home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Dilated Cardiomyopathy: डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी क्या है?

Dilated Cardiomyopathy: डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी क्या है?
परिचय|लक्षण|कारण|जोखिम| उपचार| घरेलू उपाय

परिचय

डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी (Dilated Cardiomyopathy) क्या है?

डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी (Dilated Cardiomyopathy) हृदय की मांसपेशी का एक रोग है, जो आमतौर पर दिल के मुख्य पंपिंग चैम्बर (लेफ्ट वेंट्रिकल) में शुरू होता है। वेंट्रिकल खिचाव वाला और पतला होता है। यह दिल को रिलैक्स होने से रोकता है और इसमें खून का बहाव बढ़ने लगता है।

कितना सामान्य है डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी?

इसकी स्थिति शिशुओं और बच्चों सहित सभी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकती है, लेकिन 20 से 50 साल की उम्र के पुरुषों में यह सबसे आम समस्या होती है। कृपया अधिक जानकारी के लिए अपने चिकित्सक से चर्चा करें।

लक्षण

डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी के लक्षण क्या हैं?

डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी के लक्षणों को पहचानना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। लेकिन सही तरह इसके लक्षणों की जानकारी होने पर इसकी पहचान की जा सकता है। डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी के सामान्य लक्षण कुछ इस तरह होते हैं –

  • निचले छोरों में सूजन
  • थकान महसूस करना
  • वजन बढ़ना
  • व्यायाम या भारी शारीरिक कार्य करने के बाद बेहोश होना
  • असामान्य हृदय गति के कारण सीने में फड़फड़ाहट
  • चक्कर आना
  • खून के जमाव के कारण खून के थक्के लेफ्ट वेंट्रिकल में बन सकते हैं। अगर खून के थक्के टूट जाते हैं, तो यह धमनी में घूम सकता है और मस्तिष्क में खून के प्रवाह को बाधित कर सकता है, जिससे स्ट्रोक का खतरा हो सकता है। ये थक्के पेट या पैरों में भी रक्त के प्रवाह को रोक सकते हैं।
  • सीने में दर्द या दबाव होना।

इसके सभी लक्षण ऊपर नहीं बताएं गए हैं। अगर इससे जुड़े किसी भी संभावित लक्षणों के बारे में आपका कोई सवाल है, तो कृपया अपने डॉक्टर से बात करें।

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

अगर ऊपर बताए गए किसी भी तरह के लक्षण आपमें या आपके किसी करीबी में दिखाई देते हैं या इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अपने डॉक्टर से परामर्श करें। हर किसी का शरीर अलग-अलग तरह की प्रतिक्रिया करता है जिसके कारण इस सूची में डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी से जुड़े सभी लक्षणों को शामिल नहीं किया जा सकता है।

और पढ़ें – Cervical Dystonia : सर्वाइकल डिस्टोनिया (स्पासमोडिक टोरटिकोलिस) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

कारण

डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी के क्या कारण हैं?

डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी के कारणों को अक्सर निर्धारित नहीं किया जा सकता है। हालांकि, कई कारक लेफ्ट वेंट्रिकल को कमजोर करने का कारण बन सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

और पढ़ें –Deep Vein Thrombosis (DVT): डीप वेन थ्रोम्बोसिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जोखिम

कैसी स्थितियां डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी के जोखिम को बढ़ा सकती हैं?

निम्न स्थितियां डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी के जोखिम को बढ़ा सकती हैं, जैसेः

उपचार

यहां प्रदान की गई जानकारी को किसी भी मेडिकल सलाह के रूप ना समझें। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी का निदान कैसे किया जाता है?

डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी का निदान आपकी स्वास्थ्य स्थिति, पारिवारिक इतिहास के आधार पर की जा सकती है। इसके लिए डॉक्टर आपका शारीरिक परीक्षण, ब्लड टेस्ट, इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम, चेस्ट एक्स-रे, इकोकार्डियोग्राम, एक्सरसाइज स्ट्रेस टेस्ट, कार्डियक कैथीटेराइजेशन, सीटी स्कैन और एमआरआई कर सकते हैं।

अन्य परीक्षणों, मायोकार्डियल बायोप्सी या हार्ट बायोप्सी की मदद से, ह्रदय के ऊतकों का नमूना लिया जाता है और लक्षणों का कारण निर्धारित करने के लिए माइक्रोस्कोप से इनकी जांच की जाती है।

कई गंभीर मामलों में डॉक्टर असामान्य जीन की पहचान करने के लिए आनुवंशिक परीक्षण भी कर सकते हैं।

डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी का इलाज कैसे होता है?

अगर आपमें इसके लक्षण पाए जाते हैं, तो आपका डॉक्टर इसके लिए उपचार की सिफारिश करेंगे। खून के प्रवाह को बेहतर बनाने और दिल को और अधिक नुकसान होने से रोकने के लिए उचित उपचार का सुझाव भी दे सकते हैं।

दवाएं

डॉक्टर आमतौर पर कुछ दवाओं के संयोजन के साथ इसका इलाज करते हैं। आपके लक्षणों के आधार पर, आपको दो या दो से अधिक दवाओं के इस्तेमाल की सलाह दी जा सकती है।

हार्ट फेलियर और डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी के उपचार में उपयोगी साबित होने वाली दवाओं में शामिल हैं:

  • एंजियोटेनसिन-कंवर्टिंग एंजाइम (ACE) इनहिबिटर्स- यह दवा खून की कोशिकाओं और ब्लड प्रेशर को कम करती है। साथ ही, खून के प्रवाह में भी सुधार लाती है और दिल के कार्यभार को कम करती है।
  • एंजियोटेंसिन II रिसेप्टर ब्लॉकर्स- इन दवाओं में ACE अवरोधकों के कई लाभकारी प्रभाव होते हैं। यह उन लोगों के इस्तेमाल के लिए होता है, जो ACE की खुराक नहीं ले सकते हैं।
  • बीटा ब्लॉकर्स- बीटा ब्लॉकर हृदय की गति को धीमा करता है, रक्तचाप को कम करताहै और तनाव हार्मोन के कुछ हानिकारक प्रभावों को रोकता है, जो शरीर द्वारा उत्पादित पदार्थ होते हैं।
  • यह दवा, हृदय की मांसपेशियों में हो रही सिकुड़न को मजबूत करती है और धड़कन को धीमा करती है।
  • खून को पतला करने वाली दवाएं।

उपकरण

डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी का इलाज करने के लिए प्रत्यारोपण उपकरणों का भी इस्तेमाल किया जा सकता है, जिसमें शामिल हैं:

  • बाइवेन्ट्रिकुलर पेसमेकर- यह दिल के बाएं और दाएं निलय के कार्यों को सही ढंग से करने के लिए विद्युत आवेगों का उपयोग करती है।
  • इम्प्लांटेबल कार्डियोवर्टर-डीफिब्रिलेटर्स (ICDs)- यह दिल की गति की निगरानी करता है।
  • लेफ्ट वेंट्रिकुलर एसिड डिवाइस (LVAD)- इस उपकरण को पेट या छाती में प्रत्यारोपित किया जाता है।

हार्ट ट्रांसप्लांट

हार्ट ट्रांसप्लांट तभी किया जा सकता है, जब दवाओं या अन्य उचतार का प्रभाव सफल नहीं होता है।

और पढ़ें – जानिए चेचक (Smallpox) के घरेलू लक्षण,कारण और घरेलू इलाज

घरेलू उपाय

जीवनशैली में होने वाले बदलाव क्या हैं, जो मुझे डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी को रोकने में मदद कर सकते हैं?

निम्नलिखित जीवनशैली में बदलाव लाने और घरेलू उपायों से आप डाइलेटेड कार्डिओमायोपथी के खतरे को कम कर सकते हैंः

  • आपके लिए किस तरह की एक्टिविटीसुरक्षित और लाभकारी हो सकती हैं, इसके बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। सामान्य तौर पर, डॉक्टर आपको प्रतिस्पर्धी खेलों में भाग लेने से मना कर सकते हैं क्योंकि वे हृदय के रुकने और अचानक मृत्यु के खतरे को बढ़ा सकते हैं
  • स्मोकिंग न करें
  • किसी भी तरह के अवैध ड्रग या शराब का सेवन न करें।
  • उचित वजन बनाए रखें
  • स्वस्थ्य आहार खाएं

अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो उसकी बेहतर समझ के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Ankita mishra द्वारा लिखित
अपडेटेड 01/12/2019
x