HPV वैक्सीन: सर्वाइकल कैंसर वैक्सीन कब लेना सही है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट January 20, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

सर्वाइकल कैंसर वैक्सीन क्या है?

सर्वाइकल कैंसर एक प्रकार का गंभीर कैंसर है। ये कैंसर महिलाओं में गर्भाशय ग्रीवा (cervix)में  कोशिकाओं की असामान्य वृद्धि है। ये कैंसर ज्यादातर गर्भाशय ग्रीवा की सतह पर  होते हैं। मानव पैपिलोमावायरस (human papillomavirus ) के कारक, यौन संचारित संक्रमण(sexually transmitted infection), सबसे अधिक ग्रीवा कैंसर का कारण होता है। एक समय था जब अमेरिका में सर्वाइकल कैंसर महिलाओं में मौत का एक प्रमुख कारण था, यह उस समय बदल गया जब स्क्रीनिंग टेस्ट हर जगह उपलब्ध हो गया। इसके अलावा सर्वाइकल कैंसर वैक्सीन यानि एचपीवी वैक्सीन के टीकाकरण दुनिया भर में सर्वाइकल कैंसर के प्रभाव को कम करने में मदद कर रहे हैं।आपका यह जानना जरुरी हो सकता है कि सर्वाइकल कैंसर वैक्सीन क्या है? एचपीवी वैक्सीन क्या हैं? गार्डासिल वैक्सीन क्या है? और यह कैसे कार्य करता है। 

और पढ़ें – बार-बार होने वाले मुंह के छाले की वजह से हो सकता है कैंसर?

HPV वैक्सीन कैसे काम करता है?

एचपीवी HPV के कई प्रकार के उप भेद यौन संपर्क में आने से फैलते हैं, इसके अलावा यह सर्वाइकल कैंसर के ज्यादातर मामलों से जुड़े होते हैं। गार्डासिल 9 एक एचपीवी (HPV) वैक्सीन है इसको अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन द्वारा मंजूरी दी गई  है और इसका उपयोग लड़कियों और लड़कों दोनों के लिए किया जा सकता है।यदि किसी लड़की या महिला को किसी वायरस के संपर्क में आने से पहले एचपीवी (HPV) वैक्सीन दिया गया हो तो इस टीकाकरण से सर्वाइकल कैंसर (गर्भाशय ग्रीवा) के अधिकांश मामलों को रोका जा सकता है। इतना ही नहीं इसके अलावा, यह टीका महिलाओं में योनि (वजाइना)और वल्वर कैंसर (vulvar) को रोक सकता है। यह महिलाओं और पुरुषों में जननांग मौसा (Genital warts) और गुदा कैंसर (Anal cancer)को रोक सकता है। एचपीवी के कुछ प्रकार भी मुंह और गले के कैंसर से जुड़े हुए हैं, इसलिए एचपीवी वैक्सीन इन कैंसर से भी सुरक्षा प्रदान करने में मदद करता है।

एचपीवी वैक्सीन शॉट्स कैसे दिया जाता है?

एचपीवी वैक्सीन शॉट्स की एक चेन में दिया जाता है। सबसे पहले तो 15-45 वर्ष के लोगों के लिए, एचपीवी वैक्सीन 3 अलग-अलग शॉट्स में दिए जाते हैं। दूसरा शॉट पहले के 2 महीने बाद दिया जाता है, और तीसरा शॉट दूसरे शॉट के 4 महीने बाद दिया जाता है। तो, सभी 3 शॉट्स लेने में लगभग 6 महीने लगते हैं। 9-14 वर्ष के लोगों के लिए, आपको केवल 2 शॉट्स लेने की आवश्यकता है। 


गार्डासिल वैक्सीन क्या है?

गार्डासिल एक प्रकार का वैक्सीन है जो मानव पेपिलोमा वायरस (एचपीवी) या गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर और जननांग मौसा से सुरक्षा प्रदान करने के लिए दिया जाता है। अब यह सभी जगह आसानी से मिल जाता है। इस नए वैक्सीन के बारे में बताए तो, गार्डासिल एक प्रकार का वैक्सीन है, जिसे एफडीए द्वारा जून 2006 में उपयोग किया गया था। यह मानव पैपिलोमावायरस (एचपीवी) के चार उपभेदों को लक्षित करता है – एचपीवी -6, 11, 16 और 18 एचपीवी -16 और एचपीवी -18 सभी सर्वाइकल कैंसर का लगभग 70% हिस्सा है। एचपीवी -6 और -11 जननांग मौसा के बारे में 90% का कारण बनता है। एचपीवी गुदा कैंसर से भी जुड़ा हुआ है।

और पढ़ें – Gallbladder Cancer: पित्त का कैंसर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

एचपीवी वैक्सीन किसको देना चाहिए?

आपको बता दें कि 9 से 45 वर्ष के सभी लोग जननांग मौसा और  विभिन्न प्रकार के एचपीवी से बचाव के लिए एचपीवी वैक्सीन ले सकते हैं जो कैंसर का कारण बन सकते हैं। शोध कि मानें तो यह सलाह दी गई है कि बच्चों को 11 या 12 साल की उम्र में वैक्सीन मिल जाए, इसलिए वे यौन रूप से सक्रिय होने से पहले पूरी तरह से संरक्षित हैं। लेकिन आपकी उम्र की परवाह किए बिना, यह जानने के लिए कि क्या एचपीवी वैक्सीन आपको फायदा पहुंचा सकती है,इसके बारें में आप अपने नर्स या डॉक्टर से बात करें।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

एचपीवी वैक्सीन कौन नहीं ले सकता है?

एचपीवी वैक्सीन गर्भवती महिलाओं या ऐसे लोगों के लिए नहीं है जो मामूली या गंभीर रूप से बीमार हैं। अपने डॉक्टर को बताएं कि क्या आपको कोई गंभीर एलर्जी है, जैसे खमीर या लेटेक्स से एलर्जी है। इसके अलावा, अगर आपको वैक्सीन के किसी भी घटक या वैक्सीन की पिछली खुराक से एलर्जी की प्रतिक्रिया हुई है, तो आपको वैक्सीन नहीं लेनी चाहिए।

यदि आप पहले से सेक्स में सक्रिय हैं तो क्या एचपीवी वैक्सीन लाभदायक है या नहीं?

तो इसका जवाब है हैं…यदि आप पहले से सेक्स में सक्रिय हैं तो भी आपको वैक्सीन से राहत मिल सकती हैं क्योंकि यह आपको अन्य उपभेदों से बचा सकता है जो आपके पास अभी तक नहीं हैं। लेकिन टीके में से कोई भी एचपीवी संक्रमण का इलाज नहीं कर सकता है। टीके केवल एचपीवी के विशिष्ट उपभेदों से आपकी रक्षा करते हैं।

एचपीवी या HPV वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स क्या हैं?

कई शोध द्वारा यह पता चलता है कि एचपीवी या HPV वैक्सीन का टीकाकरण एक सुरक्षित वैक्सीन है। एचपीवी वैक्सीन के साइड इफेक्ट के सबसे साधारण साइड इफेक्ट अस्थायी दर्द और लालिमा हो सकता है जिसके लिए आपको गोली दी जाती है। एचपीवी वैक्सीन विवादास्पद होने के कारणों में से एक है क्योंकि यह एक यौन संचारित संक्रमण को रोकता है, जो कुछ लोगों को बच्चों के लिए अनुचित मानने के लिए प्रेरित करता है। लेकिन, अगर आप इसे संभोग करने से पहले लगवाते हैं तो यह वैक्सीन सबसे बेहतर कार्य करती है। इसलिए जब आपकी उम्र कम होती है तो इसे लगवाना एक बेहतर विकल्प हो सकता  है, इसे लगवाने के बाद आपको भविष्य में कैंसर होने कि संभावना कम हो जाती है। अध्ययनों से पता चलता है कि एचपीवी वैक्सीन कम उम्र में अधिक सेक्स या यौन संबंध रखने वाले लोगों के लिए नहीं है। इसलिए बच्चों को एचपीवी वैक्सीन देने से उन्हें सेक्स करने के लिए प्रोत्साहित नहीं किया जा सकता है। यह सब उन्हें वयस्कता में जननांग मौसा और कैंसर से बचाने में मदद करता है।

और पढ़ें – सर्वाइकल कैंसर डिसीज क्या है, जाने इसके लक्षण और उपचार

उच्च जोखिम वाले एचपीवी के लिए उपचार क्या है ?

यदि आपके पास एचपीवी उच्च जोखिम है, तो यह असामान्य कोशिका परिवर्तन का कारण बन सकता है जो कैंसर का कारण बन सकता है। यदि आपके पास असामान्य पैप परीक्षण परिणाम है, तो आपको आगे के परीक्षणों और उपचार की आवश्यकता हो सकती है।

कोलपोस्कोपी – गर्भाशय ग्रीवा में अधिक बारीकी से देखने के लिए एक प्रक्रिया यह देखने के लिए कि क्या वहां पर अचेतन कोशिकाएं हैं।

क्रायोथेरेपी – गर्भाशय ग्रीवा से पूर्ववर्ती कोशिकाओं को मुक्त करने और हटाने के लिए एक उपचार।

एलईईपी या लूप इलेक्ट्रोसर्जिकल एक्सिस प्रक्रिया – एक विद्युत धारा के साथ गर्भाशय ग्रीवा से पूर्ववर्ती कोशिकाओं को हटाने के लिए एक उपचार।

यदि मुझे पहले से ही HPV इंफेक्शन है, तो क्या टीका इलाज में मददगार हो सकता है?

तो इसका जवाब है नहीं..यदि आपको पहले ही HPV इंफेक्शन है तो ऐसे में यह वैक्सीन आपका इलाज करने में सक्षण नहीं हो सकता है।लेकिन यह आपको अन्य प्रकार के इंफेक्शन से बचाने में मदद कर सकता है। यदि आपके पास एचपीवी संक्रमण है, तो अपने चिकित्सक या नर्स से बात करके पता करें कि आपको कौन से परीक्षण या उपचार की आवश्यकता है।

यदि मैनें एचपीवी वैक्सीन लिया है तो क्या पैप / एचपीवी टेस्ट कराने की जरूरत है?

तो इसका जवाब है हैं…सर्वाइकल कैंसर को पता करने और रोकने के लिए  पैप परीक्षण करना अभी भी एक बेहतर विकल्प माना जाता है। आपको यह जानना बेहद जरुरी है कि एचपीवी वैक्सीन उन सभी प्रकार के एचपीवी से बचाव नहीं करता है जो कैंसर का कारण बन सकते हैं। इसलिए किसी भी कोशिका परिवर्तन का पता करने के लिए पैप / एचपीवी परीक्षण करवाना महत्वपूर्ण है।

और पढ़ें – सर्वाइकल कैंसर और सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस को लेकर लोग अक्सर रहते हैं कंफ्यूज, ये दोनों हैं अलग बीमारी

एचपीवी वैक्सीन कहां मिल सकता है?

एचपीवी वैक्सीन आप कई नियोजित पितृत्व स्वास्थ्य केंद्रों में प्राप्त कर सकते हैं। आप इसे अन्य क्लीनिकों, स्वास्थ्य विभागों और निजी नर्सों और डॉक्टरों से भी प्राप्त कर सकते हैं।

उपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Colic: कोलिक क्या है ?

कोलिक क्या है? शिशुओं में कोलिक का इलाज colic infant in hindi शिशुओं में कोलिक होना कोई बड़ी बीमारी नहीं है, लेकिन यह बच्चों में कई समस्या उत्पन्न करता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया shalu

एक्टिनिक केराटोसिस का समय पर करें इलाज, नहीं तो हो सकता है कैंसर

जानिए एक्टिनिक केराटोसिस क्या है in hindi, एक्टिनिक केराटोसिस का इलाज कैसे कर सकते है, actinic-keratosis के उपचार के दौरान जानें किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu

लॉकडाउन में घर से ऐसे काम कर रही है हैलो स्वास्थ्य की टीम, जिससे आपको मिलती रहे हेल्थ से जुड़ी हर अपडेट

लॉकडाउन में जिंदगी: कोरोना वायरस के चलते देशभर में लॉकडाउन है। ज्यादातर लोग वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं। हैलो स्वास्थ्य की टीम भी इसमें पीछे नहीं हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mona narang
कोरोना वायरस, इंफेक्शस डिजीज April 8, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें

Achiote : अचीओट क्या है ? जानिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट

जानिए अचीओट की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, अचीओट उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, achiote डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया shalu

Recommended for you

Narcotic abuse ka ilaj

Narcotic Abuse: नारकोटिक अब्यूज क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ June 24, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
वेट लॉस डायट चार्ट

वेट लॉस डायट चार्ट: जरूर ट्राई करें ये आसान और असरदार डायट चार्ट

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ May 16, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
महिलाओं में वुलवोडीनिया

Vulvodynia: वुलवोडीनिया क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ April 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
एट्रोफिक गैस्ट्रेटिस के कारण/Atrophic gastritis ka ilaj

क्या आप जानते हैं एट्रोफिक गैस्ट्रेटिस के कारण और इलाज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ April 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें