जब सताए दांतों में सेंसिटिविटी की समस्या, तो ऐसे पाएं निजात

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट December 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

लगभग 90 फिसदी लोग दांतों से जुड़ी किसी न किसी तरह की समस्या से परेशान हैं। दांतों की सारी समस्याएं न सिर्फ ब्रश करने की आदत बल्कि हमारे खाने-पीने के तौर-तरीकों पर भी निर्भर करती है। इन्हीं में से कुछ गलत आदतों के कारण दांतों में सड़न, मसूड़ों से खून आना और दांतों में सेंसिटिविटी जैसी परेशानी से दो-चार होना सबसे आम वजह है।

यह भी पढ़ेंः दांतों की समस्या को दूर करने के लिए करें ये योग

सवाल

मैं जब भी ज्यादा ठंडा या गर्म खाती हूं, तो मुझे दांतों में सेंसिटिविटी महसूस होती है। क्या आप बता सकते हैं कि मुझे अपने दांतों का ख्याल किस प्रकार रखना चाहिए?

यह भी पढ़ेंः दूध की बोतल से भी बच्चे के दांत हो सकते हैं खराब, जानें छोटे बच्चों में होने वाली 5 आम डेंटल प्रॉब्लम्स

जवाब

दांत हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। हमारे शरीर को जो एनर्जी मिलती है वो खाना खाने से ही मिलती है और हमारा पाचन तंत्र भी मुंह से ही शुरू होता है, इसलिए मुंह और दांतों का ख्याल रखना बहुत जरूरी है। आईये जानते हैं किस प्रकार हम घर से ही मुंह और दांतों का ख्याल रख सकते हैं और दांतों में सेंसिटिविटी की समस्या को दूर कर सकते हैंः

  • दिन में दो बार ब्रश करनाः ये हमे हर दिन फॉलो करना चाहिए। सुबह के बाद और रात को सोने से पहले हमें ब्रश जरूर करना चाहिए।
  • कई लोग ब्रश तो करते हैं, फिर भी उन्हें परेशानी होती है। इसका कारण है कि आपके ब्रश करने का तरीका। जी हां, आपको जेंटल और सर्कुलर मोशन में ब्रश करना चाहिए। ज्यादा जोर से ब्रश करने से आपके दांत क्लीन तो होते ही हैं, लेकिन खराब भी हो सकते हैं।
  • दांतों के साथ-साथ आपतो आपकी जीभ भी क्लीन करनी जरूरी है। ये करने से आपके मुंह से बदबू नहीं आती है। आप मॉउथवा़ॉश का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • ब्रश से उतनी सफाई नहीं मिलती है, जो दांतों के बीच में फंसे खाने को साफ कर सके। इसे साफ करने के लिए दांत साफ करने के धागे का इस्तेमाल करें।
  • हमें अपना टूथ ब्रश हर तीन महीने में बदलना चाहिए। टूथपेस्ट की बात करें तो हमेशा फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का ही इस्तेमाल करना चाहिए।
  • बाकी चीजें जो हम फॉलो कर सकते हैं उनमें क्रंची फ्रूट्स खाना भी हमारे दांतों के लिए अच्छा साबित होता है। हमें पानी भी पीना चाहिए। मीठा और दांतों में सेंसिटिविटी को दूर करने के लिए एसिडिक खानें का इस्तेमाल कम से कम करना चाहिए।

यह भी पढ़ेंः Toothache : दांत दर्द क्या है?

दांतों में सेंसिटिविटी को दूर करने के लिए घरेलु उपाय

दांतों में सेंसिटिविटी : सरसों का तेल और सेंधा नमक

दांतों में सेंसिटिविटी को दूर करने के लिए सरसों के तेल और सेंधा नमक का इस्तेमाल काफी पुराने समय से ही किया जा रहा है। सेंधा नमक में मौजूद एंटी बैक्टीरियल गुण दांतों की संवेदनशीलता को खत्म करने में उपयोगी होते हैं। वहीं, सरसों का तेल मसूड़ों को मजबूती देकर मसूड़ों में संवेदनशीलता को कम करता है। इसके प्रयोग के लिए एक छोटा चम्मच सेंधा नमक और सरसों का तेल डालकर अच्छी तरह से मिला लें। अब इस पेस्ट से दांत और मसूड़ों में अच्छी तरह से मसाज करें। दो से तीन मिनट के बाद गुनगुने पानी से कुल्ला कर लें।

यह भी पढ़ें : दालचीनी के लाभ: हार्ट अटैक के खतरे को करती है कम, बचाती है बैक्टीरियल इंफेक्शन से

शहद के फायदे से दांतों की समस्या होगी छूमंतर

शहद के एंटीबैक्टीरियल गुण यानी बैक्टीरिया को खत्म करता है और यह घाव को जल्दी भरने में भी मदद करता है। हीलिंग की प्रक्रिया को तेज करके शहद दर्द और सूजन को कम करता है। दांतों में सेंसिटविटी को कम करने के लिए भी इसे प्रयोग में लाया जा सकता है। इसके लिए एक चम्मच शहद को एक गिलास गुनगुने पानी में मिलाएं। अब इस पानी से कुल्ला करें इससे दांतों में झनझनाहट से राहत मिलती है।

यह भी पढ़ें : बच्चों का हाथ धोना उन्हें दूर करता है इंफेक्शन से, जानें कब-कब जरूरी है हाथ धोना

दांतों में सेंसटिविटी के लिए हल्दी के फायदे

हल्दी में करक्यूमिन पाया जाता है, जिसमें एंटीइंफ्लेमेटरी (सूजन को खत्म करने वाले) गुण होते हैं। दांतों में सेंसटिविटी और ओरल केयर के लिए दांतों में हल्दी से मसाज करना अच्छा रहता है। इसके लिए एक चम्मच हल्दी में आधा चम्मच नमक और आधा चम्मच सरसों का तेल मिलाकर पेस्ट को दांतों और मसूड़ों पर लगाकर हल्की-हल्की मसाज करें। फिर गर्म पानी से कुल्ला करने से आराम मिलेगा। ऐसा नियमित रूप से रात में करें।

दांतों में सेंसटिविटी के लिए लौंग तेल (Clove oil)

लौंग में एनेस्थेटिक गुण, एंटी-इन्फ्लेमेटरी, एंटी-बैक्टीरियल और एंटीऑक्सिडेंट गुण होते है। ये सारी प्रॉपर्टीज मुंह के इंफेक्शन से लड़ने के साथ ही दांत के दर्द को भी कम करता है। इसके लिए लौंग के तेल में रूई को भिगोकर दांत पर लगाने से संवेदनशीलता दूर होती है और दांत में ठंडा गर्म की समस्या से आराम मिलता है।

यह भी पढ़ें : क्या हैं अकल दाढ़ के बारे में जुड़े मिथक और सच?

दांतों की संवेदनशीलता से छुटकारा दिलाता है नारियल तेल

दांतों की बिमारियों को ठीक करने के लिए कोकोनट ऑयल का इस्तेमाल किया जा सकता है। एक शोध के अनुसार नारियल तेल का कुल्ला करने से मसूड़ों में दर्द और सूजन के लक्षण कम होते हैं। इसके साथ ही यह दांतों में सेंसिटिविटी को भी दूर करने में मदद करता है। कोकोनट ऑयल से ऑयल पुल्लिंग करने से भी दांतों की तमाम बीमारियां दूर होती हैं।

दांतों में सेंसिटिविटी के लिए अजवाइन का तेल

अजवाइन का तेल एंटीसेप्टिक और दर्द निवारक की तरह काम करता है। दांतों में सेंसिटिविटी को दूर करने के लिए अजवाइन के तेल का प्रयोग किया जाता है। यह मुंह के लिए प्रभावी रूप से काम करता है। इसके इस्तेमाल से मुंह के बैक्टीरिया नष्ट हो जाते हैं। ये मसूड़ों की सूजन को भी कम करता है।

दांतों में सेंसिटिविटी से बचाव के लिए इन बातों का भी रखें ख्यालः

अगर आप स्मोकिंग करते हैं, तो उसे आपको छोड़ना चाहिए। सिगरेट में बहुत से घातक पदार्थ होते हैं जो हमारे मसूड़ों को नुकसान पहुंचाते हैं।

ये छोटे बच्चों से लेकर बड़े लोगों तक सभी को प्रतिदिन के तौर पर इसे फॉलो करना बहुत जरूरी है। अगर आपको दांतों या मसूड़ों से जुड़ी कोई भी समस्या होती है, तो तुरंत डेंटिस्ट के पास जाएं।

अगर आप इन आदतों को प्रतिदिन फॉलो करते हैं तो भी आपको साल में कम से कम दो बार अपने डेंटिस्ट के पास जरूर जाना चाहिए। ऊपर बताए गए दांतों में सेंसिटिविटी को दूर करने के उपाय आपको कैसे लगे? हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं साथ ही अगर आपका इस विषय से संबंधित कोई भी सवाल या सुझाव है तो वो भी हमारे साथ शेयर करें।

और पढ़ेंः-

सिर्फ दिल और दिमाग की नहीं, दांतों की भी सोचें हुजूर

बच्चों का पहला दांत निकलने पर कैसे रखना है उनका ख्याल, सोचा है?

दांतों का पीलापन दूर करने वाली टीथ वाइटनिंग कितनी सुरक्षित है?

दांतों की बीमारियों का कारण कहीं सॉफ्ट ड्रिंक्स तो नहीं?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

दांतों से टार्टर की सफाई के आसान 6 घरेलू उपाय

दांतों से टार्टर की सफाई कैसे करें? tartar removal home remedies in hindi, दांतों में जमा मैल को हटाने के उपाय, दांतों से टार्टर की सफाई जरूरी क्यों है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
दांतों की समस्या, ओरल हेल्थ May 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

इन वजहों से आ जाते हैं टॉवेल में कीटाणु, शरीर में प्रवेश कर पहुंचा सकते हैं बड़ा नुकसान

टॉवेल में कीटाणु कहां से आते हैं? टॉवेल की अच्छे से सफाई न किया जाए तो हमारे मल में पाए जाने वाला बैक्टीरिया भी टॉवेल में उत्पन्न हो जाता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh

टीथ ब्रेसेस (दांतों में तार) लगवाने के बाद क्या करें और क्या ना करें?

टीथ ब्रेसेस क्या है, दांतों में तार लगाने का खर्च, डेंटल ब्रेसेस के बाद सावधानियां, teeth braces dos and donts in hindi, टीथ ब्रेसेस के नुकसान, dental braces types in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
ऑर्थोडोंटिक्स, ओरल हेल्थ May 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

ये 5 संकेत इशारा करते हैं कि हो सकता है मुंह में कैंसर, अनदेखा न करें

मुंह में कैंसर के प्रकार, ओरल कैंसर के लक्षण, ओरल कैंसर का इलाज, मुंह में कैंसर से बचाव, mouth cancer treatment in hindi, oral cancer prevention in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
कैंसर, अन्य कैंसर May 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

दांत दर्द का आयुर्वेदिक इलाज

दांत दर्द का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानें कौन सी जड़ी-बूटी है असरदार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ June 26, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
डेंटल एंग्जायटी

क्या आप दांतों की समस्याएं डेंटिस्ट को दिखाने से डरते हैं? जानें डेंटल एंग्जायटी के बारे में 

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ May 20, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
दांत-दर्द के घरेलू उपाय

दांत दर्द में तुरंत आराम पहुंचाएंगे ये 10 घरेलू उपचार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
प्रकाशित हुआ May 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
गर्भावस्था में ओरल केयर

गर्भावस्था में ओरल केयर न की गई तो शिशु को हो सकता है नुकसान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
प्रकाशित हुआ May 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें