कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने में भारत कितना है दूर? बाकी देशों का क्या है हाल, जानें यहां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

चीन के वुहान से फैलना शुरु हुआ कोरोना वायरस ‘कोविड 19’ अब दुनियाभर में फैल चुका है। इसके लक्षण और इसके फैलने से जुड़ी जानकारी तो है लेकिन अभी तक इसका कोई इलाज नहीं मिल पाया है। दुनियाभर के वैज्ञानिक इस खतरनाक वायरस के इलाज की खोज में लगे हुए हैं लेकिन अभी तक किसी को सफलता हासिल नहीं हुई है। दिन-ब-दिन यह वायरस बेकाबू होता जा रहा है। ये वायरस इतनी तेजी से फैल रहा है कि जिसे देखते हुए लोग घर में कैद होकर रहने को मजबूर हैं। अब तक इस खतरनाक वायरस से दुनिया में 16 हजार लोगों से ज्यादा की मौत हो चुकी है। शोधकर्ताओं के अनुसार, इसकी वैक्सीन आने में 12 से 18 महीने तक का समय लग सकता है।

कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने में लगे कई देश

अब तक चीन, अमेरिका और यूरोप ने कोरोना वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल शुरू कर दिया है। सभी देश सबसे पहले कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने की होड़ में लगे हैं। ये सभी देश और कंपनियां सिर्फ वैज्ञानिक प्रशंसा, पेटेंट और राजस्व के लिए ही नहीं, बल्कि राष्ट्रीय सुरक्षा के हित में सबसे पहले सुरक्षित वैक्सीन तैयार करने में जुटे हुए हैं। हालांकि, ये देश दूसरे देशों को सहयोग करने के लिए सहमत हो गए हैं। अभी इस बात पर कोई सहमति नहीं है कि एक सफल वैक्सीन दुनिया को बाकी देशों के साथ कैसे या कब साझा किया जाएगा। आइए जानते हैं कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने के लिए विभिन्न देशों की कोशिशें कहां तक पहुंची हैं….

यह भी पढ़ें: क्या सोशल डिस्टेंस से कम होगा कोरोना वायरस का खतरा, जानते हैं तो खेलें क्विज

कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने में कितना दूर है चीन

चाइना से ही इस खतरनाक वायरस की शुरुआत हुई थी। चीन में इस दवा को बनाने के लिए हजारों वैज्ञानिक काम कर रहे हैं। कई रिपोर्ट्स की मानें तो एकेडमी ऑफ मिलिट्री मेडिकल साइंसेस ने कोरोना वायरस की एक वैक्सीन बना भी ली है। इस वैक्सीन के ट्रायल के लिए वॉलिंटियर्स की तलाश की जा रही है। हालांकि, चीन कितना सच और कितना झूठ बोल रहा है ये चीन ही जानता है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

कोरोना वायरस की वैक्सीन तैयार करने के लिए अमेरिका ने उठाया यह कदम

अमेरिका भी कोरोना वायरस से बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। वहां भी कई कंपनियां लगातार इसके वैक्सीन को बनाने की कोशिश में लगी हुई हैं। लेकिन डोनाल्ड ट्रंप ने उनकी सारी कोशिशों पर पानी फेर दिया है। दरअसल, ट्रंप ने एक जर्मन कंपनी को अमेरिका की धरती पर कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने के लिए कहा है।

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस से मौत का आंकड़ा 16 हजार के पार, पूरी दुनिया में हाहाकार

कोरोना वायरस की वैक्सीन को लेकर आस्ट्रेलिया ने किया ये दावा

आस्‍ट्रेलिया की एक प्रतिष्ठित लैब ने भी कोरोना वायरस की दवा तैयार करने का दावा किया है। एक रिपोर्ट के अनुसार, इस लैब ने दो दवाओं को मिलाकर एक दवा बनाई है, जिसके उत्‍साहजनक परिणाम देखने को मिले हैं। जल्द ही इसका इंसानों पर परीक्षण शुरू कर दिया गया है। ये दोनों ही दवाएं पहले एड्स और मलेरिया के इलाज में इस्‍तेमाल की जाती थीं।

कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने में कहां तक पहुंचा भारत

सांस और फ्लू जैसी स्वास्थ्य समस्याओं के लिए दवाएं बनाने वाली दिग्गज कंपनी सिप्ला ने दावा किया है कि वह अगले छह महीनों में कोरोना वायरस का इलाज ढ़ूंढ निकालेगी। अगर ऐसा होता है तो सिप्ला कोरोना वायरस की दवा बनाने वाली सबसे पहली भारतीय कंपनी होगी। इसके साथ ही यह देश के लिए भी बड़ी कामयाबी होगी। टाइम्स ऑफ इंडिया ने एक रिपोर्ट में बताया है कि फिलहाल यह कंपनी सरकारी लैब के साथ मिलकर कोरोना वायरस की दवा विकसित करने में जुटी हुई है। कंपनी कोरोना वायरस की वजह से सांस लेने में तकलीफ, अस्थमा, एंटी वायरल और एचआईवी की दवाओं के इस्तेमाल पर भी इसका प्रयोग कर रही है।

यह भी पढ़ें: Coronavirus 2020: इन सेलिब्रिटी को कोरोना वायरस की पुष्टि, रोनाल्डो ने खुद को किया अलग तो बिग बी ने सुनाई कविता

जल्द ही बन सकती है कोरोना वायरस की वैक्सीन

सिप्ला कंपनी के प्रमोटर यूसुफ हामिदन ने मीडिया से बातचीत में बताया- कंपनी के पास बहुत सारी दवा है। हमें भी नहीं मालूम कि कौन सी दवा या कॉम्बिनेशन इसके इलाज में काम कर जाए। इसका पता तो कोरोना वायरस के पेशेंट्स का इलाज कर रहे डॉक्टर लगा सकते हैं। बता दें, सिप्ला कंपनी वायरल फ्लू, सांस लेने में परेशानी, और एचआईवी से जुड़ी बीमारियों की दवाओं के लिए जानी जाती है।

जैसा कि अभी तक इस खतरनाक वायरस का कोई इलाज नहीं। दुनियाभर में इसके मरीजों को ट्रीटमेंट के तौर पर एचआईवी, एंटी-वायरल और एंटी मलेरियल दवाएं दी जा रही हैं। इन दवाओं के अच्छे परिणाम पाने का अलग-अलग जगहों से दावा किया गया है। इस लिस्ट में एचआईवी की दो दवा लोपिनाविर और रिटोनाविर के अलावा एंटीवायरल ड्रग रेमेडेसिविर और एंटी मलेरियल ड्रग क्लोरोक्वीन शामिल हैं।

कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने में लगेंगे इतने महीने

एक इंटरव्यू में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की मुख्य वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने बताया कि यदि सभी ने अच्छा काम किया तो हम संभवत: अगले 12-18 महीने में कोरोना वायरस का टीका विकसित कर सकेंगे। एक बार इसका टीका तैयार कर लिया जाएगा उसके बाद जो परेशानी होगी वो यह कि इसकी पर्याप्त दवाओं की उपलब्धता। पर्याप्त दवाओं को उपलब्ध कराने के लिए संभवत: 18-24 महीने लगेंगे।

यह भी पढ़ें: Corona virus: कोरोना वायरस से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां

कोरोना वायरस के इलाज को लेकर क्यों जयपुर का यह अस्पताल है चर्चा में?

पिछले दिनों जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल में कोरोना के तीन पेशेंट्स को को रेट्रोवायरल ड्रग यानी एचआईवी एंटी ड्रग देकर ठीक किया गया है। इनमें दो इटली से जयपुर आए हैं और एक जयपुर का ही रहने वाला है। अस्पताल ने दावा किया है कि इन लोगों का इलाज करने के बाद इनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई है। फिलहाल इन लोगों को डॉक्टरों की निगरानी में आइसोलेशन में रखा गया है। डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना का फिलहाल कोई इलाज नहीं है। इसका और एचआईवी वायरस का मॉलिक्यूलर स्ट्रक्चर एक जैसा होने के कारण सीनियर डॉक्टर ने मरीजों को एचआईवी एंटी ड्रग लोपिनाविर और रिटोनाविर देने का फैसला किया।

कोविड-19 की ताजा जानकारी
देश: भारत
आंकड़े

1,435,453

कंफर्म केस

917,568

स्वस्थ हुए

32,771

मौत
मैप

बता दें इस ड्रग का इस्तेमाल हर कोई नहीं कर सकता। आईसीएमआर गाइडलाइन के तहत इस ड्रग का इस्तेमाल सिर्फ ‘कॉमप्रोमाइज्ड’ मरीजों के लिए किया जा सकता है। ‘कॉमप्रोमाइज्ड’ मरीज वो होते हैं जिनकी उम्र 60 से अधिक होती है और उन्हें डायबिटीज या हृदय रोग हो। कम उम्र वाले लोगों में इस दवा का इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है। जयपुर में जिन तीनों मरीजों को यह दवा दी गई वो तीनों ही कॉमप्रोमाइज्ड’ मरीज हैं। दवा का इस्तेमाल करने के बाद इन तीनों मरीजों की रिपोर्ट कोरोना वायरस पॉजिटिव से नेगेटिव हो गई है। लेकिन लंग्स, डायबिटीज, हायपरटेंशन की दिक्कत उनमें अभी भी है। फिलहाल इन तीनों के इलाज के लिए डॉक्टरों की विशेष टीम का गठन किया गया है, जिनकी निगरानी में आगे का इलाज चल रहा है।

और पढ़ें:

ताली, थाली, घंटी, शंख की ध्वनि और कोरोना वायरस का क्या कनेक्शन? जानें वाइब्रेशन के फायदे

कोरोना वायरस से हर पल अपडेट रहना है जरूरी, अगर आप हैं अवेयर तो खेलें क्विज

कोरोना वायरस के 80 प्रतिशत मरीजों को पता भी नहीं चलता, वो कब संक्रमित हुए और कब ठीक हो गए

कोरोना वायरस से पहले दुनिया में फैल चुके हैं ये संक्रमण, वैश्विक महामारी से जुड़ा अपना नॉलेज यहां टेस्ट करें

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कोरोना वायरस (कोविड 19) का टीका: क्या वैक्सीन के साइड इफेक्ट की होगी चिंता? 

कोरोना वायरस का टीका जल्द ही लॉन्च होनेवाली है। इस वैक्सीन के क्या होंगे साइड इफेक्ट्स? covid 19 vaccine, covid 19 side effects

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
कोविड 19 उपचार, कोरोना वायरस अगस्त 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

गृह मंत्री अमित शाह भी आए कोरोना की चपेट में, देश में नहीं थम रही कोरोना की रफ्तार

देश में कोरोना की रफ्तार बढ़ती ही जा रही है, कई राजनेताओं को अपनी चपेट में ले चुका कोरोना गृह मंत्रालय तक पहुंच गया है, अमित शाह कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh

कोरोना वायरस एयरबॉर्न : WHO कोविड-19 वायु जनित बीमारी होने पर कर रही विचार

क्या कोरोना वायरस एयरबॉर्न है, क्या कोरोना वायरस हवा से फैलने वाली बीमारी है, हवा से फैल रहे कोरोना वायरस को कैसे रोकें, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO), Corona virus airborne.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
कोविड-19, कोरोना वायरस जुलाई 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

15 अगस्त तक लॉन्च हो सकती है भारत की स्वदेशी कोरोना वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’

कोवैक्सीन क्या है, भारत की स्वदेशी कोरोना वैक्सीन, आईसीएमआर, भारत बायोटेक, BBV152, भारत की स्वदेशी वैक्सीन का नाम क्या है, Covaxin corona vaccine.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
कोविड 19 और शासन खबरें, कोरोना वायरस जुलाई 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

हार्ट पर कोविड-19 का प्रभाव, heart issues after recovery from coronavirus

कोविड-19 रिकवरी और हार्ट डिजीज का क्या है संबंध, जानिए एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ सितम्बर 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
PPI medicines - पीपीआई से कोरोना

क्या पेंटोप्रोजोल, ओमेप्रोजोल, रैबेप्रोजोल आदि एंटासिड्स से बढ़ सकता है कोविड-19 होने का रिस्क?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस

गणेश चतुर्थी 2020 : गणेश चतुर्थी को लेकर सरकार ने जारी किए ये गाइडलाइन, जानें क्या नहीं करना होगा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ अगस्त 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
सीरो सर्वे एंटीबॉडी टेस्ट

सीरो सर्वे को लेकर क्यों हो रही है चर्चा, जानें एक्सपर्ट से इसके बारे में सबकुछ

के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अगस्त 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें