MRI Test : एमआरआई टेस्ट क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

एमआरआई टेस्ट (MRI Test) क्या होता है?

एमआरआई टेस्ट (MRI) को मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग कहते हैं। एमआरआई टेस्ट में कंप्यूटर बेहद ताकतवर चुंबक और रेडियो तरंगों का इस्तेमाल कर शरीर के अंदरूनी हिस्सों की तस्वीर बना लेता है।

एमआरआई टेस्ट टेस्ट का इस्तेमाल कर डॉक्टर यह देख सकता है कि किसी इलाज का आपके शरीर पर कैसा असर हो रहा है। यह एक्स-रे और सीटी स्कैन तकनीक से अलग है, क्योंकि इसमें रेडिएशन का इस्तेमाल नहीं होता।

एमआरआई टेस्ट क्यों किया जाता है?

एमआरआई तकनीक के जरिए डॉक्टर किसी बीमारी का उपचार, किसी चोट का पता या बीमारी के लिए दिए गए ट्रीटमेंट के असर को देख सकता है। शरीर के विभिन्न हिस्सों पर एमआरआई की जा सकती है।

दिमाग और रीढ़ की हड्डी की एमआरआई निम्न कारणों से की जा सकती हैः

  • रक्त वाहिकाओं को पहुंचने नुकसान देखने के लिए
  • दिमाग को पहुंची क्षति देखने के लिए
  • कैंसर की जांच के लिए
  • रीढ़ की हड्डी में चोट देखने के लिए
  • स्ट्रोक की स्थिति में

और पढ़ें : Brain Aneurysm : ब्रेन एन्यूरिज्म (मस्तिष्क धमनी विस्फार) क्या है?

जानने योग्य बातें

दिल और रक्त वाहिकाओं की एमआरआई निम्न कारणों से की जा सकती हैः

  • रक्त वाहिकाओं में रुकावट होने पर
  • हार्ट अटैक से दिल को पहुंचे नुकसान देखने के लिए
  • किस अन्य ह्दय रोग में
  • दिल की संरचना में कोई विकार होने पर

हड्डियों और जोड़ो की एमआरआई निम्न कारणों से की जा सकती हैः

  • हड्डी में इंफेक्शन देखने के लिए
  • कैंसर
  • जोड़ों में नुकसान
  • रीढ़ में डिस्क की समस्या होने पर

इसके अलावा इन अंगों में परेशानी होने पर भी एमआरआई की जा सकती हैः

वहीं एक खास तरह की एमआरआई भी की जाती है, जिसे फंक्शनल एमआरआई (fMRI) कहते हैं। इस तरह की एमआरआई दिमागी गतिविधियों की  निगरानी करती हैं। इस टेस्ट में खून के प्रवाह से देखा जाता है कि किसी खास काम को करने के दौरान आपके दिमाग का कौनसा हिस्सा काम करता है। इसकी मदद से कई दिमागी समस्याओं का उपचार किया जा सकता है।

और पढ़ें : Hepatitis A Virus Test: हेपेटाइटिस-ए वायरस टेस्ट क्या है?

सावधानियां और चेतावनी

एमआरआई टेस्ट कराने से पहले ये बातें भी जान लें

एमआरआई टेस्ट के पहले आपको कुछ सवालों के सही-सही जवाब देने होते हैं। इन प्रश्नों के जवाबों के माध्यम से डॉक्टर आपके बारे में सारी जानकारी प्राप्त कर लेते हैं और आपकी सुरक्षा के लिए जरूरी कदम उठाते हैं। इन सवालों के माध्यम से रेडियोलॉजिस्ट ये भी जान लेते हैं कि पहले आपकी किसी तरह की सर्जरी तो नहीं हुई या कोई डिवाइस आपके शरीर में लगाया तो नहीं गया। क्योंकि एमआरआई के दौरान ऐसी स्थिति में समस्या पैदा हो सकती है।

एमआरआई स्कैनर तस्वीरें लेते वक्त बहुत आवाज करता है और यह बेहद सामान्य है। हो सकता है डॉक्टर इस दौरान आपको किसी तरह के हैडफोन लगाने के लिए दे सकता है या आप गाने भी सुन सकते हैं।

अगर इस टेस्ट में डाई या कॉन्ट्रास्ट की मदद होती है तो इसे इंजेकशन के माध्यम से आपकी नसों में डाला जा सकता है। इससे ठंडक जैसा अहसास होता है। डाई के माध्यम से शरीर के कुछ अंग ठीक तरह से तस्वीर में नजर आते हैं।

याद रखें कि डॉक्टर ने आपको एमआरआई की सलाह इसलिए दी है, जिससे शरीर के बारे में कुछ जरूरी जानकारियां जुटाई जा सकें। अगर आपको इसकी प्रक्रिया को लेकर कोई और सवाल हैं, तो डॉक्टर से इस बारे में जरूर पूछें।

और पढ़ें : Contraction Stress Test: कॉन्ट्रेक्शन स्ट्रेस टेस्ट क्या है?

प्रक्रिया

कैसे होती है एमआरआई टेस्ट की तैयारी?

इस टेस्ट के लिए यूं तो किसी खास तैयारी की जरूरत नहीं पड़ती, पर टेस्ट के पहले आपको हॉस्पिटल गाउन पहनना होता है। इसके अलावा इस बात का ख्याल रखा जाता है कि आपके पास किसी तरह का धातु ना हो, क्योंकि इस तकनीक में बेहद शक्तिशाली चुंबक का प्रयोग किया जाता है। ऐसे में ज्वैलरी उतारने की भी सलाह दी जाती है।

इसके अलावा डॉक्टर जरूरत पड़ने पर आपके शरीर में डाई या कॉन्ट्रास्ट का इंजेक्शन लगाता है, जिससे कई बॉडी टिशू और अंग साफ नजर आएं। इसके बाद मरीज को एमआरआई स्कैनर में लेटने के लिए मदद की जाती है।

और पढ़ें: CT Scan : सीटी स्कैन क्या है?

जानिए क्या होता है

क्या होता है एमआरआई टेस्ट के दौरान?

स्कैनर पर आपको लिटाए जाने के बाद बेल्ट से कसकर बांध दिया जाता है। ऐसा इसलिए किया जाता है जिससे आप स्कैनिंग के दौरान हिलें नहीं। इस दौरान आपके शरीर को कोई खास हिस्सा या पूरा शरीर स्कैनर के अंदर किया जा सकता है।

इसके बाद एमआरआई मशीरन आपके शरीर के अंदर एक बेहद शक्तिशाली चुंबकीय क्षेत्र बना देती है। इसके बाद इन तरंगों के माध्यम से कंप्यूटर शरीर के अंदर का नक्शा तैयार करता है।

आप इस दौरान मशीन की जोर से आवाज सुन सकते हैं। यह आवाज इसलिए आती है क्योंकि मशीन फोटो लेने के लिए अत्यधिक चुंबकीय उर्जा बनाती है। इसी वजह से ईयरफोन लगाए जा सकते हैं।

टेस्ट के दौरान आपको शरीर में खिंचाव जैसे महसूस हो सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि एमआरआई मशीन नसों को उत्तेजित करती है। यह सामान्य है और इसमें चिंता की कोई बात नहीं।

यह पूरी प्रक्रिया 20 मिनट से 90 मिनट के बीच पूरी हो जानी चाहिए।

क्या होता है एमआरआई के बाद?

एमआरआई के बाद रेडियोलॉजिस्ट प्राप्त तस्वीरों का परीक्षण करता है। इसमें यह तय किया जाता है कि कहीं और एमआरआई की आवश्यक्ता तो नहीं है। अगर रेडियोलॉजिस्ट तस्वीरों से संतुष्ट हो जाता है, तो पेशेंट घर जा सकता है। इसके बाद रेडियोलॉजिस्ट इसपर एक रिपोर्ट तैयार कर डॉक्टर को देता है। डॉक्टर रिपोर्ट के साथ दोबारा मरीज से मिलता है।

और पढ़ें : Exhaled Nitric Oxide Test: एक्सहेल्ड नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट क्या है?

परिणाम

क्या कहते हैं एमआरआई टेस्ट के नतीजे?

रेडियोलॉजिस्ट की रिपोर्ट डॉक्टर तक पहुंचने के बाद डॉक्टर इसका बारीकी से अध्ययन करता है। इसके बाद वो आपको आपके एमआरआई परिणाामों के बारे में बताता है। इसमें शरीर में किसी भी विकार, समस्या या उपचार के बाद लक्षणों के बारे में जानकारी मिलती है।

अगर आपको अपनी समस्या को लेकर कोई सवाल है, तो कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श लेना ना भूलें। हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की मेडिकल सलाह, निदान या सारवार नहीं देता है न ही इसके लिए जिम्मेदार है।

संबंधित लेख:

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

इंसानों और जानवरों पर इस्तेमाल होने वाले मेडिकल डिवाइस अब ‘ड्रग्स’ की श्रेणी में

मेडिकल डिवाइस अब ड्रग्स की श्रेणी में आएंगे। स्वास्थ्य मंत्रालय ने ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक एक्ट की धारा 3 के अंतर्गत मेडिकल डिवाइस को ड्रग्स यानी औषधी की श्रेणी में रखने की अधिसूचना जारी की है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
लोकल खबरें, स्वास्थ्य बुलेटिन फ़रवरी 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Anti-Glomerular Basement Membrane: एंटी ग्लोमेरूलर बेसमेंट मेंब्रेन टेस्ट क्या है?

एंटी ग्लोमेरूलर बेसमेंट मेंब्रेन टेस्ट की जानकारी, टेस्ट कराने से पहले जाने, क्या होता है, एंटी ग्लोमेरूलर बेसमेंट मेंब्रेन टेस्ट के रिजल्ट समझें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
मेडिकल टेस्ट A-Z, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z दिसम्बर 27, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Karyotype Test: कैरियोटाइप टेस्ट क्या है?

जानिए कैरियोटाइप टेस्ट (Karyotype Test) की जानकारी मूल बातें, टेस्ट कराने से पहले जानने योग्य बातें, Karyotype Test क्या होता है, कैरियोटाइप टेस्ट के रिजल्ट और परिणामों को समझें | Karyotype Test in Hindi

के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
मेडिकल टेस्ट A-Z, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z दिसम्बर 27, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Androstenedione : एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट क्या है?

एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट की जानकारी, टेस्ट कराने से पहले जानें क्या करें, इंएंड्रोस्टीनिडायोन ट्रावेनस पायलोग्राम टेस्ट के रिजल्ट और परिणामों को समझें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
मेडिकल टेस्ट A-Z, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z दिसम्बर 27, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

Broken (fractured) foot-पैर में चोट

Broken (Fractured) Foot: ब्रोकन लेग क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Poonam
प्रकाशित हुआ मई 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
सीरम ग्लूटामिक पाइरुविक ट्रांसएमिनेस-Serum glutamic pyruvic transaminase

Serum Glutamic Pyruvic Transaminase (SGPT): सीरम ग्लूटामिक पाइरुविक ट्रांसएमिनेस (एसजीपीटी) टेस्ट क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ मई 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Cerebrospinal Fluid Test- सीएसएफ क्या है

Cerebrospinal Fluid Test : सीएसएफ टेस्ट (CSF Test) क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ मई 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
कॉन्टेक्ट लैंस

कॉन्टैक्ट लैंस (Contact lenses) लगाने का रखते हैं शौक तो जान लें ये 9 बातें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ मार्च 25, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें