते हैं। जब आपके शरीर में पीरियड्स के दौरान हॉर्मोन्स रिलीज होते हैं, तो आपको कॉन्स्टिपेशन, एसिडिटी, पेट दर्द और पीरियड्स में पेट फूलने (bloating) की समस्या होती हैं। पीरियड्स में जब प्रोजेस्टोरोन का लेवल बढ़ जाता है, तो ये कब्ज (constipation) का कारण बनता है। यही वो हॉर्मोन है, जो ऑव्युलेशन के आसपास या उसके दो दिनों के बाद शरीर में बढ़ता है, जिससे आपको इस दौरान भी कॉन्स्टिपेशन की दिक्कत महसूस हो सकती है।

साथ ही प्रोस्टाग्लैंडिंस (Prostaglandins) या फैटी एसिड्स (fatty acids) के चलते इन्फ्लेमेशन की दिक्कत भी होती है। कई बार आपको पीरियड्स में पेट फूलना और पेट दर्द महसूस होता है, लेकिन ये तकलीफ पेट में ना होकर यूट्रस में हो रही होती है। ऐसे में आपको ऐसे इलाज की जरूरत पड़ती है, जो आपकी मदद पीरियड्स के कारण कब्ज (Constipation During Period) होने पर कर सके। इस इलाज का नाम क्या है जानते हैं? इसे कहते हैं लैक्सेटिव! लैक्सेटिव ऐसा पदार्थ है, जो एक ही रात में आपके पेट के जाम को दूर करके आपको कॉन्स्टिपेशन से राहत दिलाता है। लैक्सेटिव में आप बिसाकोडिल (Bisacodyl) पर भरोसा कर सकते हैं–जो एक स्टिम्युलेंट लैक्सेटिव (Stimulant Laxatives) माना जाता है। अब ये लैक्सेटिव पीरियड्स के दौरान आपकी कैसे मदद कर सकता है, आइये जानते हैं!  

और पढ़ें: कब्ज के कारण गैस्ट्रिक प्रॉब्लम से अटक कर रह गई जान? तो, ‘अब की बार, गैरेंटीड रिलीफ की पुकार!’

पीरियड्स और कॉन्स्टिपेशन (constipation and periods) से निपटना है, तो काम आएगा लैक्सेटिव का ढाई किलो का हाथ! 

पीरियड्स और कॉन्स्टिपेशन से कैसे बचें? पीरियड्स के कारण कब्ज हो तो क्या करें?

पीरियड्स और कॉन्स्टिपेशन (constipation and periods) के बीच का जो रिश्ता है, उसकी पूरी-पूरी जानकारी तो हम दे चुके हैं, लेकिन इस तकलीफ के गैरेंटीड इलाज के बारे में भी आपको जरूर जानना चाहिए। इंटरनैशनल फाउंडेशन ऑफ गैस्ट्रोइंटेस्टेनाइल डिसऑर्डर्स के मुताबिक, “महिलाओं को अक्सर पीरियड्स के दौरान कब्ज (constipation) की शिकायत होती है, जो कुछ दिनों तक परेशानी का सबब बन सकती है। लेकिन यदि आपको कॉन्स्टिपेशन की तकलीफ ज्यादा परेशान करे, तो आप लैक्सेटिव (Bisacodyl) ले सकते हैं। आम महिलाओं के साथ-साथ पीरियड्स में और भी अधिक दिक्कत उन महिलाओं को होती है, जो इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम (IBS) से जूझ रही होती हैं। आईबीएस (IBS) की तकलीफ के साथ पीरियड्स इन्हे करीब-करीब 1 सप्ताह तक परेशान कर सकता है, इसलिए लैक्सेटिव की मदद से पीरियड्स में कॉन्स्टिपेशन की दिक्कत को ठीक किया जा सकता है।”

तो अब आप समझे, पीरियड्स और कॉन्स्टिपेशन (constipation and periods) जब एक साथ टीमअप करके आपको परेशान करने लगे, तो लैक्सेटिव कैसे मदद करेगा! जैसा कि हम आपको पहले भी बता चुके हैं, आप स्टिम्युलेंट लैक्सेटिव (Stimulant Laxatives)– बिसाकोडिल (Bisacodyl) का इस्तेमाल कर सकते हैं, जो आपकी इंटेस्टाइन को स्टिम्युलेट करके पेट में रुके हुए स्टूल (stool) को आसानी से बाहर का रास्ता दिखा देता है। इससे होता ये है कि रात को सिर्फ एक गोली लेने पर जब आप सुबह टॉयलेट जाते हैं, तो पीरियड्स के कारण कब्ज की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। ये तो हो गई लैक्सेटिव (Bisacodyl) की बात, लेकिन अब हम आपको कुछ ऐसे उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो आपको कभी न कभी, किसी न किसी ने जरूर रेकमेंड किये होंगे। आइये समय न गंवाते हुए जान लेते हैं इन उपायों के बारे में।

और पढ़ें : Digestive Disorder: जानिए क्या है पाचन संबंधी विकार और लक्षण?

पीरियड्स में कब्ज की समस्या (Constipation During Periods) व्यायाम के टिप्स – बचाएंगे आपको उह-आह से! 

पीरियड्स और कब्ज भी हो तो क्या करें? पीरियड्स में पेट फूलने की समस्या क्यों होती है?

पीरियड्स के कारण कब्ज (constipation) की दिक्कत आपके दिन का चैन लूटने के लिए काफी मानी जाती है। इसलिए इस समस्या को सुलझाने के लिए आपको कुछ बातों का ख्याल रखने की जरूरत पड़ सकती है। जिसमें से एक बात है आपका खानपान। 

  1. फाइबर से भरपूर खानपान (Fibrous food): खानपान की बात करें, तो आपको कॉन्स्टिपेशन में ऐसी चीजों को खाना चाहिए, जो फाइबर से भरपूर हो। दरअसल फाइबर पेट में जाकर स्टूल (stool) को पानी की मदद से जमा करता है। जिससे इंटेस्टाइन स्टिम्युलेट होता है और फिर पेट से सारा कचरा बाहर निकल जाता है। ऐसे में जब आप पीरियड्स के कारण कब्ज (constipation and periods) की दिक्कत से परेशान रहते हैं, तो ये फाइबर आपकी मदद के लिए हाजिर हो जाता है। आप कुछ खास फल, सब्जियों और अनाज को अपने खाने में इन्क्ल्यूड कर फाइबर की मात्रा बढ़ा सकते हैं। इसमें, सेब, गाजर, ब्रॉक्ली, पीयर्स, ओट्स, रास्पबेरीज और मटर खास तौर पर इस्तेमाल किये जा सकते हैं।
  2. पानी (Water Intake): इसके अलावा आप लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव लाकर पीरियड्स और कॉन्स्टिपेशन (constipation and periods) की तकलीफ से बाहर निकल सकते हैं। इन बदलावों में पहला बदलाव है पानी का इनटेक बढ़ाना। जब आप ज्यादा से ज्यादा पानी पीते हैं, तो पेट में मौजूद स्टूल (stool) नरम बनकर आसानी से बाहर निकल जाता है। जो कॉन्स्टिपेशन में मददगार साबित होता है। साथ ही पीरियड्स में भरपूर पानी पीने से आपको डिहाइड्रेशन की तकलीफ नहीं होती। 
  3. व्यायाम करना: (Regular Exercise): इसके साथ ही आपकी मदद रोजाना की कसरत भी कर सकती है। जब आप रोज कसरत को अपना दोस्त बनाते हैं, तो कॉन्स्टिपेशन जैसा दुश्मन ज्यादा दिन टिक नहीं सकता। एक्सरसाइज करने से पेट की मसल्स की अच्छी तरह से मालिश होती है और धीमी गति से काम करनेवाला इंटेस्टाइन ठीक तरह से काम करने लगता है। जिससे मोशन में आसानी होती है। 

ये तो हुए कुछ ऐसे तरीके, जो आप हमेशा से लोगों से सुनते आए हैं। लेकिन इसके अलावा एक तरीका और भी है, जो है लैक्सेटिव। जो कि एक जेंटल ओवरनाइट रिलीफ की तरह आपकी जिंदगी में आकर तकलीफ को नौ दो ग्यारह करने में माहिर साबित होगा। लेकिन एक बात और भी गौर करने वाली है। और वो ये है कि आगे फ्यूचर में भी पीरियड्स के कारण कब्ज (Constipation During Period) की दिक्कत से बचना हो, तो क्या किया जाए? है न लाखों का सवाल? चलिए अब जानते हैं इसका जवाब। 

और पढ़ें: लॉकडाउन और क्वारंटीन के समय कब्ज की समस्या से परेशान हैं? इन उपायों से पाएं छुटकारा

क्या करें, क्या ना करें, ये कैसी मुश्किल हाय!

पीरियड्स और कब्ज दोनों का सामना कैसे करें? पीरियड्स और कब्ज दोनों का एक साथ होना बन सकता है बड़ी मुसीबत

जब पीरियड्स और कब्ज (constipation) एक साथ मिलकर आपके सुकून को तार-तार करने में लगे हों, तो कुछ उपाय करने तो बनते भी हैं। ये उपाय ऐसे हैं, जो आपको फ्यूचर में पीरियड्स के कारण होने वाली कॉन्स्टिपेशन की तकलीफ से दूर रखने में मदद करेंगे। आइये बात करें इन उपायों के बारे में – 

डिहायड्रेटिंग ड्रिंक्स से दूरी, बहुत है जरूरी! (Ample hydration)

जैसा कि आप पहले जान गए हैं कि पीरियड्स और कॉन्स्टिपेशन (constipation and periods) एक साथ चलने वाले दोस्त हैं, तो आपको इनसे बचने के लिए कुछ ड्रिंक्स से दूरी बनानी चाहिए। शरीर को डिहाइड्रेट करने वाली ड्रिंक्स, जिसे डाययुरेटिक्स ड्रिंक्स (diuretic drinks) के नाम से जाना जाता है, इनमें एल्कोहॉल,कैफीन (चाय, कॉफी) से भरपूर ड्रिंक्स, सोडा, आर्टिफिशियल फ्रूट जूस, जैसे ड्रिंक्स आते हैं। ये सभी ड्रिंक्स आपके शरीर में पानी की मात्रा कम करते हैं, जिससे स्टूल (stool) पानी अब्सॉर्ब नहीं कर पाता और कॉन्स्टिपेशन की दिक्कत होने लगती है।

और पढ़ें: जब कब्ज और एसिडिटी कर ले टीमअप, तो ऐसे जीतें वन डे मैच!

हेल्दी डायट? होनी चाहिए, पहली पसंद!  (Balanced diet)

हेल्दी डायट फॉलो करना, एक ऐसी आदत है, जो पीरियड्स में आपकी पहली पसंद होनी चाहिए। पीरियड्स में कब्ज (constipation) के कारण होने वाली परेशानी को दूर करना है, तो खाने में फ्रेश फ्रूट, वेजिटेबल और होल ग्रेन्स को जगह देनी चाहिए। जिससे आपके पेट को राहत मिले और आप कॉन्स्टिपेशन से दूर रहें। 

डॉक्टर की भी सुन लीजिये! (Doctor advice)

ये तो थे कुछ आम उपाय, लेकिन एक्सपर्ट की राय भी तो जरूरी है! इसलिए हमने बात की फॉर्टिस हीरानंदानी हॉस्पिटल की कंसल्टेंट गायनेकोलॉजिस्ट और ऑब्स्ट्रैटिशन डॉ नेहा बोथरा से, जिन्होंने बताया, “सभी महिलाओं को एक बात हमेशा ध्यान रखनी चाहिए कि पीरियड्स के दौरान होनेवाला कॉन्स्टिपेशन आम बात है, जो हॉर्मोन में बदलाव के कारण होती है। लेकिन अगर ये तकलीफ सीवियर हो जाती है, तो आप माइल्ड लैक्सेटिव का इस्तेमाल कर सकती हैं। लेकिन आपको ये बात भी ध्यान रखनी चाहिए कि लैक्सेटिव के अलावा आप अपनी डेली रूटीन में बदलाव लाएं। वॉकिंग, योग और खाने-पीने में बदलाव लाकर आप अपने पेट का ख्याल रख सकते हैं। जिससे आपको न सर्फ पीरियड्स में, बल्कि कॉन्स्टिपेशन में भी आराम मिलेगा।” 

तो अब आप समझे, पीरियड्स और कॉन्स्टिपेशन एक ऐसी तकलीफ है, जो आपको न आराम से काम करने देती है और ना ही आपके दिन को खुशहाल रहने देती है। ऐसे में पीरियड्स के कारण कब्ज (Constipation During Period) की दिक्कत को अपनी जिंदगी से बाहर का रास्ता दिखाना है, तो आपको इन उपायों का साथ लेना ही होगा। फिर न रहेगा पीरियड्स का रोना और ना ही कॉन्स्टिपेशन का जंजाल!

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

सर्दियों में पीरियड्स पेन को कहें बाय और अपनाएं ये उपाय

सर्दियों में पीरियड्स पेन की तकलीफ क्यों होती है? सर्दियों में पीरियड्स पेन को दूर करने का क्या है आसान तरीका? Home remedies for periods pain during winter in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

जब कब्ज और एसिडिटी कर ले टीमअप, तो ऐसे जीतें वन डे मैच!

कब्ज के कारण गैस कब्ज एसिडिटी की तकलीफ हो, तो आपको पेट में जलन, खट्टी डकारें (acid reflux), डिस्कम्फर्ट और मोशन में गड़बड़ी की दिक्कत होने लगती है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod

जब ब्लोटिंग से पेट की गाड़ी का सिग्नल हो जाए जाम, तो ऐसे दिखाएं हरी झंडी!

कॉन्स्टिपेशन और ब्लोटिंग की तकलीफ से राहत पाने के लिए बिसाकोडिल का करें इस्तेमाल। लैक्सेटिव भी दिला सकता है कब्ज से तुरंत राहत। Constipation and bloating

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod

सर्दियों में डायजेशन प्रॉब्लम से बचने के लिए अपने खान-पान में शामिल करें ये चीजें, रहें फिट

सर्दियों में पाचन संबंधी समस्याएं बढ़ जाती है, क्योंकि इस मौसम में लोगों का खानपान बदल जाता है। इस मौसम में लोगों को अपने खानपान का विशेष ध्यान रखना चाहिए, जानें डायजेस्टिव हेल्थ इन विंटर के बारे में

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
हेल्थ सेंटर्स, स्वस्थ पाचन तंत्र January 8, 2021 . 10 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

सर्जरी के बाद कब्ज से कैसे बचें? Constipation after surgery

सर्जरी के बाद हो सकती है एक दूसरी परेशानी जिसका नाम है ‘कब्ज’, जानिए बचने के तरीके

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ February 5, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कब्ज के कारण पीठ दर्द (Constipation and back pain)

कॉन्स्टिपेशन और बैक पेन! कहीं आपकी परेशानी ये दोनों तो नहीं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ February 1, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
Yoga for constipation - पेट की समस्या में योग

जानें पेट की इन तीन समस्याओं में राहत देने वाले योगासन, जो आपको चैन की सांस दे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
प्रकाशित हुआ January 31, 2021 . 8 मिनट में पढ़ें
कब्ज के कारण वजन बढ़ना : कैसे निपटें इस समस्या से? Constipation and weight gain - कब्ज और वेट गेन

कॉन्स्टिपेशन और बढ़ता वजन, क्या पहली मुसीबत दूसरी का कारण बन सकती है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ January 18, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें