Joint Pain (Arthralgia) : जोड़ों का दर्द (आर्थ्राल्जिया) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

आर्थ्राल्जिया (जोड़ों का दर्द) क्या है?

आमतौर पर जोड़ों के दर्द (आर्थ्राल्जिया) को लेकर लोग अक्सर उसे गठिया (संधिशोथ) की बीमारी मान लेते हैं। हालांकि, गठिया और जोड़ों के दर्द (आर्थ्राल्जिया) दोनों अलग-अलग स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती है। संधिशोथ की स्थिति में शरीर के जोड़ों में दर्द और जोड़ों में सूजन की समस्या हो सकती है। हालांकि, जोड़ों के दर्द और संधिशोथ के लक्षणों में फर्क कर पाना मुश्किल हो सकता है।

दोनों के बीच के अंतर को समझने के लिए आप निम्न बातों का ध्यान रख सकते हैं, जिनमें शामिल हैंः

संधिशोथ (गठिया) और जोड़ों के दर्द (आर्थ्राल्जिया) के बीच अंतर

  • अर्थराइटिस (संधिशोथ) की स्थिति में जोड़ों में सूजन के साथ दर्द होना, जबकि जोड़ों में दर्द (आर्थ्राल्जिया) होने पर शरीर के जोड़ों के मुख्य बिंदु में सिर्फ दर्द हो सकता है।
  • गठिया में जोड़ों के दर्द के साथ जकड़न और सूजन की समस्या हो सकती है। जबकि, जोड़ों में दर्द (आर्थ्राल्जिया) लगातार जारी रह सकता है या यह थोड़े-थोड़े समय में हो सकता है। साथ ही, इसमें जलन, खुजली, जोड़ का सुन्न होना, झुनझुनी महसूस करना जैसे अन्य लक्षण हो सकते हैं।
  • गठिया का कारण गठिया के प्रकार, जोड़ों के बीच उपस्थित कार्टिलेज को नुकसान होने के कारण हो सकता है। जबकि, जोडों में दर्द किसी तरह के चोट लगने, संक्रमण होने, प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होने, एलर्जी होने के कारण हो सकता है।
  • क्रोहन एंड कोलाइटिस फाउंडेशन ऑफ अमेरिका (CCFA) के अनुसार, आर्थ्राल्जिया यानी जोड़ों में दर्द होने पर जोड़ों में दर्द बिना सूजन के हो सकता है। यह हाथों, घुटनों और टखनों सहित शरीर के अलग-अलग जोड़ों में दर्द का कारण बन सकता है।
  • जोड़ों में दर्द मुख्य रूप से बड़े उम्रदराज के लोगों को अधिक प्रभावित कर सकता है। हालांकि, बदलते लाइफस्टाइल के कारण युवाओं में भी यह समस्या हो सकती है।

और पढ़ेंः Slip Disk : स्लिप डिस्क क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लक्षण

आर्थ्राल्जिया (जोड़ों का दर्द) के लक्षण क्या हैं?

आर्थ्राल्जिया (जोड़ों का दर्द) के लक्षण निम्न हो सकते हैं, जिसमें शामिल हो सकते हैंः

  • चलने में परेशानी होना
  • उठने-बैठने में परेशानी होना
  • जोड़ों में अकड़न महसूस करना
  • जोड़ों की त्वचा का लाल होना
  • जोड़ों के आसपास का क्षेत्र में सूजन होना
  • जोड़ों का दर्द तीन दिनों या उससे अधिक समय तक बना रहना
  • अज्ञात कारणों से बुखार होना

सामान्य तौर पर, ये लक्षण आमतौर पर कुछ दिनों में अपने आप ठीक भी हो सकते हैं। लेकिन, अगर अगर ऊपर बताए गए निम्न में से कोई भी लक्षण एक हफ्ते से अधिक समय तक के लिए बने रहते हैं या स्वास्थ्य स्थिति अधिक खराब हो जाती है, तो आपको जल्द ही अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

साथ ही निम्न स्थितियों में तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए, जैसेः

  • जोड़ों में गंभरी चोट लगना
  • जोड़ों के आकार में कोई विकृत होना

और पढ़ेंः Arthritis : संधिशोथ (गठिया) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

कारण

आर्थ्राल्जिया (जोड़ों का दर्द) के क्या कारण हो सकते हैं?

आर्थ्राल्जिया (जोड़ों का दर्द) के निम्न कारण हो सकते हैं, जिसमें शामिल हो सकते हैंः

  • गंभीर चोट लगना
  • अर्थराइटिस की समस्या होना
  • जोड़ों में संक्रमण होना
  • किसी कारण जोड़ों में मोच आना
  • जोड़ों के बीच का ग्रीस या तरल पदार्थ का उत्पादन प्रभावित होना

और पढ़ेंः Filariasis(Elephantiasis) : फाइलेरिया या हाथी पांव क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

निदान

आर्थ्राल्जिया (जोड़ों का दर्द) के बारे में पता कैसे लगाएं?

आर्थ्राल्जिया (जोड़ों के दर्द) का पता लगाने के लिए डॉक्टर आपके शारीरिक लक्षणों के आधार पर आपको निम्न टेस्ट कराने की सलाह दे सकते हैं, जिसमें शामिल हो सकते हैंः

  • आपके परिवार की स्वास्थ्य स्थिति की जांच करना
  • एक्स-रे
  • ब्लड टेस्ट
  • बायोप्सी
  • सेडीमेंटेशन टेस्ट सेडीमेंटेशन टेस्ट की मदद से शरीर के सूजन की जाँच की जाती है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ेंः High Triglycerides : हाई ट्राइग्लिसराइड्स क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

रोकथाम और नियंत्रण

आर्थ्राल्जिया (जोड़ों का दर्द) को कैसे रोका जा सकता है?

आर्थ्राल्जिया (जोड़ों के दर्द) की रोकथाम के लिए आप निम्न बातों के लिए ध्यान रख सकते हैं, जैसेः

  • दर्द और सूजन को कम करने के लिए अपने डॉक्टर की सलाह पर नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लैमटोरी दवाओं का उपयोग कर सकते हैं।
  • शारीरिक रूप एक्टिव रहने का प्रयास करें।
  • नियमित तौर पर एक्सरसाइज करें। जोड़ों को बेहतर बनाने वाले एक्सरसाइज पर फोकस करें।
  • अगर ओवरवेट हैं, तो वजन कम करने के प्रयासों पर जोर दें।
  • हमेशा हेल्दी फूड खाएं।
  • जोड़ों का दर्द कम करने के लिए थेरिपी की भी मदद ले सकते हैं।
  • अगर आप पूरी तरह से स्वस्थ्य हैं, तो भी एक नियमित अंतराल पर अपने पूरे शरीर की जांच करवाएं।
  • जोड़ों को मजबूत बनाने के लिए आप अपने आहार में फिश (मछली), अदरक, लहसुन, पालक या अंगूर जैसे खाद्य पदार्थ भी शामिल कर सकते हैं।

और पढ़ेंः Hyperuricemia : हाइपरयूरिसीमिया क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

उपचार

आर्थ्राल्जिया (जोड़ों का दर्द) का उपचार कैसे किया जाता है?

आपके लक्षणों और कारणों के आधार पर आपके डॉक्टर आर्थ्राल्जिया (जोड़ों के दर्द) का उपचार करने के लिए उचित सलाह या प्रक्रिया अपना सकते हैं, जैसेः

दर्द निवारक दवाओं का सेवन

जोड़ों के दर्द कम करने के लिए नॉन-स्टेरायडल और एंटी इंफ्लैमटोरी ड्रग्स, पैरासिटामोल या एनएसएआईडीएस (NSAIDs) दर्द निवारक दवाओं, जैसा- आइबूप्रोफेन या डायक्लोफिनाक के खुराक की सलाह दे सकते हैं। हालांकि, इन दवाओं का सेवन कम अवधि के लिए किया जा सकता है। अगर इससे आपकी समस्या दूर नहीं होती है, तो आपके डॉक्टर अन्य विधियों को अपना सकते हैं।

स्प्रे या क्रीम का इस्तेमाल करना

कुछ स्थितियों में दर्द और सूजन कम करने के लिए आपके डॉक्टर किसी क्रीम या स्प्रे की भी सलाह दे सकते हैं।

और पढ़ेंः Fever : बुखार क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

एंटीबायोटिक्स (Antibiotics)

अगर जोड़ों का दर्द किसी संक्रमण के कारण है, तो एंटीबायोटिक्स की सलाह दे सकते हैं।

कॉर्टिकोस्टेरॉइड (Corticosteroids)

अगर जोड़ों का दर्द अर्थराइटिस से जुड़ा हैं, डॉक्टर आपको कॉर्टिकोस्टेरॉइड के सेवन की सलाह दे सकते हैं।

आर्थ्रोप्लास्टी सर्जरी (Arthroplasty)

गंभीर स्थिति में आपके डॉक्टर आर्थ्रोप्लास्टी सर्जरी की प्रक्रिया भी अपना सकते हैं। सर्जरी के दौरान वे खराब हुए जोड़ को कृत्रिम अंगों से बदल सकते हैं।

चिकित्सक उपकरणों का इस्तेमाल करना

  • कुछ स्थितियों में आपके डॉक्टर आपको चिकित्सक उपकरणों जैसे स्प्लिंट्स, ब्रेसेस, बैसाखी, व्हीलचेयर आदि को यूज करने की भी सलाह दे सकते हैं। जिनकी मदद से आप आसानी से घूम-फिर सकते हैं।
  • इसके साथ ही, आपके डॉक्टर आपको उचित एक्सरसाइज करने, थेरिपी के साथ-साथ कैल्शियम और विटामिन डी जैसे सप्लीमेंट्स के सेवन की भी सलाह दे सकते हैं, जो आपके शरीर के हड्डियों के विकास में मदद कर सकते हैं।

अगर आपका इससे जुड़ा किसी तरह का कोई सवाल है, तो इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें। हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Coldact: कोल्डैक्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

कोल्डैक्ट कैप्सूल्स की जानकारी in hindi इसके डोज, उपयोग, सावधानी और चेतावनी के साथ साइड इफेक्ट्स, रिएक्शन, स्टोरेज को जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 29, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

पारिजात (हरसिंगार) के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Night Jasmine (Harsingar)

जानिए पारिजात के फायदे और नुकसान, इसका इस्तेमाल कैसे करें, हरसिंगार का फूल क्या है, Night Jasmine के साइड इफेक्ट्स, Harsingar के औषधीय गुण।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Ruby Ezekiel
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Acenext P: एसनेक्स्ट पी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जानिए एसनेक्स्ट पी (Acenext P) की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितनी खुराक लें, डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 23, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Ace Proxyvon: एस प्रोक्सीवोन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

एस प्रोक्सीवोन की जानकारी in hindi. एस प्रोक्सीवोन को कब लें, कैसे लें, खुराक, सावधानियां, ओवरडोज, उपयोग के पहले चेतावनियां आदि पूरी जानकारी मिलेगी इस आर्टिकल में।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 18, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

यूरिक एसिड डाइट लिस्ट

यूरिक एसिड डाइट लिस्ट से इन फूड्स को कहें हाय, तो हाई-प्यूरीन फूड्स को कहें बाय-बाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Junior Lanzol

Dolowin Plus Tablet : डोलोविन प्लस टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ अगस्त 5, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
Pleurisy -प्लूरिसी

Pleurisy: प्लूरिसी क्या है ?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ जुलाई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
कोलिमेक्स

Colimex: कोलिमेक्स क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जून 29, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें