सर्वाइकल कैंसर क्या है, जानें इसके लक्षण और उपचार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट February 22, 2021 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

सर्वाइकल कैंसर (Cervical Cancer) डिसीज को ग्रीवा कैंसर भी कहते हैं। सर्वाइकल कैंसर डिसीज महिलाओं से जुड़ा हुआ कैंसर है। महिलाओं में कैंसर से होने वाली मौत का मुख्य कारण सर्वाइकल कैंसर ही होता है। ग्रीवा कैंसर से महिलाओं की मौत अधिक इसलिए भी होती है क्योंकि महिलाओं को सर्वाइकल कैंसर के लक्षण पता चलने के बावजूद भी सही समय पर इलाज नहीं हो पाता है। ट्रीटमेंट सही समय पर न मिलने पर कैंसर सेल्स की ग्रोथ होती जाती है और ये शरीर के अन्य भागों में भी फैलने लगता है। महिलाएं सर्वाइकल कैंसर डिसीज की रेगुलर स्क्रीनिंग नहीं करवा पाती हैं, जो उनकी मौत का कारण भी बन जाता है। भारत में 30 से 59 की उम्र की करीब 160 मिलियन महिलाएं सर्वाइकल कैंसर डेवलपमेंट के रिस्क में जी रही हैं। हर साल भारत में 77,300 नए केस डायग्नोज होते हैं और 37,800 लोगों को मौंत हो जाती है।

और पढ़ें : ‘पॉ द’ऑरेंज’ (Peau D’Orange) कहीं कैंसर तो नहीं !

सर्वाइकल कैंसर डिसीज के कारण क्या है? (Cause of Cervical Cancer)

सर्वाइकल कैंसर डिसीज सर्विक्स यानी ग्रीवा की लाइनिंग के नीचे के हिस्से को इफेक्ट करता है। सर्वाइकल कैंसर अचानक से डेवलप नहीं होता है, बल्कि धीरे-धीरे डेवलप होता है। जब महिलाओं के अंदर सर्वाइकल कैंसर पनप चुका होता है तो उन्हें अक्सर इसलिए नहीं पता चल पाता है, क्योंकि इस कैंसर के लक्षण कुछ खास पता नहीं चल पाते हैं। सर्विक्स की लाइनिंग के नीचे के हिस्से की सेल्स लगातर अपनी संख्या बढ़ाती रहती हैं जो कैंसर का कारण बन जाता है।

सर्वाइकल कैंसर डिसीज की मुख्य वजह वायरस को माना जाता है। एचपीवी वायरस (ह्यूमन पेपिलोमा वायरस) के कारण इंफेक्शन की समस्या हो जाती है जो आगे चलकर सर्वाइकल कैंसर की बीमारी बन जाता है। एचपीवी वायरस के कारण इंफेक्शन की समस्या हो जाती है। संक्रमण सेक्शुअल इंटरकोर्स के कारण हो सकता है। कई बार स्किन टच भी वायरस के फैलने का कारण बन जाता है। सर्वाइकल कैंसर की बीमारी में माहवारी यानी पीरियड्स का असामान्य होना या फिर सेक्स के दौरान दर्द महसूस होना, पीरियड्स के दौरान अधिक मात्रा में रक्त निकलना आदि लक्षण दिखाई दे सकते हैं।

और पढ़ें : HPV वैक्सीन: सर्वाइकल कैंसर वैक्सीन कब लेना सही है?

सर्वाइकल कैंसर डिसीज के प्रकार (Types of Cervical Cancer)

स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा(Squamous cell carcinoma)

ये सर्वाइकल कैंसर सर्विक्स की लाइनिंग में होता है। करीब 90% केसेज में इसी प्रकार का सर्वाइकल कैंसर पाया जाता है।

एडिनोकार्सिनोमा (Adenocarcinoma)

एडिनोकार्सिनोमा टाइप के सर्वाइकल कैंसर का जन्म उन कोशिकाओं में होता है, जिनमे म्युकस जनरेट होता है।

मिक्स्ड कार्सिनोमा (Mixed carcinoma)

इस तरह का ग्रीवा कैंसर लक्षणों के आधार पर बांटा जा सकता है।

सर्वाइकल कैंसर की बीमारी के कारण स्किन वार्ट्स या अन्य स्किन डिसऑर्डर हो सकता है। जानिए क्या हैं ग्रीवा कैंसर के रिस्क फैक्टर,
कुछ कारण की वजह से आपको सर्वाइकल कैंसर का खतरा अधिक हो सकता है जैसे कि,

और पढ़ें : ट्रिपल-नेगिटिव ब्रेस्ट कैंसर (Triple-Negative Breast Cancer) क्या है ?


ग्रीवा कैंसर के लक्षण (Symptoms of Cervical Cancer)

ग्रीवा कैंसर के लक्षण तुरंत पता नहीं चलते हैं। फिर भी कुछ लक्षणों को देखकर बीमारी का पता लगाया जा सकता है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

सर्वाइकल कैंसर डिसीज का ट्रीटमेंट (Treatment for Cervical Cancer)

अगर ग्रीवा कैंसर जल्द पकड़ में आ जाता है तो कुछ ट्रीटमेंट की हेल्प से इस समस्या से निजात पाई जा सकती है।

सर्जरी (Surgery)

सर्जरी की परपज ये रहता है कि कैंसर सेल्स को जितना पॉसिबल हो, हटा दिया जाए। कुछ सर्जरी में सर्जन सर्विक्स का कुछ एरिया हटा देते हैं। अगर कैंसर अधिक फैल गया है तो सर्विक्स को भी निकाला जा सकता है।

रेडिएशन थेरिपी (Radiation therapy)

रेडिएशन थेरिपी में हाई-एनर्जी एक्स-रे बीम का यूज कैंसर सेल्स को मारने के लिए किया जाता है।

कीमोथेरिपी (Chemotherapy)

कीमोथेरिपी में ड्रग्स की हेल्प कैंसर सेल्स को किल किया जाता है। डॉक्टर ट्रीटमेंट को साइकिल के रूप में देते हैं। साथ ही बॉडी को रिकवर होने के लिए समय भी दिया जाता है।

टारगेट थेरिपी (Targeted therapy)

अवास्टिन(Avastin) दवा कीमोथेरेपी और विकिरण के दौरान अलग तरीके से काम करती है। इस दवा की हेल्प से ब्लड वैसल्स का विकास रुक जाता है जिससे कैंसर सेल्स की ग्रोथ भी रुक जाती है। ये दवा कीमोथेरिपी के साथ दी जाती है।

इन बातों का रखें ध्यान

  • सर्वाइकल कैंसर की बीमारी से बचने के लिए नियमित स्क्रीनिंग कराना जरूरी होता है।
  • सर्वाइकल कैंसर से बचाव के लिए वैक्सीन भी लगाएं जाते हैं। अगर सही समय पर महिलाएं वैक्सीनेशन करवा लें तो भी इस बीमारी से बचा जा सकता है।
  • जांच के लिए कुछ समय के अंतराल पर या डॉक्टर से परामर्श करने के बाद स्मीयर टेस्ट जरूर कराएं।
  • कैंसर को बढ़ाने के लिए जो फैक्टर प्रभावी होते हैं, उनकी ओर महिलाएं जरूर ध्यान दें। कैंसर का मुख्य कारण खराब लाइफस्टाइल भी हो सकता है। बेहतर होगा कि हेल्दी फूड लें और रेगुलर एक्सरसाइज पर ध्यान भी दें। एल्कोहल और स्मोकिंग से दूरी बना कर रखें।

सर्वाइकल कैंसर डिसीज के लिए टेस्ट (Test for Cervical Cancer)

सर्वाइकल कैंसर टेस्ट यानी पेप स्मीयर टेस्ट डॉक्टर सर्वाइकल कैंसर को टेस्ट करने के लिए करते हैं। सर्वाइकल कैंसर से बचने के लिए कुछ स्क्रीनिंग टेस्ट 21 से 29 साल की उम्र में करवा लेने चाहिए। साथ ही 30 साल की उम्र से 65 साल की उम्र में भी पेप स्मीयर टेस्ट करवा लेना चाहिए। एचपीवी वैक्सीनेशन करवाना भी इस समस्या से बचने का उपाय है।

और पढ़ें :  एसटीडी और सर्वाइकल कैंसर में क्या संबंध है?

सर्वाइकल कैंसर डिसीज : डॉक्टर से करें परामर्श

सवाईकल कैंसर डिसीज (Cervical Cancer Disease) होने पर भूख कम लगना, यौन संबंध बनाने में दर्द महसूस होना, डिस्चार्ज की अधिक समस्या होना, पैरों में दर्द महसूस होना आदि समस्याएं हो जाती हैं। साथ ही वजन में भी कमी महसूस होने लगती हैं। अगर समय रहते लक्षणों को पहचान लिया जाए तो सर्वाइकल कैंसर डिसीज से निपटा जा सकता है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें। बिना डॉक्टर के परामर्श किसी भी तरह का फैसला न लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

सर्वाइकल कैंसर और सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस में न हो कंफ्यूज, ये दोनों हैं अलग बीमारी

जानें सर्वाइकल कैंसर और सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस से जुड़ी तमाम जानकारी in hindi, Cervical cancer & Cervical Spondylitis facts हिंदी में।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Piyush Singh Rajput
कैंसर, सर्वाइकल कैंसर February 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

एसटीडी और सर्वाइकल कैंसर में क्या संबंध है?

एसटीडी और सर्वाइकल कैंसर का संबंध क्या है? क्या एसटीडी और सर्वाइकल कैंसर एक है? Complete information about STD and Cervical Cancer in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
कैंसर, सर्वाइकल कैंसर February 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

तो क्या 2120 तक खत्म हो जाएगी सर्वाइकल कैंसर की बीमारी?

सर्वाइकल कैंसर की बीमारी को लेकर शोधकर्ताओं ने कुछ तर्क दिए हैं। अगर ये तर्क सही साबित होते हैं तो 100 वर्षों के अंदर सर्वाइकल कैंसर की बीमारी को पूरी तरह से खत्म किया जा सकता है। 

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
स्वास्थ्य, हेल्थ न्यूज February 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

ऑव्युलेशन पेन के लक्षण और उपचार क्या हैं?

ऑव्युलेशन के दौरान जब अंडाशय से अंडा बाहर निकलता है, उस समय महिला को ऑव्युलेशन पेन के लक्षण हो सकते हैं। ऑव्युलेशन पेन के लक्षण बुखार आना, उलटी महसूस होना आदि हैं...जानें ऑव्युलेशन पेन के कारण, ऑव्युलेशन पेन के उपचार, ovulation pain in hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Mayank Khandelwal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

Recommended for you

सेक्स के बाद क्या होता है?

सेक्स के बाद क्या होता है? जानिए वर्जिनिटी खोने से पहले कुछ विशेष तथ्यों के बारे में

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ July 29, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
रेजेस्ट्रोन

Regestrone: रेजेस्ट्रोन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ June 3, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
menstrual disorders,मेंस्ट्रुअल डिसऑर्डर के लिए आयुर्वेदिक टिप्स

Menstrual Hygiene Day : मेंस्ट्रुअल डिसऑर्डर से लड़ने और हाइजीन मेंटेन करने के लिए जानिए क्या हैं आयुर्वेदिक टिप्स

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ May 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Period Stains, पीरियड्स के दाग

पीरियड्स के दाग अगर आपको कर रहे हैं परेशान तो अपनाएं ये तरीके

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ May 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें