आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

null

Throat Ulcers : गले में छाले क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

परिचय|लक्षण|कारण|निदान|नियंत्रण और सावधानी|उपचार
    Throat Ulcers : गले में छाले क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    परिचय

    गले में छाले क्या है? (What is Throat Ulcers?)

    गले में छाले-Throat Ulcer

    जब आपके गले में किन्हीं कारणों की वजह से घाव या फोड़ा हो जाता है, तो उसे अल्सर (Ulcer) कहा जाता है। कभी-भी यह आपके गले और पेट को जोड़ने वाली नली इसोफेगस में भी हो जाते हैं और इसके साथ आपकी वॉकल कॉर्ड (Vocal Card) पर भी। जब आपके गले की लाइनिंग पर कोई बीमारी या चोट लग जाती है या फिर म्यूकस मेंब्रेन टूटकर खुल जाता है और ठीक नहीं हो पाता, तो अल्सर (Ulcer) बन जाता है। गले में छाले या घाव लाल रंग के हो सकते हैं और इनमें सूजन (Inflammation) आ सकती है। जिसकी वजह से आपको कुछ खाने, पीने या बात करने में दिक्कत हो सकती है।

    और पढ़ें : Fatigue : थकान क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    लक्षण

    गले में छाले की वजह से कौन-से लक्षण दिखते हैं? (Symptoms of Throat Ulcers)

    गले में छाले के साथ या इसकी वजह से आपको इन लक्षणों का भी सामना करना पड़ सकता है। जैसे-

    ध्यान रखें कि, यह जरूरी नहीं कि सभी व्यक्तियों में गले में छाले की वजह से या उसके दौरान एक जैसे लक्षण दिखाई दें। विभिन्न व्यक्तियों में गले में छाले के साथ विभिन्न लक्षण दिखाई दे सकते हैं। इसके अलावा, यह भी जरूरी नहीं कि, सभी में ऊपर बताए गए सभी लक्षण दिखाई दें, व्यक्ति को इनमें से एक या दो लक्षण या फिर इनसे अलग कुछ लक्षणों का भी सामना करना पड़ सकता है। अगर आपके मन में इस बीमारी से जुड़े लक्षणों के बारे में कोई सवाल या शंका है, तो अपने डॉक्टर से चर्चा जरूर करें।

    कारण

    गले में छाले के कौन-कौन से कारण हो सकते हैं? (Cause of Throat Ulcers)

    जैसा कि हमने बताया कि, गले में छाले (Throat Ulcer) के साथ-साथ आपकी इसोफेगस (Esophagus) नली और वॉइस बॉक्स (Voice Box) में भी छाले हो सकते हैं और दोनों के कारणों में भी अंतर हो सकता है। आइए जानते हैं कि, किन-किन कारणों की वजह से गले में छाले (Cause of Throat Ulcer) होते हैं।

    • सबसे पहली बात की कैंसर (Cancer) की वजह से गले में छाले या घाव हो सकते हैं।
    • इसके साथ ही, कैंसर के ट्रीटमेंट जैसे कीमोथेरिपी (Chemotherapy) और रेडिएशन ट्रीटमेंट (Radiation Therapy) की वजह से भी गले में छाले हो सकते हैं।
    • बैक्टीरियल इंफेक्शन (Bacterial Infection) के कारण भी आपको गले में घाव की शिकायत हो सकती है।
    • हेर्पेंजाइना (Herpangina) जैसे वायरल इंफेक्शन (Viral Infection) के कारण मुंह और गले में छाले हो सकते हैं।
    • थ्रश की तरह फंगल इंफेक्शन (Fungal Infection) के कारण गले में छाले होना। जो कि कैनडीडा अल्बिकन्स (Candida Albicans) द्वारा होने वाला एक यीस्ट इंफेक्शन (Yeast Infection) है।
    • बेहसेट सिंड्रोम (Behcet Syndrome) के कारण भी मुंह, गले की लाइनिंग और त्वचा पर सूजन हो सकती है।
    • गैस्ट्रोइसोफेजियल रिफ्लक्स डिजीज (Gastroesophageal Reflux Disease) के कारण इसोफेगस में छाले हो सकते हैं।
    • अत्यधिक शराब (Alcohol) या कुछ दवाओं के सेवन की वजह से भी इसोफेगस में छाले हो सकते हैं।
    • ज्यादा उल्टी (Vomiting) होने की वजह से भी इसोफेगस में छाले हो सकते हैं।
    • एलर्जी (Allergy) के कारण इसोफेगस में छाले होना।
    • ज्यादा बोलने या गाने की वजह से हुई इर्रिटेशन की वजह से वॉइस बॉक्स में छाले हो सकते हैं।
    • बार-बार अपर रेस्पिरेटरी इंफेक्शन (Respiratory Infection) होने की वजह से वॉइस बॉक्स में छाले होना।
    • सर्जरी या एमरजेंसी स्थिति में सांस लेने के लिए इंट्यूबेशन की वजह से चोट लगने पर वॉइस बॉक्स में छाले हो सकते हैं।

    [mc4wp_form id=”183492″]

    निदान

    गले में छाले या घाव का पता किन टेस्ट से चलता है? (Diagnosis for Throat Ulcers)

    गले में छाले के बारे में पता लगाने के लिए डॉक्टर सबसे पहले आपकी मेडिकल हिस्ट्री (Medical History) और शारीरिक जांच (Body Checkup) करता है। इसके साथ ही वह माउथ स्वैब (Mouth Swab) के जरिए थ्रोट कल्चर, ब्लड टेस्ट (Blood Test) या यूरिन टेस्ट (Urine Test) भी कर सकता है। इन सभी टेस्टों के अलावा निम्नलिखित टेस्ट भी किए जा सकते हैं। जैसे-

    1. इसोफेगस नली से जुड़ी किसी भी समस्या को जानने के लिए इसोफेजियल एंडोस्कॉपी (Esophageal Endoscopy) की सहायता लेना।
    2. इसोफेगल नली के सिकुड़ने, हर्निया (Hernia) या घाव का पता लगाने के लिए बैरियम स्वैलो एक्स-रे में बैरियम लिक्विड सॉल्यूशन पिलाया जाता है, जो कि गले की लाइनिंग, इसोफेगस और पेट पर कोटिंग करता है।
    3. लैरिंगोस्कोपी (Laryngoscopy) की मदद से लैरिंक्स (Lyrinks) और हाइपोफैरिंक्स (Hypopharynx) की जांच की जाती है।
    4. लैरिंजियल वीडियोस्ट्रोबोस्कोपी की मदद से वॉकल कॉर्ड और वॉइस बॉक्स (Voice Box) की जांच करना व वीडियो रिकॉर्ड करना।
    5. पैनएंडोस्कोपी की मदद से मुंह, नाक, गले, इसोफेगस और ट्रेकिआ से जुड़े कैंसर की आशंका जांची जाती है।
    6. सीटी स्कैन या एमआरआई टेस्ट (MRI Test) करना।

    और पढ़ें : Hepatitis : हेपेटाइटिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    नियंत्रण और सावधानी

    गले में छाले या घाव को नियंत्रित कैसे करें? (How to control Throat Ulcers?)

    गले में छाले या घाव को नियंत्रित करने के लिए निम्नलिखित तरीके अपनाएं। जैसे-

    • एसिडिक या मसालेदार खाना, माउथवॉश और एल्कोहॉलिक ड्रिंक्स (Alcoholic drinks) या तंबाकू (Tobacco) उत्पाद और धूम्रपान (Smoking) न करना
    • ठंडे या हल्के गर्म आहार, ड्रिंक्स, फ्रोजन फ्रूट्स आदि का सेवन करना।
    • मुलायम, क्रीम वाले या माइल्ड फूड्स का सेवन करना, जैसे चीज, योगर्ट, उबले आलू आदि।
    • रफ और पक्के फूड्स जैसे चिप्स, नट्स (Nuts), कुछ फल या सब्जियों का सेवन न करना।
    • पानी में नमक और बेकिंग सोडा को डालकर गरारे करना और मुंह धोना। लेकिन ध्यान रहे इस पानी को पीना नहीं है।
    • हर मील से पहले कुछ क्रीमी खाना, जिससे घाव या छाले को नुकसान न पहुंचे।
    • सोने से पहले ज्यादा व फैटयुक्त आहार (Fatty food) का सेवन न करना।
    • नियंत्रित वजन (Body Weight) रखना और टमाटर (Tomato), नींबू (Lemon), मिंट (Mint), चॉकलेट (Chocolate) जैसी एसिडिक चीजों का सेवन न करना।

    ध्यान रखें कि, यहां बताए गए तरीके किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए अगर आपको ज्यादा परेशानी हो रही है, तो डॉक्टर को तुरंत दिखाएं।

    और पढ़ें : डायबिटीज में डायरिसिस स्वास्थ्य को कैसे करता है प्रभावित? जानिए राहत पाने के कुछ आसान उपाय

    उपचार

    गले में छाले या घाव का उपचार कैसे किया जाता है? (Treatment for Throat Ulcers)

    गले में छाले के साथ इसोफेगस और वॉइस बॉक्स में छाले का भी इलाज करना पड़ता है और उसके लिए निम्नलिखित तरीकों का इस्तेमाल किया जा सकता है। जैसे-

    • बैक्टीरिया (Bacterial) या यीस्ट की वजह से होने वाले इंफेक्शन (Infection) का इलाज करने के लिए एंटीबायोटिक्स (Antibiotics) व एंटीफंगल्स (Antifungal medicine) दवाओं का सेवन करवाना
    • एसिटामिनोफेन (Acetaminofen) जैसी दर्द निवारक दवा का सेवन करने की सलाह
    • एसिड रिफ्लक्स (Acid Reflux) से बचने के लिए एंटासिड या एच2 रिसेप्टर ब्लॉकर्स व प्रोटॉन पंप इनहिबिटर्स (PPI) का सेवन करवाने की सलाह देना।
    • वॉकल कॉर्ड या वॉइस बॉक्स में छाले का इलाज करने के लिए आवाज को आराम देना, वॉकल थेरिपी की सलाह और जरूरी होने पर सर्जरी करना।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Throat Disorders – https://medlineplus.gov/throatdisorders.html – Accessed on 11/6/2020

    Acute sore throat – https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2231494/ – Accessed on 11/6/2020

    Mouth sores and ulcers – https://www.healthdirect.gov.au/mouth-sores-and-ulcers – Accessed on 11/6/2020

    Blisters – https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/conditionsandtreatments/blisters – Accessed on 11/6/2020

    लेखक की तस्वीर badge
    Surender aggarwal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 15/03/2021 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड