Echocardiogram Test : इकोकार्डियोग्राम टेस्ट क्या है?

By Medically reviewed by Dr. Hemakshi J

परिभाषा

एक इकोकार्डियोग्राम आपके हृदय की इमेज/छवि को उत्पन्न करने के लिए ध्वनि तरंगों का इस्तेमाल करता है। यह टेस्ट आपके डॉक्टर को आपके दिल की धड़कन और ब्लड पंप करने को देखने मदद करता है। आपका डॉक्टर हृदय रोग की पहचान करने के लिए इकोकार्डियोग्राम से इमेज/छवि का इस्तेमाल कर सकता है।

आपके डॉक्टर को क्या जानकारी चाहिए, इस आधार पर, आपके कई तरह के इकोकार्डियोग्राम हो सकते हैं। एक दो इकोकार्डियोग्राम टेस्ट में थोड़े रिस्क फैक्टर होते है।

इकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram) क्यों किया जाता है?

आपका डॉक्टर आपके हृदय की बनावट को देखने के लिए इको टेस्ट का इस्तेमाल कर सकता है और यह जांच करता है कि आपके दिल के फक्शन कितना अच्छा काम कर रहे है।

यह भी पढ़ें : जानिए हृदय रोग से जुड़े 7 रोचक तथ्य

टेस्ट आपके डॉक्टर को यह पता लगाने में मदद करता है:

आपके दिल का आकार और आकार, और आपके दिल की दीवारों का आकार, मोटाई और गति।

  • आपका दिल कैसे चलता है।
  • दिल की पंपिंग ताकत।
  • दिल के वाल्व सही तरीके से काम कर रहे हैं।
  • यदि आपके दिल के वाल्व (रिगर्जेटेशन) के माध्यम से ब्लड पीछे की ओर लीक हो रहा है।
  • यदि हृदय के वाल्व बहुत सकरे(स्टेनोसिस) हैं।
  • यदि आपके दिल के वाल्व के आसपास ट्यूमर या इंफैक्शन ग्रोथ है।

टेस्ट आपके डॉक्टर को यह पता लगाने में मदद करेगा कि क्या :

  • आपके दिल के बाहरी हिस्से (पेरिकार्डियम) की समस्याएं।
  • बड़ी ब्लड वाहिकाओं के साथ समस्याएं
  • आपके दिल के में ब्लड क्लॉट
  • दिल के चेम्बर के बीच असामान्य छेद।

आपका डॉक्टर कई कारणों से इकोकार्डियोग्राम का निर्देश दे सकता है। उदाहरण के लिए, उन्होंने अन्य टेस्ट से या स्टेथोस्कोप के माध्यम से आपके दिल की धड़कन को सुनते हुए एक असामान्यता का पता लगाया हो । यदि आपके दिल की धड़कन एब्नॉर्मल है, तो आपका डॉक्टर हृदय के वाल्व या चेम्बर की जांच या पंप क्षमता की जांच कर सकता है। यदि आप के अंदर दिल की समस्याओं, जैसे कि सीने में दर्द या सांस की तकलीफ के लक्षण दिख रहे हैं, तो इकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram) किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : भारत में हृदय रोगों (हार्ट डिसीज) में 50% की हुई बढोत्तरी

एहतियात / चेतावनी

इकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram) कराने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

एक मानक ट्रांसस्टेरोएसिक इकोकार्डियोग्राम में कोई खतरा नहीं है। सीरियस कॉम्प्लिकेशन, जैसे कि दिल का दौरे की संभावना बहुत ही कम है।

एक मानक ट्रांसस्टोरासिक इकोकार्डियोग्राम में, जब तकनीशियन प्रक्रिया के दौरान आपके सीने पर रखे इलेक्ट्रोड को निकालता है, तो उस दौरान एक चिपकने वाली पट्टी को खींचने से थोड़ी असुविधा महसूस कर सकते हैं

यदि आपका ट्रांसोफेजियल इकोकार्डियोग्राम हुआ है, तो कुछ घंटों के बाद आपका गला बैठ सकता है। शायद ही कभी, ट्यूब की वजह से गले के अंदर कोई खरोंच या तकलीफ हो सकती है। टेस्ट के दौरान आपके ऑक्सीजन के लेवल पे निगाह रखी जाएगी ताकि बेहोशी की दवा के कारण सांस लेने में कोई समस्या न हो।

एक स्ट्रेस इकोकार्डियोग्राम के दौरान, व्यायाम या दवा भी एब्नॉर्मल दिल की धड़कन का कारण हो सकता है ऐसा सिर्फ इकोकार्डियोग्राम के कारण ही नहीं होता।

यह भी पढ़ें : हेल्थ सप्लिमेंट्स का बेहतर विकल्प बन सकते हैं ये फूड, डायट में करें शामिल

प्रक्रिया

इकोकार्डियोग्राम की तैयारी कैसे करें?

एक मानक ट्रांसस्टोरासिक इकोकार्डियोग्राम के लिए किसी विशेष तैयारी जरूरत नहीं है। आप खा और पी सकते हैं और दवा ले सकते हैं जैसा कि आप सामान्य रूप से करते हैं।

यदि आप एक ट्रांसोसेफैगल या स्ट्रेस इकोकार्डियोग्राम करा रहे हैं, तो आपका डॉक्टर आपको कुछ घंटों तक खाने के लिए मना करेगा। यदि आपको निगलने में परेशानी होती है, तो अपने डॉक्टर को बताएं, क्योंकि यह ट्रांसजियोफेजियल इकोकार्डियोग्राम कराने के उसके निर्णय को प्रभावित कर सकता है।

यदि आप स्ट्रेस इकोकार्डियोग्राम के दौरान ट्रेडमिल पर चल रहे हैं, तो आरामदायक जूते पहनें। यदि आप ट्रांसोफेजियल इकोकार्डियोग्राम करा रहे है, तो नीद की दवा के कारण आप ड्राइव नहीं कर सकते। ट्रांसोफेशियल इकोकार्डियोग्राम कराने से पहले घर पहुंचने के लिए अरेंजमेंट करे।

इकोकार्डियोग्राम के दौरान क्या होता है?

इकोकार्डियोग्राम कराने में एक घंटे से भी कम समय लगता हैं, लेकिन आपकी मौजूदा स्थिति के आधार पर समय में फेरबदल हो सकता है।

एक इकोकार्डियोग्राम डॉक्टर के क्लीनिक या अस्पताल में किया जा सकता है। कमर के ऊपर के कपड़े उतारने के बाद आप एक मेज या बिस्तर पर लेट जाएँगे। तकनीशियन आपके शरीर पे चिपचिपे पैच (इलेक्ट्रोड) को अटैच करेगा जो आपके दिल की विद्युत धाराओं का पता लगाने और संचालित करने में मदद करेगा ।

इकोकार्डियोग्राम के दौरान, तकनीशियन मॉनिटर पर छवि को बेहतर ढंग से देखने के लिए रोशनी कम करेगा। तकनीशियन आपकी सीने पर एक विशेष जेल लगाएगा जो ध्वनि तरंगों में सुधार करता है और आपकी त्वचा और ट्रांसड्यूसर के बीच हवा को समाप्त करता है – एक छोटा, प्लास्टिक उपकरण जो ध्वनि तरंगों को बाहर भेजता है और उन्हें प्राप्त करता है।

तकनीशियन आपके सीने पर ट्रांसड्यूसर को आगे-पीछे करेगा। ध्वनि तरंगें मॉनिटर पर आपके दिल की छवियां बनाती हैं, जो आपके डॉक्टर द्वारा समीक्षा करने के लिए रिकॉर्ड की जाती हैं। आप एक स्पंदन “होशस” सुन सकते हैं, जो आपके दिल में बहने वाले ब्लड की अल्ट्रासाउंड की रिकॉर्डिंग है।

यदि आप ट्रांसोफेजियल इकोकार्डियोग्राम करा रहे है, तो सुन्न करने वाले स्प्रे की मदद से आपका गला मोशनलेस किया जाएगा ताकि ग्रासनली में ट्रांसड्यूसर को आराम से डाला जा सके । आप को किसी भी तरह की दिक्कत ना हो इसलिए गहरी नीद की दवा दी जाएगी ।

एक ट्रान्सथोरेसिक इकोकार्डियोग्राम के दौरान, आपको एक निश्चित तरीके से सांस लेने या अपनी बाईं ओर रोल करने के लिए कहा जा सकता है। कभी-कभी ट्रांसड्यूसर को आपकी छाती के विपरीत बहुत दृढ़ता से रखा जाना चाहिए। यह असुविधाजनक हो सकता है – लेकिन यह तकनीशियन को आपके दिल की सबसे अच्छी इमेज/छवि को प्रोड्यूस करने में मदद करता है।

इकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram) के बाद क्या होता है?

यदि आपका इकोकार्डियोग्राम सामान्य है, तो आगे के टेस्ट की जरूरत नहीं हो सकती है। यदि परिणाम बीमारी के विषय मे हैं, तो आपको दूसरे टेस्ट के लिए हृदय रोग विशेषज्ञ के पास भेजा जा सकता है।

उपचार इस बात पर निर्भर करता है कि टेस्ट के दौरान क्या पाया गया साथ ही खास संकेत और लक्षणों पे। आपको कई महीनों तक इकोकार्डियोग्राम या अन्य डायग्नोस ​​टेस्ट कई दफा कराने की जरूरत पड़ सकती है, जैसे कार्डियक कंप्यूटरीकृत टोमोग्राफी या सीटी स्कैन या कोरोनरी एंजियोग्राम।

यदि आपके मन में इकोकार्डियोग्राम को लेकर कोई प्रश्न हैं, तो कृपया निर्देशों को बेहतर ढंग से समझने के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करें

यह भी पढ़ें : खतरा! वजन नहीं किया कम तो हो सकते हैं हृदय रोग के शिकार

परिणामों की व्याख्या

मेरे परिणामों का क्या मतलब है?

आपका डॉक्टर हेल्थी हार्ट वाल्व और चेम्बर्स, के साथ ही सामान्य दिल की धड़कन को देखेगा।

इकोकार्डियोग्राम से मिली जानकारी दिखा सकती है:

दिल का आकार। कमजोर या डैमेज हृदय के वाल्व, हाई ब्लड प्रेशर या अन्य बीमारियां जो दिल का चेम्बर बड़ा होने या दिल की दीवारों के असामान्य रूप से गाढ़ा होने का कारण हो सकती हैं। आपका डॉक्टर उपचार की जरूरत और उसकी प्रभावशीलता को मॉनिटर करने के लिए इकोकार्डियोग्राम का इस्तेमाल कर सकता है।

पंपिंग स्ट्रेंथ। इकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram) डॉक्टर को आपके दिल की पंपिंग स्ट्रेंथ निर्धारित करने में मदद कर सकता है। विशिष्ट माप में ब्लड का प्रतिशत शामिल हो सकता है जो प्रत्येक दिल की धड़कन में हृदय द्वारा पंप किए गए ब्लड की मात्रा से भरा होता है। यदि आपका दिल आपके शरीर की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त ब्लड पंप नहीं कर रहा है, तो इसका परिणाम हार्ट फेल हो सकता है।

हृदय की मांसपेशियों को नुकसान। इकोकार्डियोग्राम के दौरान, आपका डॉक्टर यह निर्धारित कर सकता है कि क्या दिल की दीवार के सभी हिस्से आपके दिल की पंपिंग गतिविधि में सामान्य रूप से योगदान दे रहे हैं। दिल के दौरे के दौरान कमजोर पड़ने वाले हिस्से डैमेज हो सकते हैं या बहुत कम ऑक्सीजन प्राप्त कर सकते हैं। यह कोरोनरी धमनी की बीमारी या विभिन्न अन्य स्थितियों का संकेत दे सकता है।

वाल्व की समस्या। एक इकोकार्डियोग्राम से पता चलता है कि आपके दिल की धड़कन के रूप में आपके हृदय के वाल्व कैसे चलते हैं। आपका डॉक्टर यह निर्धारित कर सकता है कि ब्लड के रिसाव को रोकने के लिए वाल्व पूरी तरह से खुला या बंद तो नहीं

हृदय दोष। एक इकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram) के द्वारा कई हृदय दोषों का पता लगाया जा सकता है, जिसमें हृदय चेम्बर्स के साथ समस्याएं, हृदय और प्रमुख ब्लड वाहिकाओं के बीच असामान्य संबंध और जन्म के समय मौजूद जटिल हृदय दोष शामिल हैं। इकोकार्डियोग्राम का इस्तेमाल जन्म से पहले बच्चे के दिल के विकास की निगरानी के लिए भी किया जा सकता है।

प्रयोगशाला और अस्पताल के आधार पर, इकोकार्डियोग्राम के लिए नॉर्मल रेंज अलग अलग हो सकती है। कृपया अपने डॉक्टर से अपने टेस्ट रिजल्ट से जुड़े सवालों के बारे में चर्चा करें।

हेलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें : मेनोपॉज और हृदय रोग : बढ़ती उम्र के साथ संभालें अपने दिल को

अभी शेयर करें

रिव्यू की तारीख जुलाई 9, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया अक्टूबर 15, 2019