Amaranth: बथुआ क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

बथुआ क्या है?

बथुआ एक प्रकार का पौधा है। इसका बीज, तेल और पत्ती का उपयोग भोजन के रूप में किया जाता है। दवा बनाने के लिए भी पूरे पौधे का उपयोग किया जाता है। इसके अलावा इसका इस्तेमाल अल्सर, दस्त, मुंह या गले की सूजन और उच्च कोलेस्ट्रॉल के लिए किया जाता है। लेकिन इन उपयोगों का समर्थन करने के लिए कोई अच्छा वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है।

बथुआ हेल्दी भोजन के रूप में लोकप्रियता हासिल की है, यह प्राचीन अनाज दुनिया के कुछ हिस्सों में सदियों से एक आहार प्रधान रहा है। इसमें एक प्रभावशाली पोषक प्रोफाइल है और इसे कई प्रभावशाली स्वास्थ्य लाभों के साथ जोड़ा जाता है। 

कैसे काम करता है बथुआ?

इसमें ऐसे रसायन होते हैं जो एंटी-ऑक्सिडेंट की तरह काम करते हैं। उच्च कोलेस्ट्रॉल के लिए बथुआ का उपयोग करना लाभकारी होता है। जानवरों के ऊपर किए गए कुछ शोध से पोता चलता है कि यह “अच्छा” एचडीएल कोलेस्ट्रॉल बढ़ाते हुए टोटल कोलेस्ट्रॉल और “खराब” एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को कम करने में सक्षम हो सकता है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें – Aloe Vera : एलोवेरा क्या है?

उपयोग

बथुआ का उपयोग किसलिए किया जाता है?

बथुआ का उपयोग अल्सर, दस्त, मुंह या गले की सूजन और उच्च कोलेस्ट्रॉल के लिए किया जाता है, लेकिन इन उपयोगों का समर्थन करने के लिए कोई अच्छा वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है।

यह वजन घटाने में सहायता कर सकता है

यदि आप कुछ अतिरिक्त पाउंड बहाने की तलाश में हैं, तो अपने आहार में इसको शामिल करने पर विचार कर सकते हैं। बथुआ में प्रोटीन और फाइबर की मात्र उच्च होती है, जो वजन घटाने के प्रयासों में सहायता कर सकते हैं। बथुआ में फाइबर, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट के माध्यम से धीरे-धीरे आगे बढ़ सकता है, पूर्णता की भावनाओं को बढ़ावा देने में मदद करता है।

कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकते हैं

कोलेस्ट्रॉल एक वसा जैसा पदार्थ है जो पूरे शरीर में पाया जाता है। बहुत अधिक कोलेस्ट्रॉल रक्त में निर्माण हो कर धमनियों को संकीर्ण कर सकता है। दिलचस्प बात यह है कि कुछ जानवरों के अध्ययन में पाया गया है कि बथुआ में कोलेस्ट्रॉल कम करने वाले गुण हो सकते हैं।

हैम्स्टर्स में एक अध्ययन से पता चला है कि बथुआ तेल कुल और क्रमशः 15% और 22% एलडीएल कोलेस्ट्रॉल घट गया है। इसके अलावा, “अच्छे” एचडीएल कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाते हुए ऐमरैंथ अनाज ने “खराब” एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को कम कर दिया।

इसके अलावे बथुआ के निम्नलिखित उपयोग हैं, जो स्वास्थ्य बके दृष्टिकोण से बहुत फायदेमंद हैं।

बथुआ के पत्ते में विटामिन सी की थोड़ी मात्रा होती है। लोग दवा बनाने के लिए पूरे पौधे का उपयोग करते हैं। यह आमतौर पर इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है:

साथ ही, यह एक एंटी-ऑक्सिडेंट है और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करता है। खाद्य पदार्थों में, यह अनाज के रूप में उपयोग किया जाता है।

कितना सुरक्षित है बथुआ ?

गर्भावस्था और स्तनपान:

यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं, तो ऐमरैंथ लेने की सुरक्षा के बारे में पर्याप्त विश्वसनीय जानकारी नहीं है। सुरक्षित पक्ष पर रहें और उपयोग से बचें।

और पढ़ें – कंटोला (कर्कोटकी) के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Kantola (Karkotaki)

साइड इफेक्ट्स

बथुआ से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

भोजन की मात्रा में उपयोग किए जाने पर इसके बीज, तेल, और पत्तियां सेफ हैं। हालांकि यह ज्ञात नहीं है कि दवा के रूप में बथुआ का उपयोग करना सुरक्षित है या संभावित दुष्प्रभाव क्या हो सकते हैं।

विशेष सावधानियां और चेतावनी :

गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान : यह जानने के लिए पर्याप्त विश्वसनीय जानकारी नहीं है कि क्या गर्भवती होने या स्तनपान कराने के दौरान दवा के रूप में उपयोग करना सुरक्षित है या नहीं। सुरक्षित पक्ष पर रहें और उपयोग से बचें। अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें – अस्थिसंहार के फायदे एवं नुकसान: Health Benefits of Hadjod (Cissus Quadrangularis)

Interactions

हेल्थ के साथ क्या प्रभाव हो सकता है?

यह हर्बल सप्लिमेंट आपकी वर्तमान दवाओं या चिकित्सा स्थितियों पर प्रभाव डाल सकता है। उपयोग करने से पहले अपने हर्बलिस्ट डॉक्टर से परामर्श करें। वैसी स्वास्थ्य स्थितियां जो आपके हर्बल के साथ इंटरैक्ट कर सकती हैं, जिनमें शामिल हैं:

इम्यून डिसॉर्डर  (Immune disorder) :

बथुआ सेरोटोनिन के स्तर को कम कर सकता है। यह प्रतिरक्षा को बढ़ा या घटा सकता है और इसका उपयोग प्रतिरक्षा विकार वाले रोगियों में या दवाओं, जड़ी-बूटियों, या पूरक लेने वालों में सावधानी के साथ किया जाना चाहिए जो रोग प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करते हैं।

तंत्रिका तंत्र (Nervous system) :

बथुआ में उच्च स्तर के कैडमियम, नाइट्रेट्स, एंटीट्रिप्सिन प्रोटीन और हीट-लेबाईल कारक शामिल हो सकते हैं, जो तंत्रिका तंत्र को प्रभावित कर सकते हैं। इसके अलावा, नाइट्रोजन युक्त मिट्टी में उगाया जाने वाला अमरूद स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है।

गुर्दे की बीमारी (Kidney disease) :

इसकी उच्च ऑक्सलेट्स सामग्री के कारण किडनी विकारों वाले लोगों में बथुआ का सावधानी से उपयोग किया जाना चाहिए।

रक्त शर्करा का स्तर (Blood sugar level) :

बथुआ लेने से रक्त शर्करा का स्तर कम हो सकता है। मधुमेह या हाइपोग्लाइसीमिया वाले रोगियों और दवाओं, जड़ी-बूटियों, या पूरक जो रक्त शर्करा को प्रभावित करते हैं, में सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है। रक्त शर्करा के स्तर को एक योग्य स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर द्वारा निगरानी करने की आवश्यकता हो सकती है, और दवा समायोजन आवश्यक हो सकता है।

रक्त चाप (Blood pressure) :

बथुआ लेने से रक्तचाप कम हो सकता है। निम्न रक्तचाप वाले रोगियों में या दवाओं, जड़ी-बूटियों, या पूरक लेने वाले रोगियों में सावधानी की सलाह दी जाती है जो रक्तचाप को प्रभावित करते हैं। रक्तचाप की निगरानी करने की आवश्यकता हो सकती है, और दवा समायोजन आवश्यक हो सकता है।

और पढ़ें – Anemia: रक्ताल्पता (एनीमिया) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

डोसेज

बथुआ को लेने की सही खुराक क्या है?

बथुआ की उपयुक्त खुराक कई कारकों पर निर्भर करती है जैसे कि उपयोगकर्ता की आयु, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियां। इस समय में अमृत के लिए खुराक की उचित सीमा निर्धारित करने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक जानकारी नहीं है। ध्यान रखें कि प्राकृतिक उत्पाद हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं और खुराक महत्वपूर्ण हो सकते हैं। उत्पाद लेबल पर प्रासंगिक निर्देशों का पालन करना सुनिश्चित करें और उपयोग करने से पहले अपने फार्मासिस्ट या चिकित्सक या अन्य स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करें।

उपलब्ध

बथुआ किस रूप में उपलब्ध है?

यह हर्बल पूरक निम्नलिखित खुराक रूपों में उपलब्ध हो सकता है:

  • द्रव अर्क (Fluid extract)
  • पाउडर (Powder)
  • टिंक्चर (Tincture)

अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

पुष्करमूल के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Pushkarmool (Inula Racemosa)

जानिए पुष्करमूल के फायदे और नुकसान, पुष्करमूल का इस्तेमाल कैसे करें, Inula racemosa के साइड इफेक्ट्स, Pushkarmool की खुराक। Pushkarmool in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

शतावरी के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Asparagus (Shatavari Powder)

जानिए शतावरी पाउडर के फायदे और नुकसान, इसका इस्तेमाल और साइड इफेक्ट्स, Asparagus के औषधीय गुण, शतावरी की डोज। Asparagus in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 9, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

केवांच के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Kaunch Beej

केवांच in hindi, फायदे, लाभ, उपयोग, इस्तेमाल, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, kaunch beej डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

सिंघाड़ा के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Singhara (Water chestnut)

सिंघाड़ा को सिंघाणा, लिंग नट, डेविल पॉड, बैट नट और भैंस नट भी कहा जाता है। इसे वॉटर चेस्टनट (Water chestnut) और वाटर कालट्रॉप (Water Caltrop) भी कहते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

चिरौंजी - chironji

चिरौंजी के फायदे और नुकसान- Chironji benefits and side effects

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Orange- नारंगी

नारंगी के फायदे व नुकसान : Health Benefit of Orange

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ जून 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
आलूबुखारा - Plums

आलूबुखारा के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Aloo Bukhara (Plum)

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
प्रकाशित हुआ जून 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
विधारा - elephant creeper

विधारा (ऐलीफैण्ट क्रीपर) के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Vidhara Plant (Elephant creeper)

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
प्रकाशित हुआ जून 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें