धूम्रपान से दांतों को नुकसान: स्मोकिंग की लत दांतों को कर सकती है धुआं-धुआं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट October 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

धूम्रपान(Smoking) से होने वाले स्वास्थ्य संबंधी नुकसानों के बारे में अधिकतर लोग बखूबी वाकिफ हैं, लेकिन इसके बाद भी धूम्रपान के आदी इससे दूरी नहीं बना पाते। इस आर्टिकल में हम बताएंगे कि स्मोकिंग न सिर्फ कई बीमारियों को जन्म देती है बल्कि, आपकी पर्सनैलिटी से जुड़े एक महत्वपूर्ण हिस्से यानी दांतों को भी खराब करती है। जानें कैसे स्मोकिंग से दांतों को नुकसान पहुंचता है और आप समय से पहले बूढ़े हो जाते हैं।

धूम्रपान से दांतों को नुकसान कैसे पहुंचता है?

स्मोकिंग से गम्स के टिशू सेल पर बुरा असर पड़ता है। धूम्रपान से दांतों को नुकसान पहुंचाने के लिए बैक्टीरियल प्लाक भी जिम्मेदार होता है। बैक्टरीरियल प्लाक काफी मात्रा में बनता है। इससे मसूड़ों की बीमारी होती है। स्मोकिंग करने से ब्लड सर्कुलेशन में ऑक्सिजन की कमी होती है और मसूड़े प्रभावित होते हैं।

और पढ़ें : पूरी जिंदगी में आप इतना समय ब्रश करने में गुजारते हैं, जानिए दांतों से जुड़े ऐसे ही रोचक तथ्य

किस तरह का असर पड़ता है दांतों पर?

धूम्रपान से दांतों को नुकसान अंदरुनी और बाहरी दोनों तौर पर होता है। यह दांतों की सुंदतरता और मजबूती दोनों को धीरे-धीरे खत्म कर देता है।

1. गोंद की बीमारी– दरअसल धुएं में निकोटीन होता है, जो बैक्टीरिया के विकास के विकास में काफी मदद करता है। इससे प्लाक बनता है और यह दांतों में गोंद की बीमारी को जन्म देता है।
2. पेरियोडोंटल बीमारी– अगर कोई ज्यादा स्मोकिंग करता है, तो उसके पेरियोडोंटल (Periodontal) बीमारी की चपेट में आने की आशंका ज्यादा होती है। दरअसल, धुएं में मौजूद निकोटिन हड्डियों में खनिजों की मात्रा को कम करता है, इससे पेरियोडोंटल (Periodontal) बीमारी के मामले बढ़ते हैं।
3. सूजन व पस का बनना– धूम्रपान करने वालों में काले दाग आम बात हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, एक तरफ जहां ये मसूड़ों की उचित सफाई की अनुमति नहीं देते हैं, वहीं दूसरी तरफ दर्द व सेंसिटिविटी को निरंतर बढ़ावा देते हैं। इससे मसूड़ों में सूजन हो जाती है और पस बनने लगता है।

4. मसूड़ों की बीमारी को दबाना– धूम्रपान का एक और सबसे बड़ा नुकसान ये है कि यह मसूड़े की बीमारी का पता नहीं चलने देता। इससे शुरुआत में बीमारी का पता नहीं चल पाता। इस बीच स्मोकिंग से दांत और सहायक ऊतक (Accessory tissue), संक्रमित होने लगते हैं और धीरे-धीरे आपके दांत कमजोर होने लगते हैं।
5. मसूड़े कमजोर होने और बदबू की समस्या– धूम्रपान करने से मसूड़े भी कमजोर होने लगते हैं। यही नहीं दांतों की वजह से मुंह से बदबू भी आने लगती है।

और पढ़ें : जानिए मुंह में छाले (Mouth Ulcer) होने पर क्या खाएं और क्या न खाएं

दांतों की देखभाल कैसे करें?

धूम्रपान से दांतों को नुकसान की चर्चा के बाद इनकी देखभाल की बात भी जरूरी है। अब बात करेंगे कि आखिर कैसे आप कुछ बातों का ध्यान रखकर अपने दांतों को सुरक्षित रख सकते हैं?

स्मोकिंग छोड़ने का प्रयास करें

दांतों को होने वाले नुकसान से बचाने के लिए सबसे बेहतर यही है कि आप धूम्रपान छोड़ दें। शुरुआत में आपको दिक्कत हो सकती है, लेकिन धीरे-धीरे अगर कोशिश करें तो आप सफल हो सकते हैं। अगर एकदम से छोड़ना बहुत मुश्किल है, तो पहले आप दिन में जितनी सिगरेट पीते हैं पहले उसे घटाएं।

डेंटिस्ट से मिलें

अगर आप धूम्रपान नहीं छोड़ पा रहे हैं और दांत भी खराब हो रहे हैं, तो बिना देरी किए आपको डेंटिस्ट से चेकअप कराना चाहिए। डेंटिस्ट दांतों की सफाई की सलाह देने के साथ ही कई अन्य जरूरी सावधानियां भी बता सकता हैं, जो आपके काफी काम आएंगी।

और पढ़ें : दांतों की कैविटी से बचना है तो ध्यान रखें ये बातें

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

कुछ खास टीथ प्रोडक्ट का करें इस्तेमाल

आप दांतों को ठीक रखने के लिए कुछ स्पेशल टीथ प्रोडक्ट भी इस्तेमाल कर सकते हैं। बाजार में धूम्रपान करने वालों के लिए स्पेशल टूथपेस्ट मोजूद हैं, जो आम टूथपेस्ट से अलग होते हैं। ये आपके दांतों से गंदगी हटाते हैं।

दिन में दो बार करें दांतों की सफाई

आप अगर दांतों को साफ व स्वस्थ रखना चाहते हैं तो दिन में कम से कम दो बार नियमित रूप से ब्रश करें। जितनी बार भोजन करें, उतनी बार पानी के साथ अच्छे से कुल्ला करें।

दांतों की सफाई

आपको नियमित रूप से एक समय अवधि में अपने दांतों की स्केलिंग, रूट प्लानिंग और उनकी क्लिनिकल सफाई भी करनी चाहिए। धूम्रपान(Smoking) कई लोगों खासकर युवाओं के लाइफ स्टाइल का सबसे जरूरी हिस्सा बन चुका है। यही वजह है कि वे इसके हर खतरों को नजरअंदाज करते हैं। स्मोकिंग न सिर्फ कई बीमारियों को जन्म देता है, बल्कि ये आपकी पर्सनैलिटी से जुड़े एक महत्वपूर्ण हिस्से यानी दांतों को भी खराब करता है।

और पढें : तेजी से ब्रश करना दांतों को कर सकता है कमजोर

स्मोकिंग के साथ-साथ इन चीजों से भी करें परहेज

  • कैंडीज दांतों में चिपक जाती हैं। कैंडी में कई तरह के एसिड होते हैं। ये एसिड्स दांतों पर लम्बे समय तक बने रहते हैं। इस वजह से दांतों में सड़न की संभावना बढ़ जाती है।
  • वाइट ब्रेड खाते ही लार स्टार्च को शुगर में तोड़ना शुरू कर देती है। ब्रेड दांतों के बीच में चिपक जाता है। इस वजह से दांतों को नुकसान पहुंचता है।
  • एल्कोहॉल के सेवन से लार कम बनती है। सलाइवा या लार दांतों को स्वस्थ रखने के साथ ही खाने को दांतों में चिपकने से रोकती है। दांतों की समस्या से बचना चाहते हैं तो मुंह को हाइड्रेट रखें।
  • अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन के मुताबिक किसी भी कठोर पदार्थ को चबाने से इनेमल को नुकसान हो सकता है। बर्फ से भी दांतों को दिक्कत हो सकती है।
  • धूम्रपान से दांतों को नुकसान पहुंचता है लेकिन कोल्ड ड्रिंक्स भी दांतों को नुकसान पहुंचाने में पीछे नहीं होती। कोल्ड ड्रिंक्स को कार्बोनेटेड पानी से बनाया जाता है। इसकी वजह दांत और मसूड़े कमजोर हो जाते हैं।
  • आलू के चिप्स मोटापा ही नहीं दांतों की सेहत के लिए भी नुकसानदायक होते हैं। इनमें स्टार्च होने की वजह बैक्टीरिया ज्यादा पनपते हैं। इस वजह से दांतों को नुकसान पहुंचता है।

दांतों की देखभाल के साथ ही जीभ को साफ करना भी ना भूलें। चूंकि ओरल हेल्थ कई अन्य बीमारियों की जड़ हो सकती है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

जानें गांजा पीना खतरनाक है या लोगों को राहत दिलाने का करता है काम

गांजा पीना कई मामलों में फायदेमंद है तो कुछ मामलों में शरीर के लिए हानिकारक भी है, इससे कई प्रकार की बीमारी होती है, वहीं आप बीमार हैं तो मौत तक हो सकती है

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
अच्छी आदतें, धूम्रपान छोड़ना August 12, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

दांत दर्द का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानें कौन सी जड़ी-बूटी है असरदार

दांत दर्द का आयुर्वेदिक इलाज इन हिंदी, दांत दर्द का आयुर्वेदिक इलाज कैसे करें, टूथएक का इलाज कैसे करें, Ayurvedic Medicine and Treatment for tooth pain

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
ओरल हेल्थ, दांतों की समस्या June 26, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

स्मोकर्स के लिए 6 जरूरी मेडिकल टेस्ट, जो एलर्ट करते हैं बड़ी हेल्थ प्रॉब्लम के बारे में

यदि आप भी सिगरेट पीते हैं तो आपको पता होना चाहिए कि स्मोकर्स के लिए मेडिकल टेस्ट कराना क्यों जरूरी है और कौन-कौन से टेस्ट है जो हर स्मोकर्स को कराने चाहिए।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
अच्छी आदतें, धूम्रपान छोड़ना May 21, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

क्या आप दांतों की समस्याएं डेंटिस्ट को दिखाने से डरते हैं? जानें डेंटल एंग्जायटी के बारे में 

डेंटल एंग्जायटी की बीमारी को जितना इग्नोर करेंगे हमारे दांतों के साथ सेहत को उतना ही नुकसान होगा। जरूरी है कि बीमारी का सही समय पर इलाज करवाएं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
दांतों की समस्या, ओरल हेल्थ May 20, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

ऑर्थोडोंटिक्स ट्रीटमेंट - Orthodontic Treatment

ऑर्थोडोंटिक्स ट्रीटमेंट से ठीक करें दांतों का शेप, इतना आएगा इलाज में खर्च

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ February 11, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें
दांत दर्द के लिए होम्योपैथिक दवाएं, Homeopathy for toothache

आपकी मुस्कान में दखल देने वाले दांत दर्द को भगाएं होम्योपैथी से

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ January 25, 2021 . 4 मिनट में पढ़ें
स्मोकिंग सर्वे - smoking survey

क्या आप छोड़ना चाहते हैं स्मोकिंग की लत?

के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
प्रकाशित हुआ October 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
स्मोकिंग का स्किन पर इफेक्ट

स्मोकिंग स्किन को कैसे करता है इफेक्ट?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ August 19, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें