Swollen Knee : घुटनों में सूजन क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट June 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

घुटनों में सूजन क्या है?

घुटने हमारे शरीर का काफी महत्वपूर्ण अंग है। यह हमारे चलने-फिरने से लेकर उठने-बैठने और शरीर का पूरा भार उठाने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। लेकिन, उम्र, चोट, शारीरिक समस्याएं आदि के कारण घुटनों की कार्यक्षमता कम होती जाती है और इससे संबंधित कई परेशानियों का सामना भी करना पड़ सकता है। इन्हीं घुटनों की समस्याओं में से एक है घुटनों में सूजन आ जाना। आइए जानते हैं कि, घुटनों में सूजन क्यों आती है और इसका उपचार क्या है?

जब आपके घुटनों के अंदर या आसपास अतिरिक्त फ्लूइड इकट्ठा होने लगता है, तो घुटने सूजने लगते हैं। मेडिकल भाषा में इसे घुटनों में इफ्यूजन (Effusion) कहा जाता है और कुछ जगह ही ‘घुटनों में पानी’ की स्थिति से इंगित किया जाता है। जो कि किसी ट्रॉमा, अधिक इस्तेमाल करने से आने वाली चोट, किसी छुपी हुई बीमारी के कारण हो सकता है। इससे राहत पाने के लिए अतिरिक्त फ्लूड को हटाने की जरूरत होती है, जिससे सूजन के साथ-साथ दर्द व अकड़न को कम करने में मदद मिलती है।

और पढ़ें- Anal Fistula : भगंदर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लक्षण

घुटनों में सूजन आने पर कौन-से लक्षण दिखते हैं?

सूजन आने पर निम्नलिखित लक्षण दिखाई दे सकते हैं। जैसे-

  • गंभीर दर्द होना
  • छूने पर गर्माहट का एहसास
  • अकड़न
  • सामान्य गतिविधि करने में समस्या
  • चलने-फिरने या उठने-बैठने में दर्द
  • खड़े होने में दर्द
  • घुटनों में नील पड़ना
  • रैशेज
  • पस भरना या डिस्चार्ज
  • घुटनों की त्वचा का लाल हो जाना, आदि

ध्यान रखें कि, यह जरूरी नहीं है कि हर किसी को ऊपर बताए गए सभी लक्षणों का सामना करना पड़े। जहां किसी मरीज को एक या दो लक्षणों का सामना करना पड़ सकता है, वहीं दूसरे मरीज को अन्य लक्षणों का सामना करना पड़ सकता है। इसके अलावा, घुटनों में सूजन होने पर इन से अलग लक्षणों का सामना भी करना पड़ सकता है। घुटनों में सूजन की वजह से दिखने वाले सभी लक्षणों के बारे में पूरी और सटीक जानकारी प्राप्त करने के लिए डॉक्टर से परामर्श करें।

और पढ़ें- Chest Pain : सीने में दर्द क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

कारण

घुटनों में सूजन के कारण क्या होते हैं?

चोट की वजह से आपके घुटनों के अंदर लिगामेंट, कार्टिलेज, हड्डी के क्षतिग्रस्त होने पर आपके घुटने में फ्लूड इकट्ठा हो सकता है, जिससे घुटनों में सूजन आ सकती है। इसके अलावा घुटनों में सूजन होने के पीछे निम्नलिखित हेल्थ कंडीशन हो सकती हैं। जैसे-

  • ऑस्टियोअर्थराइटिस एक हेल्थ कंडीशन है, जो कि उम्र बढ़ने या चोट की वजह से हो सकती है। यह आपके जोड़ों की हड्डी के दोनों छोर को सपोर्ट देने वाली कार्टिलेज के क्षतिग्रस्त होने से होती है।
  • रूमेटाइड अर्थराइटिस एक इंफ्लेमेटरी अर्थराइटिस है, जो कि किसी भी उम्र में हो सकती है। इससे जोड़ों में अकड़न, दर्द और सूजन आ जाती है।
  • गठिया जिसे गाउट अर्थराइटिस भी कहा जाता है। इसमें गंभीर जोड़ों का दर्द, सूजन, जोड़ों में गर्माहट का एहसास, घुटनों की त्वचा पर लालपन हो सकता है, यह काफी गंभीर समस्या हो सकती है।
  • सोरायटिक अर्थराइटिस में भी इंफ्लेमेटरी जॉइंट डिजीज है, जो कि सोरायसिस नामक स्किन कंडीशन से ग्रसित मरीजों में होती है।
  • इंफेक्शियस या सेप्टिक अर्थराइटिस जोड़ों के टिश्यू या फ्लूड में किसी बैक्टीरियल, वायरल और फंगल इंफेक्शन होने के कारण होती है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें- Milia : मिलीया क्या है?

निदान

घुटनों में सूजन का कैसे पता लगाते हैं?

घुटनों में सूजन की समस्या का पता लगाने के लिए डॉक्टर निम्नलिखित टेस्ट की मदद ले सकता है। जैसे-

  • एक्सरे जांच की मदद से हड्डियों के स्थानांतरण या फ्रैक्चर की आशंका को खत्म करके अर्थराइटिस का निदान किया जा सकता है।
  • टेंडन्स या लिगामेंट्स को प्रभावित करने वाली अर्थराइटिस या डिसऑर्डर का पता लगाने के लिए अल्ट्रासाउंड की मदद ली जा सकती है।
  • एमआरआई टेस्ट की मदद से टेंडन्स, लिगामेंट्स या सॉफ्ट टिश्यू की उन इंजुरी के बारे में पता लगाया जाता है, जो कि एक्सरे में नहीं दिखाई दे पाती।
  • अर्थ्रोसेंटेसिस टेस्ट की मदद से डॉक्टर आपके घुटनों में मौजूद फ्लूड का सैंपल लेकर उसमें मौजूद खून, बैक्टीरिया या क्रिस्टल की जांच कर सकता है।

और पढ़ें- G6PD Deficiency : जी6पीडी डिफिसिएंसी या ग्लूकोस-6-फॉस्फेट डीहाड्रोजिनेस क्या है?

रोकथाम और नियंत्रण

घुटनों में सूजन को नियंत्रित कैसे करें?

  1. घुटनों में सूजन की समस्या से बचाव व इसको नियंत्रित करने के लिए निम्नलिखित तरीकों का उपयोग किया जा सकता है। जैसे-
  2. अगर आपके घुटनों में सूजन आ गई है, तो इसे नियंत्रित करने का सबसे पहला तरीका है आराम। करीब 24 घंटे तक घुटनों को पूरी तरह आराम दें और किसी भी तरह का भारी सामान न उठाएं या कसरत न करें।
  3. किसी भी चोट के बाद 2 से 3 दिन के लिए हर दो से चार घंटे के अंतराल पर 15 से 20 मिनट बर्फ को कपड़े में लपेटकर सिकाई करें। इससे दर्द और सूजन को कम करने में आराम मिलेगा।
  4. घुटनों में फ्लूइड इकट्ठा होने से रोकने के लिए इलास्टिक बैंडेज आदि की सहायता से कंप्रेस करें।
  5. अगर, आपको चोट लगी है या दर्द हो रहा है या फिर घुटनों में सूजन लग रही है, तो बर्फ से सिकाई करते हुए पैर को थोड़ा ऊपर की तरफ उठाकर रखें। इससे सूजन में आराम मिलेगा।
  6. अगर बर्फ की सिकाई से आराम नहीं मिल रहा है, तो गर्म पानी या हीटिंग पैड से 15 से 20 मिनट तक सिकाई करें।
  7. घुटनों पर हल्के हाथ से मसाज करने पर फ्लूड को इकट्ठा होने से रोका जा सकता है। इसके लिए आप फिजियोथेरेपिस्ट जैसे किसी प्रोफेशनल की मदद भी ले सकते हैं।

किसी भी घरेलू उपाय के इस्तेमाल से पहले डॉक्टर की मदद लेना न भूलें। क्योंकि, कुछ मामलों में इनका उपयोग करने या इलाज में देरी मिलने से स्थिति बिगड़ सकती है।

और पढ़ें- Pityriasis rosea: पिटिरियेसिस रोजिया क्या है?

उपचार

घुटनों में सूजन की समस्या का उपचार कैसे होता है?

  1. घुटनों में सूजन आने पर फिजियोथेरिपी की मदद भी ली जा सकती है, जिसमें मसाज से लेकर कुछ आसान और प्रभावशाली एक्सरसाइज की मदद से फ्लूड को इकट्ठा होने से रोका जाता है और सूजन व दर्द से राहत दिलाई जाती है। इसके अलावा, निम्नलिखित तरीकों को भी डॉक्टर अपना सकता है। जैसे-
  2. आइबूप्रोफेन ड्रग, एस्पिरिन दवा जैसी एंटी-इंफ्लेमेटरी मेडिसिन का सेवन करने की सलाह दी जा सकती है। जिससे दर्द सहने की क्षमता में बढ़ोतरी हो सके और आराम मिल सके। लेकिन, किसी भी दवाई का सेवन करने से पहले डॉक्टर से जानकारी जरूर प्राप्त करें।
  3. अर्थ्रोस्कॉपी की मदद से एक छोटी-सी सर्जरी में आपके घुटनों में मौजूद क्षतिग्रस्त टिश्यू को रिपेयर किया जाता है।
  4. अगर आपके घुटने बिल्कुल कार्य नहीं कर पा रहे हैं या डैमेज होने की वजह से शरीर का भार नहीं संभाल पा रहे हैं, तो जॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी भी की जा सकती है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या कोलन कैंसर को रोकने में फाइबर की कोई भूमिका है?

फाइबर और कोलन कैंसर का क्या संबंध है और कैसे फाइबर कोलन कैंसर को रोकने में मददगार साबित होता है? fibre prevent colon cancer

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
कैंसर, कोलोरेक्टल कैंसर February 5, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें

कई लोगों के साथ ओरल सेक्स करने से काफी बढ़ जाता है सिर और गले के कैंसर का खतरा

ह्यूमन पैपीलोमा वायरस (HPV) में रोगी को कान में दर्द, निगलने में परेशानी, आवाज़ बदल जाने या वज़न कम होने जैसे लक्षणों का सामना करना पड़ता है।

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
सिर और गर्दन का कैंसर, कैंसर February 4, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम (IBS) का यूनानी इलाज कैसे किया जाता है?

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम क्या है? इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम का यूनानी इलाज किन-किन दवाओं से किया जाता है? Unani treatment for Irritable bowel syndrome in Hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

Secondary Bone Cancer: सेकंडरी बोन कैंसर क्या है?

सेकंडरी बोन कैंसर क्या है? सेकंडरी बोन कैंसर के लक्षण, कारण और इलाज क्या है? What is secondary bone cancer and treatment in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
कैंसर, हड्डी का कैंसर January 12, 2021 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

cancer remission/ कैंसर रेमिशन क्या होता है

कैंसर रेमिशन (Cancer remission) को ना समझें कैंसर का ठीक होना, जानिए इसके बारे में पूरी जानकारी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ February 17, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
सीटू में सर्वाइकल कार्सिनोमा (Cervical Carcinoma In Situ)

स्टेज-0 सर्वाइकल कार्सिनोमा क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ February 10, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें

कोलोन कैंसर डायट: रेग्यूलर डायट में शामिल करें ये 9 खाद्य पदार्थ

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ February 8, 2021 . 4 मिनट में पढ़ें
हर्पीस सिम्पलेक्स वायरस, Herpes Simplex virus

Herpes Simplex: हार्पीस सिम्पलेक्स वायरस से किसको रहता है ज्यादा खतरा?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ February 5, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें